IBPS क्या होता है? जानिए IBPS की तैयारी कैसे करें?

आज हर छात्र का सपना बैंक में नौकरी करने का होता है, IBPS क्या है और हो भी क्यों ना यह पद करियर, वेतन, और प्रतिष्ठा की दृष्टि से युवाओं के लिए एक बेहतरीन ऑप्शन है। अगर Banking के क्षेत्र में भविष्य बनाने की बात करे तो, IBPS एक Best प्लेटफॉर्म है। प्रत्येक साल में लगभग दस लाख छात्र IBPS Clerk तथा PO के लिए आवेदन करते है। यह संस्था युवाओं को ज्यादा से ज्यादा रोज़गार उपलब्ध करती है।

वैसे तो बैंकिंग का क्षेत्र हमेशा से ही युवाओं को रोज़गार प्रदान करता रहा है। IBPS संस्था बहुत से बड़े स्तर पर परीक्षाएं आयोजित करवाती है। आईये अब IBPS के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से जानते हैं कि आईबीपीएस क्या है, IBPS Meaning in Hindi क्या होता है और IBPS Full Form क्या है, जानने के लिए यह पोस्ट शुरू से अंत तक जरुर पढ़ें।

 

IBPS क्या होता है? जानिए IBPS की तैयारी कैसे करें?
TEJWIKI.IN

 

IBPS क्या होता है? (What is IBPS)

 

IBPS का हिंदी में मतलब होता है – बैंकिंग कार्मिक चयन संस्थान. यह भारत की एक  संस्थान है, ibps की स्थापना 1975 में हुई थी, जो सार्वजानिक क्षेत्र के बैंको में भर्ती का कार्य करता है, यानी बैंको के अधिकारियो, कर्मचारियों और अफसरों की भर्त्ती के लिए यह संस्थान Online परीक्षा आयोजित करवाता है. IBPS सार्वजानिक बैंको के पदों में Clerk, PO, RRB, और Specialist जैसे कई प्रकार के अलग-अलग पदों के लिए भर्ती परीक्षा करवाती हैं.

IBPS के द्वारा भारत में लगभग 19 सार्वजानिक और ग्रामीण बैंको के लिए कर्मचारियो का चयन और भर्ती की जाती है, जिसकी सूची हमने हमारे इस article में आगे दी हुई हैं. कोई भी व्यक्ति अगर इन सार्वजानिक तथा ग्रामीण बैंको में नौकरी /Job पाना चाहता है तो उसे IBPS द्वारा किये जाने वाले एग्जाम को Pass करना होगा.

ibps का स्वामित्व भारत सरकार के RBI ,वित्त मंत्रालय NIDM के पास है जो इस संस्था का संचालन करते हैं. इसके अलवा भी इसमें कई सावर्जनिक bank और बीमा कम्पनियां भी शामिल है.

 

IBPS का फुल फॉर्म – Full Form of IBPS

 

Institute for Banking Personnel Selection

आईबीपीएस को 1984 में अस्तित्व में लाया गया जिसने एसेसमेंट और रिजल्ट प्रोसेसिंग सेवाओं को स्टैंडर्डाइज्ड सिस्टम प्रदान किया.

आईबीपीएस क स्वामित्व भारत सरकार के आरबीआई, वित्त मंत्रालय और एनआईडीएम के पास है जो इस संस्थान का संचालन करते हैं.

इसके अलावा इसमें कई विभिन्न सार्वजनिक बैंकों और बीमा कंपनियों के प्रतिनिधि भी शामिल है जो निर्णय लेने की प्रक्रिया में अपनी राय देते हैं.

आईबीपीएस हर साल कई सेशंस के माध्यम से 4 से अधिक परीक्षाएं आयोजित करता है जिसमें उसे करीब एक करोड़ से अधिक आवेदन मिलता है.

 

IBPS के अंतर्गत ली जाने वाली परीक्षाएं (Exams conducted under IBPS)

 

ये सरकारी संस्था हर साल कर्मचारियों की नियुक्ति के लिए अनेक पदों के लिए रिक्रूटमेंट करती हैं. इसके अंतर्गत लिए जानी प्रक्रिया में अनगिनत आवेदन आते हैं.

