Metaverse क्या है? Metaverse से जीवन में क्या बदलाव आएगा?

फेसबुक के CEO मार्क जुकरबर्ग ने अपनी कंपनी Facebook का नाम बदलकर Meta रखने की घोषणा की है. Metaverse क्या है इसके पीछे की वजह Metaverse Concept है. इस घोषणा के बाद लोग इंटरनेट पर मेटावर्स के बारे में काफी सर्च कर रहे हैं. लोग जानना चाहते हैं आखिर ये Metaverse क्या है? यह कैसे काम करता है और इतना महत्वपूर्ण क्यों है?

कुछ समय पहले Metaverse केवल एक कल्पना मात्र था जो आभासी वास्तविकता के साथ दुनिया के मिश्रण को दर्शाता था. लेकिन अब फेसबुक ने इस आभासी दुनिया को सच में बदलने का निर्णय लिया है. आने वाले समय में हम मेटावर्स के शानदार परिणामों को महसूस करेंगे जो इंटरनेट की दुनिया को पूरी तरह से बदलकर रख देगा.

अब आपके मन में भी सवाल उठ रहा होगा कि आखिर ये Metaverse in Hindi है क्या? क्यों सोशल नेटवर्किंग कंपनियां इसको लेकर इतनी गंभीर है? इसलिए आज के इस लेख में मै आपके साथ मेटावर्स की पूरी जानकारी शेयर करूंगा जिसे पढ़ने के बाद आपको इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे. तो चलिए आगे बढ़ते हैं और जानते हैं Metaverse क्या होता है? के बारे में.

 

 

Metaverse क्या है? Metaverse से जीवन में क्या बदलाव आएगा?
TEJWIKI.IN

 

Contents

Metaverse in Hindi

Metaverse का मुख्य उद्देस्य ही है की आपको एक अलग ही प्रकार का अनुभव प्रदान करना, जिसमें आपको लगे की आप किसी दूसरे इंसान के साथ उसके घर पर उपस्तिथ हो। फिर भले ही वो आपको दोस्त आपसे कितनी भी दूर क्यूँ ना रह रहा हो। आप इसमें एक झटके में खुद को teleport कर सकते हैं और जहां चाहें वहाँ पर पहुँच सकते हैं। फिर वो चाहे आपका ऑफ़िस हो, आपके दोस्त का घर हो या किसी फ़िल्म हॉल हो।

 

Metaverse क्या है

Metaverse एक ऐसी वर्चुअल दुनिया होगी जिसमें लोग अपने कमरे में बैठ कर एक साथ कई जगहों पर अलग अलग अवतार के जरिए अलग अलग काम कर सकते हैं. इंटरनेट की इस नई दुनिया को मेटावर्स का नाम दिया गया है. मेटावर्स तकनीक का ऐसा ब्रह्मांड जिसमें आभासी तौर पर इंसान उन जगहों पर मौजूद हो सकता है, जिसे वर्चुअल एंड ऑगमेंटेड रियलिटी यानी संवर्धित वास्तविकता के जरिए हासिल किया जा सके. वैसे तो वीडियो गेम्स में इस तर्ज पर काफी काम हो चुका है, लेकिन सोशल मीडिया के जरिए आम लोगों की दुनिया में इसके दाखिल होने की प्रक्रिया को लेकर काफी चर्चा हो रही है.

 

मेटावर्स क्या है?

मार्क जुकरबर्ग के द्वारा इसे एक प्रकार का वर्चुअल एनवायरमेंट बताया जा रहा है। इस इन्वायरमेंट पर मार्क जुकरबर्ग खुद एंट्री करना पसंद करते हैं। आज की दुनिया जिसे आप अपने आसपास देख रहे होंगे। लेकिन दूसरी तरफ मेटावर्स जिसको भविष्य की दुनिया माना जा रहा है।

मार्क जुकरबर्ग के अनुसार बताया जा रहा है यह एक प्रकार की ऐसी वर्चुअल कम्युनिटी है, जिसके माध्यम से दुनिया भर के लोग आपस में मिल सकते हैं और एक साथ काम कर सकते हैं, एक साथ खेल सकते हैं। इसके अलावा इस वर्चुअल टेक्नोलॉजी के माध्यम से व्यक्ति हर प्रकार की डिवाइस यहां तक की गाड़ियां और मकान भी इसी प्लेटफॉर्म के माध्यम से खरीद पाएंगे।

