गाजर (Carrot) खाने से होने वाले लाभ, उपयोग और हानि क्या है?

दोस्तों गाजर (Carrot) खाने से होने वाले लाभ :- गाजर एक ऐसी सब्जी है, जिसमें पौष्टिक तत्वों की कमी नहीं है। इसका उपयोग सब्जी के साथ, सलाद, जूस, अचार, केक, हलवा आदि बनाने में किया जाता है। गाजर विटामिन-ए, विटामिन-सी, विटामिन-के, पोटेशियम व आयरन जैसे कई जरूरी पोषक तत्वों से समृद्ध होती है (1)। अगर आप भी यह सोचते हैं कि गाजर खाने से क्या लाभ होता है,

तो हम आपको बता दें कि गाजर खाने से न सिर्फ शरीर को पोषक तत्व मिलते हैं, बल्कि कई शारीरिक बीमारियों से भी बचाव हो सकता है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में जानिए गाजर खाने के फायदे क्या होते हैं। साथ ही इस लेख में गाजर खाने के नुकसान और अन्य जरूरी जानकारी भी साझा की गई है। आइए, जानते हैं गाजर के फायदे और नुकसान से जुड़ी जरूरी बातें।

 

गाजर (Carrot) खाने से होने वाले लाभ, उपयोग और हानि क्या है?
TEJWIKI.IN

 

Contents

गाजर (Carrot) खाने से होने वाले लाभ (Benefits of eating Carrot)

 

गाजर खाने के फायदे बहुत हैं। इसमें मौजूद नुट्रिएंट्स आपको स्वस्थ रहने में मदद करते हैं। गाजर एक ऐसी सब्ज़ी है जो आपके शरीर को कई तरह से फायदा पहुँचाती है। आइये जानते हैं गाजर का सेवन करने से इसके क्या-क्या फायदे हो सकते हैं।

 

1.ओबेसिटी को करे कंट्रोल (control obesity)

 

क्या आपका वज़न ज़्यादा है? क्या आप अपना वजन घटाना चाहते हैं? तो फिर देर किस बात की है, गाजर को आज ही से अपनी डाइट में शामिल कीजिये। गाजर में फाइबर की काफी मात्रा पाई जाती है, गाजर (Carrot) खाने से जो आपको लंबे समय तक भूख का एहसास नहीं होने देती। जिससे आप अधिक खाने से दूर रहते हैं और इस तरह आपका वजन धीरे धीरे कंट्रोल में आ जाता है।

 

 

2. डाइजेशन पावर को बनाए बेहतर (Improve digestion power)

 

गाजर फाइबर से भरपूर सब्ज़ी है। डाइजेस्टिव सिस्टम के लिए फाइबर बहुत जरूरी होता है। गाजर खाने से डाइजेस्टिव प्रॉब्लम से राहत मिल सकती है। गाजर डाइजेशन प्रोसेस को बढ़ाती है और साथ ही आपके शरीर की इम्युनिटी में भी बढ़ोत्तरी करने में मदद कर सकती है। इस तरह आपका डाइजेस्टिव सिस्टम बिलकुल ठीक रहता है। गाजर को आप सलाद और सूप के रूप में भी अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं।

 

3. हृदय को स्वस्थ रखने में सहायक (helps keep the heart healthy)

 

गाजर दिल के मरीज़ों के लिए भी फायदेमंद है। गाजर में बीटा-कैरोटीन, अल्‍फा-कैरोटीन और ल्यूटिन पाए जाते हैं। ये शरीर में कोलेस्ट्रोल लेवल को नियंत्रित करके हृदय संबंधित रोगों से बचाने में मदद कर सकते हैं। जिन्हें भी दिल की कोई बीमारी है, उनको गाजर का सेवन करना चाहिए।

 

4. स्किन को रखे स्वस्थ (keep skin healthy)

 

गाजर आपकी त्वचा के लिए भी लाभकारी है। गाजर में एंटी-ऑक्सीडेंट, विटामिन ए और विटामिन ई पाया जाता है। ये विटामिन्स स्किन को हेल्दी रखने में मदद करते हैं। गाजर चूँकि सर्दियों में पैदा होती है इसलिए आप इसे जाड़े के मौसम में अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। सर्दियों में गाजर आपकी स्किन को हेल्दी रखेगी। साथ ही गाजर में एंटी-एजिंग गुण होते हैं, जो त्वचा को झुर्रियों और पिगमेंटेशन से बचाने में मदद कर सकते हैं। गाजर में बीटा-कैरोटिन होता है। ये त्वचा को फ्री रेडिकल्स व सूरज की हानिकारक किरणों से बचा सकता है।

