FSSAI क्‍या है? FSSAI कैसे और क्या काम करता है? पूरी जानकारी

इस पोस्ट में आपको जानकारी मिलने वाली है, कि FSSAI क्‍या है ? अगर आपको नही मालूम है की FSSAI क्या है, तो फ्रिक मत कीजिये हम आपको यहाँ पर सारी जानकारी देंगे कि FSSAI full form in hindi, FSSAI kya hai, एफएसएसएआई पूरी जानकारी, FSSAI in hindi, फ़ूड लाइसेंस क्या होता है। FSSAI का मुख्य काम यह होता है कि खाद्य वस्तुओं से संबंधित दिशा निर्देश को बनाना। इसके अलावा यह देश के सभी राज्‍यों, जिला एवं ग्राम पंचायत स्‍तर पर खाद्य पदार्थों के उत्पादन और बिक्री के तय मानक को बनाए रखने में सहयोग करता है। यहाॅं पर हम बात करेंगे फसाई फुल फॉर्म, एफएसएसएआई, FSSAI In Hindi के बारे में, तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़िए और जानिए एफएसएसएआई हिंदी में नियम, फ़ूड लाइसेंस की जानकारी और FSSAI kya hai in hindi के बारे में विस्तार से। हम तक कोई भी खाद्य पदार्थ पहुंचने से पहले एफएसएसएआई उसकी जांच करता हैं। इसकी स्थापना ग्राहकों तक सही पदार्थ पहुंचाने के लिए की गई हैं।

 

FSSAI क्‍या है? FSSAI कैसे और क्या काम करता है? पूरी जानकारी
TEJWIKI.IN

Contents

FSSAI क्या है?

 

एफएसएसएआई (FSSAI) यानि Food Safety And Standards Authority Of India, इसका गठन भारत सरकार ने खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम के तहत 2006 में किया गया था। FSSAI का कार्य होता है लोगों को सही मात्रा में अच्छा खाद्य पदार्थ उपलब्ध करवाना। हमारे देश में हर तरह के खाद्य पदार्थ के उत्पादन, बिक्री, संचयन और आयात में सुरक्षा, और स्वच्छता बनाए रखने के लिए FSSAI ज़िम्मेदार होता है। इसमें 14 आंकड़ों का लाइसेंस नंबर होता हैं। FSSAI का संचालन स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा किया जाता है।और साथ ही पुरे देश में यह खाद्य पदार्थ की quality की जांच करता रहता है।

 

FSSAI full form – FSSAI full form in hindi

 

Food Safety and Standards Authority of India” यह FSSAI का full form है, जिसे hindi में भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण कहते है।

 

FSSAI की जानकारी हिंदी में

 

लोगों को जहरीले तथा मिलावटी खाद्य पदार्थों से बचाने के उद्देश्य से FSSAI की स्थापना की गई थी। इसका Headquarter दिल्ली में स्थित है, FSSAI का काम बहुत ही बड़ा होता है, क्योंकि यह खाद्य पदार्थों की चीजों से संबंधित कार्य करती है।यह वैज्ञानिक तौर पर निश्चित करता हैं कि जो खाद्य पदार्थ बाज़ार में उपलब्ध हैं या उपलब्ध होने वाले हैं, वे लोगों के लिए पूरी तरह से स्वस्थ हैं। FSSAI क्‍या है इसलिए एक खान-पान के उत्पादक, संचयकर्ता और विक्रेता के पास एफएसएसएआई लाइसेंस होना आवश्यक हैं।

फूड लाइसेंस की जानकारी रखना बेहद जरुरी होता है, क्योंकि इसी के आधार पर आप किसी भी खाद्य पदार्थ की क्वालिटी को परख सकते हैं। फूड लाइसेंस क्या होता है, फूड लाइसेंस यानी कि खाद्य पदार्थ तैयार करने और बेचने वालों को फूड सेफ्टी के लिए के लाइसेंस बनवाना होता है। हालांकि कुछ के लिए यह लाइसेंस ज़रूरी नहीं हैं जैसे – वाहन विक्रेता, अस्थाई स्टॉल धारक, छोटे पैमाने के उद्योग, फेरीवाला आदि जैसे उत्पादक। जिसे लाइसेंस चाहिए वह नामित अधिकारी को आवेदन कर सकता हैं।

 

When was FSSAI founded | कब हुई FSSAI की स्थापना?

