एक देश एक राशन कार्ड योजना: One Nation One Ration Card

 

कोविड-19 की वजह से कई लोगों की नौकरी छूट गई है. ग्रामीण इलाकों में भी कामकाज पर भरी असर पड़ा है. One Nation One Ration Card ऐसे में केंद्र सरकार ने प्रवासी नागरिकों को राशन देने के लिए ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ योजना की शुरुआत की है. इसके तहत अब आर्थिक तंगी से गुजर रहे लोगों को बहुत ही कम कीमत पर गेंहू, चावल जैसे जरूरी अनाज दी जा सकेंगी. कोई भी राशन कार्ड धारक इस योजना का लाभ ले सकता है.

केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के अंतर्गत वन नेशन-वन राशन कार्ड योजना देशभर में लागू की है. इसके तहत अब कार्ड धारक देश में कहीं से भी राशन ले सकता है. इसके अंतर्गत देशभर से लगभग 5.25 लाख राशन दुकानें शामिल हैं. इस योजना के तहत अब राशन आसानी से जरूरतमंदों को मिल जाएगा. नेशनल फ़ूड सिक्योरिटी एक्ट के तहत, 65 साल से ज्यादा के लोग और दिव्यांगों को उनके घर पर राशन पहुंचाया जा रहा है.

 

 

एक देश एक राशन कार्ड योजना: One Nation One Ration Card
TEJWIKI.IN

Contents

वन नेशन वन राशन कार्ड– One Nation One Ration

 

देश की वित् मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने गुरुवार को इस योजना के तहत नई घोषणा की है | लॉक डाउन की वजह से देश के जो गरीब लोग परेशान है उन्हें इस नई घोषणा के ज़रिये राहत पहुंचाई जाएगी | इस वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के अंतर्गत देश के 23 राज्यों को 67 करोड़ लोगों को फायदा मिलेगा। पीडीएस योजना के 83 फीसदी लाभार्थी इससे जोड़े जाएंगे। इस योजना के तहत मार्च 2021 तक इसमें 100 फीसदी लाभार्थी जुड़ जाएंगे। देश के नागरिक देश के किसी भी कोने से अपने राशन कार्ड के माध्यम से उचित मूल्य पर राशन की दुकान से राशन ले सकते हैं।

 

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना क्या है?

 

केंद्र सरकार की वन नेशन-वन राशन कार्ड योजना की शुरुआत राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 (NFSA- National Food Security Act 2013) के अंतर्गत 9 अगस्त 2020 को हुई थी। योजना को शुरू करते समय केंद्र सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि इस योजना को देश के सभी राज्यों में लागू किया जाएगा। 1 जून 2021 तक योजना से कुल 20 राज्यों को जोड़ा गया। केंद्र सरकार ने 31 जुलाई 2021 तक सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को इस योजना से जोड़ने का लक्ष्य रख था। अब तक कुल 29 राज्य वन नेशन वन राशन कार्ड योजना से जुड़ चुके हैं। धीरे-धीरे सभी राज्यों को इस योजना से जोड़ लिया जाएगा। One Nation One Ration Card Yojana 2021 के माध्यम से राशनकार्ड धारक किसी भी राज्य में जाकर कम दाम में राशन खरीद सकता है। यह व्यवस्था बायोमैट्रिक सिस्टम पर आधारित है, इस सिस्टम की मदद से राशनकार्ड धारक की पहचान उसकी आँख और हाथ के अंगूठे की मदद से की जाती है। दूसरे राज्य में खाद्य सामग्री हासिल करने के लिए उसे ‘मेरा राशन ऐप’ (Mera Ration App) पर खुद को रजिस्टर करना होता है। रजिस्ट्रेशन (Registration) करने के बाद वह जिस राज्य में है वह से कम दाम में खाद्य सामग्री ले सकता है।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

 

दिल्ली में 40797 नागरिकों ने उठाया योजना का लाभ

 

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं एक देश एक राशन कार्ड योजना के तहत राशन कार्ड रखने वाले नागरिक देश भर में किसी भी एफपीएस से अनाज प्राप्त कर सकते हैं। देश की राजधानी दिल्ली में लगभग 17.77 लाख राशन कार्ड धारक है एवं 72 लाख एनएफएसए के लाभार्थी है। इन कार्ड धारकों के लिए दिल्ली में 2000 से अधिक उचित मूल्य की दुकान है। दिल्ली में अगस्त 2021 में 40797 नागरिकों ने एक देश एक राशन कार्ड योजना के अंतर्गत राशन की प्राप्ति की है। इन सभी लोगों के पास अन्य राज्य का राशन कार्ड था। जुलाई 2021 में केवल 16000 लोगों ने ही इस योजना का लाभ उठाया था। यह योजना प्रवासी श्रमिक एवं राष्ट्रीय राजधानी में रहने वाले अन्य राज्य के नागरिकों के लिए बहुत कारगर साबित होगी।

इस योजना की पोर्टेबिलिटी epos मशीन पर निर्भर करती है। Epos मशीन से लाभार्थियों की पहचान और पात्रता को बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के माध्यम से सत्यापित किया जाता है। दिल्ली सरकार ने सन 2018 epos के उपयोग को निलंबित कर दिया था। क्योंकि विभिन्न प्रकार की नेटवर्क से संबंधित शिकायतें प्रमाणीकरण विफलता और वास्तविक लाभार्थियों को बाहर करने की शिकायत सामने आ रही थी। जुलाई 2021 में दिल्ली में epos को फिर से आरंभ कर दिया गया है।

 

One Nation One Ration Card Scheme के मुख्य तथ्य

 