ऐसा माना जा रहा है कि भविष्य की दुनिया जिसमें लोगों की पलक झपकते ही उनके सामने हर प्रकार की वस्तुएं उपलब्ध हो सकेगी और यह भी बताया जा रहा है कि जिस प्रकार से वर्तमान की जिंदगी लोगों की निकल रही है, उसी प्रकार से वर्चुअल लाइफ में भी लोग आसानी से जी पाएंगे।

 

Meta का अर्थ :

Facebook के सीईओ मार्क जकरबर्ग के मुताबिक मेटा का ग्रीक में मतलब Beyond होता है, यानी हद से पार. इसको ऐसे समझ सकते हैं कि कंपनी का नाम फेसबुक से बदलकर मेटा इसलिए किया गया है ताकी इसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से कहीं ज्यादा आगे एक वर्चुअल दुनिया में ले जाया जा सके.

Metaverse का मतलब क्या है? – Meaning of Metaverse in Hindi

मेटावर्स क्या है यह जानने के बाद अब बात करते हैं मेटावर्स का मतलब क्या होता है के बारे में. Metaverse दो शब्दों से मिलकर बना एक शब्द है: Meta + Verse. Meta का मतलब होता है ‘परे’ (Beyond) और Verse शब्द universe से निकाला गया है जिसका अर्थ है ‘ब्रह्मांड‘ (Universe). इस प्रकार Metaverse का मतलब होता है ‘ब्रह्मांड से परे’ (Beyond Universe). यह शब्द दर्शाता है कि आने वाले समय में इंटरनेट और उससे जुड़ी चीजे कैसी हो जाएंगी.

 

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

 

मेटावर्स तकनीक कैसे काम करती है – METAVERSE IN HINDI

Metaverse technology में वर्चुअल रियलिटी हेडसेट, आग्युमेंट रियलिटी चश्में, स्मार्टफोन एप की मदद से user गेम खेल सकता है, शॉपिंग कर सकता है. मतलब आप Metaverse technology में आभासी रूप से वो सारे काम कर सकेंगे जैसे माल लीजिये आपको एक बुक खरीदनी है तो Metaverse technology में एक ऐसा Virtual environment होगा जिसमे आप आभासी रूप से Book store के अन्दर जा सकते है, किताबे देख सकते है और पसंद आये तो आप खरीद सकते है.

अब समझाने वाली बात यह है की Book store के अन्दर आपकी कोई भी वास्तविक स्थिति नहीं होगी लेकिन आप Virtual Reality Headsets, Augmented Reality Goggles, Smartphone Apps की मदद से आप Book store के अन्दर होंगे और आप ये महसूस कर पायेगे की आप सच में बुक को देख रहे है पढ़ रहे है. इस तकनीक से gamming और shopping की दुनिया में बहुत बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा.

मेटा (Meta) का मतलब इंटरनेट जिंदा हो चूका है यानी अब तक जो भी हमारे Smart और Computer के Screen के पीछे हो रहा था. अब वो वर्चुअल वर्ल्ड की मदद से आपके इर्द गिर्द होगा. अब हम स्क्रीन के अन्दर आभासी रूप में मौजूद होंगे.

क्या Facebook का नाम बदल दिया गया है “meta”?

जी हाँ दोस्तों, आख़िर में Facebook ने अपना नाम हमेशा के लिए बदल दिया है। अब Facebook को हम अपने नए नाम “meta” से पहचानेंगे। Facebook ने अपना नया नाम Meta इस महीने के 28 October को ही रखा है।

 

क्या फेसबुक मेटावर्स पर चल रहा है?

 

जुकरबर्ग इंटरनेट की अगली पीढ़ी के रूप में जो देखते हैं उस पर बड़ा काम कर रहे हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि यह डिजिटल अर्थव्यवस्था का एक बड़ा हिस्सा बनने जा रहा है। आलोचकों को आश्चर्य होता है कि क्या संभावित धुरी कंपनी के संकटों से ध्यान भटकाने का प्रयास हो सकती है,

जिसमें एंटीट्रस्ट क्रैकडाउन, पूर्व कर्मचारियों को व्हिसलब्लोइंग द्वारा गवाही और गलत सूचना से निपटने के बारे में चिंताएं शामिल हैं।पूर्व कर्मचारी फ्रांसेस हौगेन ने फेसबुक के प्लेटफॉर्म पर बच्चों को नुकसान पहुंचाने और आंतरिक शोध दस्तावेजों की नकल करने और उन्हें यूएस सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन को सौंपने के बाद राजनीतिक हिंसा भड़काने का आरोप लगाया है।

उन्हें द एसोसिएटेड प्रेस सहित मीडिया आउटलेट्स के एक समूह को भी प्रदान किया गया था, जिसने कई कहानियों की रिपोर्ट की कि कैसे फेसबुक ने सुरक्षा पर मुनाफे को प्राथमिकता दी और निवेशकों और जनता से अपने स्वयं के शोध को छुपाया |

 

Metaverse क्यों महत्वपूर्ण है?

