RTO क्या होता है? जानिये आरटीओ ऑफिसर कैसे बने? पूरी जानकारी

दोस्तों RTO क्या होता है? RTO के पास क्या अधिकार होते हैं? : क्या आप आरटीओ (RTO Full Form) के बारे में जानकारियां हासिल करना चाहते हैं, और इसी जानकारी की तलाश में एक पेज से दूसरे पेज पर जा रहे हैं| यदि आप उनमें से हैं जो आरटीओ (What is RTO) के बारे में सभी जानकारियां प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप बिलकुल सही जगह पर आये हैं|

अक्सर हम जब गाड़ी खरीदते हैं, या फिर लाइसेंस बनवाते हैं, तो यह नाम ‘आरटीओ’ हम ज़रूर सुनते हैं| अब यह आखिर है क्या, इसका फुल फॉर्म क्या है, और आरटीओ के पास कौन कौन से अधिकार हैं (Power of RTO)| यह सभी जानकारियां इस पोस्ट में प्रदान की गयी हैं|

यूँ तो हम सभी जानते हैं की हर एक एरिया का अपना आरटीओ ऑफिस (Roles And Responsibilities of RTO) होता है, और आज के समय में गाड़ियां भी हम सभी के पास हैं, तो यह बहुत ही आवश्यक है की आपको पता हो की आखिर आरटीओ है क्या, इसका फुल फॉर्म क्या है, और ऐसे क्या अधिकार हैं जो आरटीओ के पास हैं|

इन सभी महत्व्पूर्ण जानकारियों के लिए इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें और आरटीओ के बारे में विभिन्न ज्ञान हासिल करें जैसे – फुल फॉर्म ऑफ़ आरटीओ इन हिंदी, आरटीओ क्या करता है, आरटीओ की ज़िम्मेदारियाँ, आरटीओ के अधिकार, आदि| अगर आप किसी प्रतियोगिता की भी तैयारी कर रहे हैं तो इस पोस्ट में प्रदान की गयी जानकारियां आपके बहुत काम आएँगी| इसीलिए पोस्ट को अंत तक पढ़ें, और अपने सुझाव हमें कमेंट बॉक्स के द्वारा भेजें|

 

RTO क्या होता है? जानिये आरटीओ ऑफिसर कैसे बने? पूरी जानकारी
TEJWIKI.IN

 

Contents

RTO क्या है? (What is RTO)

 

RTO का फुल फॉर्म “Regional Transport Office” (रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस) होता है और RTO को हिंदी में (Hindi meaning) “क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय” कहा जाता है आरटीआई का मुख्य कार्य वाहनों का पंजीकरण करना होता है यह भारत के प्रत्येक राज्य में स्थित है जोकि ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन पंजीकरण सर्टिफिकेट जारी करता है |

RTO के ऑफिस हर राज्य के पत्येक जिले में होता है जिन व्यक्तियों के पास स्वयं का वाहन या गाड़ी होती है उन्हें RTO ऑफिस जाकर गाडी के कुछ डाक्यूमेंट्स बनवाने पड़ते है जिनमे Vehicle Registration, Driving Licence, Pollution Test और Insurance अहम होते है आइये आर.टी.ओ के बारे में कुछ अन्य जानकारी प्राप्त करते है |

 

 

आरटीओ( RTO) का फुल फॉर्म क्या है (What is the full form of RTO)

 

आरटीओ( RTO) का फुल फॉर्म “Regional Transport ऑफिस (रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस)” होता है | इसे हिंदी में क्षेत्रीय परिवाहन कार्यालय भी कहा जाता है | इसका कार्य यातायात से सम्बंधित सभी चीजों का देख रेख करना होता है | इसका ऑफिस भारत के प्रत्येक राज्यों के सभी जनपद में होता है |

 

RTO ऑफिस किसे कहते है? (What is the RTO office called)

 

आरटीओ ऑफिस भारत सरकार के सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अधीन काम करते हैं. जहा पर आप गाड़ियों संबंधित सभी सरकारी कामकाज कर सकते हैं. मतलब गाड़ी का पासिंग करवाना, आपका खुद का ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना, गाड़ी संबंधित कोई महत्वपूर्ण डाक्यूमेंट्स लेना, या फिर किसी भी गाड़ी को रजिस्ट्रेशन करना के बारे में कामकाज आरटीओ ऑफिस में कर सकते हैं.