योजना का नाम एक देश एक राशन कार्ड योजना
इनके द्वारा पेश किया गया श्री राम विलास पासवान
उद्देश्य यह सुनिश्चित करने के लिए कि कोई भी व्यक्ति सब्सिडी वाले खाद्यान्न प्राप्त करने से वंचित न रहे  
योजना की समय सीमा 30 जून 2030
लाभार्थी अखिल भारतीय राशन कार्ड धारक
नोडल एजेंसी भारतीय खाद्य निगम

राशन ट्रांजैक्शन में हुई वृद्धि

 

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं नेशनल फूड सिक्योरिटी एक्ट 2013 के अंतर्गत देश की दो-तिहाई आबादी आती है। देश के नागरिकों को देशभर में राशन की सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए सरकार द्वारा एक देश एक राशन कार्ड योजना का शुभारंभ किया गया था। इस योजना को अगस्त 2019 में आरंभ किया गया था। सभी राशन कार्ड धारक इस योजना के माध्यम से देश की किसी भी फेयर प्राइस शॉप से राशन खरीद सकते हैं। इस योजना के संचालन के लिए पीडीएस नेटवर्क को डिजिटल किया गया है। पीडीएस नेटवर्क डिजिटल करने के लिए लाभार्थी के राशन कार्ड के आधार कार्ड से जोड़ा गया।

  • इसके अलावा फेयर प्राइस शॉप में पॉइंट ऑफ सेल मशीन भी लगाई गई। उच्चतम न्यायालय द्वारा सभी राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेश को यह निर्देश दिया गया था कि 31 जुलाई तक वह इस योजना को अपने राज्य में लागू कर ले। अब तक भारत के 34 राज्यों ने इस योजना को लागू कर दिया है।
  • इस योजना की सफलता की निगरानी इंटीग्रेटेड मैनेजमेंट ऑफ पब्लिक डिसटीब्यूशन सिस्टम एवं अन्न वितरण पोर्टल के माध्यम से की जा सकती है। पिछले 1.5 साल में एक देश एक राशन कार्ड के माध्यम से 66 टाइम्स राशन की ट्रांजैक्शन में वृद्धि हुई है।
  • जनवरी 2020 में 574 ट्रांजैक्शन हुए थे जो जुलाई 2021 में बढ़कर 37000 हो गए। ट्रांजैक्शंस में बढ़ोतरी नए राज्यों में यह योजना लागू होने से हुई है। इसके अलावा केंद्र सरकार द्वारा आत्मनिर्भर स्कीम के अंतर्गत राज्यों को 1% की अतिरिक्त बौरोइंग लिमिट देने से भी यह वृद्धि हुई है।

 

एक देश एक राशन कार्ड इंटर स्टेट तथा इंट्रा स्टेट राशन ट्रांजैक्शन डाटा

 

जुलाई 2021 के डाटा के अनुसार सबसे ज्यादा अंतर्राज्यीय राशन के ट्रांजैक्शन दिल्ली में किए गए हैं। इसके अलावा हरियाणा, महाराष्ट्र एवं गुजरात में भी अंतर्राज्यीय राशन ट्रांजैक्शन किए गए हैं। सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश एवं बिहार के नागरिक यह ट्रांजैक्शन कर रहे है। कुल राशन ट्रांजैक्शन का 87% हिस्सा उत्तर प्रदेश एवं बिहार के नागरिकों द्वारा किया जा रहा है। जिसमें से 54% केवल उत्तर प्रदेश के नागरिक है। महाराष्ट्र में 66 प्रतिशत राशन कार्ड उत्तर प्रदेश के एवं 30% बिहार के हैं। हरियाणा में 17% अंतर्राज्यीय राशन ट्रांजैक्शन बिहार के हैं तथा 78% उत्तर प्रदेश के है। महाराष्ट्र में 88% ट्रांजैक्शन मुंबई में किए जाते हैं। हरियाणा में 53% अंतर्राज्यीय राशन ट्रांजैक्शन फरीदाबाद, गुरुग्राम, पंचकूला एवं पानीपत में किए जाते हैं।

 यदि इंट्रा स्टेट ट्रांजैक्शन की बात करें तो जनवरी 2020 में 12.12 मिलियन ट्रांजैक्शन हुए थे। जो कि जुलाई 2021 में बढ़कर 14.18 मिलियन हो गए। बिहार, राजस्थान, आंध्र प्रदेश एवं तेलंगाना में सबसे ज्यादा इंट्रा स्टेट राशन ट्रांजैक्शन हुए। जनवरी 2020 में 23% बिहार, 22.1% राजस्थान, 16.5% आंध्र प्रदेश, 8% तेलंगाना एवं 7% केरेला में इंट्रा स्टेट राशन ट्रांजैक्शन हुए। इसके अलावा जुलाई 2021 में 28% बिहार, 23% राजस्थान, 11% आंध्र प्रदेश, 7.5% यूपी में इंट्रा स्टेट राशन ट्रांजैक्शन हुए।

 

जानिए कैसे मिलता है इस योजना का लाभ

 

यह व्यवस्था बायोमैट्रिक सिस्टम पर आधारित है. इससे राशन कार्ड धारक की पहचान उसकी आंख और हाथ के अंगूठे से होती है. इस योजना से देशभर के 32 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश जुड़ चुके हैं. अगर कोई राशन कार्ड धारक दूसरे शहर जा रहा है तो वह ‘मेरा राशन ऐप’ पर खुद रजिस्टर कर के जानकारी दे सकता है. रजिस्ट्रेशन करने बाद उसे वहीं राशन मिल जाएगा. इसके साथ ही प्रवासी लाभार्थियों को इस ऐप के जरिए पता करना आसान होगा कि उनके आसपास पीडीएस के तहत संचालित राशन की कितनी दुकानें हैं. कौन सी दुकान उनके सबसे ज्यादा करीब है, यह भी आसानी से पता लगाया जा सकता है