कोरोना के आने के बाद हमारी लाइफ में बहुत से बदलाव आए. इन्हीं बदलावों में से सबसे बड़ा बदलाव वर्क फ्रॉम होम था. लोगों ने घर से ही काम करना शुरू कर दिया जिसके बाद रियल दुनिया की तरह इंटरेक्शन की मांग बढ़ने लगी. इसी मांग को पूरा करने के लिए कंपनियां Metaverse की तरफ बढ़ने लगीं. कोरोना के बाद से ही ज्यादातर काम और एक दूसरे से बातचीत हम घर बैठे ही कर रहे हैं. VR और AR को अगर मेटावर्स का छोटा रूप कहा जाए तो गलत नहीं होगा.

 

Metaverse कैसा नज़र आने वाला है?

अब जब की हमने ये तो समझ ही लिया की Metaverse क्या है? अब सवाल आता है की आख़िर Metaverse असली में कैसा नज़र आने वाला है। क्या क्या ऐसी चीज़ें होंगी जो की हमें Metaverse में नज़र आएँगी। चलिए उस विषय में जानते हैं।

Avatars

Avatars का मतलब होता है 3D representations या प्रतिरूप असली लोगों के। वहीं, metaverse में भी, users अपने हिसाब से customized avatars तैयार कर सकते हैं और वहीं किसी भी physical characteristics और personalities को धारण कर सकते हैं, अपने हिसाब से। आपके avatar दूसरे avtar से interact कर पाएँगे इस प्लाट्फ़ोर्म के भीतर ही।

 

 

क्या मेटावर्स सिर्फ एक फेसबुक प्रोजेक्ट है?

नहीं। मेटावर्स की बात करने वाली अन्य कंपनियों में माइक्रोसॉफ्ट और चिपमेकर एनवीडिया शामिल हैं। एनवीडिया के ओमनिवर्स प्लेटफॉर्म के उपाध्यक्ष रिचर्ड केरिस ने कहा, “हमें लगता है कि मेटावर्स में आभासी दुनिया और वातावरण बनाने वाली बहुत सारी कंपनियां होने जा रही हैं, उसी तरह वर्ल्ड वाइड वेब पर बहुत सारी कंपनियां काम कर रही हैं।” “खुला और एक्स्टेंसिबल होना महत्वपूर्ण है,

इसलिए आप अलग-अलग दुनिया में टेलीपोर्ट कर सकते हैं चाहे वह एक कंपनी या किसी अन्य कंपनी द्वारा हो, वैसे ही जैसे मैं एक वेब पेज से दूसरे वेब पेज पर जाता हूं।”
वीडियो गेम कंपनियां भी अग्रणी भूमिका निभा रही हैं। लोकप्रिय Fortnite वीडियो गेम के पीछे कंपनी एपिक गेम्स ने मेटावर्स के निर्माण के लिए अपनी दीर्घकालिक योजनाओं में मदद करने के लिए निवेशकों से $ 1 बिलियन जुटाए हैं।

 

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

 

गेम प्लेटफॉर्म Roblox एक और बड़ा खिलाड़ी है, जो मेटावर्स की अपनी दृष्टि को एक ऐसी जगह के रूप में रेखांकित करता है जहां “लोग सीखने, काम करने, खेलने, बनाने और सामाजिककरण करने के लिए लाखों 3D अनुभवों के भीतर एक साथ आ सकते हैं।” उपभोक्ता ब्रांड भी इस प्रवृत्ति पर कूदने की कोशिश कर रहे हैं। इतालवी फ़ैशन हाउस गुच्ची ने जून में Roblox के साथ डिजिटल-ओनली एक्सेसरीज़ के संग्रह को बेचने के लिए सहयोग किया। कोका-कोला और क्लिनीक ने मेटावर्स की ओर कदम बढ़ाते हुए डिजिटल टोकन बेचे हैं |

 

