IIT kya hai? (What is IIT in Hindi) IIT कैसे करें पूरी जानकारी हिन्दी में

भारत में इंजीनियरिंग पढ़ने वाले छात्रों के बीच में ये चर्चा काफी आम है IIT kya hai? की कौन सा इंजीनियरिंग इंस्टिट्यूट सबसे बेस्ट है और इसीलिए आज की पोस्ट में हम आपको बताएंगे की IIT क्या है (What is IIT in Hindi), आईआईटी में पूछे जाने वाले प्रश्न क्या हैं, IIT के लिए योग्यता 2021 क्या होनी चाइये चाहिए एवं इसकी फीस कितनी हैं.

IIT का फुल फॉर्म Indian Institute of Technology है और ये एक इंजीनियरिंग शिक्षण संस्थान है. यह संस्थान भारत सरकार के अंतर्गत काम करती है जहाँ से हर साल इसके सभी शाखाओं से स्नातक की डिग्री हासिल करके कई योग्य इंजीनियर बनते हैं. सबसे पहला IIT संस्थान 1951 में बनाया गया था जिसकी स्थापना खड़गपुर में की गई थी.

जो बच्चे पढ़ने में मन लगाते हैं वही इस तरह के संस्थान में पढ़ने का खवाब देखते हैं. मेहनत करते हैं और इसे हासिल भी करते हैं. आखिर लोगों के बीच में ये संस्थान इतना लोकप्रिय क्यों है, आईआईटी क्या होता है और इसके बाद कौन सा जॉब करते हैं. ये सभी जानकारी के साथ साथ ये भी जानेंगे IIT के लिए 12th में कितने मार्क्स चाहिए? 

इस तरह के हर सवाल का जवाब आपको ये पोस्ट पूरा पढ़ते पढ़ते मिल जायेगा.हाई स्कूल (12th इंटरमीडिएट) pass करने के बाद भी कई स्टूडेंट ऐसे होते हैं जिन्हे ये मालूम ही नहीं होता की आखिर इसका हिंदी में पूरा नाम क्या होता है और इसके बाद जॉब कौन से प्राप्त होते हैं.

 

 

IIT kya hai? (What is IIT in Hindi) IIT कैसे करें पूरी जानकारी हिन्दी में
TEJWIKI.IN

 

Contents

IIT kya hai ?(What is IIT in Hindi)

 

IIT भारत सरकार द्वारा स्थापित टेक्नोलॉजी एजुकेशन इंस्टिट्यूट्स का समूह है जो स्टूडेंट्स को हाई क्वालिटी शिक्षा प्रदान करता है। IIT की फुल फॉर्म Indian Institute of Technology है। हिंदी में इसे ‘भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान’ कहते है।

IIT न सिर्फ भारत के बल्कि दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक है। इन संस्थानों के माध्यम से देशभर के कई उच्च स्तरीय वैज्ञानिक, रिसर्चर, टेक्नोलॉजिस्ट और इंजीनियर निकलते है। भारत का पहला आईआईटी संस्थान IIT, खड़गपुर था जिसे भारत सरकार ने 1951 में स्थापित किया था। IIT kya hai? आज भारत में कुल 23 IITs है जो देश के अलग-अलग राज्यों और हिस्सों में स्थित है। इन संस्थानों में लाखों विद्यार्थी स्टडी करते है।

जब इंजीनियरिंग करने की बात आती है तो आईआईटी का नाम सबसे पहले आता है क्योंकि यह भारत के सबसे प्रतिष्ठित संस्थान है और इन संस्थानों से लाखों कुशल और काबिल इंजीनियर बनकर निकलते है जो गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और फेसबुक जैसी बड़ी कंपनियों में जॉब करते है।

सभी IIT इंस्टिट्यूट ऑटोनोमस संस्थान है यानि इनके सारे कोर्स और नियम कायदे खुद IIT संस्थान के द्वारा ही बनाये जाते है। सामान्यत: आईआईटी में प्रवेश बाहरवीं कक्षा के बाद लिया जाता है। इन संस्थानों में प्रवेश पाने के लिए दो entrance exams निकालने पड़ते है। इन exams को दुनिया के one of the toughest exam भी कहा जाता है।

 

IIT के 2021 के नए अपडेट

 

JEE 2020 के विद्यार्थी को अनुमति : COVID-19 की वजह से पिछले साल JEE Advanced की परीक्षा में शामिल नहीं हो सके वो इस साल यानि की 2021 में शामिल हो सकते हैं.

