CDN क्या होता है? (What is CDN) CDN क्यों जरुरी है ?

दोस्तों क्या आप जानते हैं CDN क्या होता है? और एक वेबसाइट के लिए यह कितना फायदेमंद है. अगर आप एक Blogger हैं या Blogging के क्षेत्र में अपना Career बनाना चाहते हैं तो CDN को समझना आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हो जाता है.

किसी भी वेबसाइट के Speed को बढ़ाने के लिए CDN बहुत ही जरुरी होता है. अगर आपने पहले कहीं CDN का नाम सुना है पर इसके बारे में आपको पर्याप्त जानकारी नहीं है तो चिंता की कोई बात नहीं है,

मैं आपको आसान शब्दों में उदाहरण सहित CDN के बारे में सम्पूर्ण जानकारी दूंगा. जिससे आपकी CDN से सम्बंधित सारी शंकाए दूर हो जाये. तो चलिए शुरू करते हैं इस लेख को.

 

CDN क्या होता है? (What is CDN) CDN क्यों जरुरी है ?
TEJWIKI.IN

 

CDN क्या होता है? (What is CDN)

 

CDN एक प्रकार का नेटवर्क है जो सर्वर और उपयोगकर्ता के बीच भौतिक दूरी को कम करके वेबसाइट के कंटेंट को जल्दी लोड करता है। इसका मुख्य काम है आपके blog के loading speed को बढ़ाना। आपके blog या website का सबसे जरुरी चीज़ है उसका loading speed.

जिसका मतलब है की अगर कोई user अपने browser में आपके blog या website को देखना चाहता है तो आपका blog कितने समय में user के browser में दिखाई देगा, अगर आपके blog को users के browser में load होने के लिए बहुत समय लग रहा है तो इससे आपके blog में visitors के आने का chances बहुत ही कम हो जाता है.

इसी परेशानी से बचने के लिए bloggers CDN का इस्तेमाल करते हैं.

 

आम तौर पर जब भी visitors आपके blog में visit करते हैं तो आपके blog के web hosting server में उनको redirect कर दिया जाता है. आपका web hosting server central location में स्तिथ हो कर रहता है, तो जब भी visitors आपके site पर visit करेंगे तो user आपके site का contents उसी web hosting server से ही access करेंगे.

 

 

किसी भी website या blog का एक ही web hosting server होता है. तो आपके site के सभी visitors उस एक ही server से आपके website को access कर पाएंगे. इसलिए अगर आपके site में ज्यादा visitors होंगे तो आपका server overload हो जायेगा और आपके site के loading speed को धीमा कर देगा या फिर आपका server crash भी हो सकता है.

यही वो परिस्थिति है जहाँ CDN अपना मुख्य भूमिका निभाता है क्यूंकि CDN network of servers है जिसके servers पूरी दुनिया में फैले हुए हैं. इसलिए अगर आप CDN का इस्तेमाल अपने blog के लिए करते हैं तो आपके सारे contents CDN के सभी servers में store हो कर रहते हैं.

तो जब भी users आपके site में visit करेंगे, CDN का technology user के location के नजदीकी server के साथ जोड़ देता है जिससे की user आपके site को जल्दी और आसानी से access कर पाते हैं.

अपने site का loading speed बढ़ाने के लिए और दुसरे web contents के लिए जैसे images और videos को जल्दी load करने के लिए CDN का इस्तेमाल करना बहुत जरुरी है. आपके blog में CDN का इस्तेमाल करते ही आपके site का speed बहुत ही तेजी से बढ़ता है और आपके viewers को बेहतर अनुभव प्रदान करता है।

 

 

 

CDN की परिभाषा ? (Definition of CDN)

 

CDN एक बहुत ही highly distributed प्लाट्फ़ोर्म होता है सर्वर का जो कि वेब पेज कांटेंट की लोडिंग टाइम को कम करता है, यानी कि उन डेलेज़ को कम करती है जिसके लिए वो सर्वर और यूज़र की फ़िज़िकल दुरता को कम कर देती है.

दुरता कम होने से website जल्द ही लोड हो जाती है. इससे आप दुनिया के किसी भी कोने में रहिए आपको बहुत ही कम लोड टाइम लगता है किसी website को देखने के लिए अगर वो वेबसाइट CDN का इस्तमाल कर रहा हो तब.

 

CDN का फुल फॉर्म क्या होता है? (What is the full form of CDN)

 

CDN का फुल फॉर्म होता है Content Delivery Network

 

CDN कैसे कार्य करता है ? (How CDN works)

 

CDN मतलब Content Delivery Network यानी servers का एक ऐसा network जो आपके blog या website के users के geographic location के सबसे पास बाले अपने server (data center) से आपके blog के static content (images, CSS and JavaScript) को users के computer पर send करता है जिससे की आपके web pages जल्दी से जल्दी load हो सकें.

आइये इसे मैं आसान शब्दों में बताता हूँ. हमारी website या blog दुनिया में किसी भी जगह पर एक server पर host होती है और अगर कोई user उस server से बहुत दूर रहता है तो उसे आपकी website को access करने में थोडा time लगता है क्योंकि इतनी दूर तक user की request जाने में और उस server को उस request को process करके उसका response करने में भी time लगेगा. अब अगर आप अपनी website या blog के लिए किसी Content Delivery Network (CDN ) को use करते है तो उस CDN के दुनिया में अलग-अलग जगह पर बहुत सारे data center (server) होते है जहाँ पर वो आपकी website की static files (images, CSS and JavaScript) को store कर लेता है.