लेकिन जो नए युवक होते हैं उन्हें इसकी परीक्षा प्रणाली के बारे में जरुरी सारा ज्ञान नहीं होता है.

यहाँ हम आपको इसके अंतर्गत लिए जाने वाली परीक्षाओं के चरणों के बारे में बताने जा रहे हैं. आज के समय में हर साल चार अलग तरह की परीक्षाएं लेती हैं और इसमें से हर परीक्षाओं को 3 से 4 महीने के अंतराल में लिया जाता है.

IBPS SO

यह परीक्षा Specialist Officers (विशेषज्ञ अधिकारियों) के लिए ली जाती है. SO स्केल वन के अंतर्गत मानव संसाधन, HR, IT, कानून आदि क्षेत्रों में जूनियर लेवल पर ग्रेट प्रबंधन सेवाएं प्रदान करता है.

स्केल 2 SO के अंतर्गत एमबीए, पीजी, पीजीडीबीएम, आदि प्लस काम के अनुभवी विशेषज्ञों की जरूरत होती है.

इस में 3 फेज में exam लिया जाता है.

  • Online Preliminary Exam
  • Online Mains Exam
  • Interview Process

IBPS Clerk 

इसके अंतर्गत दो परीक्षाएं ली जाती है प्रारंभिक पदों, मुख्य पदों के लिए और क्लर्क पदों के लिए.

  • Preliminary Exam
  • Main Exam

 

Preliminary Exam

इस के Preliminary exam में तीन सेक्शन होते हैं. जिस में Aptitude, Reasoning और English की परीक्षा ली जाती है.

ऑनलाइन लिए जाने वाली इस परीक्षा में English के 30 सवाल पूछे जाते हैं. इसके अलावा Numerical Ability paper और reasoning से 35-35 सवाल का जवाब परीक्षार्थी को देना होता है.

इसके लिए परीक्षार्थियों को एक घंटे का समय दिया जाता है.

Section    No. of Question
English 30
Reasoning 35
Numerical Ability paper 35

Main Exam

जब परीक्षार्थी Preliminary exam पास कर लेते हैं तो उन्हें Mains का exam भी देना होता है. ऑनलाइन लिए जाने वाले  इस exam में 4 सेक्शन होते हैं. जिसके लिए परीक्षार्थियों को 3 घंटे का समय लगता है.

Section     No. of Question
General Financial Awareness 50
Computer 50
Reasoning and Aptitude 50
English 50

IBPS PO

इसमें भी तीन चरणों में एग्जाम लिए जाते हैं.

  • Preliminary Exam
  • Main Exam
  • Interview

Preliminary Exam

इस के Preliminary exam में तीन सेक्शन होते हैं. जिस में Numerical Ability, Reasoning Ability और English Language की परीक्षा ली जाती है.

ऑनलाइन लिए जाने वाली इस परीक्षा में English Language के 30 सवाल पूछे जाते हैं. इसके अलावा Numerical Ability और Reasoning Ability से 35-35 सवाल का जवाब परीक्षार्थी को देना होता है.

इसके लिए परीक्षार्थियों को एक घंटे का समय दिया जाता है.

Section  No. of Question
English Language 30
Numerical Ability 35
Reasoning Ability 35

Mains Exam 

जब परीक्षार्थी Preliminary exam पास कर लेते हैं तो उन्हें Mains का exam भी देना होता है. ऑनलाइन लिए जाने वाले इस exam में 4 सेक्शन होते हैं और इसमें कुल 200 मार्क्स के सवाल पूछे जाते हैं जिसके लिए 180 मिनट यानि 3 घंटे का समय दिया जाता है.

इस साल से इसमें एक एक्स्ट्रा सेक्शन Descriptive सेक्शन के रूप में जोड़ा गया है. इस में गलत जवाब देने पर नेगेटिव मार्किंग की जाती है और हर गलत जवाब के लिए 0.25 मार्क कट जाता है.

