स्टोरेज एरिया नेटवर्क (SAN) क्या है? पूरी जानकारी

SAN:-आज हम बात करेंगे SAN के बारे में। SAN का फुल फॉर्म होता हैं Storage Area Network। स्टोरेज एरिया नेटवर्क SAN एक तरह का स्टोरेज सलूशन हैं जिसका इस्तेमाल डाटा को सेंट्रलाइज करने के लिए किया जाता हैं। स्टोरेज एरिया नेटवर्क बेहद महत्त्वपूर्ण होता है उन कंपनियों के लिए जिनमें कई ऐसे सॉफ्टवेयर या ऐप्लीकेशन पर कार्य किया जाता हैं जिनके लिए अधिक स्टोरेज कैपेसिटी और डाटा सिक्योरिटी के साथ-साथ फास्ट डाटा एक्सेस की आवश्यकता पड़ती हैं। आपको बात दूँ कि अकेले स्टोरेज एरिया नेटवर्क इन सभी चीजों का सलूशन है।

SAN नेटवर्क बनाने के लिए बहुत से हार्ड डिस्क को जोड़ कर एक सेंट्रल स्टोरेज तैयार किया जाता हैं जिसे स्टोरेज पुल कहा जाता हैं। इसके बाद उस स्टोरेज पुल को फ़ाइबर केबल से जोड़ा जाता हैं और फ़ाइबर केबल को स्विच से कनेक्ट किया जाता हैं जिससे स्टोरेज का एक अपना नेटवर्क तैयार हो जाता हैं। इन सबके बाद सर्वर को भी स्विच के साथ जोड़ा जाता हैं डाटा को स्टोर और एक्सैस करने के लिए। आपको बता दूँ कि यहाँ पर सर्वर का मतलब वह कंप्यूटर होता हैं जिसका इस्तेमाल कंपनी के कर्मचारीयों या फिर आप करते हैं। इतना कुछ करने के बाद सर्वर, SAN पर उपलब्ध स्टोरेज स्पेस का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

स्टोरेज एरिया नेटवर्क (SAN) क्या है? पूरी जानकारी
TEJWIKI.IN

Contents

स्टोरेज एरिया नेटवर्क की परिभाषा

SAN हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर से मिलकर बना होता है। जिसे डेटा-केंद्रित मेनफ्रेम आर्किटेक्चर से Develop किया गया है। जिसके अंतर्गत Clients एक नेटवर्क में विभिन्न तरह के Servers से कनेक्ट रह सकते है। SAN को हम एक Independent High-speed Network के रूप में परिभाषित करते है

जो की विभिन्न तरह के Servers के लिए स्टोरेज डिवाइस के Shared Pool को आपस में जोड़ता है और डिलीवर करता है। सारे Server Shared Storage को एक्सेस कर सकते है। स्टोरेज एरिया नेटवर्क को मुख्य रूप से Data Storage Devices जैसे की Disk Arrays और Tape Libraries की पहुँच प्राप्त करने के लिए प्रयोग किया जाता है। जिससे की Device ऑपरेटिंग सिस्टम को Direct-attached Storage की स्तिथि में दर्शा सके।

डाटा को स्टोर करने के साथ ही SAN डाटा के Automatic Backup और स्टोरेज को मॉनिटर करने के साथ ही Backup Process को भी Allow करता है। SAN डाटा स्टोरेज करने के लिए बहुत ही समर्पित नेटवर्क है। 

स्टोरेज शेयरिंग

ऐतिहासिक रूप से, डाटा केंद्र पहले “SCSI डिस्क सारिणी को द्वीप बना कर प्रत्यक्ष रूप से जुड़े हुए संग्रहण (DAS) के रूप में बदलते हैं, जिनमें से प्रत्येक एक एप्लीकेशन को समर्पित होता है और ‘आभासी हार्ड ड्राइव’ की एक संख्या (अथार्त LUNs) के रूप में दिखाई देता है। मूलतः, SAN ऐसे संग्रहण द्वीपों को एक उच्च गति नेटवर्क का उपयोग कर के जोड़ता है।आपरेटिंग सिस्टम एक समर्पित बिना शेयरिंग के – LUNS का प्रयोग कर के अपना फाइल सिस्टम बनाते हैं