 

दिल्ली में लागू की जाएगी एक देश एक राशन कार्ड योजना

 

दिल्ली सरकार द्वारा 19 जुलाई 2021 को सुप्रीम कोर्ट के 19 जून के आदेश के बाद केंद्र सरकार की वन नेशन वन राशन कार्ड योजना को लागू करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं। पश्चिम बंगाल, आसाम एवं छत्तीसगढ़ में भी यह योजना 31 जुलाई 2021 तक पूरी तरह से लागू कर दी जाएगी। राज्य के खाद्य आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग द्वारा सोमवार को एक आदेश जारी किया गया है। जिसमें यह कहा गया है कि राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 2013, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना या कोई अन्य योजना जो उचित मूल्य दुकान के माध्यम से लागू की जाती है उसके तहत राशन का वितरण केवल इलेक्ट्रॉनिक पॉइंट ऑफ सेल उपकरणों के माध्यम से किया जाएगा। एक देश एक राशन कार्ड योजना की शुरुआत 2019 में की गई थी। इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य सार्वजनिक वितरण प्रणाली को डिजिटल करना है।

 

समस्या उत्पन्न पर करें इन हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क

 

एक देश एक राशन कार्ड योजना के माध्यम से लगभग 739 मिलियन लाभार्थियों को रियायती दरों पर खाद्यान्न उपलब्ध करवाया जाएगा। इस योजना के माध्यम से प्रवासी श्रमिक देश में कहीं से भी रियायती दरों पर राशन खरीद सकेंगे। दिल्ली में रहने वाले नागरिक भी दिल्ली में उपलब्ध 2000 उचित मूल्य की दुकानों में से किसी से भी रियायती दरों पर राशन खरीद सकते हैं। इस योजना के कार्यान्वयन के लिए राजधानी में सरकार द्वारा 2005 ई पीओएस डिवाइस तैनात की गई है। इस योजना के अंतर्गत उत्पन्न होने वाली किसी भी शिकायत को दूर करने के लिए हेल्पलाइन नंबर की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। यह हेल्पलाइन नंबर 1967 है। इस हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके लाभार्थी अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है। इसके अलावा यदि उचित मूल्य दुकान के मालिकों को कोई भी समस्या आती है तो वह 9717198833 या 9911698388 पर संपर्क कर सकते हैं |

 

मोबाइल ऐप का शुभारंभ

 

एक देश एक राशन कार्ड के अंतर्गत उपभोक्ता मामले एवं सार्वजनिक मंत्रालय द्वारा मोबाइल एप लांच किया गया है जिसका नाम मेरा राशन ऐप है। यह मोबाइल ऐप प्रवासी मजदूरों की मदद करने के लिए लांच किया गया है। इस मोबाइल ऐप के माध्यम से देश का कोई भी व्यक्ति किसी भी राशन की दुकान से राशन प्राप्त कर सकता है। गूगल प्ले स्टोर के माध्यम से इस ऐप को डाउनलोड किया जा सकता है। इस ऐप के माध्यम से यह भी चेक किया जा सकता है कि लाभार्थियों को कितना अनाज मिलेगा। इसके अलावा लाभार्थियों द्वारा नजदीकी राशन की दुकान से संबंधित जानकारी भी इस ऐप के माध्यम से प्राप्त की जा सकती है।

  • आप इस ऐप के माध्यम से आधार सीडिंग भी घर बैठे कर सकते हैं। मेरा राशन ऐप की एक खास बात यह भी है कि इस ऐप को इंग्लिश, हिंदी, कनाडा, तेलुगू, तमिल, मलालियम, पंजाबी, ओरिया, गुजराती एवं मराठी भाषा में संचालित किया जा सकता है।
  • मेरा राशन ऐप पर उन राज्यों की भी सूची देखी जा सकती है जो एक देश एक राशन कार्ड के अंतर्गत आते हैं। आपके द्वारा किए गए सभी ट्रांजैक्शंस की सूची भी इस ऐप पर उपलब्ध होगी। यदि आप मेरा राशन ऐप का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर के माध्यम से डाउनलोड करना होगा।

एक देश एक राशन कार्ड योजना में शामिल 32 राज्य

 

Ek Desh Ek Ration Card का संचालन देश के 32 राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेशों में किया जा रहा है। प्रवासी मजदूर अगर अपने राज्य से किसी दूसरे राज्य जाता है तो वह इस बात की जानकारी मेरा राशन ऐप के माध्यम से प्रदान कर सकते है। जिससे कि उनको उस राज्य में राशन मिल सके। इसके अलावा राशन कार्ड धारक द्वारा मेरा राशन ऐप के माध्यम से यह भी पता किया जा सकता है कि उनके रिहायशी स्थल पर कितनी पीडीएस के तहत संचालित राशन की दुकानें उपलब्ध है। एक देश एक राशन कार्ड योजना के माध्यम से प्रवासी मजदूर राशन की प्राप्ति सरलता से कर पाएंगे। इस योजना के अंतर्गत देश की 5.25 लाख राशन की दुकान है शामिल है।

 

एक देश एक राशन कार्ड मार्च अपडेट

 