 

5. मुंह के लिए लाभकारी (good for mouth)

 

गाजर में विटामिन-ए भरपूर मात्रा में होता है। इसीलिए गाजर मुंह के लिए फायदेमंद हो सकती है। विटामिन-ए दांतों और मसूडों को हेल्दी रखने में मदद कर सकते हैं। अगर आप गाजर का सेवन करते हैं तो दांतों में मौजूद बैक्टीरिया नष्ट हो सकते हैं।

 

6. आँखों की रोशनी बढ़ाती है (enhances eyesight)

 

गाजर आँखों के लिए बहुत फायदे की होती है। कहते हैं कि अगर आप नियमित रूप से गाजर का सेवन करते हैं तो इससे आपकी कमज़ोर नज़र धीरे धीरे स्वस्थ होने लगती है। गाजर आँखों के लिए एक वरदान साबित हो सकती है। गाजर में बीटा-कैरोटीन होता है। अधिक उम्र में आंखों को कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। गाजर उससे कुछ हद तक आपको बचा सकती है।

 

7. कैंसर में सहायक (Cancer Support)

 

गाजर खाने से कैंसर में भी फायदा हो सकता है। गाजर में पॉली-एसिटिलीन व फालकैरिनोल तत्व होता है, जिसमें एंटी कैंसर के गुण पाए जाते हैं। हालाँकि कैंसर एक घातक बीमारी है। इसमें घरेलू उपचार का सहारा लेना ठीक नहीं होता है।

 

8. ब्लड प्रेशर में फायदेमंद (Beneficial in blood pressure)

 

गाजर के फायदे उसकी हर बाइट में छिपे हुए हैं। गाजर ब्लड प्रेशर को भी काबू में रखता है। असल में हाई ब्लड प्रेशर हृदय रोग की खास वजह हो सकती है। हृदय की बीमारी से बचने के लिए ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखना बहुत आवश्यक है। गाजर को नाइट्रेट का अच्छा सोर्स माना जाता है। ये नाइट्रेट ब्लड सेल्स को चौड़ा करता है जिससे हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद मिल सकती है। इसके साथ ही गाजर पोटेशियम का भी अच्छा स्रोत है और पोटेशियम को भी उच्च रक्तचाप को कम करने के लिए असरदार माना गया है।

 

9. हड्डियों के लिए उपयोगी (good for bones)

 

गाजर खाने के फायदे बेइंतेहा हैं। ये आपकी हड्डियों के लिए भी लाभदायक है। दरअसल हड्डियों का स्वास्थ पूरी तरह से आपकी की लाइफ स्टाइल पर निर्भर करता है। एक शोध के अनुसार कि कुछ महिलाओं ने अपनी डाइट में हरी सब्जियां जैसे गाजर और पालक को शामिल किया, उनकी मिनरल बोन डेंसिटी यानी हड्डियों में कैल्शियम और दूसरे मिनरल की मात्रा अन्य महिलाओं की तुलना में ज़्यादा पाई गई। इस लिए कहा जा सकता है कि गाजर का सेवन हड्डियों को स्वस्थ बनाए रखने में फायदेमंद हो सकता है।

 

10. इम्यून सिस्टम के लिए उपयोगी (Useful for immune system)

 

गाजर के फायदे इतने हैं कि गिनाना मुश्किल है। गाजर इम्युनिटी को भी बढ़ाती है। गाजर में बीटा-कैरोटीन होता है जो इम्यून सिस्टम के लिए फायदेमंद है। गाजर का जूस बीटा-कैरोटीन का अच्छा स्रोत होता है। इस कारण हर रोज एक गिलास गाजर का जूस पीने से इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाया जा सकता है। गाजर सबसे ज्यादा स्वास्थवर्धक सब्जियों में से एक है। इसमें फाइटोकेमिकल जैसे कैरोटीनॉयड और पॉलीसैटेलेन की प्रचुर मात्रा पाई जाती है।

 

11. प्रेग्नेंसी में फायदेमंद (Beneficial in pregnancy)

 

