लहसुन से लाभ-हानि व उपयोग कैसे किया जाता है? जानकारी

दोस्तों लहसुन से लाभ-हानि व उपयोग कैसे किया जाता है? जानकारी :- लहसुन (Garlic) का सेवन सेहत को काफी फायदा पहुंचाता है। क्योंकि लहसुन औषधीय गुणों से भरपूर होता है, लेकिन ज्यादातर लहसुन का सेवन सुबह खाली पेट करते हैं, पर क्या आप जानते हैं लहसुन का सेवन रात में भी फायदेमंद साबित होता है। जी हां अगर आप रात को सोने से पहले कच्चे लहसुन का सेवन करते हैं,

तो इससे स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं से छुटकारा मिलता है। क्योंकि लहसुन में फाइबर, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, फॉस्फोरस, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, जिंक, कॉपर, सेलेनियम, फोलेट, विटामिन बी6, विटामिन ई, विटामिन सी जैसे तत्व पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए उपयोगी साबित होते हैं। तो आइए जानते हैं रात को सोने से पहले कच्चा लहसुन खाने के क्या-क्या फायदे होते हैं।

 

लहसुन से लाभ-हानि व उपयोग कैसे किया जाता है? जानकारी
TEJWIKI.IN

 

Contents

लहसुन से क्या लाभ होता है ? (What is the benefit of garlic)

 

1. लहसुन के औषधीय गुण (Medicinal properties of garlic)

 

लहसुन को एलियम (प्याज) वर्ग  का पौधा माना जाता है। इसे आप प्याज का करीबी रिश्तेदार भी कहा जा सकता है। लहसुन की हर गांठ में 10 से 20 कलियां होती हैं। लहसुन, भारत समेत दुनिया के कई हिस्सों में उगाया जाता है। लहसुन को तेज गंध और बेमिसाल टेस्ट की वजह से दुनिया भर में कुकिंग में इस्तेमाल किया जाता है।

हालांकि प्राचीन इतिहास में लहसुन सिर्फ दवाइयां बनाने के काम में ही आता था । लहसुन के इन्हीं गुणों के कारण दुनिया भर की कई सभ्यताओं में इसकी काफी मांग थी। मिस्र, बेबीलोन, ग्रीक, रोमन और चीन की सभ्यताओं ने लहसुन के फायदों पर ग्रंथ भी लिखे थे ।

आधुनिक वैज्ञानिक अब ये जानते हैं कि लहसुन हेल्थ के लिए फायदेमंद क्यों है?

रिसर्च के अनुसार, जब लहसुन को काटा, दबाया या चबाया जाता है तो उसमें मौजूद सल्फर प्रतिक्रिया करता है और यौगिक/कंपाउंड बनाता है।  लहसुन से बनने वाले कंपाउंड में सबसे मशहूर एलिसिन (Allicin) को माना जाता है। हालांकि, एलिसिन अस्थिर कंपाउंड है जो सिर्फ ताजे कटे लहसुन में पाया जाता है ।

जो अन्य कंपाउंड लहसुन को हेल्थ के लिए फायदेमंद बनाते हैं उनमें डिलाइल डिसल्फाइड (Diallyl Disulfide) और एस-एलिल सिस्टीन (S-Allyl Cysteine) शामिल हैं । लहसुन के कंपाउंड हमारे शरीर में खाना पचाते वक्त घुल जाते हैं, वहीं से इसके लाभ हमारे पूरे शरीर में फैल जाते है।

लहसुन, प्यार वर्ग का पौधा है। जिसे इसके अनोखे स्वाद और हेल्थ के लिए फायदेमंद होने के कारण उगाया जाता है। लहसुन में सल्फर काफी मात्रा में पाया जाता है। होम्योपैथी के साइंस के मुताबिक, सल्फर स्किन के रोगों और खून पतला रखने में मदद करता है।

 

 

2. पोषण में ज्यादा लेकिन कैलोरी में कम (High in nutrition but low in calories)

 

लहसुन बेहद पौष्टिक होता है फिर भी इसमें कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है।