अलग दुनिया का एक्सपीरियंस देगा Metaverse

Metaverse एक नया ऑनलाइन स्पेस होगा। इस स्पेस में लोग रियल दुनिया की तरह एक-दूसरे से इंटरएक्ट कर पाएंगे। इससे आप वर्चुअल वर्ल्ड में जा सकते हैं। यहां पर आप अपने फ्रेंड्स या रिलेटिव से बातचीत करके उनके साथ घूमने जा सकते हैं। आप इसमें शॉपिंग कर सकते हैं। आप Metaverse में खुद की घर-गाड़ी खरीद कर उसे बिल्कुल रियल दुनिया की तरह यूज कर सकते है। इसमें यूजर के पास एक कैरेक्टर होता है जो चल सकता है और दूसरे प्लेयर्स के साथ रियल वर्ल्ड की तरह इंटरएक्ट भी कर सकता है। इसमें यूजर्स वर्चुअल लैंड और दूसरे डिजिटल एसेट्स को क्रिप्टोकरेंसी से खरीद सकते हैं।

 

वर्चुअल फील

कई साइंस-फिक्शन मूवीज और बुक्स वर्चुअल वर्ल्ड एनवायरमेंट या Metaverse पर बने हैं. अभी ज्यादातर वर्चुअल स्पेस रियल लाइफ की जगह वीडियो गेम की तरह दिखता है लेकिन इसके आने के बाद आप रियल दुनिया का फील वर्चुअल में ले पाएंगे. Metaverse के फैन्स इसे इंटरनेट डेवलपमेंट का अगला स्टेज मानते हैं. अभी लोग एक-दूसरे से ऑनलाइन इंटरएक्टशन वेबसाइट जैसे सोशल मीडिया या मैसेजिंग प्लेटफॉर्म से करते हैं. Metaverse से एक नया ऑनलाइन स्पेस बनाया जाएगा. इस स्पेस में लोग रियल दुनिया की तरह एक-दूसरे से इंटरएक्ट कर पाएंगे.

वर्चुअल वर्ल्ड

इससे आप वर्चुअल वर्ल्ड में जा सकते हैं. यहां पर आप अपने फ्रेंड्स या रिलेटिव से . बातचीत करके उनके साथ घूमने जा सकते हैं. आप इसमें शॉपिंग कर सकते हैं. आप Metaverse में खुद का घर-गाड़ी खरीद कर उसे बिल्कुल रियल दुनिया की तरह यूज कर सकते है.

कोरोना के बाद चीजें बदली हैं. लोग अब घर से काम करना शुरू कर चुके हैं. ऐसे में रियल वर्ल्ड की तरह इंटरएक्शन की मांग बढ़ी है. Metaverse के जरिए कंपनी इन्वेस्टर्स और दूसरी कंपनियों को साथ लेना चाहती है जो इस प्रोजेक्ट का हिस्सा बनना चाहते हैं. इसे बनने में अभी कई साल का समय लग सकता है. Metaverse से लोगों का पूरा एक्सपीरिएंस बदल जाएगा.

 

मेटावर्स तकनीक में क्या क्या कर सकते है? – METAVERSE KYA HAI?

मेटावर्स तकनीक में हम इतना कुछ कर सकते है, जिसकी कोई सीमा नहीं है. लेकिन हम जो भी activity करेगे वो सभी activity computerize होगी और आभासी होगी. लेकिन computerize और virtual होने के बाद भी हम वीडियो कॉल के अन्दर होंगे. office, मूवीज थिएटर, shopping mall के अन्दर आभासी रूप से जा सकते है. इतना ही नहीं Zuckerberg की Facebook Metaverse की मदद से हम दुनियाँ की किसी भी जगह की सैर कर सकते है, कलाकृतियां देख सकते है,game के अन्दर घुस कर fight कर सकते है, shopping के लिए mall में जा सकते है.

कपड़े पहन कर ट्राई करके खरीद भी पाएंगे. और तो और वर्क फ्रॉम होम (Work from home) के लिए तो यह technology वरदान शाबित होगी.Facebook Metaverse की Help से वर्क फ्रॉम होम करते हुए आप अपने office के colleague के साथ के बीच मौजूद होंगे अपने boss के साथ वर्चुअल ऑफिस में बात कर सकेगे.