जैसे कि वे स्थानीय रूप से स्वयं के लिए करते हैं। यदि एक से अधिक सिस्टम LUN को शेयर करने का प्रयास करेंगे तो वे एक दूसरे के काम में हस्तक्षेप करेंगे तथा डाटा खराब कर देंगे। LUN पर कम्प्यूटरों के बीच डाटा शेयर करने की किसी भी योजना के लिए एक उन्नत समाधान की आवश्यकता है जैसे कि SAN फाइल सिस्टम या क्लसटर्ड कम्प्यूटिंग/गणना.इन मुद्दों के बावजूद, SAN संग्रहण क्षमता का उपयोग बढ़ाने में मदद करता है चूंकि एक से अधिक सर्वर अपने निजी संग्रहण स्थान को डिस्क सारिणी के रूप में इकठ्ठा करते हैं।

SAN के सामान्य उपयोगों में व्यवहारिक डाटा का प्रावधान भी है जिसके लिए हार्ड डिस्क तक उच्च गति ब्लॉक स्तर तक पहुँच आवश्यक है जैसे कि ईमेल सर्वर, डाटाबेस और अत्याधिक प्रयोग होने वाले फ़ाइल सर्वर.

स्टोरेज एरिया नेटवर्क क्या होता है 

एक स्टोरेज एरिया नेटवर्क (SAN) एक ढांचा है जो कि रिमोट कंप्यूटर उपकरणों (जैसे डिस्क सारिणी, टेप लाईब्रेरी तथा ऑप्टिकल ज्यूक बॉक्स) को सर्वर से इस ढंग से जोड़ता है कि सिस्टम स्थानीय ऑपरेटिंग सिस्टम से जुड़ा प्रतीत होता है। हालांकि SAN की लागत और जटिलता कम हो रही है, लेकिन वे बड़े उद्यमों के बाहर सामान्य रूप से नहीं पाए जाते हैं।

SAN और NAS

SAN के विपरीत, नेटवर्क संलग्न संग्रहण(NAS) फ़ाईल आधारित प्रोटोकॉल जैसे कि NFS या SMB/CIFS का प्रयोग करता है जिसमे यह स्पष्ट है कि संग्रहण रिमोट स्थान पर है और कम्प्यूटर डिस्क ब्लाक के बजाए फ़ाईल कस एक हिस्से का अनुरोध करता है। हाल ही में, NAS हेड्स ने SAN संग्रहण का NAS में रूपांतरण सरल बना दिया है। 

SAN-NAS हाईब्रिड

हाईब्रिड जो DAS, NAS और SAN प्रौद्योगिकियों का उपयोग कर रही हैं।

NAS और SAN के बीच अंतर होने के बावजूद, ऐसे समाधान बनाना संभव है जिसमें दोनों तकनीकें शामिल हों, जैसा कि चित्र में दिखाया गया है।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

लाभ

संग्रहण को शेयर करने से स्टोर प्रबंधन सरल और लचीला होता है क्योंकि एक सर्वर से दूसरे सर्वर पर संग्रहण स्थानांतरित करने के लिए तारों तथा संग्रहण उपकरणों के स्थान में परिवर्तन नहीं करना पड़ता.अन्य लाभों में सर्वर को SAN से बूट करने की क्षमता शामिल है। इससे खराब सर्वर को तेजी तथा आसानी से बदला जा सकता है

चूंकि SAN को दोबारा व्यवस्थित किया जा सकता है अतः परिवर्तित सर्वर खरं सर्वर का LUN उपयोग कर सकता है। इस प्रक्रिया में आधे घंटे का समय लगता है तथा नये डाटा केन्द्रों में तेजी से लागू किया जा रहा है। इसे सुविधाजनक बनाने तथा इस गति को और बढ़ाने के लिए कई उभरते हुए उत्पाद डिजाईन किये जा रहे हैं।

उदाहरण के लिए, ब्रोकेड, एक रिसोर्स मैनेजर नामक एक एप्लीकेशन प्रस्तुत करता है जिसमें स्वचालित ढंग से सर्वर को बूट ऑफ करने का प्रावधान है तथा जिसमें विशिष्ट मामले में लोड समय मिनट में मापा जाता है। यद्यपि प्रौद्योगिकी का यह क्षेत्र अभी नया है कई लोग इसे उद्यम डाटा केंद्र के भविष्य के रूप में देखते हैं।SAN अत्याधिक प्रभावी ढंग से आपदा प्रबंधन प्रक्रिया को सक्षम करते हैं।

