Computer Science क्या होता है? कंप्यूटर साइंस कैसे करे?

दोस्तों आज के हमारे इस लेख में हम लोग यह जानेंगे की Computer Science क्या होता है? और इसमें कैरियर कैसी है? इसके अलावा अगर आप कंप्यूटर साइंस के क्षेत्र में काम करते हैं तो आप को कितनी सैलरी मिल सकती है। और अगर आप एक विद्यार्थी हैं और कंप्यूटर साइंस के क्षेत्र में अपना केरियर बनाने के बारे में सोच रहे हैं तो यह लेख आपके लिए है।संक्षेप में समझे तो computer science (कंप्यूटर विज्ञान) ऐसा विज्ञान है जिसमें हम कंप्यूटर से संबंधित सभी चीजों के बारे में अध्ययन करते हैं।

कंप्यूटर विज्ञान के अंतर्गत computer system , जैसे कि hardware, system software, theory, logic data structure, programming language, algorithm जैसे विषयों के संबंध में अध्ययन करते हैं।कंप्यूटर विज्ञान केवल कंप्यूटर से संबंधित जानकारी इकट्ठा करना या कंप्यूटर के विषय पर अध्ययन करना ही नहीं है। बल्कि computer science की सहायता से हम कंप्यूटर से संबंधित जानकारी का अध्ययन करके हमारे जीवन में आने वाली समस्याओं का समाधान भी निकाल सकते हैं। रोजमर्रा की जिंदगी में कंप्यूटर का योगदान काफी ज्यादा बढ़ चुका है।

कंप्यूटर का इस्तेमाल आज हर क्षेत्र में जैसे कि बैंकिंग, शेयर मार्केट, स्कूल, दफ्तर, विश्वविद्यालय, शोध कार्यों गहन अध्ययन, इत्यादि चीजों में आप देख सकते हैं। आज के हमारे इस पोस्ट में हम आपको यह जानकारी उपलब्ध करा रहे हैं कि computer science kya hai? कंप्यूटर साइंस क्या है? इसमें कैरियर नौकरी की क्या संभावनाएं है। इसके साथ यहां विभिन्न पहलुओं के बारे में भी बात करने वाले हैं।

Computer Science क्या होता है? कंप्यूटर साइंस कैसे करे?
TEJWIKI.IN

 

Contents

कंप्यूटर विज्ञान क्या है (What is Computer Science in Hindi)

 

Computer Science जिसे आमतौर पर CS कहा जाता है, computer और computational system का अध्ययन है, जिसके अंतर्गत computer technology (hardware, software) के बारे में study की जाती है. कंप्यूटर विज्ञान, data के साथ interact करने वाली प्रक्रियाओं का अध्यन भी है.

जिसमे डेटा को program की form में दर्शाया जाता है. Computer Science क्या है यह सिर्फ कंप्यूटर के बारे में नही है, बल्कि यह संगणना और सूचना का अध्ययन है. इसलिए कंप्यूटर साइंस को अक्सर गणना विज्ञान (computation science) और कंप्यूटिंग विज्ञान (computing science) जैसे नामों से भी जाना जाता है.

 

कंप्यूटर साइंस विषय का परिचय

 

कंप्यूटर साइंस कोर्स में कंप्यूटर से जुड़ी जानकारी के अलावा इट्रेक्ट करने वाली प्ररिक्रियाओ के बारे में स्टूडेंट को बताया जाता है जिसमे किसी भी दडेटा को एक प्रोग्राम के फॉर्म में दर्शया जाता है.अगर अभी इस कोर्स की स्टूडेंट के बीच लोकप्रियता की बात करे तो इस कोर्स को आमतौर पर पर शार्ट फॉर्म में (CS) के नाम से जाना जाता है।

जब हम कंप्यूटर कोर्स की बात करते है तो उसमे कंप्यूटर साइंस कोर्स को नाम अवश्य आता है यह स्टूडेंट के द्वारा काफी लोकप्रिय कोर्स बन चुका है.क्योकि आज कंप्यूटर जैसी टेक्नोलॉजी काफी बढ़ती जा रही है इसलिय यह कोर्स आज स्टूडेंट की पहली पसंद बन चुका है.