गाजर के फायदे अनेक हैं। गाजर गर्भावस्था के दौरान भी बहुत लाभ पहुंचाती है। ऐसे में गाजर खाने से कई समस्याओं का समाधान हो सकता है। गाजर में फोलेट नामक एक विटामिन पाया जाता है, जो गर्भ में पल रहे बच्चे और मां के लिए फायदेमंद हो सकता है। गाजर (Carrot) खाने से प्रेग्नेंसी में फोलेट विटामिन लेने से बच्चे में ‘न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट’ की आशंका कम हो सकती है। न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट एक ऐसी मेडिकल कंडीशन है जिसमें बच्चे की रीढ़ और मस्तिष्क का विकास ठीक से नहीं हो पाता है। इसीलिए अच्छी अवस्था और सेहत के लिए प्रेग्नेंसी में महिलाएं गाजर का लाभ उठा सकती हैं।

 

12. शरीर की आंतरिक सफाई (internal body cleansing)

 

गाजर खाने के फायदे में एक खास बात ये है कि इससे आपकी बॉडी की अंदरूनी सफाई भी हो जाती है। क्रोमियम एक ऑर्गेनिक कंपाउंड होता है जो प्रदूषण के जरिए शरीर में पॉइज़न की वजह बन सकता है। सब्ज़ियों की मदद से इस तरह के पॉइज़न को शरीर से हटाया जा सकता है। इसके लिए गाजर भी एक प्रभावी सब्जी है। गाजर में ग्लूटेथिओन नामक एक एंटीऑक्सीडेंट कंपाउंड पाया जाता है जो शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करता है।

 

13. बालों के लिए हेल्दी (Healthy for hair)

 

गाजर के फायदे बेइंतेहा हैं। आपके बालों के लिए भी गाजर बहुत लाभदायक है। गाजर में ऐसे कई मिनरल्स मौजूद हैं जो बालों को स्वस्थ बनाने के लिए जरूरी हैं। गाजर (Carrot) खाने से गाजर में प्रोटीन, आयरन और विटामिन-सी पाए जाते हैं। ये सभी बालों को हेल्दी बनाते हैं और उन्हें बढ़ने में मदद करते हैं। आपको प्रतिदिन सलाद में गाजर खानी चाहिए या एक प्याला गाजर की सब्जी या फिर एक कप गाजर का जूस पीने से आपके बाल लम्बे हो सकते हैं।

 

गाजर (Carrot) आपकी सेहत के लिए क्यों अच्छी है? (Why is Carrot good for your health)

 

शरीर के लिए गाजर के लाभ अनेक हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो फ्री रेडिकल्स के प्रभाव से बचा सकते हैं। गाजर मधुमेह व कैंसर के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती है। इसका उपयोग विभिन्न तरह के हृदय रोग में भी सहायक हो सकता है।

बेहतर पाचन तंत्र के लिए इसका सेवन जूस या सलाद के रूप में किया जा सकता है। वहीं, यह कैरोटीनॉयड और डाइटरी फाइबर जैसे बायोएक्टिव कंपाउड से समृद्ध होती है, जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद माने जाते हैं (2)। लेख में आगे गाजर के औषधीय गुणों को विस्तार से बताया गया है।

 

गाजर (Carrot) के पौष्टिक तत्व (Nutritional elements of Carrot)

 

नीचे दिए गए टेबल की मदद से जानिए एक मध्यम आकार की गाजर (78 ग्राम) के विभिन्न पोषक तत्वों के बारे में

 

पोषक तत्व मात्रा (एक मध्यम आकार / 78 ग्राम)
कैलोरी 30
डायट्री फाइबर 2 ग्राम
शुगर 5 ग्राम
प्रोटीन 1 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट 7 ग्राम
मिनरल
सोडियम 60 एमजी
पोटेशियम 250 एमजी
कैल्शियम 2% डीवी
आयरन 2% डीवी
विटामिन
विटामिन-ए 110% डीवी
विटामिन-सी 10% डीवी

 

गाजर का उपयोग कैसे किया जाता है ? (How is carrot used)

 

गाजर एक ऐसी सब्जी है, जिसका सेवन विभिन्न तरीकों से किया जा सकता है। नीचे गाजर का सेवन करने के कुछ खास तरीके बताए गए हैं, जिन्हें आप अपने दैनिक जीवन में शामिल कर सकते हैं –