आरटीओ ऑफिस सरकार का महत्वपूर्ण खाता है क्योंकि आपको पता ही होगा दिन प्रतिदिन गाड़ियों की संख्या बढ़ती जा रही है RTO क्या होता है? इसलिए उसे सही तरीके से चलाना सरकार के सामने बहुत बड़ी परेशानी है इसलिए आरटीओ ऑफिस को गाड़ियों संबंधित जानकारी अच्छी तरह कैसे रखनी होती है.

आरटीओ ऑफिस में रोड टैक्स, रोड फंड, टोल पोस्ट के बारे में भी जानकारी देती है और उसे वह कलेक्ट करते हैं. आरटीओ ऑफिस द्वारा नियुक्त के ऑफिसर को किसी भी ट्रैफिक को कंट्रोल करना रहता है. इसी के साथ सड़कों पर चलने वाली गाड़ियों की तलाशी करते हैं जिससे कि वह गाड़ी सही है या नहीं इसकी जानकारी होती है.

 

आरटीओ ऑफिसर कैसे बने? (How to become an RTO Officer)

 

गाड़ियों का जो पंजीकरण किया जाता है वह भारतीय सरकार के एक विभाग के द्वारा होता है और वो है RTO ऑफिसर। आपको RTO Officer बनने के लिए कुछ RTO Officer Eligibility को पूरा करना होता है।

आरटीओ ऑफिसर पद के लिए सीधा चयन नही किया जाता है, इसके लिए आपको सबसे पहले RTO या IMV के पद पर चयन होना पड़ता है। इसके कुछ वर्षो के उपरांत प्रोन्नति द्वारा आरटीओ के पद पर नियुक्ति की जाती है।

तो आईय हम आपको पूरा विस्तार से समझाते है। चलिए अब हम आपको rto बनने के लिए क्या क्या requirements है? के बारे में विस्तार से बताते है।

 

RTO बनने के लिए शैक्षिक योग्यता (Qualification) (Educational Qualification to become RTO)

 

  • आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए Applicant को 10वीं पास होना चाहिये।
  • अगर आप इसमें और  भी High Post प्राप्त करना चाहते है तो आपको Recognized University से Graduation पास होना चाहिए।
  • RTO अधिकारी के लिए महिलाएं और पुरुष दोनों ही आवेदन कर सकते है।
  • आरटीओ ऑफिसर के लिए आयु सीमा लगभग 21 से 30 साल तक के बीच होना चाहिए।
  • OBC उम्मीदवार के लिए 3 साल की छुट होती है और Sc/St के लिए आवेदकों को 5 साल की छुट होती है।

 

 

 

RTO Officer बनने के लिए जरुरत चीज़े? (Requirements to become an RTO Officer)

 

आपको सबसे पहले आवेदन करना होगा। RTO लिए आवेदन करना बहुत ही आसान है। RTO Officer Exam में पास होने के लिए आपको 2 परीक्षाए देनी होती है और उसके बाद इंटरव्यू देना होता है। जो आपको पास करना होता है।

तो चलिए जानते है इसकी पूरी प्रक्रिया के बारे में

 

Rto Officer Exam का सिलेबस (Syllabus):

 

आरटीओ ऑफिसर की परीक्षा देने के लिए इसका Syllabus पता होना जरुरी है। उसके बाद आप इसकी पढाई कर सकते है। इसकी पढाई के लिए एक टारगेट अनुसार जरुरी है। जैसे-

  • सामान्य नॉलेज (General Knowledge)
  • सामान्य राज्य भाषा (General State Language)
  • सामान्य अंगेजी (General English)
  • सामान्य विषयो (General Subject)

ये वो Syllabus जो आपको आरटीओ बनने के लिए पढना होगा।

RTO बनने के लिए लिखित परीक्षा  (Written Exam to become RTO)

 

सबसे पहले आपकी Written Exam होती है। यह परीक्षा 2 घंटे की होती है। इसका पेपर 200 अंक का होता है। इसमें आपसे निम्न विषयो पर विभिन्न तरह के प्रश्न पूछे जाते है।

  • राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय वर्तमान घटनाक्रम (National And International Current Events)
  • भारत का इतहास (History Of India)भूगोल (Geography)
  • आर्थिक और सामाजिक विकास (Economic And Social Development)
  • पर्यावरण और पारिस्थिकी (Environment And Ecology)
  • सामान्य विज्ञान (General Science)
  • अंग्रेज़ी भाषा (English Language)

RTO बनने के लिए शारीरिक परीक्षण (Physical Test to become RTO)

 

लिखित परीक्षा के बाद आपका Physical Test होता है। इसमें Physical Test पास करना होता है। किसी भी नौकरी में पद के अनुरूप फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट का का मानक निर्धारित किया जाता है। जिससे अभ्यर्थी के शारीरिक क्षमता की जाँच संभव हो सके।