Zuckerberg ने Metaverse के लिए मीटिंग सॉफ्टवेयर को भी बनाया है. जिसका नाम होराइजन वर्करूम्स (Horizon Workrooms) दिया गया है. इस meeting software का उपयोग करने के लिए ऑक्युलस वीआर हेडसेट (Oculus VR headset) का इस्तेमाल किया जायेगा

आसानी से अलग अलग Components के भीतर आ जा सकते हैं

आज के समय में भी हम कुछ जगहों में metaverse के components का इस्तमाल कर रहे हैं (जैसे की virtual shopping, games, casinos, और concerts), लेकिन फिर भी ऐसी ऐसी प्लाट्फ़ोर्म का अभाव अभी भी है जो की हमें अपने उसी avtar में सभी जगहों में जाने आने की सुविधा प्रदान करे।

आकस्मिक उपयोगकर्ता व्यवहार

आज के apps और प्लाट्फ़ोर्म में बहुत ही कम और limited functionality प्रदान की गयी है, लेकिन metaverse में यूज़र को पूरी छूट होगी की वो virtaully कुछ भी कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, अगर दो खिलाड़ी कुछ खेल रहे हैं (ludo) लेकिन अभी उन्हें खेलने का मन नहीं किया। ऐसे में वो चाहें तो खेल को वहीं रोककर वहीं इसी दुनिया के भीतर हाइकिंग में जा सकते हैं, किसी कॉन्सर्ट में जा सकते हैं और जो भी करना चाहें कर सकते हैं। वहीं अंत में फिर से अपने गेम में वापस भी आ सकते हैं।

बेहतर User Experience

एक बेहतर metaverse User Experience प्राप्त करने के लिए बेहतर टेक्नॉलजी का होना उतना ही आवश्यक होता है। अभी के दौर में हमारे पास जो high-quality virtual reality headsets, better computers, augmented reality, और faster networks उन्हें धीरे धीरे ज़्यादा बेहतर बनाना होगा। इससे हमें बेहतर से बेहतर User Experience मिलने की उम्मीद है।

वहीं हमें ऐसे तरीक़े का इजात करना होगा जिससे की digital twins तैयार किया जा सके – virtual models जो की असल रूप में physical चीज़ें जैसे की कार, buildings या bridges का रूपांतरण हो – और haptic technology, जो की एक ऐसै अनुभव पैदा करें जो की यूज़र को touch या motion का आभास कराए।

इंटरोऑपरेबिलिटी

आज के समय में यह digital world एक छोटे से mall के तरह प्रतीत होता है जहां की प्रत्येक स्टोर अपनी खुद की currency, content, और ID cards का इस्तमाल करती है।

लेकिन metaverse में सबकूछ बदलने वाला है, यानी की सभी चीज़ें interoperable होंगी। Digital assets, content, और data को कहीं भी किसी भी जगह तक ले ज़ाया जा सके। यानी की अगर आप एक कार के शोरूम से कुछ ख़रीदें तब उसे आप आगे उस वर्चूअल दुनिया में कहीं पर भी ले ज़ाया जा सके।

 

मेटावर्स के पश्चात जीवन में क्या बदलाव आएगा?

वर्तमान समय में देखा जाए तो जिंदगी साकार रूप से हर व्यक्ति की गुजर रही है। मेटावर्स टेक्नोलॉजी को लेकर सिर्फ वर्चुअल दुनिया की कल्पना की जा रही है। यह टेक्नोलॉजी जिसके बारे में बताया जा रहा है कि व्यक्ति अपने घर बैठे अपने पसंद की दुनिया और अपनी पसंद की हर वस्तु के पास पहुंचकर उसका लाइव आनंद ले पाएगा।

मेटावर्स जिसको वसूल दुनिया इसलिए माना जा रहा है। क्योंकि इस टेक्नोलॉजी के पश्चात लोगों के पलक झपकते ही उनकी पसंदीदा चीज उनके सामने उपलब्ध होगी। वर्तमान समय में आप मोबाइल फोन के माध्यम से वीडियो कॉल के जैसी लाइव शो का आनंद ले रहे हैं। लेकिन मेटावर्स के पश्चात लोग अलग अंदाज में अपने जीवन यापन कर पाएंगे।

डिजिटल क्लोथिंग का जमाना भी इस वर्चुअल दुनिया में देखा जाएगा। इसका मतलब यह है कि आप फिजिकली रूप से अपने घर पर बैठे हैं। लेकिन आपको डिजिटल उपकरणों की सहायता से वर्चुअल दुनिया में घुमाया जाएगा।

 

Metaverse के कुछ उदाहरण

चूँकि अब आपको Metaverse क्या है और कैसे दिखने वाला है के बारे में बहुत कुछ मालूम हो गया होगा। अब चलिए जानते हैं की ऐसे ही कुछ उदाहरण जहां की आपने पहले ही Metaverse को इस्तमाल होते हुए देख लिया है।