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं One Nation One Ration Card को देश के सभी नागरिकों के लिए राशन उपलब्ध करवाने के लिए आरंभ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत आप देश की किसी भी राशन की दुकान से राशन खरीद सकते हैं। एक देश एक राशन कार्ड को देश के 17 राज्यों में लागू कर दिया गया है। One Nation One Ration Card वित्त मंत्रालय द्वारा इन सभी राज्य जिन्होंने एक देश एक राशन कार्ड लागू किया है उन्हें 37600(जीडीपी का अतिरिक्त 2%) करोड़ रुपए तक की अतिरिक्त उधार लेने की अनुमति दी जाएगी। इस योजना का लाभ प्रवासी श्रमिक, मजदूर, दैनिक भत्ता लेने वाले, कूड़ा हटाने वाले, सड़क पर रहने वाले संगठित एवं असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले आदि जैसे नागरिकों को पहुंचेगा।

सभी नागरिक जो काम करने के लिए किसी दूसरे राज्य जाते हैं वह अब इस योजना के माध्यम से देश की किसी भी राशन की दुकान से राशन खरीद सकेंगे।

 

एक देश एक राशन कार्ड की सफलता

 

अगस्त 2019 में एक देश एक राशन कार्ड योजना का आरंभ किया गया था। दिसंबर 2020 तक इस योजना के अंतर्गत 32 राज्य तथा केंद्र शासित प्रदेशों को जोड़ लिया गया था। आने वाले समय में बचे हुए चार राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेशों जोकी आसाम, छत्तीसगढ़, दिल्ली तथा पश्चिम बंगाल है को भी जोड़ लिया जाएगा। प्रतिमाह 1.5 से 1.6 करोड़ ट्रांजैक्शन One Nation One Ration Card के माध्यम से रिकॉर्ड किए जाते हैं। अप्रैल 2020 से लेकर फरवरी 2021 तक एक देश एक राशन कार्ड के अंतर्गत 15.4 करोड़ ट्रांजैक्शन रिकॉर्ड किए गए हैं। इस योजना की जागरूकता फैलाने के लिए सरकार द्वारा कई प्रयास किए जा रहे हैं। जिससे कि इस योजना का लाभ ज्यादा से ज्यादा नागरिक उठा सके। यह प्रयास रेलवे स्टेशन पर घोषणा करके, रेडियो के माध्यम से, सोशल मीडिया के माध्यम से तथा अन्य माध्यमों से किए जा रहे हैं।

 

एक देश एक राशन कार्ड योजना 2021 का उद्देश्य

 

  • एक देश एक राशन कार्ड योजना का उद्देश्य है कि देश में फ़र्ज़ी राशन कार्ड को रोकने में मदद मिलेगी और देश में चल रहे भष्टाचार को रोका जा सकेगा |
  • इस योजना के लागू होने के बाद यदि कोई व्यक्ति एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाता है तो उसे राशन लेने में कोई परेशानी नहीं होगी |
  • इस एक राष्ट्र एक राशन कार्ड स्कीम का फायदा प्रवासी मजदूरों को अधिक होगा | इन लोगो को पूरी खाद्य सुरक्षा मिलेगी |
  • केंद्र सरकार इस योजना को समय रहते ही पुरे देश के विभिन्न राज्यों में आरम्भ करना चाहती है जिससे अधिक से अधिक लोग इस योजना का लाभ उठा सके |

एक देश एक राशन कार्ड 86% लाभार्थियों को किया गया कवर

 

Ek Desh Ek Ration Card के माध्यम से देश के नागरिक किसी भी राशन की दुकान से राशन की प्राप्ति कर सकते हैं। एक देश एक राशन कार्ड योजना 32 राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों में संचालित की जा रही है। इस योजना का लाभ लगभग 69 करोड लाभार्थियों तक पहुंचाया जा रहा है। एक देश एक राशन कार्ड योजना के माध्यम से काफी सारे श्रमिकों को लाभ पहुंचा है। अब वह सभी श्रमिक जो अपने परिवार से दूर रहकर काम करते हैं वह भी अपना राशन आंशिक रूप से प्राप्त कर सकते हैं और उनका परिवार जहां रह रहा है वह भी अपना राशन वहां से ले सकते हैं।

  • इस योजना के अंतर्गत लगभग 86% लाभार्थियों को कवर किया गया है और जल्द शेष राज्यों को भी कवर किया जाएगा।
  • बजट की घोषणा करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा यह भी घोषणा की गई है कि सरकार द्वारा एक पोर्टल आरंभ किया जाएगा। इस पोर्टल पर सभी श्रमिकों की जानकारी होगी। इस पोर्टल के माध्यम से सरकार को सभी प्रकार के श्रमिकों के लिए योजनाएं संचालित करने में आसानी होगी।

एक देश एक राशन कार्ड योजना आरंभ हुई देश के 9 राज्यों में

 

एक देश एक राशन कार्ड योजना को सरकार ने कोरोनावायरस लोकडाउन के दौरान आरंभ किया था। इस योजना के अंतर्गत अब देश का कोई भी नागरिक देश की किसी भी राज्य की फेयर प्राइस शॉप से राशन खरीद सकेगा। इसके लिए उन्हें उस राज्य का राशन कार्ड बनवाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। One Nation One Ration Card वह एक ही राशन कार्ड से देश की किसी भी फेयर प्राइस शॉप से राशन खरीद पाएंगे। वन नेशन वन राशन योजना को देश के 9 राज्यों में लागू कर दिया है। अब इन 9 राज्यों के नागरिक एक राशन कार्ड से राशन प्राप्त कर सकते हैं। जल्द एक देश एक राशन कार्ड योजना को पूरे देश में लागू किया जाएगा।