Board की परीक्षा : इसी साल जनवरी में ये भी निर्णय लिया गया की 12वीं की परीक्षा में विद्यार्थियों को IIT में जाने के लिए काम से काम 75% की जरुरत होगी.

महिला कोटा : हर IIT को ये अधिकार होगा की वो रिज़र्व सीट की संख्या खुद निर्धारित कर सकते हैं. पिछले साल महिलाओं का कोटा 20% था लेकिन आरक्षित सीट के अलावा महिलाओं को विभिन्न प्रोग्राम में शामिल कर सकते हैं.

 

IIT kaise kare 

 

स्टूडेंट्स को आईआईटी colleges में admission पाने के लिए सबसे पहले jee main क्लियर करना होता है। इसके बाद jee main क्लियर करने वाले top 2.5 lac स्टूडेंट आईआईटी में एडमिशन हेतु jee advanced परीक्षा देते है। इसे पास करने वाले टॉप एक लाख स्टूडेंट्स को आईआईटी में एडमिशन मिलता है।

आईआईटी कॉलेज में अलग-अलग कोर्स होते है जिन्हें ‘branches’ कहते है। जैसे सिविल इंजीनियरिंग, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग ब्रांच इत्यादि। IIT kya hai? जो स्टूडेंट उच्च रैंक प्राप्त करते है, उन्हें btech के लिए software इंजीनियरिंग जैसी उच्च मिलती है जबकि कम रैंक वाले स्टूडेंट्स को मैकेनिकल, सिविल जैसी ब्रांच में पढ़ना पड़ता है।

 

JEE Mains क्या है?

 

JEE का फुल फॉर्म Joint Entrance Exam है।

JEE Mains नेशनल लेवल का एंट्रेंस एग्जाम है जो एनआईटी, आईआईआईटी और सीएफटीआई कॉलेजेस में अंडरग्रेजुएशन इंजीनियरिंग कोर्सेज बीटेक & बीई में प्रवेश लेने के लिए जरूरी है।  NTA (National Testing Agency) द्वारा 2021 से JEE Mains एग्जाम का साल में 4 बार आयोजन किया जाएगा। यह एग्जाम February, March, April और May माह में होंगे। 

यह computer based mode में होती है। JEE Mains 13 भाषाओं में आयोजित की जाती है जो English, Hindi, Assamese, Bengali, Gujarati, Kannada, Marathi, Malayalam, Odia, Punjabi, Tamil, Telugu एवं Urdu है।

ध्यान दें कि JEE Main Exam पास कर देने से आईआईटी में एडमिशन नहीं मिलता है क्योंकि आईआईटी में जाने के लिए JEE Main के बाद jee advance exam को क्लियर करना पड़ता है। JEE Mains के दो पेपर होते है: एक बीटेक (B.tech) में एडमिशन के लिए और दूसरा B.Arch एडमिशन के लिए।

कुछ राज्यों में स्टेट इंजीनियरिंग कॉलेजेज में भी एडमिशन के लिए JEE Main एग्जाम का पास करना जरूरी है हालाँकि इसके लिए state authorities से कन्फर्म करें। jee main की ऑफिसियल वेबसाइट jeemain.nta.nic.in है।

 

JEE se labh क्या है

 

जेईई एडवांस्ड आईआईटी में एडमिशन पाने के लिए जेईई मैन्स के बाद होने वाला एग्जाम है।

इसे हर साल सात IITs जिनमें आईआईटी खड़गपुर, आईआईटी कानपुर, आईआईटी मद्रास, आईआईटी दिल्ली, आईआईटी बॉम्बे, आईआईटी गुवाहाटी और भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी) बैंगलोर शामिल है,IIT kya hai? में से एक के द्वारा आयोजित कराया जाता है। यह परीक्षा Joint Admission Board (JAB) की निगरानी में संपन्न होती है।

jee advanced की ऑफिसियल वेबसाइट jeeadv.ac.in है।

 

IIT की तैयारी कब  करें

 

अगर आप वाकई में आईआईटी में एडमिशन लेना चाहते हैं यानि आईआईटी करना चाहते हैं तो इसकी तैयारी शुरू करने का सबसे सही समय 10वीं पास करने के बाद यानि 11वीं कक्षा में है।

लगभग सभी विद्यार्थी जो IIT में जाते है, iit entrance exams की preparation दसवीं करने के बाद शुरू देते है। यह विद्यार्थी किसी कोचिंग इंस्टिट्यूट को ज्वाइन करते है और साथ में 11th, 12th करते है।

 

बिना कोचिंग के IIT की तैयारी कैसे करें?