 

बता दें, फसाई की स्थापना साल 2011 अगस्त में हुई और इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। वैसे तो देश में पहले से ही सुरक्षा एवं मानक अधिनियम लागू था लेकिन एक ऐसी एजेंसी की आवश्यकता थी जो शिद्दत से खाद्य पदार्थों के कारोबार से जुड़े अधिनियम को सही रूप से लागू कर सके और और लोग भी इसके नियमों का पालन कर सकें। बता दें, पूरे देश में FSSAI के 8 ऑफिस है जो चेन्नई, कोचीन, गुवाहाटी, चंडीगढ़, मुंबई, लखनऊ, दिल्ली (मुख्य ऑफिस) और कोलकाता में स्थापित है।

 

FSSAI का उद्देश्य-

 

भारत सरकार के स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत FSSAI का संचालन किया जाता है। इसका मुख्‍यालय दि‍ल्ली में स्थित है, जो राज्‍यों के खाद्य सुरक्षा अधिनियम के विभिन्‍न प्रावधानों को लागू करने का काम करता है। इसके अलावा यह देश के सभी राज्‍यों, जिला एवं ग्राम पंचायत स्‍तर पर खाद्य पदार्थों के उत्पादन और बिक्री के तय मानक को बनाए रखने में सहयोग करता है। FSSAI क्‍या है साथ ही यह समय-समय पर खुदरा एवं थोक खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता की जांच भी करता है। ताकि देश में आम लोगों को बाजार में उपलब्ध खाद्य पदार्थ की गुणवत्ता और उसमें पाए जाने वाले पोषक तत्वों के तय मानक को बनाए रखा जा सके।

 

FSSAI का कार्यक्षेत्र-

 

FSSAI का मुख्य काम खाद्य वस्तुओं से जुड़े दिशा –निर्देश बनाना और यह सुनिश्चित करना की उसके द्वारा बनाए गए नियमों का पालन किया जा रहा है या नही FSSAI केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के विभिन्न मंत्रालयों और विभागों के खाद्य पदार्थो से संबन्धित मुद्दो को देखता है |इसके अलावा यह बड़े पैमाने पर और विभिन्न मंत्रालयों के नियंत्रण वाली खाद्य पदार्थो के उत्पादन और वितरण के मानक पर भी नजर रखता है

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

fssai के क्या कार्य हैं? What are the functions of fssai?

 

भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण के कार्य – FSSAI function

1) Certification

2) Give training

3) Providing scientific advice and technical support

4) Setting the guidelines

5) Promoting awareness

6) Network Establishment

7) Contributing to international structure value editors development

1) प्रमाणन देना – Certification

FSSAI इनका एक महत्वपूर्ण काम यह है की, ये खाद्य व्यवसायियों ने जो खाना या कोई पैकिंग का प्रोडक्ट बनाया है उनकी जाँच करना और ये सुनिश्चित करना की, FSSAI क्‍या है उन्होंने जो कुछ भी बनाया है वह खाने योग्य है या नही।

खाद्य पदार्थों की जाँच करने के बाद उन्हें वह खाना सही और योग्य लगा तो उनको FSSAI का Certificate दिया जाता है और इससे खाद्य व्यवसायियों को अपना व्यवसाय चालू करने में कोई दिक्कत भी नही आती।

2) प्रशिक्षण देना – Give training

भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण ( FSSAI ) यह खाद्य के संबंधित बहुत से प्रशिक्षण का आयोजन करते है। इन प्रशिक्षण का ज्यादा उपयोग उन लोगों को होतो है, जो food business में शामिल है या फिर इनमे शामिल होने का इरादा रखते है।

इस आयोजन में उन लोगों को खाद्य व्यवसाय से जुड़ी सभी छोटी छोटी बातें या जानकारी दी जाती है। इस वजह से जो कोई भी food business करना चाहते है उन्हें बहुत मदद मिलती है।