सिर्फ 1 ounce यानी (28-gram) लहसुन में रोज़ की जरूरत का :

  • मैंग्नीज (Manganese): 23%
  • विटामिन बी-6 (Vitamin B6): 17%
  • विटामिन सी(Vitamin C): 15%
  • सेलेनियम (Selenium): 6%
  • फाइबर/रेशा (Fiber): 0.6

पाया जाता है।

इसके अलावा लहसुन से पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम, कॉपर, पोटेशियम, फॉस्फोरस, आयरन और विटामिन बी1 भी मिलता है। लहसुन से थोड़ी मात्रा में कई अन्य पोषक तत्व भी होते हैं। यानी, कुल मिलाकर जितने भी पोषक तत्व हमारे शरीर को चाहिए वह सभी लहसुन में मौजूद होते हैं। सिर्फ 28 ग्राम लहसुन का सेवन करने से हमें 42 कैलोरी, 1.8 gram प्रोटीन और 9 gram कार्ब्स मिलता है।

लहसुन में कैलोरी थोड़ी मात्रा में पाई जाती है। जबकि विटामिन सी, विटामिन बी6 और मैंगनीज अच्छी खासी मात्रा में पाया जाता है। इसमें थोड़ी मात्रा में अन्य पोषक पदार्थ भी पाए जाते हैं।

 

3. जुखाम-बुखार से बचाता है लहसुन (Garlic protects against cold and fever)

 

लहसुन से बनने वाले सप्लीमेंट हमारे इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाते हैं।

12 हफ्ते तक चली एक स्टडी में पाया गया कि रोज लहसुन का सेवन करने वालों को सर्दी-जुकाम कम होता है। ऐसे लोग विक्स जैसी प्लेसबो (placebo) दवाओं को खाने वालों से 63% तक कम बीमार पड़ते हैं ।

स्टडी मेें सामने आया कि रोज लहसुन खाने वालों का सर्दी-जुकाम सिर्फ 1.5 दिन में ही ठीक हो गया। जबकि प्लेसबो दवाओं को खाने वालों को ठीक होने में 5 दिन तक लग गए।

वहीं एक अन्य स्टडी में पाया गया कि लहसुन के पुराने सत की हाई डोज (2.56 grams) रोज लेने से जुखाम-बुखार से आप जल्दी ठीक होते हैं। यानी लहसुन न खाने वाले 61% ज्यादा दिन बीमार रहते हैं ।

हालांकि, एक रिव्यू में ये भी कहा गया है कि ये प्रमाण काफी नहीं हैं और इस मामले में अधिक रिसर्च की जरूरत है ।

वैसे बता दें कि लहसुन के पक्ष में मजबूत सबूत न होने के बावजूद, अगर आप अपने रोज के भोजन में लहसुन को शामिल करते हैं तो आप ठंड से खुद का ज्यादा अच्छी तरह बचाव कर सकते हैं।

लहसुन के पोषक तत्व साधारण बीमारियों जैसे सर्दी-जुखाम और बुखार का खतरा कम करते हैं और हमें इनसे बचाने में मदद करते हैं।

 

4. ब्लड प्रेशर में फायदेमंद है लहसुन (Garlic is beneficial in blood pressure)

 

दिल की बीमारियां जैसे हार्ट अटैक और स्ट्रोक दुनिया में सबसे ज्यादा लोगों की जान लेती हैं। हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन, इन बीमारियों के होने की मुख्य वजहों में से एक हैं।

मानवों पर किए गए अध्ययन में ये बात सामने आई है कि लहसुन के पोषक तत्व हमारे शरीर में ब्लड प्रेशर घटाने में मदद करते हैं। लहसुन से लाभ-हानि लहसुन हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए रामबाण औषधि की तरह काम करता है। एक अन्य स्टडी में पाया गया, 600-1, 500 mg लहसुन का पुराना सत 24 हफ्तों तक लेने वाले बल्ड प्रेशर के मरीजों को काफी फायदा हुआ।