यह एक ऐसा कोर्स है जिसमे आपको कंप्यूटर प्रोग्राम, कंप्यूटर टेक्नोलॉजी सॉफ्टवेयर, Computer Science क्या होता है? हार्डवेयर आदि से अवगत कराया जाता है.अगर आप इस कोर्स को करते है तो आप आसानी से प्रोग्राम को डिजाइन करना सीख सकते है वैसे भी आज डिजिटल दुनिया का जमाना है.

ऐसे में अगर आपके अन्दर जरा भी कंप्यूटर में दिलचस्पी है तो आपके लिए कोर्स काफी उपयोगी साबित होने वाला है.अगर आप इस कोर्स को करते है आपको कंप्यूटर के बारे में अच्छी नॉलेज होगी साथ ही इस कोर्स को करने के बाद आपके लिए नौकरीं के विभिन्न अवसर पर मिलते है. इस कोर्से करने वाले व्यक्ति की आज सरकारी डिपार्टमेंट के साथ प्राइवेट सेक्टर में काफी डिमांड है.

 

कंप्यूटर साइंस में क्या होता है? 

 

असल मे कंप्यूटर साइंस की उपस्थिति से ही हम उस algorithm का उपयोग कर पाते है, Computer Science क्या होता है? जिसके द्वारा digital information के साथ हेरफेर (manipulate),संचार (communication) और उसको store करना सम्भव हो सका है. CS का सबसे महत्वपूर्ण पहलू समस्या समाधान है.

यहां विभिन्न business, scientific और social context में होने वाली समस्याओं को हल करने के लिए उपयोग किये जाने वाले software और hardware का design, development और उनका analysis किया जाता है. कंप्यूटर विज्ञान के भीतर अध्यन के प्रमुख क्षेत्रो में computer system, artificial intelligence, network, database, human computer interaction, numaric analysis, software engineering, vision & graphics और computer theory जैसे विषय शामिल किए जाते है.

computer scientist हमेशा कुछ नया खोजने के लिए प्रयासरत रहते है. Computer Science क्या होता है? वे कंप्यूटर के द्वारा नई चीजें करवाने या कार्यो को अधिक कुशलता से पूरा करने के लिए सॉफ्टवेयर लिखते है. वे mobile devices के लिए application बनाते है, websites build करते है तथा software program भी विकसित करते है.

कुल मिलाकर यह एक ऐसा क्षेत्र है, जिसमे कई चीजें की जा सकती है. कंप्यूटर विज्ञान के संदर्भ में अक्सर इसके करियर को लेकर कई सवाल पूछे जाते है, तो चलिए इस बारे में आपको बताते है.

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

कंप्यूटर साइंस कैसे करे?

 

इस आधुनिक युग मे कंप्यूटर बहुत जरूरी होता जा रहा है इसलिये अगर आप इस कोर्स को करना चाहते है और इसमे अपना कैरियर बनाना चाहता है तो आपके लिए कंप्यूटर साइंस कोर्स को करना काफी अच्छा विकल्प है.जब आप इस कोर्स के लिए किसी यूनिवर्सिटी/ कॉलेज में एडमिशन लेते है तो आपको इस कोर्स में कई विषय को शामिल किया जाता है जैसे सिस्टम, नेटवर्किंग, हार्डवेयर, और सॉफ्टवेयर आदि के बारे में पढ़ने के मौका मिलता है.