3) वैज्ञानिक सलाह और तकनीकी सहायता प्रदान करना – Providing scientific advice and technical support

वैज्ञानिक सलाह और तकनीकी सहायता प्रदान करना – भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण का सबसे महत्वपूर्ण काम यह है की, वह केंद्रीय और राज्य सरकारों को वैज्ञानिक सलाह और तकनीकी सहायता प्रदान करते है जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से खाद्य संरक्षा और पोषण को प्रभावित करने वाले नीति और नियमों के संबंधित हो।

4) दिशा निर्देश को निर्धारित करना – Setting the guidelines

Setting the guidelines – खाद्य व्यवसाय के लिए खाद्य पदार्थों से संबंधित दिशा-निर्देश को बनाने के लिए और यह सुनिश्चित करने के लिए की उनके द्वारा बनाये गये दिशा-निर्देशों का पालन देश में सही तरीके से किया जा रहा है नही, इस कार्य के लिए FSSAI का बहुत महत्वपूर्ण योगदान है।

5)जागरूकता बढ़ाना – Promoting awareness

Promoting awareness – एफएसएसएआई यह संस्था खाद्य मानकों और खाद्य सुरक्षा के बारे उद्योजक और सार्वजनिक जनता के बीच सामान्य जागरूकता को बढ़ाने का काम करती है।

6) Network Establishment – नेटवर्क की स्थापना

Network Establishment – पूरे देश की सभी व्यक्तियों को जैसे आम उपभोक्ता, सार्वजनिक, पंचायत इन लोगो को खाद्य सुरक्षा और इससे संबंधित जो भी कुछ बातें या जानकारी है वह सब आसानी से उद्देशपूर्ण, विश्वसनीय और तेजी से प्राप्त कर सके। इसलिए इस संस्था ने एक सूचना नेटवर्क की स्थापना की है और यह इनका सबसे महत्वपूर्ण कार्य है।

7) अंतराष्ट्रीय संरचना मान संपादकों विकास में योगदान देना

Contributing to international structure value editors development – खाद्य, स्वच्छता और पादप स्वच्छता के लिए अंतराष्ट्रीय संरचना मान संपादकों को विकास में योगदान देना यह एफएसएसएआई का महत्वपूर्ण काम है।

अधिकारियों को क्या निर्देश


FSSAI के आदेश में कहा गया है, ‘‘लाइसेंसिंग और पंजीकरण अधिकारियों को नीति का व्यापक प्रचार करने और दो अक्टूबर, 2021 से इसका कार्यान्वयन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है।’’नियामक ने कहा कि FSSAI नंबर का उल्लेख करने से समग्र जागरूकता में भी सुधार होगा। उसने कहा कि यदि FSSAI नंबर का उल्लेख नहीं किया गया, तो यह खाद्य व्यवसाय द्वारा गैर-अनुपालन या पंजीकरण/लाइसेंस नहीं होने का संकेत देगा।

 

FSSAI  की सिफारिशें

 