 

1. सबसे पहले एग्जाम के पैटर्न को समझिये:

परीक्षा 2 लेवल में होती है एक तो होता है IIT Mains और दूसर दूसरा IIT Advance होता है.

JEE Main

विषय पूछे जाने वाले सवालों की संख्या
फिजिक्स 30
केमिस्ट्री 30
गणित 30

इस का एग्जाम 3 घंटे का होता है जिसमे 90 multiple choice questions (सवाल) पूछे जाते हैं.

इस परीक्षा को 3 सेक्शन में लिया जाता है. Physics, chemistry और math.

इसमें से हर सेक्शन से 30 question पूछे जाते हैं. सभी सेक्शन में अलग अलग pass marks लाना अनिवार्य है.

  • हर सही जवाब देने पर 4 मार्क्स दिए जाते हैं.
  • गलत जवाब देने पर 1 मार्क कम कर दिया जाता है जिसे हम नेगेटिव मार्किंग के नाम से जानते हैं.
  • किसी सवाल को छोड़ देने पर न तो उसके कोई नंबर जुड़ते हैं और ना ही काटते हैं.

 

 

 

JEE Advance 

 

Advanced का एग्जाम Main exam से बिलकुल ही अलग तरह से लिया जाता है.

इस में भी वही 3 विषयों से सवाल पूछे जाते हैं यानि की PCM बस अंतर ये हैं की इस में एग्जाम के लिए हर टॉपिक के लिए एक एक घंटा अलग अलग दिया जाता है और पूरा एग्जाम 3 घंटे का होता है जो 2 बार होता है.

 

पहला पेपर

 

इस में हर सेक्शन में 10 Multiple choice questions पूछे जाते हैं जिसमे सिर्फ एक answer correct होता है.

इस में 5 multiple choice questions होते हैं जिसमे एक या उससे अधिक answer correct होते हैं और 5 ऐसे question होते हैं जिनके जवाब single digitanswer होते हैं.

 

दूसरा पेपर

 

इस में हर सेक्शन से 8 multiple choice questions आते हैं IIT kya hai? जिसमे से एक answer correct होता है. इसमें 8 question एक passage पर आधारित होता है.

 

2. हर विषय की तैयारी अच्छे से करें 

 

जब आप समझ जाते हैं की इस परीक्षा में सवाल किस तरह से पूछ जाता है और मार्किंग कैसे की जाती है तो बारी आती है पढाई करने की.

पढाई किस विषय की करें ये तो हम पहले ही बता चुके हैं की किस किस टॉपिक से सवाल पूछे जाते हैं.

आपको हर विषय के टॉपिक को ध्यान पूर्वक पढ़ना है. सवाल किस किस टॉपिक से पूछे जायेंगे चलिए ये भी जान लेते हैं.

Chemistry: Basic Principles of Organic Chemistry, Environmental Chemistry, Status of matter, Redox Reaction Chemical kinetics

Mathematics: Integral Calculus, Differential Equation, Sequences, and series, Co-ordinate Geometry, Matrices, Application of Derivatives,  Mathematical induction.

Physics: Electric devices, Law of Gravity, Laws of Motion, Thermodynamics, Optics, Sound Waves, electromagnetism, Kinematics.

 

3. Question बैंक बनायें 

 

आप जब JEE की ऑफिसियल वेबसाइट को खोलेंगे तो आपको पीछे पूछे गए हर साल के सवाल मिल जाएंगे.

आप पिछले के 4-5 सालों को इकठ्ठा करें और सभी सवालों का प्रयास करें साथ ही उसके पैटर्न के अनुसार अपनी टाइमिंग को भोई चेक करें.

इससे आपको पैटर्न को समझने में आसानी होगी और आप खुद के तैयारी को भी test कर सकेंगे.

 

4. ग्रुप स्टडी करें

 

अगर आपके दोस्त भी इस परीक्षा की तैयारी कर रहे हैँ तो हर रोज़ कुछ घंटों के लिए ग्रुप स्टडी करें इससे आपको बहुत फायदा मिलेगा.

ग्रुप स्टडी के दौरान आप कठिन सवालों को डिसकस कर सकते हैँ और अपने दोस्तों की मदद ले सकते है.