अब अगर कोई user आपके blog पर किसी web page के लिए request भेजता है तो CDN उस user के सबसे पास बाले data center से static files उस user को send कर देते है इससे आपके server पर भी process load कम हो जाता है और user को fast response करता है तो इस तरह CDN आपके blog की speed fast करने में help करता है.

 

CDN क्यों जरुरी है ? (Why CDN is necessary)

 

1) सभी speed checking tools जैसे gtmatrix, pingdom, Google PageSpeed Insights इत्यादि website या blog की speed को बेहतर करने के लिए अच्छे CDN का use करना suggest करते है.

 

2) अगर आप चाहते है की आपका blog search engines की ranking में अच्छी position पर हो तो उसके लिए आपके blog की speed fast होना जरूरी है.

3) अगर आपके blog की speed अच्छी है तो आपके blog के users आपके blog के ज्यादा web pages visit करेगा जिससे आपकी website की bounce rate कम होगी.

4) CDN आपके server के काम को बहुत आसान कर देता है और जिससे server को response देने में ज्यादा time नही लगता है. इसके अलावा CDN आपकी hosting की bandwidth cost को भी कम करता है.

5) अगर आपके blog पर बहुत ज्यादा traffic है तो आपके server ज्यादा load की वजह से down हो सकता है लेकिन आप अगर CDN use करते है तो ये आपके high traffic को भी handle करता है और आपके server के downtime को बहुत कम कर देता है.

6) इसके अलावा CDN आपके blog को Block spammers, scrapers, bad bots और DDoS Attacks से भी secure रखता है.

 

Website के लिए CDN से लाभ (Benefits of CDN for Website)

 

एक Website के लिए CDN के बहुत सारे फायदे होते हैं जिनमें से कुछ फायदों के बारे में नीचे बताया है –

 

1 पेज स्पीड को बढ़ाना (increase page speed)

 

आपके Website का Data अलग – अलग location के सर्वर द्वारा Serve होने के कारण आपके Website की Speed बढ़ जाती है. ऐसे में जब भी कोई यूजर आपकी Website पर आता है तो आपके Website का Content Fast Load होता है. वेबसाइट जल्दी लोड होने के कारण यूजर आपकी वेबसाइट पर आना पसंद करेंगे.

 

2 Google Ranking को Improve करता है (Improves Google Ranking)

 

Website Speed एक बहुत बड़ा Ranking Factor है जिसे Ignore नहीं किया जा सकता है. अगर कोई User आपकी Website तक पहुँचता है और आपकी Website Load होने में बहुत समय लगाती है तो इससे Ranking में Negative effect पड़ता है.

परन्तु CDN का इस्तेमाल करने से Website Speed बढती है. वेबसाइट की स्पीड बढ़ने से वेबसाइट की रैंकिंग में भी अच्छा सुधार होता है क्योकि Google भी यही चाहता है कि वेबसाइट कम समय में लोड हो.

 

 

 

3 Server Crash होने से बचाता है (Server prevents from crashing)

 

जब Website Popular हो जाती है तो Website में Traffic बढ़ जाता है जिससे Server crash होने का खतरा बना रहता है. क्योकि Main Server में अधिक Load पड़ जाता है.

परन्तु CDN का इस्तेमाल करने से Server Crash की समस्या से बचा जा सकता है क्योकि CDN के इस्तेमाल से Main Server में Load नहीं पड़ता है. आपके Website का Content अलग – अलग Location पर अलग – अलग सर्वर के द्वारा Serve कर दिया जाता है. जिससे Server Crash होने का खतरा दूर हो जाता है

 

4 अधिक Traffic को Handle करता है (Handles more traffic)

 

CDN का प्रयोग करने से Website का Content अलग – अलग Location पर अलग Server सर्व करते हैं जिससे Website मिलियन का Traffic भी आसानी से handle कर लेती है.

 

5  User Experience को बेहतर बनाता है (Improves User Experience)

 

एक User आपकी Website के साथ किस प्रकार से Interact करता है उसे user Experience कहते हैं. CDN का प्रयोग करने से आपकी Website की Loading Speed बढ़ जाती है जिससे User Website पर आना पसंद करते हैं. और आपकी Website पर User Experience भी बेहतर बनता है.

 

6  Website Secure करता है (Secures the website)

 

CDN आपकी Website की Security को बढाता है. CDN के DDoS Mitigation, Security Certificate etc. Function के द्वारा आपके Website की Security बढती है. जिससे आपकी Website Hackers से सुरक्षित रहती है.

 

7  फ्री SSL Certificate Provide करवाता है (Provides free SSL Certificate)

 

CDN आपको फ्री में लाइफ टाइम के लिए SSL certificate Provide करा देता है. जिससे आपको अलग से SSL Certificate खरीदने की जरुरत नहीं पड़ती है.

 

8  Bounce Rate को कम करता है (Reduces Bounce Rate)

 

अगर कोई User आपकी Website पर आता है और आपकी Website Load होने में बहुत समय लगाती है तो user आपकी Website को ठीक से access नहीं कर पाता है और Google के Result Page पर वापस आ जाता है तो आपकी Website का Bounce Rate बढ़ जाता है.

CDN का इस्तेमाल करने से Website की Speed बढ़ जाती है जिससे User देर तक आपकी Site पर रहता है जिससे Bounce Rate कम होता है.

 

 

 

Conclusion

 

 

 

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख दोस्तों CDN क्या होता है? (What is CDN) CDN क्यों जरुरी है ?  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.
यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!