  • खाद्य सुरक्षा एवं मानक कानून को 2006 में पारित किया गया था, लेकिन इसकी अधिसुचना 2011 में जारी की गई। FSSAI ने खाद्य परिवर्तन और मानक अधिनियम, 2006 में संशोधन हेतु निम्नलिखित अनुशंसाएँ प्रस्तुत की हैं- 
  • अधिनियम की धारा 59 में एक नए खंड को जोड़ने की सिफारिश की गई है, इसके अंतर्गत सात साल के कारावास का प्रावधान किया गया है जिसे आजीवन कारावास तक बढ़ाया जा सकता है। FSSAI क्‍या है इसके अलावा, ऐसे व्यक्तियों और व्यवसाइयों पर 10 लाख रुपए के ज़ुर्माना लगाने का भी प्रस्ताव किया गया है जो जान-बूझकर खाद्य वस्तुओं में मिलावट करते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि इस मिलावट से किसी उपभोक्ता को कोई नुकसान हुआ है अथवा नहीं।
  • इसके अंतर्गत मिलावट किये जाने तथा मिलावट से नुकसान होने की आशंका में भी आजीवन कारावास की सज़ा की सिफारिश की गई है। यहाँ यह स्पष्ट करना अत्यंत आवश्यक है कि वर्तमान समय में यदि खाद्य पदार्थ में किसी भी प्रकार की मिलावट से उपभोक्ता की मृत्यु हो जाती है तो ही उम्रकैद का प्रावधान है, लेकिन इन प्रस्तावों पर सहमति बनने के बाद मिलावट की आशंका होने की स्थिति में भी उम्रकैद का प्रावधान किया गया है।
  • प्रस्तावित अन्य संशोधनों में राज्य खाद्य सुरक्षा प्राधिकरणों का गठन करने की बात भी कही गई है ताकि कानून का सही अर्थ में अनुपालन सुनिश्चित किया जा सके।
  • इसमें खाद्य सुरक्षा अधिकारियों के काम में बाधा डालने या उन्हें परेशान करने अथवा उन पर हमला करने वालों के लिये सज़ा को बढ़ाकर न्यूनतम छह महीने व अधिकतम दो साल करने का प्रस्ताव किया गया है। इसके साथ-साथ पाँच लाख रुपए ज़ुर्माने का भी प्रस्ताव किया गया है। वर्तमान में न्यूनतम तीन महीने की सज़ा और एक लाख रुपए ज़ुर्माने की व्यवस्था है।
  • इसके अतिरिक्त, निर्यात किये जाने वाले खाद्य पदार्थो को भी खाद्य सुरक्षा एवं मानक कानून के दायरे में लाने का प्रस्ताव किया गया है। वर्तमान में केवल वे खाद्य पदार्थ इस कानून के दायरे में शामिल होते हैं जिनकी बिक्री घरेलू बाज़ार में होती है अथवा जिनका आयात किया जाता है। 
  • इसके अलावा, खाने का सामान आयात करने वाली कंपनियों के संदर्भ में भी ज़िम्मेदारी तय की गई है जिससे कि किसी भी सामान में मिलावट न हो। साथ ही, इस संबंध में किसी प्रकार की दुविधा से बचने के लिये उपभोक्ताओं की परिभाषा में भी बदलाव किया जाएगा।
  • इसके अतिरिक्त, पशुओं के खाद्य पदार्थों को भी कानून के दायरे में लाने संबंधी प्रस्ताव पेश किया गया है।

 

फूड प्रोडक्ट के लिए रजिस्‍ट्रेशन है अनिवार्य-

 

देश में किसी भी खाद्य पदार्थ का उत्पादन और बिक्री से पहले किसी भी कंपनी को FSSAI क यहां अपना रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य होता है |एसके बाद ही कंपनी अपने प्रॉडक्ट को बाजार मे बेच सकती है | रजिस्ट्रेशन के लिए शुल्क (सभी जो पंजीकरण क मापदंड के तहत आते हैं )100 रुपए |केंद्रीय लाइसेन्स के लिए शुल्क (जो कि केंद्रीय लाइसेंस के लिए पात्र हैं )7500 रूपये |

 

Small food business from home also Need FSSAI license?- घर से छोटे भोजन व्यवसाय को एफएसएसएआई लाइसेंस की आवश्यकता है?

 

आप में से कुछ सोच रहे होंगे कि ‘मैं घर से व्यवसाय चलाता हूं और मेरे पास कोई बड़ा व्यवसाय नहीं है, मुझे एफएसएसएआई लाइसेंस क्यों प्राप्त करना चाहिए?’ FSSAI क्‍या है उस स्थिति में, आपको अभी भी एफएसएसएआई के तहत पंजीकरण करने की आवश्यकता है, हालांकि आपको केवल मूल पंजीकरण की आवश्यकता होगी।

नीचे हम व्यवसायों के प्रकार और प्रत्येक व्यवसाय के लिए पंजीकरण के प्रकार पर चर्चा करेंगे ताकि आप इसे बेहतर तरीके से समझ सकें।

FSSAI license benefits in Hindi | क्या होते हैं FSSAI के फायदे?