  • गाजर का हलवा लोकप्रिय भारतीय पकवान हैं।
  • कच्चा गाजर खाने के फायदे भी बहुत हैं।
  • आप गाजर की सलाद बना सकते हैं।
  • गाजर की स्मूदी बनाकर सेवन कर सकते हैं।
  • आप गाजर को फ्रेंच फ्राई के रूप में खा सकते हैं।
  • आप गाजर का सूप बनाकर सेवन कर सकते हैं।
  • गाजर के साथ आलू और मटर मिलाकर सब्जी बना सकते हैं, जैसे आप अन्य सब्जियां बनाकर खाते हैं।
  • गाजर का जूस बनाकर पी सकते हैं।
  • गाजर का पराठा, चीला, केक आदि बना कर भी खा सकते हैं।

आगे पढ़ें

आगे जानिए गाजर का जूस बनाने की विधि।

 

गाजर का जूस बनाने का बेस्ट तरीका (Best way to make carrot juice)

 

गाजर का जूस नीचे बताई गई विधि से बनाया जा सकता है

सामग्री :

  • दो-तीन मध्यम आकार की गाजर
  • आधा कप पानी
  • एक छन्नी
  • सेंधा नमक (स्वादानुसार)

विधि :

  • सभी गाजर को पूरी तरह छील लें और उसकी डंठल हटाकर छोटे-छोटे टुकड़े कर लें।
  • अब इन टुकड़ों और पानी को ब्लेंडर में डालकर ब्लेंड कर लें।
  • अब ब्लेंड हुए गाजर को एक बड़ी छन्नी में निकालें और चम्मच से दबा-दबा कर जूस निकालें।
  • इस जूस में आप जरूरत अनुसार नमक मिला सकते हैं।
  • इसका सेवन नाश्ते के साथ किया जा सकता है।

स्क्रॉल करें

आगे जानिए गाजर को लंबे समय तक सुरक्षित कैसे रखा जा सकता है।

 

 

गाजर (carrot) को लंबे समय तक सुरक्षित कैसे रखें? (How to preserve carrots for a long time)

 

नीचे जानिए गाजर को लंबे समय तक सुरक्षित कैसे रखा जा सकता है  –  

  • गाजर को लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए सबसे पहले उसके ऊपर से हरी पत्तियां हटाएं।
  • पत्तियों को हटाने के बाद गाजर को अच्छी तरह धो लें, जिससे उनकी सारी गंदगी व मिट्टी निकल जाए।
  • अब उन्हें साफ कपड़े से पोंछ लें। गाजर (Carrot) खाने से
  • इसके बाद, आप गाजर को सीधे फ्रिज में रख सकते हैं। इस प्रक्रिया से गाजर हफ्ते भर तक फ्रेश रहेंगी।
  • अगर आप गाजर को हफ्ते भर से ज्यादा समय के लिए रखना चाहते हैं, तो उन्हें फ्रिज में ठंडे पानी में रखें।
  • ठंडे पानी में गाजर लंबे समय तक ताजी और क्रंची बनी रहती है।
  • जैसे ही पानी खराब दिखने लगे, उसे फेंक कर गाजर को ताजे पानी में रख दें।
  •  माना जाता है कि इस प्रक्रिया से गाजर हफ्ते भर से ज्यादा समय तक फ्रेश बनी रह सकती है।

अंत तक पढ़ें

लेख के अगले भाग में हम आपको गाजर के नुकसान से अवगत करवाने वाले हैं।

 

गाजर से बनने वाली रेसिपी  (carrot  recipe)

 

गाजर के फायदे (gajar ke fayde) जानने के बाद जरुरी है कि आप गाजर को अपनी डाइट में अवश्य शामिल करें। गर्मियां आ गई हैं और लाल- लाल सेहतमंद गाजर भी आ गई हैं। गाजर को अपनी डाइट में कई तरीकों से शामिल किया जा सकता है। नीचे दिए गए तरीकों की मदद से गाजर को डाइट में शामिल किया जा सकता है।

 

1. गाजर का सलाद (Carrot Salad)

 

गाजर के सलाद के रूप में गाजर को डाइट में शामिल करना बेहद आसान है। सलाद में आप गाजर के साथ अपनी पसंद के और फल या सब्जी शामिल कर सकते हैं जैसे कि टमाटर, खीरा, ककड़ी, प्याज आदि। सलाद में आप सेहतमंद बीज भी शामिल कर सकते हैं।

2. गाजर का जूस (Carrot Juice)

 

गाजर के जूस के फायदे भी कई सारे हैं। अगर आप रोजाना गाजर का जूस पीते हैं तो रोजाना बाहर जाने की जरुरत नहीं है क्योंकि घर में भी आसानी से गाजर का जूस बनाया जा सकता है।