इस स्टडी के अनुसार, लहसुन के सत और मशहूर दवाई एटेनेलोल (Atenolol) का असर इस अवधि में मरीजों पर एक जैसा हुआ । कई बार मरीजों को जल्दी लाभ के लिए दवाइयों की हाई डोज़ भी दी गई। जबकि वैसे ही फायदे रोज लहसुन की चार कलियां खाने वाले मरीजों में भी देखे गए।

लहसुन की हाई डोज खाने से हाइपरटेंशन और हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों की सेहत में सुधार आता है। कुछ मामलों में, इसे मरीजों पर दवाओं जैसा ही कारगर पाया गया।

 

5. कॉलेस्ट्रॉल घटाए, हार्ट अटैक से बचाए (Reduce cholesterol, prevent heart attack)

 

लहसुन खाने से आपके शरीर में कॉलेस्ट्रॉल लेवल को सुधारता है, जिससे दिल की बीमारियों का खतरा घट जाता है। इससे शरीर में कुल और एलडीएल कॉलेस्ट्रॉल (LDL cholesterol) के स्तर में भी कमी आती है। हाई कॉलेस्ट्रॉल के मरीजों को लहसुन बहुत फायदा पहुंचाता है।

रिसर्च में लहसुन के नियमित सेवन से एलडीएल कॉलेस्ट्रॉल के लेवल में 10-15% की कमी देखी गई है । लहसुन से लाभ-हानि शरीर में आमतौर पर एलडीएल कॉलेस्ट्रॉल को बुरे जबकि एचडीएल कॉलेस्ट्रॉल को अच्छे कॉलेस्ट्रॉल माना जाता है।

रिसर्च में पाया गया कि लहसुन खाने से एलडीएल कॉलेस्ट्रॉल में कमी आती है लेकिन इसका एचडीएल कॉलेस्ट्रॉल पर कोई सकारात्मक प्रभाव नहीं देखा गया है ।

दिल की बीमारियों में हाई ट्राईग्लिसराइड लेवल को अन्य खतरनाक फैक्टर माना जाता है। लेकिन लहसुन का ट्राईग्लिसराइड लेवल पर भी कोई खास असर नहीं देखा गया है।

 

रिसर्च के दौरान, लहसुन के सेवन से कुल और एलडीएल कॉलेस्ट्रॉल में गिरावट देखी गई है। खासतौर उन्हें ज्यादा फायदे हुए हैं जो हाई कॉलेस्ट्रॉल के शिकार थे। लेकिन इसके सेवन का एचडीएल कॉलेस्ट्रॉल और ट्राईग्लिसराइड्स पर कोई विशेष प्रभाव नहीं पाया गया है।

 

6. अल्जाइमर और डिमेंशिया से बचाता है लहसुन (Garlic protects against Alzheimer’s and dementia)

 

अल्जाइमर (Alzheimer) और डिमेंशिया (Dementia) दिमाग से संबंधित बीमारियां हैं। लहसुन में ऐसे एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो इन बीमारियों में फायदा पहुंचाते हैं। हमारे शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्स हमें ऑक्सीडेटिव डैमेज पहुंचाते हैं जिसकी वजह से स्किन पर बढ़ती उम्र का प्रभाव दिखने लगता है।

लहसुन में काफी मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। ये एंटी ऑक्सीडेंट शरीर की रक्षा प्रणाली को ऑक्सीडेटिव डैमेज से बचाते हैं । लहसुन से लाभ-हानि लहसुन के अधिक सेवन से मनुष्यों में एंटी ऑक्सीडेंट एंजाइम में बढ़ोत्तरी देखी गई है। इसके अलावा हाई ब्लड प्रेशर से होने वाले ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को भी कम करने में मदद मिलती है ।

लहसुन के सेवन से कॉलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर में एक साथ कमी आती है। इसके अलावा शरीर में एंटी ऑक्सीडेंट की भी मात्रा में सुधार आता है। इन सभी के संयुक्त प्रभाव से दिमाग की बीमारियों जैसे अल्जाइमर और डिमेंशिया से बचने में मदद मिलती है ।