 

5. इंटरनेट से प्रश्नों का हाल देखें

 

इंटरनेट मे हर टॉपिक के नोट्स आपको मिल जायेंगे. अगर आपको जटिल सवालों को हाल करने मे परेशानी आ रही है तो आप इन नोट्स की मदद ले सकते हैँ.

 

6. यूट्यूब मे टॉपिक से जुड़े लेक्चर के वीडियोस देखें

 

यूट्यूब प्लेटफार्म का भी उपयोग आप अपने एग्जाम की तैयारी मे कर सकते हैँ.

वो कैसे?

वो ऐसे की यूट्यूब मे बहुत सारे ऐसे चैनल हैँ जो बिलकुल फ्री मे IIT की तैयारी बच्चों को करते हैँ. आपको हर टॉपिक से जुड़े वीडियो मिल जायेंगे जिससे आप आसानी से किसी भी टॉपिक को समझ सकते हैँ.

सबसे अच्छी बात ये है की आप वीडियो को बार बार देख सकते हैँ जिससे टॉपिक को समझना आसान हो जाता है. दूसरा फायदा ये है IIT kya hai? की आपको कोचिंग मे लगने वाला खर्च भी बच जाता है.

 

IIT करने के लिए योग्यता

 

आईआईटी करने के लिए aspirants को विज्ञान वर्ग से बारहवीं पास होना जरूरी है।

ध्यान दें कि बाहरवीं में Physics & Mathematics का होना अनिवार्य है जबकि तीसरे सब्जेक्ट के रूप में केमिस्ट्री या बायोटेक्नोलॉजी जरूरी है। इसके साथ ही आईआईटी में जाने के लिए 12th में 75% का होना जरुरी है। SC, ST के लिए % में छूट का भी प्रावधान है।

Update: वर्तमान परिस्थितियों के चलते JEE-Advanced क्लियर करने वाले स्टूडेंट को सभी स्टूडेंट्स को आईआईटी में एडमिशन मिलेगा। 12th में minimum marks की कोई requirement नहीं है।

 

 

 

IT के लिए 12वीं में कितने मार्क्स चाहिए?

 

अगर इसका एंट्रेंस निकाल लेने के बाद भी अगर स्टूडेंट 12th के परीक्षा में fail हो जाएँ या फिर उनका 12th में 75% मार्क्स से कम हो तो भी उसे प्रवेश नहीं मिल सकता है.

इसके अलावा विद्यार्थियों को बोर्ड परीक्षा में बस पास करना होगा. इसमें प्रवेश लेने के लिए 10+2 में इन 3 subject का पढ़ना जरुरी है.
  • Mathematics (गणित)
  • Physics (भौतिकी)
  • Chemistry (रसायन विज्ञान)

इन तीनों में से अगर किसी भी विषय को पढाई के दौरान नहीं चुनते हैं और छोड़ देते हैं तो आपको इस प्रवेश परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दिया जायेगा. इस एग्जाम में इन्ही तीनों विषय से प्रश्न आते हैं.

 

IIT Exam Pattern

 

इस परीक्षा को बहुत कठिन माना जाता है। इसमें फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स के प्रश्न पूछे जाते है।

आईआईटी का एग्जाम पैटर्न इस प्रकार है:

JEE Mains Exam Pattern For B.Tech / B.E. For B.Arch For B.Planning
विषय Physics, Chemistry & Maths Maths, Aptitude Test & Drawing Test Maths, Aptitude Test, & Planning
प्रश्नों की संख्या 75 (25 प्रश्न प्रत्येक विषय से) 77 100
समय 3 घंटे 3 घंटे 3 घंटे
अधिकतम मार्क्स 300 400 400
परीक्षा का मोड कंप्यूटर कंप्यूटर, पेन पेपर (drawing के लिए) कंप्यूटर

 

IIT की फीस कितनी है

 

Indian Institute of Technology (IIT) में जाने के इच्छुक अभ्यर्थियों की तरफ से आईआईटी फीस कितनी है, यह एक सबसे ज्यादा पूछा जाने वाला सवाल होता है। IIT kya hai? प्रत्येक आईआईटी संस्थान द्वारा हर साल official website पर fee structure शेयर किया जाता है।

अगर सामान्यत: बात की जाए तो बीटेक के लिए आईआईटी की फीस लगभग हर साल 2 से 2.5 लाख होती है जो चार साल में 8 से 10 लाख होती है। ध्यान दें कि SC, ST & PH students के लिए आईआईटी कॉलेज की फीस कम होती है। इनके लिए 4 सालों की total fees 2-4 लाख होती है।

 

IIT और NIT में अंतर

 