तो यहाँ आपको इस बात का ध्यान देना है की आपको जिस सब्जेक्ट में आपको ज्यादा रुचि है या आपको उसके बारे में अच्छी जानकारी है तो उसी विषय का चयन करे.जैसे की आपको प्रोगरामिंग के बारे में नॉलेज है और आपको नए-नए प्रोग्राम बनाना अच्छा लगता है तो कोशिश करे की प्रोग्रामिंग से जुड़े सब्जेक्ट का चयन करे ताकि आपको इस कोर्स को करने के बाद आपके फील्ड़ नौकरी के अवसर मिल सके.

बाकि इस कोर्स को करने के लिए आप साइंस से 12वी पास होना जरूरी है इसके बाद आप इस कोर्स की पूरी पढ़ाई करने के लिए बीएससी या बीसीए में दाखिल ले सकते है.बाकी आप इस कोर्स को किस प्रकार से कर सकते है इसके लिए नीचे दिए गए कोर्स के बारे में ध्यानपूर्वक पढ़ ले.

कंप्यूटर विज्ञान का सैद्धांतिक अध्ययन

 

कंप्यूटर विज्ञान का सैद्धांतिक भाग यानी कि theoretical side में आप कंप्यूटर के सैद्धांतिक चीजों का अध्ययन करते हैं। यह मुख्य तौर पर computer science और mathematics से जुड़ा हुआ भाग है। जोकि computing के अधिक गणित विषय पर केंद्रित है। इसमें संगणना के सिद्धांत शामिल है। कंप्यूटर विज्ञान के सैद्धांतिक भाग में निम्नलिखित चीजों का अध्ययन करना पड़ता है, जिसे हमने नीचे सूचीबद्ध किया है:-

  • Algorithm
  • Data structure
  • Discrete Mathematics, Statistics
  • Theory of computing
  • Programming theory OOP
  • Digital electronics
  • Boolean algebra
  • Logic gates

इस क्षेत्र में आप कई सारे विषय के बारे में अध्ययन करते हैं जैसे कि एल्गोरिदम, database structure, डेटा संरचना, ऑटोमेटा सिद्धांत, सूचना सिद्धांत, क्रिप्टोग्राफी, machine learning, देखा जाए तो यह भाग गणितीय तकनीक और कंप्यूटर विज्ञान के विभिन्न पहलुओं पर जोर देता है।

हम मुख्यता यही तीन भागों में computer science क्षेत्र में कैरियर बनाने के लिए बांट रहे हैं। बाकी सारे क्षेत्र इन्हीं तीन क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं। जिन में शामिल है:-

  • Networking
  • Programming language
  • Graphics
  • System

Computer Science में Career कैसे बनाये

 

कंप्यूटर विज्ञान में करियर को लेकर अगर आप उलझन में है, तो आपको अपने आप से यह सवाल पूछने चाहिए. कंप्यूटर या तकनीक के बारे में कौन सा भाग मुझे उत्साहित करता है? उदाहरण के लिए यदि आप कंप्यूटर के theoretical side में जाना चाहते है, तो आप computer research के क्षेत्र में आगे बड़ सकते है.

वही अगर आप computer science के व्यवहारिक भाग को पसंद करते है, तो आप computer development के क्षेत्र में शिक्षा लेना शुरू कर सकते है. नीचे computer science के उन Fields यानी क्षेत्रो के बारे में जानकारी दी गयी है, जिसमे आप अपना करियर शुरू कर सकते है.

Theoretical computer science

कंप्यूटर साइंस का सैद्धांतिक भाग अर्थात theoritical side अक्सर highly mathemetical होता है. इसे हम computer science और mathematics का subset भी कह सकते है, Computer Science क्या है जो computing के अधिक गणितीय विषयो पर केंद्रित है. इसमे संगणना के सिद्धांत शामिल है.