वह राज्य जिन्होंने अब तक एक देश एक राशन कार्ड को लागू किया है वह आंध्र प्रदेश, गोवा, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटका, केरला, तेलंगाना, त्रिपुरा, तथा उत्तर प्रदेश हैं। इस योजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए मिनिस्ट्री ऑफ कंज्यूमर अफेयर्स, फूड एंड पब्लिक डिसटीब्यूशन की डिपार्टमेंट ऑफ़ फूड एंड पब्लिक डिसटीब्यूशन नोडल एजेंसी होगी।

 

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

 

वन नेशन वन राशन कैसे काम करेगा

 

इस योजना के अंतर्गत यह राशन आपके मोबाइल नंबर की तरह ही काम करेगा। जैसे की आपको देश के किसी भी कोने में जाकर अपना मोबाइल नंबर नहीं बदलना पड़ता है वह हर जगह काम करते है उसी प्रकार वन नेशन वन राशन कार्ड का उपयोग भी आप किसी भी राज्य में इस्तेमाल कर सकते है। सार्वजनिक वितरण प्रणाली-पीडीएस के लाभार्थी 01 अक्टूबर 2020 से अपनअपनी इच्छानुसार उचित मूल्य की दुकान (एफपीएस) से सस्ते मूल्य पर सब्सिडी वाले खाद्यान प्राप्त कर सकते हैं

वन नेशन वन राशन कार्ड का लाभ राशन कार्ड रखने वाले सभी नागरिको को प्रदान किया जायेगा। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 के मुताबिक, देश के 81 करोड़ लोग जन वितरण प्रणाली (PDS) के जरिए राशन की दुकान से 3 रुपए प्रति किलोग्राम की दर से चावल और दो रुपए प्रति किलो की दर से गेहूं और एक रुपए प्रति किलोग्राम की दर से मोटा अनाज खरीद सकते हैं |

 

One Nation One Ration Card Scheme

 

इस योजना को पायलट प्रोजेक्ट के तोर पर फ़िलहाल दो क्लस्टर राज्यों आंध्र प्रदेश -तेलंगाना और महाराष्ट्र -गुजरात में शुरू की गयी है इसके बाद अब आंध्र प्रदेश के लोग तेलंगाना में और तेलंगाना के लोग आंध्र प्रदेश में किसी भी राशन की दुकान से राशन ले सकते है इसी तरह महाराष्ट्र के लोग गुजरात में और गुजरात के लोग महाराष्ट्र में जाकर वहाँ की राशन की दुकान से राशन ले सकते है | आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से One Nation One Ration Card Scheme 2021 से जुडी सभी जानकारी प्रदान करने जा रहे है अतः हमारे इस आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पढ़े |

 

वन नेशन वन राशन कार्ड टोल फ्री नंबर

 

देश के अगर किसी व्यक्ति को वन नेशन वन राशन योजना के अंतर्गत कोई परेशानी और असुविधा है और वह इस सम्बन्ध में कोई शिकायत करना चाहते है तो वह उनके लिए केंद्र सरकार ने इस योजना के तहत टोल फ्री नंबर 14445 जारी किया है। One Nation One Ration Card इस टोल फ्री नंबर पर ‘वन नेशन कार्ड‘ सुविधा का उपभोग करने वाले राशन कार्ड लाभार्थी संपर्क कर अपनी शिकायत व समस्या दर्ज करा सकते हैं। और समस्या का समाधान प्राप्त कर सकते है। इस योजना के अंतर्गत 31 मार्च 2021 तक पूरे देश में 81 करोड़ लाभार्थियों को इसका लाभ प्राप्त होगा।

 

Statistics Of Ek Desh Ek Ration Card

 

राज्य 15
राशन कार्ड 2,599
लाभार्थी 18,053
टोटल ट्रांजैक्शन 2,656
AAY ट्रांजैक्शन 166
PHH ट्रांजैक्शन 2,490
व्हाट डिस्ट्रीब्यूशन 25,352.75
राइस डिस्ट्रीब्यूशन 27,769.24

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड स्कीम 2021

 

केंद्रीय खाद्य मंत्री का कहना है की इस योजना को 1 जून 2020 तक पुरे देश में लागू कर दिया जायेगा और उन्होंने कहा है कि मौजूदा समय में राशन कार्ड के लिए 14 राज्यों में पीओएस मशीन कि सुविधा शुरू हो चुकी है जल्द ही अन्य राज्य में इस सुविधा को शुरू किया जायेगा | अगर कोई व्यक्ति एक राज्य से किसी दूसरे राज्य में रहने लगता है तो वह उस राज्य की किसी भी पीडीएस राशन की दुकान से अपने हिस्से का राशन ले सकता है | इस एक राष्ट्र एक राशन कार्ड स्कीम को लागू करने के लिए  केंद्र सरकार को सभी पीडीएस दुकानों पर पीओएस लगाना होगा | खाद्य मंत्री रामविलास पासवान जी ने जून 2019 को  सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशो को इस One Nation One Ration Card Scheme को शुरू करने का 1 साल तक का समय दिया था |

 

एक देश एक राशन कार्ड नई अपडेट

 

जैसे की आप सभी लोग जानते है की कोरोना वायरस की वजह से पूरे देश में लॉक डाउन की स्थिति बनी हुई है |जिसका असर रोज कमाने खाने वाले लोगो पड़ रहा है | इस समस्या को कम करने के लिए सरकार ने 1 जून से वन नेशन वन राशन कार्ड योजना में तीन और राज्य ओडिशा , सिक्किम और मिजोरम जुड़ गए हैं। इसके साथ ही उन राज्यों की संख्या 20 हो गयी है जहा पर एक देश राशन योजना को लागू कर दिया गया है | यह योजना लॉक डाउन के समय देश के लोगो के लिए काफी लाभकारी साबित होगी |