 

 

  • खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम के के जरिए लोगों को जहरीले पदार्थ से बचाया जा सकता है।
  • जनता तक शुद्ध खाद्य पदार्थ पहुंचाया जाता है।
  • बता दें, खानपान को सुरक्षित और खाद्य नियमों के मापदंड की एक मात्र संस्था संस्था यही है।
  • अलग-अलग खाद्य पदार्थ की सामग्री के लिए FSSAI केवल एक ही लाइसेंस प्रदान करता है
  • खाद्य पदार्थ बेचने वाले लोगों के पास FSSAI का लाइसेंस होता है तो ग्राहक अधिक जुड़ते हैं और उनके द्वारा बेचे गए माल पर भी विश्वास करते हैं।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

FSSAI Products List

 

भारत में पुराने खाद्य पदार्थों से जुड़े कई अधिनियमों को FSS act 2006 में शामिल कर दिया गया है, जिसकी लिस्ट नीचे दी गयी है 

1) वनस्पति तेल उत्पाद (नियंत्रण) आदेश 1947 [ Vegetable Oil Products (control) order 1947 ]
2) खाद्य व्यभिचार अधिनियम 1954 ( Prevention of Food Adulteration Act 1954 )
3) फल उत्पाद आदेश 1955 ( Fruit Products Order 1955 )
4) सॉल्वेंट निकाले गए तेल, डी-ऑइलड भोजन और खाद्य आटा (नियंत्रण) आदेश 1967 ( Solvent Extracted Oil, De-Oiled Meal & Edible Flour (control)
order1967 )
5) मांस खाद्य उत्पाद आदेश 1973 ( Meat Food Products order 1973 )
6) खाद्य तेल उत्पाद ( विनियमन ) आदेश 1988 ( Edible Oils Products(regulation)order 1988 )
7) दूध और दूध उत्पाद आदेश 1992 ( Milk & Milk Products Order 1992 )

 

FSSAI का लाइसेंस कैसे लें

 

भारत में तीन प्रकार के एफएसएसएआई लाइसेंस होते हैं और FSSAI Ka Licence Kaise Le In Hindi में जानकारी के लिए इन बातों पर ध्यान दें।

  • बेसिक एफएसएसएआई लाइसेंस (Basic FSSAI License):
  • यह क्षुद्र और लघु उद्योग के लिए हैं जो आमतौर पर एक से पाँच साल के लिए दिया जाता हैं। यह उनके लिए हैं जिनकी वार्षिक आमदनी 12 लाख या उसे कम हो।
  • स्टेट एफएसएसएआई लाइसेंस (State FSSAI License):

  • यह मध्यम वर्गीय उत्पादकों और विक्रेताओ के लिए हैं जिनकी सालाना आमदनी 12 लाख से ज़्यादा हो। यह भी एक साल से पाँच साल के लिए दिया जाता हैं।
  • सेंट्रल एफएसएसएआई लाइसेंस (Central FSSAI License):

  • यह उन खाद्य व्यापारियों के लिए हैं जिनकी सालाना आमदनी 20 करोड़ से ऊपर हैं।

एफएसएसएआई लाइसेंस रजिस्टर करवाने के लिए आपका एक ई-मेल आई-डी और फोन नंबर होना बेहद जरुरी होता हैं। FSSAI क्‍या है अपने आवेदन में अपने नाम की स्पेलिंग बिल्कुल सही लिखें और उसे submit करें। उस आवेदन के बाद आपको एक अपना अलग आई-डी दिया जाएगा, जो आगे की प्रोसेस के लिए ज़रूरी होता है।

अंत में आपको एक निर्धारित रकम का भुगतान करना होगा। अपने आवेदन पत्र की कॉपी और भुगतान की राशि के साथ एक डिमांड ड्राफ्ट तैयार कीजिए और उसे सबमिट करें।

 

राज्य लाइसेंस प्राधिकरण द्वारा जारी लाइसेंस के लिए शुल्क –

 

जी हां दोस्तों, लाइसेंस लेने के लिए एक फीस भी निर्धारित है। स्टेट लाइसेंस लेने के लिए आपको इस तरह से चुकानी पड़ती है –