कंप्यूटर विज्ञान के इस क्षेत्र में कई विषयों को शामिल किया जाता है, जैसे – एल्गोरिथ्म, डेटा संरचनाएं, कम्प्यूटेशनल जटिलता, समानांतर और वितरित संगणना, संभाव्य कंप्यूटेशन, क्वांटम कंप्यूटेशन, ऑटोमेटा सिद्धांत, सूचना सिद्धांत, क्रिप्टोग्राफी, मशीन लर्निंग और कंप्यूटेशनल संख्या सिद्धान्त इत्यादि. इस क्षेत्र का काम अक्सर गणितीय तकनीक (methmetical technique) और कठोरता पर जोर देना होता है.

Hardware

कंप्यूटर विज्ञान का यह क्षेत्र computer hardware development के बारे में है. हार्डवेयर की जानकारी हम आपको पहले दे चुके है. इसके अंतर्गत computer hardware के विकास से सम्बंधित विषय शामिल होते है. एक computer hardware engineer, computer system और उनके components के बारे में research उनका design, development और test प्रक्रिया करते है.

Software engineering

Software के design और implementation से सम्बंधित कार्य सॉफ्टवेयर इंजीनियर के अंतर्गत आते है. इसमें उपयोगकर्ता की जरूरतों का विश्लेषण करके softwares का design, construction और end user application का परीक्षण करने की प्रक्रिया शामिल होती है. यह सब विभिन्न प्रकार की programming language के उपयोग से किया जाता है.

System

System बहुत सारे संसाधनों का उपयोग करने और उन संसाधनों के उपयोग की रूपरेखा तैयार करने वाले कार्यक्रमो के साथ संक्षेप में काम करता है. system के इन कार्यो में operating system, database और वितरित कम्प्यूटिंग शामिल है. सिस्टम का काम अत्यधिक practical है तथा implementation और understanding पर केंद्रित है. database का design, implementation और profiling, system programming का एक प्रमुख हिस्सा है.

Networking

कंप्यूटर विज्ञान के इस क्षेत्र में device interconnection से निपटने वाले विषयो पर काम किया जाता है. networking कई प्रकार के practical topics को शामिल करता है, जैसे – network traffic को कम करने के लिए डेटा को संचारित करना और बेहतर protocol बनाना. इसके अलावा नेटवर्क से नेटवर्क के लिए algorithm शामिल है, जिससे नेटवर्क का पता लगाने, नेटवर्क के दोहन या क्षति को रोकने के लिए संसाधन का पता लगाया जाता है और लोड सन्तुलन की अनुमति मिलती है.

Programming languages

Software program को लिखने की प्रक्रिया programming language के द्वारा ही होती है. इसके अंतर्गत आपको कई प्रकार के प्रोग्राममिंग भाषाओं का अध्ययन करना होता है, जिससे आप नए कंप्यूटर सॉफ्टवेयर बना पाए. एक computer programmer को प्रोग्राममिंग लैंग्वेज (Python, JavaScript, C language, C++, PHP, Java etc.) का बेहतर ज्ञान होता है. इसके अलावा programmers पहले से मौजूद सॉफ्टवेयर प्रोग्राम को test करने के साथ उसमे मौजूद errors को भी ठीक करते है. अगर आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने का तरीका जानना चाहते है, तो पोस्ट पढ़े

Graphics

आजकल यह क्षेत्र animated movies बनाने के लिए प्रसिद्ध है. लेकिन असल मे इसमे data visualization जैसे विषयों को भी शामिल किया गया है, जिससे complex data को समझना और analyse करना आसान हो जाता है. अगर आप graphical 3D दुनिया को पसंद करते है, तो आप computer graphics के क्षेत्र में आगे बड़ सकते है.

इसके अलावा भी computer science के कई क्षेत्र है, जिनका अध्ययन करके आप एक बेहतर करियर बना सकते है. अगर एक बार आप यह तय कर ले कि मुझे किस विषय का अध्ययन करना है, उसके बाद इसमे आगे बड़ने के लिए आप नीचे बताये कोर्स कर सकते है.