इस एक देश एक राशन कार्ड स्कीम का फायदा उन राशन कार्ड धारकों को होगा जो दूसरे राज्यों में नौकरी करते हैं। राशनकार्ड धारक देश के किसी भी हिस्से की सरकारी राशन दुकान से कम कीमत पर अनाज खरीद सकेंगे। 1 जून तक 20 राज्य इससे जुड़ जाएंगे और मार्च 2021 तक यह देशभर में लागू हो जाएगी।’

नई अपडेट एक देश एक राशन कार्ड

 

इस योजना की घोषणा पिछले साल जून में की गई थी।इस साल 1 जनवरी को 12 राज्य एक-दूसरे के बीच एकीकृत हो गए और अब 17 राज्य सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के एकीकृत प्रबंधन पर हैं देश के बाकी हिस्सों को इस साल जून तक इस योजना में शामिल किया जायेगा |  इससे खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कवर किए गए 810 मिलियन में से 600 मिलियन लाभार्थियों को लाभ होगा । इस One Nation One Ration Card Scheme के ज़रिये यह इन राज्यों के प्रवासी कामगारों के लिए एक बड़ी मदद होगी, जो किसी से भी कही से भी सब्सिडी वाले खाद्यान्न प्राप्त कर सकते हैं।

 

एक राशन कार्ड स्कीम

 

बिहार और उत्तर प्रदेश सहित पांच और राज्यों को ‘एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड’ योजना के साथ एकीकृत किया गया है। खाद्य मंत्री रामविलास पासवान का कहना है कि आज 5 और राज्यों – बिहार, यूपी, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और दमन और दीव को वन नेशन-वन राशन कार्ड सिस्टम के साथ एकीकृत किया गया है।एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड’ पहल के तहत, पात्र लाभार्थी देश में किसी भी उचित मूल्य की दुकान से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) के तहत अपने पात्र अनाज का लाभ उठा सकेंगे।

सबसे पहले इन राज्यों  में लागू की जाएगी योजना

 

आपको बता दे कि राशन कार्ड देश के 11 राज्यों में आधार से लिंक किया जा चुका है इन राज्यों में राशन का आवंटन प्वांइट ऑफ सेल के ज़रिये किया जा रहा है | यह योजना 1 जनवरी 2020 को आध्र प्रदेश ,तेलंगाना गुजरात, महाराष्ट्र ,हरियाणा ,झारखण्ड ,पंजाब ,कर्नाटक ,केरल त्रिपुरा ,राजस्थान आदि इन सभी 11 राज्यों मे लागू की जाएगी | खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग इस योजना को बढ़ावा देते हुए बड़े स्तर पर काम कर रही है |

 

एक देश एक राशन कार्ड की विशेषताएं

 

  • केंद्र सरकार द्वारा प्रवासी नागरिकों को राशन उपलब्ध करवाने के लिए एक देश एक राशन कार्ड योजना का आरंभ किया गया था।
  • इस योजना के माध्यम से कम कीमत पर खाद्य पदार्थ जैसे गेहूं चावल आदि मुहैया कराया जाता है। इस योजना के अंतर्गत देश का कोई भी नागरिक किसी भी पीडीएस शॉप से अपने राशन की प्राप्ति कर सकता है।
  • सभी राशन कार्ड धारकों द्वारा इस योजना का लाभ प्राप्त किया जा सकता है।
  • इस योजना को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के अंतर्गत आरंभ किया गया था।
  • One Nation One Ration Card में देश की 5.25 लाख राशन की दुकानें शामिल है।
  • इस योजना के अंतर्गत बायोमीट्रिक सिस्टम के माध्यम से राशन मुहैया कराया जाता है।
  • इसके अलावा 65 साल से ज्यादा आयु के नागरिकों को एवं दिव्यांगों को राशन की होम डिलीवरी भी की जाती है।
  •  इस योजना के सफलतापूर्वक संचालन के लिए सरकार द्वारा मेरा राशन ऐप लॉन्च किया गया है।
  • इस ऐप के माध्यम से यह चेक किया जा सकता है कि आप को कितना राशन मिलेगा।

 

एक देश एक राशन कार्ड के लाभ

 

योजना को पायलट प्रोजेक्ट के तोर पर फ़िलहाल दो क्लस्टर राज्यों आंध्र प्रदेश -तेलंगाना और महाराष्ट्र -गुजरात में शुरू किया गया था। जिसे जल्द ही अन्य राज्यों में शुरू करने की तैयारी चल रही है। One Nation One Ration Card इस योजना के शुरू होने से नागरिकों को कई लाभ प्राप्त होंगे। जिनमे से कुछ निम् प्रकार से हैं –

  • वन नेशन वन राशन कार्ड स्कीम शुरू होने का सबसे बड़ा फायदा गरीबों को मिलेगा।साथ ही नए राशन कार्ड में आवश्यक न्यूनतम विवरण शामिल होगा।
  • यदि आप एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट होते हैं तो भी आप इस एक देश एक राशन कार्ड के माध्यम से आसानी से अन्य राज्य में भी उचित मूल्य पर राशन की दुकान  से राशन पा सकते हैं।
  • योजना के तहत फर्जी राशन कार्ड पर रोक लगाने में भी मदद मिलेगी। इसके लिए सरकार इंटीग्रेटेड मैनेजमेंट पब्लिक डिस्टीब्यूशन सिस्टम के अंतर्गत आकड़ो को उपलब्ध कराएगी।
  • साथ आपको इसके लिए कंही आवेदन करने की आवश्यकता नहीं होगी, केंद्र सरकार स्वयं उपलब्ध आकड़ो के अनुसार लाभार्थियों के राशन कार्ड फ़ोन पर आधार कार्ड से सत्यापित कर लिंक करेंगी।
  • सभी राशन कार्डों को आधार कार्ड से जोड़ने और राशन का आवंटन प्वांइट ऑफ सेल की व्‍यवस्‍था से शुरू होगी।