Section            No. of Question
Data Analysis & Interpretation 35
Reasoning and Computer
Aptitude
45
English language 35
General/Economy/Banking
Awareness
40

 

IBPS PO Exam 2021

 

निचे दी गयी टेबल में आपको IBPS PO Exam Date 2021 से सम्बंधित रजिस्ट्रेशन और तिथियों के बारे में बताया गया है:

IBPS PO EXAM IBPS PO EXAM DATE 2021 (TENTATIVE)
IBPS PO Prelims Admit Card September/ October 2021
IBPS PO Preliminary Exam October 9, 2021
October 10, 2021
October 16, 2021
October 17, 2021
IBPS PO Prelims Result October 2021
IBPS PO Mains Admit Card November 2021
IBPS PO Main Exam November 27, 2021
IBPS PO Main Result December 2021
IBPS PO Final Result February/March 2022

 

Interview (साक्षात्कार)

 

दोनों परीक्षा पास करने के बाद चयनित उम्मीदवार का साक्षात्कार होता है, इसके लिए आप पूरी तरह से तैयार रहे कि आपसे जो भी प्रश्न पूछे जाये आप उनका विनम्रता से सही जवाब दे, तथा आप अपने जवाब इस तरह से दे की उन्हें प्रभावित कर सके। साक्षात्कार में आपकी क्षमताओं के आधार पर ही आपका चयन किया जाएगा।

 

IBPS के कार्य (How IBPS works?)

 

IBPS एसक बैंकिंग संस्था हैं जो की रिक्त पदों के लिए परीक्षा आयोजित करवाती हैं ये बात हमने उपर पढ़ ली हैं IBPS क्या है पर क्या आपको पता हैं IBPS के ऐसे बहुत से कार्य होते हैं जिनके बारे में आपको नही पता होगा तो चलिए फिर देर किस बात की हैं जानते हैं-

  • IBPS के मुख्य कार्य अपने अंतर्गत आने वाले सभी बैंकों से रिक्त पदों की जानकारी प्राप्त करना और वेबसाइट के माध्यम से New Vacancies भरने के लिए विज्ञापन जारी करता है,
  • IBPS निर्धारित तिथि को प्रारंभिक Online Exam आयोजन करता है और कुछ दिनों के पश्चात “IBPS Exam Result” जारी करता है.

 

IBPS RRB

 

देश भर में फैले ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित बैंक के असिस्टेंट और ऑफिसर ग्रेड के पदों के लिए इस IBPS RRB के तहत परीक्षा लेकर कैंडिडेट का सिलेक्शन किया जाता है.

आइबीपीएस हर साल इस परीक्षा का आयोजन करती है जिसके तहत ऑफिस असिस्टेंट, मार्केटिंग मेनेजर, इत्यादि पदों की नियुक्ति की जाती है. इसमें भी 2 चरण में परीक्षा ली जाती है.

  • Preliminary Exam
  • Main Exam

कार्यालय सहायक के पद पर उम्मीदवारों का चयन करने के लिए इंटरव्यू का आयोजन नहीं किया जाता है. इसमें कैंडिडेट का चयन Mains exam में मिलने वाले अंकों के आधार पर किया जाता है.

Preliminary Exam

Section No. of Question
Reasoning 40
Numerical Ability 40

Mains Exam

Reasoning Paper 40
Numerical Ability Paper 40
English/Hindi Language Paper 40
Computer Knowledge 40
General Awareness Paper 40

 

IBPS के लिए Qualification

 

हम यहाँ पर ये जानेंगे की IBPS PO के लिए आवेदक की क्वालिफिकेशन क्या होनी चाहिए.

Educational Qualification: IBPS PO पद के आवेदन करने कैंडिडेट को ग्रेजुएशन डिग्री का होना जरुरी है यानि की इसमें से कोई भी डिग्री जैसे BA, B.Com, B.Sc, B.Tech इत्यादि.

जो भारत सरकार द्वारा प्रमाणित यूनिवर्सिटी से पढ़े हुए हों वैसे उम्मीदवार को इसमें आवेदन करनी की अनुमति होती है. इस एग्जामिनेशन के आवेदन के समय फॉर्म भरते समय डिग्री में प्राप्त मार्क्स को भी दर्शाना होता है.