 

गाजर का जूस बनाने की विधि

  • गाजर का जूस बनाने के लिए सबसे पहले गाजर छील लें।
  • गाजर ब्लैंडर में डालें। ब्लैंडर में सही मात्रा में पानी डालें और ब्लैंड करें।
  • गिलास के ऊपर छलनी रखें और ब्लैंडर से ब्लैंड की गई गाजर छलनी में डालें।
  • अब छलनी में ब्लैंड की गई गाजर को हाथ से दबाएं और गाजर का जूस गिलास में निकलने दें।
  • सारा जूस निकालने के बाद आप इसमें स्वाद के अनुसार चीनी या शहद में से कुछ भी डाल सकते हैं। या फिर बिना मीठा डाले भी गाजर का जूस पी सकते हैं।

3) गाजर का हलवा (Gajar Ka Halwa)

 

हर भारतीय घर में गाजर का हलवा बनाने की विधि अलग- अलग होती है। कोई गाजर का हलवा बनाते समय दूध पहले डालते हैं, गाजर (Carrot) खाने से कोई बाद में डालते हैं आदि। गाजर का हलवा जल्दी से बनाने के लिए आप यह रेसिपी फोलो कर सकते हैं।

 

गाजर का हलवा बनाने की विधि

  • गाजर का हलवा बनाने के लिए सबसे पहले लाल गाजर अच्छे से धो लें और फिर इनका छिलका उतार लें।
  • छिलका उतारने के बाद गाजर कस लें।
  • अब कढ़ाई में सबसे पहले कसी हुई गाजर डालें। अब थोड़ी देर इन्हें पकने दें।
  • अब चीनी डालें और पकने दें।
  • चीनी डालने के बाद दूध डालें और अच्छे से पकने दें। गाजर का हलवा गाढ़ा होने दें।
  • अब इसमें आप अपनी पसंद के ड्राई फ्रूट्स डालें और साथ ही खुशबू और स्वाद के लिए इलायची भी डालें।
  • इसमें आप खोया भी डाल सकते हैं।
  • अब गाजर का हलवा पकने दें। आपका गाजर का हलवा तैयार है।

4) गाजर का अचार (Carrot Pickle)

 

अगर आपको अचार और गाजर दोनों ही पसंद हैं तो क्यों ना गाजर का अचार ही बना लिया जाए। गाजर का अचार बनान बेहद आसान है। इसके लिए आपको गाजर, मसालों की जरुरत है। गाजर का अचार बनाने की विधि नीचे से देख सकते हैं।

 

गाजर का अचार बनाने की विधि

  • सबसे पहले गाजर को छोटे और लंबे आकार में काट लें।
  • अब एक पतीले में सारी गाजर डाल लें और अब सही मात्रा मसाले डालें।
  • मसालों में नमक, लाल मिर्च, हल्दी, राई, गर्म किया हुआ सरसों का तेल डालें।
  • अब सभी को अच्छे से मिक्स कर लें।
  • अच्छे से मिक्स होने के बाद इसे कांच के डिब्बे में रख दें।
  • दिन में एक- दो बार अचार के डब्बे को हिलाएं और धूप में 30 से 45 मिनट के लिए भी रखें।
  • 3 से 4 दिन में आपका गाजर का अचार तैयार हो जाएगा।

 

5) गाजर का रायता (Gajar Ka Raita)

 

अगर आपको बूंदी के रायता के अलावा कोई और रायता ट्राई करना है तो गाजर का रायता बना सकते हैं। गाजर का रायता बनाने की विधि सामान्य रायता बनाने जैसी है।

 

गाजर का रायता बनाने की विधि

  • गाजर का रायता बनाने के लिए सबसे पहले गाजर कस लें।
  • अब एक बर्तन में दही लें और दही को अच्छे से फैंट लें या फिर ब्लैंडर में थोड़ा ब्लैंड कर लें।
  • अब फैंटी हुई दही में भुना हुई जीरा पीसकर, काली मिर्च, लाल मिर्च और नमक डालें।
  • रायते के लिए दही तैयार है।
  • रायते में दही डालने के लिए आप कसी हुई गाजर डायरेक्ट रायते की दही में डाल सकते हैं। या फिर कढ़ाई में 2-4 मिनट गाजर पकाकर भी डाल सकते हैं।
  • अब गाजर दही में डालें और अच्छे से मिक्स करें।
  • आपका स्वादिष्ट गाजर का हलवा तैयार है।