 

वन नेशन वन राशन कार्ड फॉरमैट

 

केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय पोटेबिलिटी प्राप्त करने के लिए विभिन्न राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों को सरकार द्वारा राशन कार्ड जारी करने के लिए एक फॉर्मेट दिया गया है। सभी राज्य को वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के अंतर्गत इसी फॉर्मेट को फॉलो करके राशन कार्ड जारी करना है। वन नेशन वन राशन कार्ड फॉर्मेट लागू करने की विशेषताएं कुछ इस प्रकार है।

  • नए राशन कार्ड में आवश्यक न्यूनतम विवरण शामिल होगा लेकिन राज्य सरकार अपनी आवश्यकता के अनुसार अधिक विवरण भी जोड़ सकती है।
  • राशन कार्ड हिंदी और इंग्लिश में जारी किया जा सकता है। इसके अलावा स्थानीय भाषा में भी राशन कार्ड जारी किया जा सकता है।
  • वन नेशन वन राशन कार्ड ऑनलाइन फॉर्म में 10 अंकों का राशन कार्ड नंबर शामिल होगा। इन 10 अंकों के राशन कार्ड नंबर में पहले 2 अंक राज्य के कोड होंगे और अगले 2 अंक राशन कार्ड नंबर होंगे।
  • इन 4 अंकों के अलावा राशन कार्ड में घर के सदस्यों के लिए यूनिक आईडी बनाने के लिए राशन कार्ड नंबर के साथ और 2 अंकों का एक सेट जोड़ा जाएगा।

एक देश एक राशन कार्ड की चयन प्रक्रिया

 

जैसे की आप सभी लोग जानते है कि राशन कार्ड को सभी राज्य सरकार द्वारा दो तरह से जारी किये जाते है जिसमे पहली है एपीएल राशन कार्ड  और दूसरा है बीपीएल राशन कार्ड। लोगो की आय के आधार पर एपीएल और बीपीएल राशन कार्ड उनको दिए जाते है।  इसी प्रकार एक देश एक राशन कार्ड की भी चयन प्रक्रिया इसी आधार पर की जाएगी। एपीएल राशन कार्ड केटेगरी में कौन से लोग आते है और बीपीएल केटेगरी में कौन से लोग आते है इसकी पूरी जानकारी आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से बताने जा रहे है।

  • एपीएल  केटेगरी – इस केटेगरी में उन लोगो को रखा जाता है जो गरीबी रेखा से ऊपर जीवन यापन कर रहे है। उन लोगो को एपीएल राशन कार्ड प्रदान किया जाता है। अगर आप आर्थिक रूप से सक्षम है तो उन्हें एपीएल राशन कार्ड के लिए आवेदन करना होगा।
  • बीपीएल केटेगरी  – इस केटेगरी के अंतर्गत देश के उन लोगो को रखा जाता है जो गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे है। उन लोगो को बीपीएल राशन कार्ड प्रदान किया जाता है। अगर आप  गरीबी रेखा से नीचे आते है तो उन्हें  बीपीएल राशन कार्ड के लिए अप्लाई करना होगा।

एक देश एक राशन कार्ड योजना में आवेदन कैसे करे?

 

देश के किसी भी राशन कार्ड धारक को एक देश एक राशन कार्ड योजना के अंतर्गत किसी भी तरह का ऑनलाइन तथा ऑफलाइन आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है सभी राज्य  और केंद्र सरकार स्वयं उपलब्ध आकड़ो के अनुसार लाभार्थियों के राशन कार्ड फ़ोन पर आधार कार्ड से सत्यापित कर लिंक करेंगी | इसके बाद इंटीग्रेटेड मैनेजमेंट पब्लिक डिस्टीब्यूशन सिस्टम के अंतर्गत आकड़ो को उपलब्ध कराएगी | जिससे पात्र सभी नागरिक देश के किसी भी कोने से अपने हिस्से का राशन ले सकेंगे |

 

वन नेशन वन राशन कार्ड राज्यों की सूची

 

केंद्रीय सरकार द्वारा आधार-राशन कार्ड लिंकिंग भी शुरू की जा रहा है। देश के लोग अब आधार का उपयोग करके ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया की जांच कर सकते हैं, इस योजना के अंतर्गत लागू करने वाली राज्यों की सूची, आधिकारिक वेबसाइट पर उपब्ध कराई जा रही है। One Nation One Ration Card आप इन सभी राज्यों की सूची देख सकते है और योजना के बारे में पूरी जानकारी के लिए लोग अब एकीकृत वितरण सार्वजनिक वितरण प्रणाली (IMPDS) पोर्टल की जाँच कर सकते हैं। देश के जो इच्छुक लाभार्थी एक देश एक राशन योजना में राज्यों की सूची देखना चाहते है तो वह नीचे दिए गए तरीके को फॉलो करे।

  • सबसे पहले आपको एकीकृत वितरण सार्वजनिक वितरण प्रणाली (IMPDS) की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा। ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा |
  • इस होम पेज पर आपको सभी राज्यों की सूची दिखाई देगा।

एक देश एक राशन कार्ड लागू करने वाले राज्यों की सूची

 

 