इसके अलावा, लहसुन में रक्त को पतला करने के गुण पाए जाते हैं। खून पतला करने के इन्हीं गुणों के कारण ये मानसिक रोगों के उपचार में भी मदद कर सकता है।

खून पतला होने के कारण आसानी से धमनियों में दौड़ पाता है। दिमाग में ज्यादा रक्त पहुंचने से ऑक्सीजन की ज्यादा मात्रा दिमाग तक पहुंच पाती है। शायद यही कारण है कि, मेंटल हेल्थ को बेहतर बनाने में लहसुन का अहम योगदान है।

लहसुन में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो हमें बुढ़ापे और हमारी कोशिकाओं को नष्ट होने से बचाते हैं। इसके सेवन से अल्जाइमर और डिमेंशिया के खतरे से भी बचाव होता है।

 

7. उम्र बढ़ाता है लहसुन (Garlic prolongs life)

 

मनुष्यों की उम्र बढ़ाने के बारे में लहसुन के प्रभावों को साबित करना लगभग असंभव जैसा ही है। लेकिन जिंदगी पर खतरनाक असर डालने वाले तथ्यों जैसे ब्‍लड प्रेशर में जरूर लहसुन फायदा पहुंचाता है।

इससे कहा जा सकता है कि लहसुन आपकी लंबा जीवन जीने में मदद करता है। तथ्य ये भी है कि लहसुन संक्रामक बीमारियों में भी फायदा पहुंचाता है। इन बीमारियों और कमजोर इम्यून सिस्टम के कारण भी हर साल हजारों लोगों की मौत होती है।

संक्रामक बीमारियों में लहसुन बेहद कारगर तरीके से काम करता है। इससे ये कहा जा सकता है कि लहसुन आपकी उम्र बढ़ाने में मदद करता है।

 

8. एथलीट के लिए वरदान है लहसुन (Garlic is a boon for athletes)

 

लहसुन को कई पुरानी सभ्यताओं में परफॉरमेंस बढ़ाने से जोड़कर देखा जाता था।  रोमन सभ्यता में ग्लैडिएटर्स की थकान कम करने या फिर मजदूरों की काम करने की क्षमता को बढ़ाने के लिए उन्हें लहसुन खिलाया जाता था।

खासतौर पर, प्राचीन यूनान में ओलंपिक में खेलने वाले एथलीट को लहसुन खिलाया जाता था। लहसुन से लाभ-हानि दंत कथाओं से हमें पता चलता है कि लहसुन एक्सरसाइज के दौरान हमारी परफॉरमेंस को बढ़ा सकता है। लेकिन इस बारे में बहुत कम स्टडी की गई है।

लेकिन स्टडी में पाया गया कि दिल के जिन मरीजों ने 6 हफ्ते तक लहसुन के तेल का सेवन किया था। उनकी दिल की गति में 12% की कमी दर्ज की गई और उनकी एक्सरसाइज करने की क्षमता में भी बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है

हालांकि, एक प्रतियोगिता में शामिल नौ साइकिल चलाने वालों पर किए गए अध्ययन में लहसुन का परफॉरमेंस पर कोई पॉजिटिव असर नहीं पाया गया । वहीं एक अन्य स्टडी में पाया गया कि व्यायाम से होने वाली थकान को लहसुन के सेवन से मिटाया जा सकता है।

लैब में जानवरों और दिल के मरीजों को लहसुन खिलाने से उनकी शारीरिक परफॉरमेंस में सुधार देखा गया। हालांकि स्वस्थ लोगों पर उसका प्रभाव के बारे में स्टडी किसी अंतिम नतीजे पर नहीं पहुंची है।

 

9. भारी धातुओं को शरीर से निकाले लहसुन (Garlic removes heavy metals from the body)

 

लहसुन के अधिक सेवन से, उसमें मौजूद गंधक/सल्फर हमारे अंगों को हैवी मैटल/भारी धातुओं के जहर से बचाने में मदद करता है। लहसुन से लाभ-हानि इस बारे में एक कार बैटरी प्लांट में चार हफ्ते तक स्टडी की गई थी। यहां पर काम करने वाले मजदूर दिन भर लेड के संपर्क में रहते थे।