यदि आप सुरक्षा से सम्बंधित नौकरी के लिए आवेदन कर रहे है तो उसका फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट का मानक अलग होता है और अगर आप अन्य पद के लिए आवेदन कर रहे है तो उसका स्टैंडर्ड अलग होता है।

 

 

 

फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट के द्वारा उस विभाग या संस्था को आपको योग्य या अयोग्य घोषित करने का पूर्ण अधिकार होता है। इसलिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी को इसमें उत्तीर्ण होना अति आवश्यकता है।

फिजिकल टेस्ट किसी भी चयन प्रकिया लड़की या लड़का माप तोल विभिन्नता के अनुरूप होती है।जैसे की लम्बाई  सीना दोड़ आदि और आप जानते ही है Male/Female के फिजिकल टेस्ट में अन्तर होता है।

पुरुष अभ्यर्थी को सभी मापदंड पुरे करने होते जबकि महिला को दोड़ सीना आदि में छुट होती है।

 

RTO बनने के लिए मेडिकल जाँच (Medical Examination to become RTO)

 

RTO के मेडिकल टेस्ट में आपके घुटने पैर फ़्लैट, अंगूठो में हेलिक्स, हड्डियों में कहीं असमानता, पैर धनुषाकार, जोड़ो में कहीं भी असामान्यता, छाती अंदर धंसी न हो, उभरे और स्वस्थ मसल्स, अभ्यर्थी का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य अच्छा होना सुनने की क्षमता, आँखों कलर के अंधेपन या कलर ब्लैकड़नेस से मुक्ति हो, आँखों की दूर की नजर और पास की नजर सामान्य हो, RTO क्या होता है? आँखे थोड़े से प्रकाश में ही कोई प्रोब्लम न हो इस प्रकार की जाँच की जाती है।

जाँच के समय आपके प्रत्येक अंग के मानक डॉक्टर के पास उपलब्ध रहते है, जिससे वह आपको योग्य या अयोग्य घोषित करते है।

 

RTO बनने के लिए साक्षात्कार (Interview to become RTO)

 

दोनों Exam को पास करने के बाद आपका Interview होगा। साक्षात्कार विभाग द्वारा गठित समिति के समक्ष देना होता है। गुणवत्ता के Base पर आपको जाँचा जाता है और आपसे कुछ सवाल किये जाते है। जिसमे व्यक्ति की मानसिक जाँच भी की जाती है। यदि अभ्यर्थी इसमें उत्तीर्ण हो जाता है, तो उसका चयन कर दिया जाता है।

Interview लेने वाला क्या जानना चाहता है? वो जानना चाहता है की आप इस पद के प्रति कितना गंभीर है या इस नौकरी में आप कितनी दिलचस्पी रखते हैं। इसलिए हमको सही तरीका अपनाना चाहिये ताकि हम साक्षात्कार (Interview) पास हो सके।

 

RTO Officer की वेतन (RTO Officer Salary)

 

चाहे कोई सी भी नौकरी हो हम सबसे पहले उसकी सैलरी जानना चाहते है की इस नोकरी से हमे कितनी सैलरी प्राप्त होगी।

जी हां आरटीओ ऑफिसर की सैलरी में बहुत सी रैंक शामिल होती है और यह Rto Officer Rank के अनुसार अलग-अलग होती है। Rto Officer की सैलरी बहुत अच्छी सम्मान जनक मिलती है और यह 20,000 से 40,000 रूपए तक की होती है। नोट- यदि आप Rto Officer बनने के लिए मेहनत कर रहे है तो आपको इसकी तैयारी पर पूरी तरह से टारगेट के साथ करनी चाहिए।

 

RTO की पद (Rto Of Rank)

 

आरटीओ ऑफिसर ग्रेड बी का अधिकारी होता है यह एक उच्च अधिकारी होता है जिसे अपने क्षेत्र के वाहन की जाँच करने और वाहन से सम्बंधित डॉक्यूमेंट की जाँच करने का अधिकार प्राप्त होता है।

 

RTO Office में वाहन पंजीकरण कैसे होता है (How vehicle registration is done in RTO office)

 

अपनी खुद का personal vehicle खरीदना आज भी भारत में बहुत से लोगो का सपना है, अक्सर लोग EMI या loan के माध्यम से vehicle खरीदते है अपने दफ्तर जाने के लिए. 

अगर आप भी अपना कभी vehicle लेते है, तो आपको भी vehicle register करना होगा. Motor Vehicles Act, 1988 के चलते ये सभी के लिए आवश्यक है.