  • 4 स्टार होटल के लिए यह फीस 5000 रुपये है

  • भोजन सर्व करने वाले फूड बिजनेस आपरेटर के लिए यह फीस 2000 रुपये रखी गई है।

  • स्कूल कैंटीन के सहित कालेज, आफिस और इंस्टीट्यूट कैटरर, बैंक्वेट हाल और खाने की व्यवस्था करने वाले इसी के तहत रखे गए हैं।

  • क्लब, रेस्टोरेंट, बोर्डिंग हाउस आदि के लिए यह फीस 2000 रुपये रखी गई है।

  • एक मैन्युफैक्चरर और मिलर जो एक मीट्रिक टन दूध या 501 से 10 हजार लीटर दूध का उत्पादन करता है या 2.5 एमपी से 500 मीट्रिक टन दूध के लिए हर साल 3000 रुपये फीस चुकानी पड़ती है।

 

राज्य लाइसेंस प्राधिकरण द्वारा जारी लाइसेंस के लिए शुल्क-

 

 

होटल (3 स्टार और 4 स्टार) रु. 5000
बैंक्वेट हॉल रु. 2000
रेस्टोरेंट रु. 2000
बोर्डिंग हाउस रु. 2000
क्लब रु. 2000
डब्बा वाला जैसे फूड वेंडर रु. 2000
केटरर रु. 2000
अन्य रु. 2000

 

FSSAI License के लिए आवश्यक दस्तावेज

 

 

  • 2 पासपोर्ट साइज़ फोटो
  • आधार कार्ड
  • वोटर आईडी कार्ड
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • पैन कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • मनोनीत व्यक्ति के नाम और पते के साथ
  • व्यवसाय में शामिल होने वाले खाद्य पदार्थों की एक पूरी लिस्ट।
  • Declaration form (घोषणापत्र)
  • Layout plans और measurement के साथ।

 

FSSAI license ko update kaise kare | कैसे करें FSSAI लाइसेंस को अपडेट?

 

 

  • सबसे पहले FSSAI की वेबसाइट पर जाए।
  • इसके बाद आपके सामने एक लॉगइन पेज खुल कर आएगा जिसमें आपको अपना नाम और पासवर्ड डालना है और फिर अकाउंट को लॉग इन करना है।
  • अकाउंट लॉग इन करने के बाद आपके पास अप्लाई फॉर रिन्यूअल का ऑप्शन आएगा, इस पर आप क्लिक करें।
  • इस दौरान आपके पास यह मैसेज भी आएगा कि क्या आप वाकई लाइसेंस को अपडेट करना चाहते हैं, यदि हां तो आप ओके के ऑप्शन पर क्लिक कर दें।
  • इसके बाद आप जरूरी डाक्यूमेंट्स को फॉर्म में अपलोड करें और सही जानकारी के बाद सबमिट कर दें।
  • अब आपका लाइसेंस रिन्यू हो जाएगा। इसके बाद आप अपने लाइसेंस को डाऊनलोड करके इसका प्रिंट निकाल सकते हैं।

 

FSSAI से लगी अवैध कारोबार पर रोक

 

बता दें, FSSAI लाइसेंस शुरू होने के बाद खाने पीने की चीजों का अवैध रूप से कारोबार काफी हद तक बंद हो गया है। FSSAI क्‍या है इतना ही नहीं बल्कि अब खाने पीने की जगह पर साफ-सफाई का विशेष ध्यान दिया जाता है और खाने की गुणवत्ता भी काफी हद तक अच्छी हो रही है। जैसा कि, हम सभी जानते हैं त्यौहार के दौरान कई मिलावटी चीजें बिकती है। इसी समस्या को दूर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने FSSAI लाइसेंस की प्रक्रिया शुरू की है। जो लोग खाद्य पदार्थ में मिलावट करते हैं FSSAI उनके खिलाफ छापा मारकर सख्त कार्यवाही करती है, ताकि मिलावटी खाना खाने से लोगों को बचाया जा सके।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख FSSAI क्‍या है? FSSAI कैसे और क्या काम करता है? पूरी जानकारी  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


FSSAI क्‍या है? FSSAI कैसे और क्या काम करता है? पूरी जानकारी

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!