Ready Player One

यह असल में एक किताब है जो की काफ़ी चर्चित भी हुआ था। इसमें लेखक ने metaverse जैसे एक virtual दुनिया का ज़िक्र किया था। वहीं इसके ऊपर एक फ़िल्म भी बन चुकी है, नीचे आप उसकी ट्रेलर देख सकते हैं। एक ऐसी गेम जिसमें की आपको कुछ ऐसी ही प्रकार की दुनिया देखने को मिलेगी।

Fortnite

पिछले कुछ वर्षों में, Fortnite के CEO, टिम स्वीनी ने, Fortnite को केवल एक खेल से अधिक के रूप में स्थापित करने के लिए स्पष्ट संदर्भ दिए हैं। 2020 में, Fortnite के भीतर रैपर ट्रैविस स्कॉट के वर्चुअल कॉन्सर्ट में 12.3 मिलियन लोगों ने भाग लिया, जिससे यह खेल का अब तक का सबसे बड़ा कार्यक्रम बन गया।

Facebook’s Horizon

Facebook अपनी विस्तारित VR दुनिया, क्षितिज (वर्तमान में बीटा में) के साथ खुद को मेटावर्स की ओर बढ़ा रहा है। फेसबुक क्षितिज को “एक सामाजिक अनुभव के रूप में वर्णित करता है जहां आप वीआर में दूसरों के साथ एक्सप्लोर कर सकते हैं, खेल सकते हैं और बना सकते हैं।

 

वर्क फ्रॉम होम जैसी स्थिति में बेहद अच्छा

वर्तमान समय में भी घर बैठे ऑनलाइन कार्य बढ़ते जा रहे है हर कार्य को घर पर ही ऑनलाइन माध्यम से किया जाना संभव हो गया है। लेकिन वर्चुअल दुनिया आने के पश्चात लगभग सभी प्रकार के कार्य work-from-home के रूप में ही किए जाएंगे।

मेटावर्स टेक्नोलॉजी जो work-from-home की स्थिति के लिए एक पूरी तरह से नया बदलाव है। वर्चुअल दुनिया में व्यक्ति वीडियो कॉल और मीटिंग के माध्यम से कार्य करने की बजाय एक साथ कार्य करके एक दूसरे को देख पाएंगे और वीडियो कॉल से भी अच्छा अनुभव महसूस करेंगे।

 

मेटावर्स पर किसका अधिकार है

 

नाम और काम को देखकर आप यह सोच रहे होंगे की Metaverse Zuckerberg का ही है, लेकिन ऐसा नहीं है, Metaverse एक technology है जिसपर आज Facebook के अलावे माइक्रोसॉफ्ट और निविडिया जैसे Multinational company भी काम कर रही है.

Metaverse तकनीक का उपयोग Video gaming companies और E-commerce company करने वाली है. इसमे कई video game और shopping website के नाम शामिल है, जहाँ करोड़ों थ्रीडी एक्सपीरियंस के बिच में आकर लोग डिजिल एक्ससेसरी कपडे बुक ख़रीद सकते है, और इसी 3D Experience के बीच लोग एक साथ real gaming scene का मज़ा ले सकते है.

 

मार्क जुकरबर्ग के अनुसार मेटावर्स

मार्क जुकरबर्ग ने मेटावर्स को एक वर्चुअल एनवायरमेंट (आभासी वातावरण) कहा है। जुकरबर्क के मुताबिक आप महज स्क्रीन पर देखकर एक अलग दुनिया में जा सकते हैं जहां आप लोगों से वर्चुअल रियलिटी हेडसेट, आग्युमेंट रियलिटी चश्में, स्मार्टफोन एप आदि के जरिए जुड़ सकेंगे, गेम खेल सकेंगे, शॉपिंग कर सकेंगे और सोशल मीडिया इस्तेमाल कर सकेंगे। मेटावर्स में आप आभासी रूप से वो सारे काम कर सकेंगे जो आप आमतौर पर करते हैंं। जुकरबर्ग ने कहा है कि मेटावर्स टेक्नोलॉजी के जरिए लाखों लोगों को नौकरी मिलेगी।

 

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

 

 

 

Conclusion

 

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख  Metaverse क्या है? Metaverse से जीवन में क्या बदलाव आएगा? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Metaverse क्या है? Metaverse से जीवन में क्या बदलाव आएगा?

 

 

 

 

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!