  • आंध्र प्रदेश
  • अरुणाचल प्रदेश
  • बिहार
  • चंडीगढ़
  • दमन एंड दिउ
  • गोवा
  • गुजरात
  • हरियाणा
  • हिमाचल प्रदेश
  • जम्मू एंड कश्मीर
  • झारखंड
  • कर्नाटका
  • केरला
  • लक्षदीप
  • लेह लद्दाख
  • मध्य प्रदेश
  • महाराष्ट्र
  • मणिपुर
  • मिजोरम
  • नागालैंड
  • उड़ीसा
  • पुडुचेरी
  • पंजाब
  • राजस्थान
  • सिक्किम
  • तमिल नाडु
  • तेलंगाना
  • त्रिपुरा
  • उत्तर प्रदेश
  • उत्तराखंड

एक देश एक राशन कार्ड मोबाइल ऐप

 

एक देश एक राशन कार्ड के अंतर्गत अब सरकार द्वारा एक मेरा राशन मोबाइल एप लांच किया जाएगा। इस ऐप के माध्यम से वह सभी नागरिक जो काम करने के लिए किसी दूसरे राज्य में जाएंगे वह राशन प्राप्त कर सकेंगे। इस ऐप की विशेषताएं कुछ इस प्रकार है।

  • इस ऐप के माध्यम से नजदीकी राशन की दुकान का पता लगाया जा सकता है।
  • लाभार्थी इस ऐप के माध्यम से खाद्यान्न पात्रता से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  • मेरा राशन मोबाइल ऐप के माध्यम से हाल ही में हुई लेनदेन से संबंधित जानकारी भी प्राप्त की जा सकती है।
  • इस ऐप के माध्यम से आप आधार सीडिंग से संबंधित जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं।
  • मेरा राशन मोबाइल ऐप के माध्यम से आप अपने सुझाव एवं प्रतिक्रिया भी दे सकते हैं।
  • आवेदक द्वारा आवेदन पत्र हिंदी एवं इंग्लिश दोनों भाषाओं में भरा जा सकता है।

मेरा राशन मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

 

  • सर्वप्रथम आपको अपने फोन में गूगल प्ले स्टोर खोलना होगा।
  • अब आपको सर्च बॉक्स में मेरा राशन ऐप दर्ज करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको सर्च के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक सूची खुल कर आएगी।
  • आपको इस सूची में से सबसे ऊपर वाले विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको इंस्टॉल के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप इंस्टॉल के विकल्प पर क्लिक करेंगे मेरा राशन मोबाइल एप आपके फोन में डाउनलोड हो जाएगा।

 

मेरा राशन ऐप है काफी मददगार

 

मेरा राशन मोबाइल को भारत सरकार ने 12 मार्च, 2021 को लॉन्च किया था. खाद्य मंत्रालय के मुताबिक, अभी तक इसे 15 लाख लोगों ने डाउनलोड कर लिया है. एनएफएसए के लाभार्थियों, विशेष रूप से प्रवासियों को राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी का अधिकतम लाभ उठाने के लिए ओएनओआरसी योजना के तहत इस को ऐप लॉन्च किया गया था. यह ऐप हिंदी और अंग्रेजी समेत 12 भाषाओं में उपलब्ध है.

वहीं खाद्य मंत्रालय ने कहा कि पश्चिम बंगाल और दिल्ली में भी राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी सेवा चालू हो गई है. अब शेष दो राज्यों, असम और छत्तीसगढ़ में अगले कुछ महीनों में सेवा शुरू होने की उम्मीद है. इसके साथ ही अब कुल 34 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश ‘एक देश एक राशन कार्ड’ कार्यक्रम में शामिल हो चुके हैं. अब इसके दायरे में 75 करोड़ लाभार्थी आ गए हैं.

 

राशन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करने की प्रक्रिया

 

  • सर्वप्रथम आपको यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको स्टार्ट नाउ के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको अपना एड्रेस दर्ज करना होगा।
  • अब आपको राशन कार्ड बेनिफिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको अपना आधार कार्ड नंबर, राशन कार्ड नंबर, ईमेल एड्रेस तथा मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा।
  • अब आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा।
  • आपको इस ओटीपी को ओटीपी बॉक्स में दर्ज करना होगा।
  • अब आपकी स्क्रीन पर प्रोसेस कंप्लीट का मैसेज आएगा।
  • इस प्रकार आप अपने राशन कार्ड को आधार से लिंक कर सकते हैं।

 

राज्‍यों को डिमांड के आधार पर अनाज मुहैया कराए केंद्र


केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने ये भी निर्देश दिया है कि वह प्रवासी मजदूरों के अनाज की आपूर्ति के लिए राज्यों के डिमांड के आधार पर उन्हें अनाज मुहैया कराए। साथ ही राज्यों को कहा है कि वह मजदूरों को जब तक कोरोना महामारी की स्थिति बनी हुई है वह ड्राई राशन मुहैया कराता रहे। One Nation One Ration Card साथ ही राज्यों को कहा है कि वह कम्युनिटी किचन चलाता रहे और जब तक कोरोना महामारी की स्थिति है कम्युनिटी किचन चले ताकि प्रवासी मजदूरों को उसका लाभ मिल सके। सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों को कहा है कि तमाम संबंधित संस्थान और कॉन्ट्रैक्टर को इंटर स्टेट माइग्रेंट वर्कर्स एक्ट 1979 के तहत रजिस्टर्ड किया जाए।

 

 

 

Conclusion

 

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख  एक देश एक राशन कार्ड योजना: One Nation One Ration Card जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


Leave a Comment

error: Content is protected !!