SAN एक अवधि में दूर स्थान पर स्थित दूसरी संग्रहण सारिणी तक पहुँच सकता है। यह संग्रहण में बदलाव को संभव बनाता है चाहे इसे डिस्क सारिणी नियंत्रक, सर्वर सोफ्टवेयर या विशेषज्ञ SAN उपकरण द्वारा कार्यान्वित किया जाये. चूंकि लम्बी दूरी के संचार के लिए IP WAN सबसे सस्ती विधि है, अतः IP (FCIP) और iSCSI प्रोटोकॉल को फाइबर चैनल पर विकसित किया गया ताकि IP नेटवर्क पर SAN का विस्तार हो सके। पारंपरिक भौतिक SCSI परत केवल कुछ ही मीटर की दूरी पर काम कर सकती थी जो एक आपदा में कारोबार बरकरार रखने के लिए पर्याप्त नहीं था।

संयुक्त राज्य अमेरिका में 11 सितम्बर के हमले के बाद इस SAN एप्लीकेशन की मांग नाटकीय रूप से बढ़ गयी है और सर्बानेस ओक्स्ले और समान कानून से जुड़े विनियामक बनाने की मांग तेजी से बढ़ रही है।[डिस्क सारिणियों के आर्थिक जुड़ाव ने कई सुविधाओं के विकास को त्वरित किया है जिसमें I/O कैशिंग, स्नैपशौटिंग और वॉल्यूम क्लोनिंग (बिजनेस कोंटीन्युअंस वोल्यूम अथवा BCVs) शामिल हैं।

नेटवर्क के प्रकार

ज्यादातर संग्रहण नेटवर्क सर्वर तथा डिस्क ड्राइव उपकरणों के बीच संचार के लिए SCSI प्रोटोकॉल का प्रयोग करते हैं। वे भौतिक निम्न स्तर के SCSI का प्रयोग नहीं करते, इसके बजाए नये संग्रहण नेटवर्क iSCSI का प्रयोग करते हैं। नेटवर्क बनाने के लिए अन्य निम्न स्तर प्रोटोकॉल के लिए एक मैपिंग परत का प्रयोग किया जाता है:

  • ईथरनेट (AoE) पर ATA, ईथरनेट पर ATA की मैपिंग
  • फाइबर चैनल प्रोटोकॉल (FCP), फाइबर चैनल पर SCSI की मैपिंग के लिए सबसे प्रमुख है
  • ईथरनेट FCoE पर फाइबर चैनल
  • FC पर FICON की मैपिंग, इसका उपयोग मेनफ्रेम कंप्यूटर द्वारा किया जाता है
  • HyperSCSI, ईथरनेट पर SCSI की मैपिंग
  • iFCP[1] या SANoIP[2] आईपी पर FCP की मैपिंग
  • iSCSI, टीसीपी / आईपी पर SCSI की मैपिंग
  • RDMA (iSER) के लिए, iSCSI एक्सटेंशन्स, InfiniBand पर आईबी iSCSI की मैपिंग

SAN ढांचा

क्यू लोजिक SAN-ऑप्टिकल फाइबर चैनल कनेक्टर के साथ स्थापित स्विच.SAN अक्सर एक फाइबर चैनल फैब्रिक टोपोलॉजी का उपयोग करता है – जो संग्रहण सम्बंधित संचार के लिए एक विशेष रूप से तैयार किया गया बुनियादी ढांचा है। यह NAS में प्रयुक्त उच्च स्तर प्रोटोकॉल की अपेक्षा अधिक तेज तथा विश्वसनीय पहुँच प्रदान करता है। कपड़ा लोकल एरिया नेटवर्क में प्रयुक्त होने वाले नेटवर्क सेगमेंट के समान होता है। एक विशेष फाइबर चैनल SAN कपड़ा कई फाइबर चैनल स्विचों की संख्या से मिल कर बनता है।

आजकल, सभी प्रमुख SAN उपकरण बेचने वाले भी फाइबर चैनल रूटिंग समाधान के कुछ प्रकार प्रस्तुत कर रहे हैं और ये समाधान डाटा को कपड़े की विभिन्न परतों में बिना मिलाये, गुजरने की अनुमति दे कर SAN को अत्यधिक लाभदायक बना रहे हैं। ये समाधान मूल प्रोटोकॉल तत्त्वों का प्रयोग करते हैं तथा उच्च स्तर पर प्रदर्शित ढांचे बिल्कुल भिन्न हैं। वे अक्सर आईपी या SONET/SDH पर फाइबर चैनल ट्रैफिक की मैपिंग को सक्षम बनाते हैं।