रिसर्च में पाया गया कि लहसुन के सेवन से उनके खून में लेड के स्तर में 19% की गिरावट दर्ज की गई थी। इससे शरीर में सिरदर्द और ब्लड प्रेशर बढ़ाने वाले लक्षणों में भी गिरावट दर्ज की गई है।

ये भी पाया गया कि इन लक्षणों के उपचार के लिए अगर दिन में तीन बार लहसुन का सेवन किया जाए तो ये दवा डी-पेनिसिलामाइन (D-penicillamine) से भी बेहतर काम करती है।

 

एक अध्ययन में पाया गया है कि लहसुन हमारे शरीर से लेड का जहर और उससे होने वाली समस्याओं से निपटने में बेहद कारगर है।

 

10. हड्डियों की सेहत सुधारता है लहसुन (Garlic improves bone health)

 

मानवों पर किए गए किसी भी आधुनिक अध्ययन में हड्डियों की​​ घिसावट रोकने में लहसुन के प्रभाव को मापा नहीं जा सका है। लेकिन, प्राचीन अध्ययन से हमें पता चलता है कि लहसुन खाने से महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ती है जिससे हड्डियों की घिसावट में कमी आती है।

वहीं मीनोपॉज के बाद महिलाओं पर किए अध्ययन में पता चला कि लहसुन के सूखे पाउडर (2 ग्राम रोज) के रोज सेवन से उनमें एस्ट्रोजेन की कमी काफी हद तक दूर हो गई। इससे पता चलता है कि लहसुन महिलाओं और पुरुषों में हड्डियों की सेहत सुधारने में बेहद कारगर साबित हुआ है।

लहसुन और प्याज को रोज अपने भोजन का हिस्सा बनाने से हमें ऑस्टियोआर्थराइटिस में भी फायदा पहुंचता है।

 

स्टडी में पाया गया है कि लहसुन के सेवन से महिलाओं में एस्ट्रोजेन का लेवल सुधरता है। इससे हड्डियों की सेहत में भी सुधार देखा गया है। लेकिन इस पर और ज्यादा अध्ययन की जरूरत है।

 

 

11. लहसुन को बनाएं अपने भोजन का हिस्सा (Make garlic a part of your diet)

 

ये प्वाइंट लहसुन के हमारी हेल्थ पर असर के बारे में नहीं हैं, लेकिन इसके बावजूद महत्वपूर्ण है। लहसुन को अपने रोजमर्रा के भोजन में शामिल करना बेहद आसान है। लहसुन बहुत सारे स्वादिष्ट पकवानों, खासतौर पर सूप और सॉस में डाला जाता है। लहसुन का तीखा स्वाद सब्जियों में घुलकर जबरदस्त पंच देता है।

लहसुन का सेवन कई तरीके से किया जा सकता है। आप उसे साबुत निगल सकते हैं या फिर पाउडर, उसका सत और तेल निकालकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। हालांकि, ये बार भी ध्यान में रखनी चाहिए कि लहसुन के सेवन के कुछ निगेटिव पहलू भी हैं।

अधिक लहसुन खाने से आपके मुंह से बदबू आ सकती है। इसके अलावा कुछ लोगों को इससे एलर्जी भी होती है। अगर आपको खून से जुड़ी बीमारियां हैं या फिर आप खून को पतला करने की दवाएं ले रहे हों, तो लहसुन का सेवन बढ़ाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

वैसे आप लहसुन को सब्जी में डालकर खा सकते हैं। लहसुन की चटनी या अचार बना सकते हैं। लहसुन का हलवा बना सकते हैं या फिर उसे भूनकर या फिर साबुत भी खा सकते हैं।