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

कंप्यूटर साइंस कोर्स क्या है – Computer science course details in hindi)

 

Computer science course आपको इस क्षेत्र के बारे में मार्गदर्शन करते है. यह पाठ्यक्रम पूरी दुनिया भर में कराए जाते है. आप इन्हें online या किसी institute में दाखिला लेकर पूरा कर सकते है. नीचे आपको उन कोर्स के बारे में बताया गया है, जिन्हें आप computer science में अध्ययन करने के लिए चुन सकते है.

Degree Course in Computer Science

कंप्यूटर साइंस डिग्री कोर्स एक undergraduate, postgraduate और doctorate कंप्यूटर साइंस कोर्स है. इन courses की Duration यानी समय सीमा 3 years से लेकर 5 years तक हो सकती है. अगर Eligibility अर्थात योग्यता की बात करे तो Undergraduate (10+2), Post graduation (graduation) और Doctorate के पास पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए. भारत के अंदर कई सारी Universities है, जहां आप इन कोर्स को करने के लिए दाखिल ले सकते है.

Diploma Course in Computer Science

डिप्लोमा कोर्स एक short term course होता है. इसकी समय सीमा यानी duration लगभग 6 months से लेकर 2 years तक हो सकती है. इन कोर्स को किसी institute या collage में दाखिला लेकर किया जा सकता है. इसमे अलग – अलग level के कोर्स होते है, जिसके हिसाब से आपकी eligibility यानी योग्यता भी अलग मांगी जाती है.

Certificate Course in Computer Science

कंप्यूटर साइंस सर्टिफिकेट कोर्स एक छोटी समय सीमा का कोर्स है. इस कोर्स की duration लगभग 1 year से लेकर 2 years तक होती है. अगर योग्यता eligibility की बात करे तो यह course के level पर निर्भर करता है. वैसे इसकी शुरुआत 10+2 से की जा सकती है. भारत मे कई सारे छोटे institute और colleges मौजूद है, जहां यह कोर्स कराए जाते है.

इसके अलावा आप computer science के सभी fields का online course के माध्यम से भी अध्ययन कर सकते है. अगर हम subject की बात करे तो नीचे हमने इसकी पूरी सूची दी हुई है.

 

कंप्यूटर कोर्स के प्रकार

 

आप कंप्यूटर में रुचि रखते है तो इस कोर्स को जरूर कर ले.  इस कोर्स को मुख्यता 3 प्रकार से किया जा सकता है जिसके बारे मे आप नीचे डिटेल में जान सकते है:-

डिग्री कोर्स इन कंप्यूटर साइंस

यह एक अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट डिग्री कोर्स है इस कोर्स को करने की अवधि 3 साल से लेकर 5 साल तक कि होती है. आप इस कोर्स जो 12th पास करने के बाद कर सकते है. इस कोर्स जो ऐसे काफी यूनिवर्सिटी कॉलेज मौजूर है जो इसकी शिक्षा प्रदान करते है.

डिप्लोमा कोर्स

अगर आप इस कोर्स को डिप्लोमा के रूप में करना चाहते है तो इस कोर्स को आप 6 महीने से लेकर 2 साल की अवधि में पूरा कर सकते है. इस कोर्स को भारत भर में मौजूद इंस्टीटूट या कॉलेज से किया जा सकता है.

सर्टिफिकेट कोर्स

कंप्यूटर साइंस के इस कोर्स को पूरा करके सर्टिफिकेट भी हासिल किया जा सकता है इस तरह के कोर्स को आप 1 साल की अवधि में कर सकते है Computer Science क्या होता है? इसके लिए आप किसी इंस्टीटूट या कॉलेज में 10th और 12th पास करने के बाद कर सकते है. उम्मीद करते है कि आपको ऊपर इस कोर्स के बारे में दी गयी जानकारी समझह गयी होगी.