Computer Knowledge: इस परीक्षा के लिए कंप्यूटर का ज्ञान होना काफी महत्वपूर्ण है क्यूंकि इसकी परीक्षा भी ऑनलाइन ही ली जाती है.

Language Proficiency: कैंडिडेट को State/UT के ऑफिसियल भाषा को बोलना और लिखना जरुर आना चाहिए है. कैंडिडेट को इस भाषा में लिखना, पढ़ना और बोलने के योग्य होना चाहिए.

Age Eligibility: इस परीक्षा के अंतर्गत आवेदक की उम्र 20 से 30 साल के बीच होनी जरुरी है.

IBPS बैंक लिस्ट

 

ये उन बैंक की लिस्ट है जो की पब्लिक सेक्टर के अंतर्गत आते हैं.

  • Andhra Bank
  • Punjab National Bank
  • Allahabad Bank
  • State Bank of Travancore
  • Syndicate Bank
  • Bank of Baroda
  • UCO Bank
  • Union Bank of India
  • United Bank of India
  • Corporation Bank
  • Punjab and Sind Bank
  • Bank of India
  • Bank of Maharashtra
  • Canara Bank
  • Central Bank of India
  • Dena Bank
  • IDBI Bank
  • Indian Bank
  • Indian Overseas Bank
  • Oriental Bank of Commerce
  • Vijaya Bank
  • State Bank of India
  • State Bank of Bikaner and Jaipur
  • State Bank of Hyderabad
  • State Bank of Mysore
  • State Bank of Patiala

 

IBPS की तैयारी कैसे करें? (How to prepare for IBPS)

 

किसी भी तरह के एग्जाम को निकालने के लिए पढ़ना जरुरी है. अब भला बड़ा परीक्षा हो या छोटा बिना रूटीन को फॉलो किये हुए पढाई में सफलता हासिल नहीं की जा सकती है.

जो युवा नए होते हैं और जिन्हें अधिक मालूम नहीं होती है उन्ही के लिए हम यहाँ पर आइबीपीएस की तैयारी कैसे करते हैं बताने जा रहे हैं.

1. पढाई के लिए टाइम टेबल बनायें 

एक बार जब आप आईबीपीएस पैटर्न और सिलेबस को अच्छी तरीके से समझ लेते हैं और इसके बारे में आपका सारा डाउट क्लियर हो जाता है अगला चीज आपको यह करना है कि पढाई के लिए एक टाइम टेबल बना लेना है.

इस बात का हमेशा ख्याल रखें कभी भी ऐसे ही टाइम टेबल को ना बनाएं जिसको आप follow ना कर सके. हर दिन कम से कम 6 घंटे पढ़ाई जरूर करें.

अपना अधिकतर समय उस विषय पर दें जिस पर आप कमजोर हैं और जिस पर आप स्ट्रांग है उस पर कम समय दें. अपने हर दिन के तैयारी को देखकर इस टाइम टेबल को अगर आपको लगता है कि बदलने की जरूरत है तो बदल डाले.

2. पढने की आदत डालें 

इस परीक्षा की तैयारी में पढ़ना और लिखना बहुत ही महत्वपूर्ण है. जनरल अवेयरनेस सेक्शन, लैंग्वेज सेक्शन, और कंप्यूटर एप्टीट्यूड सेक्शन, इन सब्जेक्ट में अधिक पढ़ने की जरूरत होती है.

जब आप पढ़ाई करते हैं तो उस वक्त आपको जो महत्वपूर्ण पॉइंट मिलते हैं उन्हें आपको लिख लेना है और इस तरह आप एक छोटा सा शॉर्ट नोट तैयार कर सकते हैं, जो आपको रिवीजन के वक्त काफी काम आ जाएगा.

आप हर दिन न्यूजपेपर मैगजीन किताबें पढ़ते रहे. इसके अलावा आप लिखने का भी अभ्यास करें क्योंकि इस में इंग्लिश लैंग्वेज सेक्शन डिस्क्रिप्टिव होता है यानी कि आपको उसमें लिखना भी पड़ता है.