तालमेल

SAN फाइबर चैनल के साथ शुरूआती समस्याओं में एक समस्या यह थी कि विभिन्न निर्माताओं द्वारा निर्मित स्विच और अन्य हार्डवेयर पूरी तरह से अनुकूल नहीं थे। यद्यपि मूल संग्रहण प्रोटोकॉल FCP हमेशा ही काफी अच्छी गुणवत्ता के थे, उच्च स्तर के कुछ प्रोग्रामों ने अच्छी तरह से काम नहीं किया। इसी तरह, कई होस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ एक ही कपड़े के बंटवारे पर खराब प्रतिक्रिया करेंगे। मानकों को अंतिम रूप देने से पहले कई समाधान बाज़ार में उतारे गये और इसके बाद विक्रेताओं ने कई मानकों का अविष्कार किया है।

घरेलू स्तर पर SAN

बड़ी डिस्क सारिणियों का नेटवर्क होने के कारण SAN का मुख्य रूप से बड़े पैमाने पर, उच्च प्रदर्शन वाले उद्यमों में संग्रहण के कार्यों में इस्तेमाल किया जाता है। SAN उपकरण अपेक्षाकृत महंगा है और इतने फाइबर चैनल होस्ट बस अडाप्टर डेस्कटॉप कंप्यूटर में दुर्लभ हैं। ISCSI SAN प्रौद्योगिकी के द्वारा अंततः सस्ते SAN उत्पादन की उम्मीदें हैं,[ लेकिन ऐसा नहीं लगता कि इस प्रौद्योगिकी का प्रयोग उद्यम डाटा केंद्र के बाहर किया जाएगा. डेस्कटॉप ग्राहकों द्वारा NAS प्रोटोकॉल जैसे कि SMB तथा NFS का प्रयोग जारी रखने की उम्मीद की जाती है। इसका अपवाद रिमोट संग्रहण प्रतिकृति को माना जा सकता है।

मीडिया और मनोरंजन में SAN

वीडियो संपादन कार्य समूहों में अत्यधिक डाटा स्थानान्तरण दर की आवश्यकता होती है। उद्यम बाजार के बाहर, यह एक ऐसा क्षेत्र है जिसे SAN से अत्यधिक लाभ मिला है।

प्रति नोड बैंडविड्थ के उपयोग पर नियंत्रण, जिसे कभी कभी सेवा की गुणवत्ता(QoS) के रूप में निर्दिष्ट किया जाता है, वीडियो कार्य समूहों में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि अगर अपर्याप्त खुली बैंडविड्थ हो तो यह पूरे नेटवर्क में साफ़ और प्राथमिकता के आधार पर बैंडविड्थ का उपयोग सुनिश्चित करता है। एविड यूनिटी, एप्पल का XSAN और टाइगर प्रौद्योगिकी मेटाSAN विशेष रूप से वीडियो नेटवर्क के लिए डिजाइन किए हैं और यह सुविधा प्रदान करते हैं।

संग्रहण का आभासीकरण

एक ऐसी प्रक्रिया जिसमें तार्किक संग्रहण को भौतिक संग्रहण से अलग किया जाता है, संग्रहण आभासीकरण कहते हैं। भौतिक संग्रहण संसाधनों को संग्रहण पूल में एकत्रित किया जाता है, जिससे तार्किक संग्रहण बनाया गया है। यह उपयोगकर्ता के डाटा के भंडारण के लिए एक तार्किक जगह प्रदान करती है और वास्तविक भौतिक स्थान पर मैपिंग की प्रक्रिया को पारदर्शी ढंग से सम्भालती है। इसका उपयोग विक्रेता के स्वामित्व वाले समाधान का उपयोग कर के आधुनिक डिस्क सारीणियों में किया जाता है। हालांकि, इसका लक्ष्य विभिन्न विक्रेताओं के नेटवर्क पर बिखरी हुई कई डिस्क सारिणियों को एक एकाकी संग्रहण उपकरण में आभासी रूप से इकठ्ठा करना है जिसका प्रबंधन समान रूप से किया जा सके।

SAN का क्या उपयोग है?