लेकिन जब स्टूडेंट किसी कोर्स, डिग्री के लिए एड्मिसन लेता है तो स्टूडेंट के लिए सबसे बड़ी चिंता होती है कि आख़िर उसके लिए तैयारी कैसे करें.अब क्योकि कंप्यूटर साइंस आज के इस टेक्नोलॉजी के युग में काफी लोकप्रिय कोर्स होता जा रहा है इसलिय आज युवा इस कोर्स के लिए सबसे ज्यादा आगे आ रहे है.

साथ ही आज हर क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है जिससे हर जगह इस अब कंप्यूटर कोर्स स्टूडेंट की डिमांड बढ़ती जा रही है.Computer Science क्या है लेकिन इस कोर्स को करने के बाद उन्ही स्टूडेंट को समय पर और अच्छी नौकरी मिल पाती है जो इस कोर्स की पढ़ाई की तैयारी अच्छे से करते है और कंप्यूटर के बारे में उचित जानकारी प्राप्त कर लेते है.

तो अब अगर आप भी इस कोर्स को करने का प्लान कर रहे है तो आपके पास अच्छा मौका है आप इस कोर्स के लिए अपने क्षेत्र के किसी इंस्टिट्यूट, कॉलेज में दाखिला ले सकते है.

वही अगर इस कोर्स को पूरा करने की तैयारी की बात करे तो आपको शुरू से कोशिश करनी होगी कि कंप्यूटर के बारे में ज्यादा से ज्यादा सीखने की कोशशि करे जैसे कि आपको अपनी शुरू की ही कक्षाओं में कंप्यूटर के बारे में सीखते चलना है ताकि आपको आगे इस कोर्स को करने में आसानी हो सके.

 

कंप्यूटर विज्ञान में पढ़ाए जाने वाले विषय – computer science subject in Hindi

 

Computer science के क्षेत्र में निम्नलिखित विषयों के बारे में अध्ययन कराया जाता है जिसकी एक सूची हमने नीचे दी है।

  1. Operating system
  2. Computer architecture
  3. Database database and information system
  4. Data structure and algorithm
  5. Discrete structures
  6. Web Technology
  7. Algorithm
  8. Web Technology
  9. Programming language
  10. Big data analysis
  11. E commerce
  12. Machine learning/ Artificial intelligence
  13. Bioinformatics
  14. Graphics and audio design

 

कंप्यूटर साइंस के क्षेत्र में Jobs और Salary

 

Computer science के क्षेत्र में नोकरियों की कोई कमी नही है. यदि आप उप्पर बताये गए कोर्स के माध्यम से कंप्यूटर साइंस का अध्ययन करते है, तो आपको निश्चित तौर पर एक बेहतर Job opportunity मिल सकती है. चलिये देखते है, कंप्यूटर साइंस की study कर लेने का बाद आप किस प्रकार की नोकरी पा सकते है.

कंप्यूटर विज्ञान के क्षेत्र में प्रमुख नौकरिया – Computer Science Jobs

1) Computer hardware engineer ― कंप्यूटर घटकों (circuit board, routers, memory device etc.) के design, development और उनकी testing की जिम्मेदारी लेते है.

2) Software developer ― कई प्रकार के software program को बनाते है और सॉफ्टवेयर के सम्पूर्ण development, testing और maintenance का काम करते है.

3) Computer system analyst ― यह computer system का आकलन करते है और उनकी efficiency बढ़ाने के लिए हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर में बदलाव की सलाह देते है.

4) Database administrator ― डेटाबेस व्यवस्थापक उपयोगकर्ता की डेटा आवश्यकताओं का विश्लेषण और मूल्यांकन करते है. वे महत्वपूर्ण सूचनाओं को स्टोर करने और पुनः प्राप्त करने के लिए डेटा संसाधनों का विकास और उसमें सुधार करते है.

5) Web developer ― वेबसाइट के लिए technical structure तैयार करते है और यह देखते है, की वेब पेज सुलभ है या नही. ताकि वह सभी ब्राउज़र पर खुल सके.