IIT क्या है के बारे में आपने जान लिया है. अब थोड़ा एनआईटी के बारे में जानते है। NIT की फुल फॉर्म ‘नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी‘ है।

  • आईआईटी में एडमिशन के लिए Jee mains & Advanced दोनों को क्रैक करना पड़ता है जबकि NIT में सिर्फ JEE Mains से जा सकते है।
  • एजुकेशन और प्लेसमेंट लेवल में दोनों को बराबर माना जा सकता है लेकिन IIT को better consider किया जाता है।
  • सरकार द्वारा आईआईटी को ज्यादा फण्ड दिया जाता है जिस कारण से research papers & projects IITs द्वारा पब्लिश किये जाते है जबकि NIT में कम।

Overall कहा जाए तो IITs, NITs की तुलना में बहुत बेहतर है। हालांकि कई NITs भी आईआईटी संस्थानों को शिक्षण क्वालिटी के मामले में कड़ी टक्कर देते है।

 

IIT Jam क्या है

 

IIT Jam की फुल फॉर्म Indian Institute of Technology – Joint Admission Test for MSc है।

इस परीक्षा में भाग लेने के लिए स्टूडेंट्स के पास बैचलर डिग्री (ग्रेजुएशन) का होना जरूरी है। इसके माध्यम से बीएससी जैसे कोर्स किये हुए स्टूडेंट्स को वर्ल्ड क्लास एजुकेशन के लिए आईआईटी संस्थानों में एडमिशन मिलता है। IIT Jam मास्टर्स की डिग्री जैसे MTech हासिल करने के लिए किया जाता है।

 

भारत में कितने IIT कॉलेज है

 

भारत में कुल 23 आईआईटी कॉलेज है। ये निम्न है:

  1. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर
  2. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मुंबई
  3. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, दिल्ली
  4. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, कानपुर
  5. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, मद्रास
  6. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, रुड़की
  7. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, गुवाहाटी
  8. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, भुवनेश्वर
  9. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, गांधीनगर
  10. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, जोधपुर
  11. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, पटना
  12. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, हैदराबाद
  13. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, इंदौर
  14. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, वाराणसी
  15. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, तिरुपति
  16. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, धनबाद
  17. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, रोपड़
  18. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, भिलाई
  19. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, गोवा
  20. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, मंडी
  21. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, जम्मू
  22. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, पलक्कड़
  23. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, धारवाड़।

 

IIT की सैलरी

 

जैसे कि हमने ऊपर आपको बताया कि एक करोड़ सालाना भी सैलरी ऑफर की जा चुकी है. यही वजह है कि कोई भी इंजीनियरिंग का छात्र यही चाहता है कि सबसे बड़े इंजीनियरिंग संस्थान से ही पढ़ाई करें.

चलिए हम आपको बता देते हैं IIT kya hai? कि अभी तक प्रत्येक इस संस्थान के सपनों में ऑफर की गई अधिकतम सैलरी कितनी है.

IIT संस्थान अधिकतम ऑफर की गई सैलरी औसत सैलरी प्रति वर्ष
मद्रास 95.87 लाख 12-20 लाख
दिल्ली 1.4 करोड़ 16 लाख
इंदौर 36.5 लाख 16.6 लाख
मुंबई 1.5 करोड़ 18 लाख
रूरकी 1.5 करोड़ 20 लाख
पटना 49.80 लाख 11.47 लाख
धनबाद 41.89 लाख 11 लाख
भुवनेश्वर 39 लाख 11.15 लाख
कानपूर 1.42 करोड़ 15.8 लाख
गुवाहाटी 1.5 करोड़ 15.57 लाख
हैदराबाद 40 लाख 11.5 लाख
बीएचयू 1.38 करोड़ 8.19 लाख
जोधपुर  32.5 लाख 11 लाख

 

IIT करने के फायदे (Advantages of IIT in Hindi)

 

आखिर क्या वजह है की हर इंजीनियरिंग करने वाला स्टूडेंट चाहता है की वो आई आई टी से ही इंजीनियरिंग करे. क्यों हर अभिभावक अपने बच्चे को इस अनोखे institute में शिक्षा लेने के लिए पढाई करने की इच्छा रखता है. तो चलिए जान लेते हैं इस संस्थान में पढ़ने के फायदे.

ब्रांड की तरह नाम:

आप जब इसमें पढाई करते है और पूरा करने के बाद बाहर निकलते हैं तो आपके नाम को हमेशा Indian Institute of Technology के साथ जोड़ा जाता है यानी हर IITian अपने नाम के बाद ये शब्द जरूर जोड़ता है.