Storage Area Network क्यों उपयोग में लाया जाता है इसका क्या उपयोग है। 

  1. यह Application की उपलब्धता को Improve करता है। 
  2. Storage के उपयोग की प्रभावशीलता को बढ़ाता है, Storage Resources को मजबूत बनाता है, Data Protection को और भी ज्यादा Improve करता है। 
  3. स्टोरेज एरिया नेटवर्क किसी Organization की व्यवसाय निरंतरता प्रबंधन में अपनी एक अहम् भूमिका निभाता है। 
  4. Application की Performance को बेहतर बनाता है। 

SAN कैसे काम करता है 

यह एक तरह का नेटवर्क है। जिसका कार्य Server को स्टोरेज से Connect करके रखना है। SAN का कार्य विभिन्न तरह के Servers से स्टोरेज को प्राप्त करना है और स्टोरेज का पता लगाता है Storage Resources को केंद्रीय रूप से Manage और Protect करता है।

एक Separate Network के द्वारा Collective Storage को सर्वर से जोड़ा जाता है। और Traditional Lan के साथ ही Storage Traffic Performance को और भी ज्यादा Optimize किया जाता है।

Storage Area Network के घटक या Components

SAN को 3 अलग -अलग Layers में जाना जाता है। प्रत्येक Layer की अपनी एक अलग विशेषता और घटक होते है।

1. Host Layer

Host Layer Attach Servers को Represent करता है। Host Servers अधिकतर Enterprise Workload को रन करते है जैसे डेटाबेस, जिन्हें की Storage Access करने की आवश्यकता होती है। SAN Host Separate Network Adapter को भी अपने में शामिल करता है जो की SAN Access को समर्पित होता है।

SAN तकनीकों में Fc सबसे लोकप्रिय और शक्तिशाली तकनीक है, Fc SAN के लिए जो Network Adapter उपयोग किये जाते है उन्हें Host Bus Adapter (HBA) कहते है।

2. Fabric Layer

Fabric Layer के अंतर्गत SAN Networking Device रहते है जैसे – SAN स्विच, प्रोटोकॉल ब्रिज, गेटवे डिवाइस, राउटर और केबल। Cabling और  SAN Fabric Devices के अनुरूप Port Optical Fiber Connection एक से ज्यादा दूरी के नेटवर्क कम्युनिकेशन के लिए Traditional Copper पर आधारित केबलों को नियुक्त करते है। 

SAN Fabric को जब Construct किया जाता है तो Multiple Paths Provide करने के लिए Multiple Connections को लागू किया जाता है। इनमें से कोई सा एक पथ Damage SAN Communication अपने Alternative Path (वैकल्पिक पथ) का प्रयोग करता है।

3. Storage Layer

Storage Layer विभिन्न Storage Pools या स्तरों या प्रकारों में Collect विभिन्न Storage Devices से जुडी होती है। Storage Layer में Traditional Magnetic Hdds (पारंपरिक चुंबकीय एचडीडी ) शामिल होते हैं। परन्तु इसके अंतर्गत Optical Media Devices जैसे – सीडी, डीवीडी ड्राइव और टेप ड्राइव के साथ साथ एसएसडी भी शामिल हो सकते हैं। 

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

SAN Switches के बारे में 

SAN Switch किसी SAN का Focal Point (केंद्र बिंदु) होता हैं। ज्यादातर Network Switch के साथ SAN Switch एक तरह सेData Packet को Receive करता है। साथ हीPacket के Source और स्थान को भी निर्धारित करता है और Packet को  इच्छित स्थान के Device पर Forward करता है। 

SAN Fabric Topology Switch के प्रकार व स्विच की संख्या जैसे की Modular Or Edge Switch,  Backbone Switch साथ ही Switch जिस तरह से परस्पर जुड़े रहते है उन्हने परिभाषित करता है। 

छोटे SAN जैसे 16, 24 या 32 Ports ke साथ Modular Switch को Use कर sakte है, लेकिन बड़े SAN 64 या 128 Port ke साथ Backbone Switch को Use कर सकते हैं।

Quality Of Service 

SAN Storage की Quality Of Service ग्राहकों के लिए वांछित Storage Performance की गणना और रखरखाव को सक्षम करता है। कुछ कारक जो SAN QOS  को प्रभावित करते है। 

1 . Bandwidth – System पर जो डाटा उपलब्ध रहता है उसकी प्रवाहक्षमता की दर को नापता है। 

2 . Latency – Execute करने के लिए पढ़ने और लिखने के संचालन में समय में हुई देरी को जांचता है। 

3 . Queue Depth – Underlying Disk पारंपरिक या सॉलिड-स्टेट ड्राइव  (Traditional Or Solid-state Drives) को Execute करने में जो समय लगता है उसके बकाया संचालन की संख्या को जांचने में मदद करता है। 

What is NAS in Hindi-NAS किसे कहते है?