6) Information security analyst ― यह information network और websites को Cyber crime और अन्य सुरक्षा उल्लंघनों से बचाने के लिए system बनाते है.

7) Computer network architect ― कंप्यूटर नेटवर्क आर्किटेक्ट स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क (LAN), विस्तृत क्षेत्र नेटवर्क (WAN), extranets और intranet सहित networking और data communication system को design, implement और इनकी maintains का काम करते है. कंप्यूटर नेटवर्क के विभिन्न प्रकार व उनके उपयोग के बारे में जानने के लिए ये पोस्ट पढ़े.

8) Computer and information research scientist ― कंप्यूटिंग प्रद्योगिकी (computing technology) के क्षेत्र में नए तरीकों का अविष्कार करते है. वे कंप्यूटिंग में जटिल समस्याओं का अध्ययन करते है और उनका समाधान निकालते है.

9) IT project manager ― आईटी क्षेत्र में एक परियोजना प्रबंधक का काम किसी कंपनी के project में programmers और analyst की team के कार्यो को देखना और उनका मार्गदर्शन करना होता है.

10) Computer and information systems managers ― किसी आईटी कंपनी की technology आवश्यकताओं को analyze करते है और उपयुक्त data systems के implementation की देखरेख करते है.

कंप्यूटर विज्ञान के विविध क्षेत्र

 

कंप्यूटर विज्ञान में बहुत से उप-क्षेत्र हैं। कंप्यूटर विज्ञान से सम्बन्धित कुछ संगठनों के अनुसार कंप्यूटर विज्ञान के चार प्रधान क्षेत्र हैं जो इस प्रकार हैं –

  • संगणन का सिद्धान्त (theory of computation)
  • कलन-विधियाँ एवं आंकड़ों की संरचना (algorithms and data structures)
  • प्रोग्रामन विधियाँ एवं प्रोग्रामन भाषाएँ (programming methodology and languages)
  • कंप्यूटर के अवयव तथा कंप्यूटर-शिल्प (computer elements and architecture)

उपरोक्त के अलावा निम्नलिखित उपविषयों को भी कंप्यूटर विज्ञान के लिये महत्वपूर्ण माना जाता है-

  • सॉफ्टवेर अभियांत्रिकी (software engineering)
  • कृत्रिम बुद्धिमत्ता (artificial intelligence)
  • संगणकीय तंत्र-जाल एवं सम्प्रेषण (computer networking and communication)
  • डेटाबेस प्रणाली, सामानांतर संगणन (database systems, parallel computation)
  • वितरित संगणन (distributed computation)
  • संगणक-मानव वार्ता (computer-human interaction)
  • संगणकीय चित्रकला, परिचालन प्रणाली; और(computer graphics, operating systems; and)
  • संख्यात्मक एवं प्रतीकात्मक संगणन (numerical and symbolic computation)

 

कंप्यूटर साइंस में सैलेरी – Salary

 

कंप्यूटर साइंस के क्षेत्र में आपको कितनी सैलेरी मिलेगी इसका कोई एक अनुमान नही है. यह पूरी तरह से आपकी योग्यता और कंपनी किस स्तर की है, इस बात पर निर्भर करता है. अगर आप एक अच्छी university से पास आउट है, Computer Science क्या है तो आपका मासिक वेतन लाखो में हो सकता है.

परन्तु यदि आप एक औसत कॉलेज से है, तो आपका मासिक वेतन 10,000रु से 30,000रु तक हो सकता है. अगर आप एक अच्छी स्तर की जॉब पाते है, तो यह संख्या कही अधिक बढ़ भी सकती है. इसके अलावा आपका अनुभव इस क्षेत्र में जैसे – जैसे बढ़ता जाता है, आपको सैलेरी में बढ़ोतरी देखने को मिलेगी.

 

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Computer Science क्या होता है? कंप्यूटर साइंस कैसे करे? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


 

Leave a Comment

error: Content is protected !!