एक तरह से नाम के साथ एक विशेष टाइटल ही जुड़ जाता है. सुनकर लोग समझ जाते हैं की कहाँ से पढाई किया है और कितने geniuess हैं.

सभी लोगों से आदर का मिलना:

हर छात्र जो यहाँ से पढता है उसकी इज़्ज़त हर कोई करता है भले जानने वाला हो या कोई भी अनजान इंसान हो. ये संस्थान देश का सबसे प्रतिष्ठित संस्थान है और यहाँ के लिए क्वालीफाई करना और पढाई करना बहुत ही सम्मानजनक बात है.

आसानी से जॉब मिलना:

दोस्तों पढाई करने के मकसद अपना करियर को संवारना और बेहतर से बेहतर बनाना साथ ही सामाजिक और आर्थिक विकास के साथ देश का विकास करना भी है.

इस संस्थान में पढ़ने वाले हर छात्र बेहतरीन शिक्षा पाते हैं और अपने दिमाग का इस्तेमाल कर के उसी ज्ञान के वजह से अच्छा जॉब पाते हैं. IIT kya hai? उन्हें कंपनियों के पास जाने की जरुरत नहीं पड़ती बल्कि कंपनियां खुद ही इस संस्थान के स्टूडेंट्स को जॉब देती हैं.

आपने कई बार सुना होगा की इस संस्थान से पढ़ने वाले स्टूडेंट्स को बहुत ही अच्छी सैलरी के साथ प्लेसमेंट होता है.

 

IIT से जुड़े अक्सर पूछे जाने वाले सवाल – FAQs

 

IIT एग्जाम क्या है?

इस इंजीनियरिंग संस्थान में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है उसे ही IIT एग्जाम कहा जाता है.

आईआईटी कितने साल का कोर्स है?

यह कोर्स चार वर्ष का होता है.

IIT के लिए योग्यता क्या चाहिए?

इस संस्थान में एडमिशन लेने के लिए पहली बात तो आपको 12वीं साइंस लेकर पढ़ना है जिसके अंतर्गत आपको फिजिक्स केमिस्ट्री और मैथ की पढ़ाई करनी है. 10वीं और 12वीं में आपके 60 प्रतिशत से अधिक अंक होने चाहिए. आईआईटी के एग्जाम के लिए दो चांस मिलते हैं इसीलिए दसवीं के बाद से गैप नहीं होना चाहिए.

आईआईटी में एडमिशन के लिए 12वीं में कितने प्रतिशत अंक चाहिए?

एडमिशन के लिए 12वीं में 60% प्रतिशत अंक चाहिए.

आईआईटी में एडमिशन के लिए 10वीं में कितने प्रतिशत अंक चाहिए?

दसवीं में आपके 60% प्रतिशत अंक होने चाहिए.

12वीं के बाद आईआईटी की तैयारी कितने दिनों तक करें?

12वीं कंप्लीट कर लेने के बाद में आपके पास एक और साल का मौका होता है तो आप एक पूरा साल इसकी तैयारी करके इस के एग्जाम को लिख सकते हैं.

क्या पॉलिटेक्निक के साथ-साथ कोई आईआईटी जेईई की तैयारी कर सकते हैं?

अगर आप पॉलिटेक्निक कर रहे हैं तो फिर आपको JEE की तैयारी उस वक्त नहीं करनी चाहिए. अगर इस की तैयारी करना चाहते हैं तो आप आईएससी ले और 2 सालों का जो इंटरमीडिएट साइंस का कोर्स होता है उसे करें.

अगर कोई कक्षा दसवीं में बायोलॉजी लेता है तो क्या हुआ आईआईटी कर सकता हैं?

दसवीं कक्षा में अब चाहे जो भी विषय लो. अनिवार्य रूप से जो जरूरी विषय होते हैं जिनमें गणित, फिजिक्स केमिस्ट्री सारे शामिल होते हैं. तो जी हां बिल्कुल आप दसवीं में बायोलॉजी पढ़ने के बावजूद भी जेईई की परीक्षा में बैठ सकते हैं.

 

 

 

Conclusion

 

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख IIT kya hai? (What is IIT in Hindi) IIT कैसे करें पूरी जानकारी हिन्दी में जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

IIT kya hai? (What is IIT in Hindi) IIT कैसे करें पूरी जानकारी हिन्दी में

 

 

 

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!