NAS जिसका फुलफॉर्म Network Attached Storage होता है। NAS एक प्रकार का स्टोरेज डिवाइस होता है जो नेटवर्क से कनेक्ट होता है और Authorized नेटवर्क उपयोगकर्ताओं और विभिन्न क्लाइंट्स के लिए एक केंद्रीय लोकेशन से डेटा को स्टोर और उसे एक्सेस करने की अनुमति देता है।

NAS डिवाइस काफी फ्लेक्सिबल और स्केल आउट हैं यदि आपको अतिरिक्त स्टोरेज की आवश्यकता होती है तो आप इसमें बड़ी आसानी से बढ़ा सकते है  NAS एक प्रकार से ऑफिस का एक प्राइवेट क्लाउड जैसा है। यह तेज़, कम खर्चीला है और साइट पर सार्वजनिक क्लाउड के सभी लाभ प्रदान करता है और जिस पर आपका पूरा कण्ट्रोल होता है।

Advantage  of  SAN  in  hindi

1.SAN का सबसे बड़ा एडवांटेज यह है कि इसमें हमें storage  virtualization   की फैसिलिटी मिलती है

2.SAN का यूज करने  से हमें प्रत्येक सर्वर की हार्ड डिस्क को बदलने की जरुरत नहीं होती है

3.SAN हमें हाई स्पीड डिस्क टेक्नोलॉजी प्रोवाइड करता है

4.SAN हमें Centralized बैकअप की फैसिलिटी भी देता है

5.SAN हमें Dynamic  Failover  Protection  भी देता है

6.SAN में हमें Storage  capacity  घटाने तथा बढ़ाने में कोई खास प्रॉब्लम नहीं होती  है

7.SAN का यूज करने से हमारा डाटा की सिक्योरिटी भी बढ़ जाती है

SAN के फायदे

यहाँ आपको Storage Area Network की विशेषताएं बताई गई है।
• डेटा सुरक्षा –Data की सुरक्षा प्रत्येक व्यवसाय के लिए महत्वपूर्ण होती है। SAN के साथ Data की सुरक्षा बहुत ही बेहतरीन है। यह आपके Data को सुरक्षित रखता है। Hackers से आपका Data बिलकुल सुरक्षित रहता है।
• उच्च उपलब्धता– SAN में Host और Storage Device के बीच किसी तरह की विफलता का कोई मार्ग नहीं है। पूरे Febrik में Communication हमेशा Workload के लिए Storage की उपलब्धता को बनाए रखने के लिए एक Alternative Path की खोज कर लेता है।
• बैंडविड्थ समस्याओं में कमी – यह Bandwidth में आने वाली समस्याओं में Changes करता है।
• डेटा ट्रांसफर की तेज गति – यह तकनीक Fiver ऑप्टिक्स के द्वारा Data को Transfer करती है जो की 5 GBPS से भी तेज गति से Data को Transfer कर सकती है।
• उच्च प्रदर्शन – विशिष्ट SAN एक Separate Network Fabric को Use करता है। Fabric पारंपरिक रूप से  FC के लिए Top Performance Provide करता है।

SAN के नुकसान 

जिस तरह आपने ऊपर SAN Ke Fayde जाने, उसी तरह उसके कुछ loses भी है।

  • महंगा स्टोरेज – इसका Use करने के लिए अच्छी खासी रकम भरनी पड़ सकती है, क्योंकि यह Industry- leading Data Storage और Transfer Facility प्रदान करता है।
  • प्रबंध– SAN Management एक तरह की बड़ी चुनौती है। Lun Mapping और Zoning को Configur करना व्यस्त रहने वाले संगठनों के लिए समस्या का विषय रहता है।
  • कुछ सर्वर पर अनुचित कार्य–  कुछ Server पर SAN भलीभाँति Work नहीं करता है।

कुंजी SAN फ़ाइल सिस्टम विशेषताओं में शामिल हैं:

  • सैन प्रौद्योगिकी के माध्यम से सीधे डेटा एक्सेस: एक सैन फाइल सिस्टम डेटा एक्सेस मॉडल का उपयोग करता है जो क्लाइंट सिस्टम को उच्च बैंडविड्थ सैन की सहायता से सीधे स्टोरेज सिस्टम से डेटा एक्सेस प्राप्त करने की अनुमति देता है। यह एक इंटरपोज़िंग सर्वर के बिना किया जाता है।
  • ग्लोबल नेमस्पेस: एक सैन फाइल सिस्टम सभी क्लाइंट को सभी सिस्टम फाइलों का एक व्यक्तिगत, मानक और सार्वभौमिक नामस्थान दृश्य प्रदान करता है। यह क्लाइंट द्वारा मैन्युअल कॉन्फ़िगरेशन बनाम सिस्टम व्यवस्थापक द्वारा कार्यान्वित किया जाता है।
  • फ़ाइल साझाकरण: सभी क्लाइंट, हार्डवेयर प्लेटफ़ॉर्म या ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) की परवाह किए बिना, संग्रहीत सिस्टम डेटा तक समान पहुंच प्रदान की जाती है।
  • डेटा प्रबंधन और नीति-आधारित भंडारण: भंडारण-संसाधन प्रबंधन को सरल बनाने और स्वामित्व की कुल लागत (टीसीओ) को कम करने के लिए एक सैन फाइल सिस्टम तैयार किया गया है। यह उचित संग्रहण उपकरणों पर नीति-आधारित स्वचालित फ़ाइल प्लेसमेंट के माध्यम से होता है।

Storage Area Network (SAN) और  Network Attached Storage (NAS) में क्या अंतर है?

S.NO SAN NAS
1. SAN का फुलफॉर्म Storage Area Network होता है। NAS का फुलफॉर्म Network Attached Storage होता है।
2. SAN में  डेटा को डिस्क ब्लॉक द्वारा पहचाना जाता है। NAS में Data फ़ाइल नाम के साथ-साथ बाइट ऑफसेट द्वारा पहचाना जाता है।
3. SAN में फाइल सिस्टम नेटवर्क द्वारा Managed किया जाता है। NAS में फाइल सिस्टम Head unit द्वारा Managed किया जाता है।
4. स्टोरेज एरिया नेटवर्क अधिक महंगा हैं। NAS SAN की तुलना में कम महंगा है।
5. NAS की तुलना में SAN इस्तेमाल करने में थोड़ा जटिल है। SAN की तुलना में NAS इस्तेमाल करने में कम जटिल है।
6. SAN में में SCSI, SATA प्रोटोकॉल इस्तेमाल होते है। NAS में File server,CIFS प्रोटोकॉल इस्तेमाल होते है।
7. SAN में बैकअप और रिकवरी के लिए Block by block copying तकनीक का उपयोग किया जाता है। NAS में बैकअप और रिकवरी के लिए, फ़ाइलों का उपयोग किया जाता है।
8. SAN हाई स्पीड ट्रैफिक सिस्टम में उच्च प्रदर्शन देता है। जबकि NAS उस वातावरण के लिए उपयुक्त नहीं है जिसमेंहाई स्पीड ट्रैफिक है।
9. SAN को आयोजन और नियंत्रण में अधिक समय और प्रयासों की आवश्यकता है। NAS का प्रबंधन करना आसान है और आयोजन और नियंत्रण के लिए एक सरल इंटरफ़ेस प्रदान करता है।
10. सैन को टीसीपी / आईपी नेटवर्क की जरूरत है और यह लैन पर निर्भर करता है। NAS लैन पर निर्भर नहीं करता है और उच्च गति फाइबर चैनल नेटवर्क का उपयोग करता है।

Storage Area Network का मतलब क्या होता है?

SAN को डाटा स्टोरेज करने के रूप में जाना जाता है। जो की कई तरह के Servers के लिए स्टोरेज डिवाइस के Shared Pool को परस्पर कनेक्ट करता है।

SAN कैसे काम करता है?

यह विभिन्न तरह के Servers से स्टोरेज को प्राप्त करता है और स्टोरेज का पता लगाता है।

SAN के कितने Components होते है?

इस नेटवर्क के 3 घटक होते है जिनके बारे में ऊपर विस्तार से समझाया गया है।

SAN का फ़ुल फ़ोरम क्या होता है?

SAN का फ़ुल फॉर्म होता है “Storage Area Network”

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

Conclusion

 

तो दोस्तों आपको मेरी यह लेख  स्टोरेज एरिया नेटवर्क (SAN) क्या है? पूरी जानकारी  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!