Regional Transport Office (RTO) में vehicle registration के लिए क्या documents चाहिए –

  • Vehicle registration के लिए application form
  • जिसके नाम से vehicle खरीदना है उसका address और age proof
  • 2 passport size फोटो 
  • PUC certificate
  • Vehicle के insurance पेपर 
  • Application fees 
  • अगर अपने किसी दुसरे state से vehicle ख़रीदा है, और अपने state में register करना है तो आपको sales tax certificate भी चाहिए होगा. 

आपको यह सभी documents के साथ RTO office जाना होगा, और समय से सभी documents और application फीस जमा करनी होगी. सभी documents और vehicle की जांच के बाद आपको vehicle के number मिल जायेंगे.

 

 

 

RTO Form को Online कैसे Download करें? 

 

RTO के Official परिवहन वेबसाइट में आपको काफी सारे अलग-अलग फॉर्म्स मिल जाएंगे, जैसे की आपको ड्राइविंग लाइसेंस चाहिए या फिर कुछ और आपको सभी तरीके के फॉर्म यहाँ पर मिल जाएंगे। अब देखते है की हम उन फॉर्म्स को Download कैसे कर सकते है। 

1. सबसे पहले नीचे क्लिक करके Official वेबसाइट पे जाए।

2. Menu में आपको ‘Information Services’ का विकल्प मिलेगा उसपे क्लिक करें। 

3. उसके बाद “Downloadable Forms” के विकल्प पर जाए। 

4. अब आप अपने उन फॉर्म को डाउनलोड करें जिसकी आपको जरूरत है।

 

RTO के क्या-क्या कार्य है ? (What are the functions of RTO)

 

आर.टी.ओ ऑफिस में न सिर्फ वाहनों का पंजीकरण होता है बल्कि वाहनों के चालको की पूरी इनफार्मेशन भी होती है आइये जानते है RTO के कार्यो के बारे में:-
1. Driving Licence:- यदि आप मोटर वाहन चलाते है तो आपको ड्राइविंग लाइसेंस के आवशकता पड़ती है अन्यथा आप पर जुर्माना लगता है ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आप अपने क्षेत्र के RTO कार्यालय में अप्लाई कर सकते है यह ड्राइविंग लाइसेंस जारी करना RTO का ही एक कार्य है |

2. Vehicle Registration:-कोई भी मोटर वाहन खरीदने पर सबसे पहले उसका पंजीकरण कराना बहुत जरुरी है और इसका पंजीकरण RTO कार्यालय में ही किया जाता है और वही से आपके नए वाहन को एक नंबर दिया जाता है |

3. Pollution Test:- वाहनों के Pollution Level के जाँच करना भी RTO कार्यालय के अंतर्गत आता है जिन वाहनों का प्रदुषण लेवल अधिक होता है उन वाहनों का लाइसेंस रद्द कर दिया जाता है |

साथ ही साथ इनके और भी कार्य होते है जैसे गाडियों का बीमा करना, रोड टेक्स वसूलना आदि ये सभी कार्य RTO के अंतर्गत आते है |

 

 

FAQ- अक्सर RTO  के बारे में पूछे जाने वाले सवाल जवाब 

 

What is the full form of RTO?

RTO – Regional Transport Office.

PSV number क्या है?

PSV यानी Public Service Vehicle एक badge है जो Regional Transport Office द्वारा उन drivers को दिए जाते है, जो public transport vehicles चलाते है.

Learner licence कब तक valid रहता है?

Learner licence 6 महीने तक valid रहता है.

क्या vehicle tax online जमा कर सकते है?

Yes, आप vehicle tax online अपने state की transport website में जा के जमा कर सकते है.

RTO officer का क्या काम होता है?

Regional Transport Office Indian government की एक orgaization है, जो vehicle का registration और driving licence बनाती है. इसके अलावा, RTO officer का यह काम होता है की वह motor insurance check करे और vehicle की जांच करने के बाद fitness certificate जारी करे.

Regional Transport Office कब closed रहते है?

हर महीने के 2nd और 4th शनिवार को RTO office close रहते है.

FC RTO क्या है?

FC यानी Fitness certificate vehicles को दिया जाता है ताकि vehicle के द्वारा किए गए pollution को check करे, और समय से vehicle के जांच हो.

 

 

 

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख RTO क्या होता है? जानिये आरटीओ ऑफिसर कैसे बने? पूरी जानकारी जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

RTO क्या होता है? जानिये आरटीओ ऑफिसर कैसे बने? पूरी जानकारी

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!