 

गाजर से क्या हानि है ? (What is the harm from carrots)

 

ऐसे तो गाजर के फायदे बहुत हैं, लेकिन कई बार यह नुकसानदायक भी हो सकती है। नीचे जानिए गाजर के नुकसान

  • गाजर के जूस को अगर सही तरीके से प्रिजर्व न किया जाए, तो उसमें बैक्टीरिया पनप सकते हैं, जिससे उल्टी, पेट दर्द, सांस लेने में तकलीफ और कई गंभीर समस्या हो सकती है। इसे बॉटूलिस्म के नाम से जाना जाता है।
  • गाजर पोलेन एलर्जी का कारण भी बन सकती है, जिसमें छींक आना, बंद नाक, बहती नाक, आंखों का लाल होना या गले, नाक और आंखों में खुजली जैसी समस्या हो सकती है।

अब तो आप यह अच्छी तरह समझ गए होंगे कि गाजर खाने से क्या लाभ होता है। इस लेख में हमने आपको गाजर के फायदे और नुकसान के बारे में विस्तार से बताया है, जिससे आप यह समझ सकते हैं कि यह आपके लिए उपयोगी है या नहीं। अगर है, तो आज से ही इसे अपने दैनिक आहार में स्थान दें और गाजर के लाभ उठाएं। ध्यान रखें कि गाजर के नियमित सेवन के दौरान अगर लेख में बताए गए दुष्प्रभाव नजर आते हैं, तो तुरंत इसका सेवन बंद करें और डॉक्टर से संपर्क करें। हम उम्मीद करते हैं कि गाजर के फायदे और नुकसान वाला यह लेख आपके लिए लाभदायक रहा होगा।

 

FAQs- गाजर (carrots) के बारे में अक्सर पूछे जाने सवाल जवाब :-

 

  1. रोजाना गाजर खाने से क्या होता है? (What happens if you eat carrots everyday?)

    सही मात्रा में रोजाना गाजर खाने के फायदे (gajar khane ke fayde) कई सारे हैं जैसे कि सेहतमंद दिल, स्वस्थ पाचन शक्ति, मजबूत बाल, हड्डियां, निखरती त्वचा आदि। अधिक मात्रा में गाजर का सेवन करने से शरीर में बीटा- कैरोटीन की मात्रा बढ़ जाती है जिससे ब्लड कैरोटीन ज्यादा हो जाता है जिससे त्वचा का रंग बदल सकता है।

  2. क्या कच्ची गाजर खाना सेहतमंद है? (Is it good to eat raw carrot?)

    गाजर का सेवन कच्चा या फिर पकाकर खा सकते हैं। लेकिन गाजर का सेवन पकाकर खाना ज्यादा अच्छा ऑप्शन है। गाजर में ऐसे कई सारे पोष्टिक तत्व होते हैं जो पकने के बाद ज्यादा फायदेमंद होते हैं जैसे कि बीटा- कैरोटीन।

  3. क्या गाजर खाने से वजन कम हो सकता है? (Can carrots helps you loose weight?)

    गाजर खाने के फायदे (gajar khane ke fayde) वजन कम करने के लिए भी जाने जाते हैं। आपको बता दें कि गाजर में कैलोरी की मात्रा कम होती है जो वजन कम करने में मदद होती है। इसलिए सही मात्रा में गाजर का सेवन किया जा सकता है।

  4. एक दिन में कितनी मात्रा में गाजर का सेवन करना सही है? (How many carrots is too many?)

    कोलंबिया विश्वविद्यालय स्वास्थ्य ब्लॉग के अनुसार एक दिन में तीन बड़ी गाजर का सेवन कर सही है। अधिक मात्रा में गाजर खाने से गाजर के नुकसान हो सकते हैं।

  5. गाजर खाने के नुकसान क्या हैं? (What are the side effects of carrot?)

    अधिक मात्रा में ही गाजर का सेवन करने से नुकसान हो सकते हैं। गाजर में चीनी ज्यादा होती है इसलिए डायबिटीज में गाजर खाने से पहले डॉक्टर से सलाह लें, बीटा कैरोटीन का लेवल बढ़ सकता है जिससे त्वचा का रंग बदल सकता है, कभी- कभी गाजर से एलर्जी भी हो सकती है।

 

 

 

 

Conclusion

 

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख दोस्तों गाजर (Carrot) खाने से होने वाले लाभ, उपयोग और हानि क्या है? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.
यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!