3. अपने बेसिक को मज़बूत बनायें 

आईबीपीएस का एग्जाम का मतलब यह नहीं कि आप बस फार्मूला और महत्वपूर्ण जानकारी ही याद रखें. आपके एनालिटिकल स्किल को भी चेक किया जाता है.

उदाहरण के लिए अगर आप सिर्फ फार्मूला को याद करेंगे तो यह काफी नहीं होगा और इससे आप क्वांटिटी एप्टिट्यूड सेक्शन में नंबर नहीं ला सकेंगे.

आपको इसमें अच्छा नंबर लाने के लिए इसके हर चैप्टर के पीछे के सिद्धांत को समझना होगा और ठीक उसी तरह इसके सेक्शन में भी आपको अपने दिमाग का इस्तेमाल करना होगा. IBPS क्या है इसमें आपको बहुत ही घुमा फिरा कर क्वेश्चन पूछे जाते हैं.

इंग्लिश सेक्शन के गर्म बात करें तो इसमें अगर आपका इंग्लिश ग्रामर की अच्छी है इसमें आप अच्छा स्कोर कर सकते हैं.

4. लगन से अभ्यास कर्रें 

अगर आप रेगुलरली और दृढ़ता के साथ प्रैक्टिस नहीं करते हैं तो फिर आपकी परीक्षा की तैयारी अधूरी रह जाएगी. जब भी आप किसी चैप्टर को पढ़ें तो उसे पढने के बाद फिर खूब प्रैक्टिस करें और प्रश्नों को हल करें और देखें की आप कितने पानी में हैं.

इसके लिए आप शुरू में आसान प्रश्नों के साथ शुरुआत करें. इसके बाद जब आप इनको हल करने लगे तो फिर आप मुश्किलों सवालों को भी हल करना शुरू कर दे. इससे आपकी प्रैक्टिस करने के परिणाम बहुत अच्छे आयेंगे.

5. टाइम मैनेजमेंट स्किल को सुधार करें 

इस बात की गाँठ बाँध ले की सिर्फ अकेले हर प्रश्न का सही उत्तर दे देने से आपको अच्छा स्कोर नहीं मिल जायेगा. सटीकता के साथ साथ समय भी काफी महत्वपूर्ण होता है.

अगर आपको सभी सवालों के जवाब आते हैं लेकिन आप एक सवाल का जवाब लिखने में दोगुना समय लेते हैं तो फिर आपके नंबर अच्छे नहीं आने वाले. आपको पढाई के दौरान जवाब लिखने की प्रक्टिच्र में समय को मैनेज करने में ध्यान देना होगा.

6. नियमित रूप से रीविज़न करें 

सिर्फ लगातार पढाई करना और हर चैप्टर को कम्पलीट करने से ये जरुरी नहीं है की आप सच में सब कम्पलीट कर चुके हैं. आपको रेगुलरली हर चैप्टर को revision करते रहना होगा.

आप मुश्किल टॉपिक को अधिक बार revision करने की कोशिश करें जिससे आप उसमे मज़बूत हो सके. समय को ऐसे मैनेज करें की हर दिन आप पुराने टॉपिक में से कुछ टॉपिक को revise कर सके.

7. IBPS Mock Test में पूरा भाग ले

आपने अक्सर देखा होगा की पहली बार जो exam लिखने जाते हैं उनके पसीने छूट जाते हैं. और ऐसा भी होता है की सारा चैप्टर कम्पलीट होने के बावजूद exam सेंटर में लोग सवालों का जवाब नहीं दे पाते हैं.

इसीलिए ये जरुरी है की आप उस exam की तैयारी के लिए पहले ही उसके लेवल के exam यानि की Mock Test को ज्वाइन करें इससे आप परीक्षा में बैठने और उसके प्रेशर को हैंडल करने में सक्षम हो जायेंगे.

8. सभी विषय पर पकड जरूरी

अगर आप भी इस परीक्षा में सफल होना चाहते हैं, तो सबसे पहले बदले पैटर्न का गहन अध्ययन करें और उसी के अनुरूप तैयारी को अंतिम रूप देने की कोशिश करें। अगर आप वस्तुनिष्ठ परीक्षा की तैयारी निर्धारित समय सीमा के अंदर सिलेबस के अनुरूप करते हैं, तो सफलता प्राप्त कर सकते हैं। वर्बल रीजनिंग में अच्छे अंक नियमों की जानकारी और अभ्यास के द्वारा हासिल किए जाते हैं, वहीं नॉनवर्बल में अभ्यास ही सफलता का असली आधार होता है। गणित में सभी प्रश्न कांसेप्ट पर आधारित होते हैं। इस कारण कांसेप्ट क्लियर होने के बाद आप किसी भी तरह के प्रश्नों को आसानी से हल कर सकते हैं। बैंक में प्रश्नों का रीपिटीशन बहुत कम होता है, लेकिन उसके आधार पर प्रश्न काफी पूछे जाते हैं।

इस स्थिति में यदि आपको कांसेप्ट क्लियर नहीं है, तो अभ्यास के बावजूद इसमें बेहतर स्कोर नहीं ला सकते हैं। इसमें शॉर्ट ट्रिक और सूत्रों को जाने बिना सफल होना नामुमकिन है। इन ट्रिकों को कोचिंगों एवं बाजार में उपलब्ध पुस्तकों से सीखा जा सकता है। अंग्रेजी में सफलता के लिए तीन चीजों पर ध्यान देना बहुत जरूरी है वे हैं- ग्रामर की जानकारी और शब्दों का सही प्रयोग, स्पेलिंग की सटीक जानकारी और सेंटेंस फॉर्मेशन में निपुणता। इसके लिए जरूरी है कि आप एक ग्रामर पढने के साथ ही राष्ट्रीय अंग्रेजी अखबार का नियमित अध्ययन करें और शब्द भंडार बढाने की कोशिश करें। इसी तरह आप कंप्यूटर से संबंधित जानकारी के लिए किसी एक प्रामाणिक पुस्तक का अध्ययन कर सकते हैं।

 

आईबीपीएस बैंक क्लर्क प्रैक्टिस बुक

 

विशेषज्ञों के अनुसार वस्तुनिष्ठ परीक्षा में प्रैक्टिस अहम है। बिना प्रैक्टिस के आप बैंक क्लर्क की परीक्षा में सफलता नहीं प्राप्त कर सकते हैं। सरकारी बैंकों में क्लर्क ग्रेड की अच्छी तैयारी और प्रैक्टिस के लिए जागरण की आईबीपीएस बैंक क्लर्क प्रैक्टिस बुक भी बाजार में उपलब्ध है। प्रैक्टिस के लिए इसमें लगभग पांच हजार प्रश्न और उत्तर हैं। इसमें सभी विषयों की तैयारी के लिए प्रश्न सेट भी दिए गए हैं। इसके प्रश्न विशेषज्ञों द्वारा तैयार किए गए हैं, जो परीक्षा के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण हैं। अगर अपनी संपूर्ण तैयारी चाहते हैं, तो इस पुस्तक की सहायता से खुद को अपडेट कर सकते हैं।

 

IBPS कैसे कार्य करता है ? (IBPS working Process) 

 

साल 1975 में स्थापना किए जाने के बाद साल 1984 में IBPS अस्तित्व में आया था. और इसके बाद से ही इसके द्वारा एसेसमेंट और रिजल्ट प्रोसेसिंग सर्विसेज को एक स्टैण्डर्ड मिला. IBPS का संचालन आरबीआई, वित्त मंत्रालय और एनआईडीएम के पास है.

इसके साथ ही कुछ बैंक्स और इन्स्युरेंस कंपनियां भी हैं जो अपने सुझाव पेश करती हैं. IBPS हर वर्ष के दौरान कई एग्जाम का आयोजन किया जाता है जिसके अंतर्गत 1 करोड़ से भी अधिक लोग आवेदन करते हैं.

 

Conclusion

 

तो दोस्तों आपको मेरी यह लेख IBPS क्या होता है? जानिए IBPS की तैयारी कैसे करें? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!