लहसुन खाने में स्वादिष्ट है और इसे अपने भोजन में शामिल करना भी आसान है। इसे आप कई पकवानों, सब्जियों, सूप, सॉस, ड्रेसिंग, चटनी और हलवा बनाकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यानी हजारों सालों से ये लहसुन के औषधीय गुणों पर रिसर्च की जा रही थी। लेकिन अब विज्ञान ने भी उसे मान्यता दे दी है।

 

लहसुन के प्रकार (Types of garlic)

 

अगर आपको सिर्फ एक सामान्य लहसुन के प्रकार के बारे में पता है तो आपको बता दें कि लहसुन के प्रकार दो होते हैं। लहसुन से लाभ-हानि इसलिए आप लहसुन के सेवन में लहसुन के दो प्रकार शामिल कर सकते हैं।

सामान्य लहसुन- सामान्य लहसुन वही है जो अकसर आपकी किचन में सफेद रंग का मिलता है। यह वही लहसुन है जिसके बिना तड़का अधूरा सा लगता है।

कश्मीरी लहसुन- इस लहसुन के प्रकार का ज़िक्र बहुत कम होता है क्योंकि कश्मीरी लहसुन हिमालय से सटी जगहों पर उगाया जाता है।

 

लहसुन खाने के तरीके (Ways to eat garlic)

 

लहसुन के फायदे लेने के लिए यह जानना जरुरी है कि लहसुन कैसे खाना चाहिए। लहसुन का स्वाद तीखा होता है और गलत तरीके से लहसुन का सेवन करने से आपका अनुभव खराब हो सकता है। लहसुन का नियमित सेवन करना जरुरी है क्योंकि तभी आपको फायदे मिलेंगे। इसलिए लहसुन का कैसे सेवन करें से जुड़ी जानकारी होनी जरुरी है। कहा जाता है कि लहसुन की कलियां कच्ची और साबूत लहसुन खाने से ज्यादा फायदे मिलते हैं। लहसुन के सेवन और लहसुन की कली के सेवन से जुड़ी जानकारी आप नीचे से ले सकते हैं।

  • रोज सुबह खाली पेट लहसुन को शामिल कर सकते हैं। कच्चे लहसुन के सेवन से पेट की तकलीफ दूर रहने में मदद मिलती है। 2-3 लहसुन की कलियां सुबह खा सकते हैं। अगर आप लहसुन खा रहे तो यह ध्यान में रखें कि ताज़े लहसुन का सेवन करें।
  • लहसुन की कलियां अधिकतर सभी सब्जियों में तड़के में इस्तेमाल किया जाता है। तड़के में ज़्यादा लहसुन का इस्तेमाल ना करें इससे स्वाद बिगढ़ सकता है। अगर आप कच्चा लहसुन नहीं खा सकते हैं तो लहसुन पकाकर खा सकते हैं जिससे इसका तीखा स्वाद थोड़ा कम हो जाता है।
  • सलाद, स्मूदी में भुनकर लहसुन को शामिल कर सकते हैं। या फिर साबूत लहसुन का भी सेवन कर सकते हैं।
  • लहसुन की चाय के रूप में लहसुन को शामिल कर सकते हैं। रोजाना आहार में लहसुन का सेवन करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।
  • सलाद में कच्चे लहसुन की कली या सूखे लहसुन को डालकर खा सकते हैं।
  • अगर आपको कच्चे लहसुन के सेवन करने में परेशानी है तो आप खाने में लहसुन का पेस्ट भी इस्तेमाल कर सकते हैं। लहसुन का पेस्ट बनाने के लिए 2-3 लहसुन की कलियां पीस लें जिसके बाद पेस्ट तैयार है। अगर आपको लहसुन से एलर्जी है तो इसके सेवन से बचें।
  • किसी भी खाने की चीज़ में ज़्यादा लहसुन का सेवन ना करें, ऐसा करने से खाने का स्वाद खराब भी हो सकता है।

लहसुन खाने के तरीके कई सारे हैं लेकिन आपने सबसे ज्यादा यह सुना होगा कि कच्चा लहसुन खाने से सबसे ज्यादा फायदे मिलते हैं। लहसुन से लाभ-हानि यह सही भी बात है कि किसी चीज को जैसी है वो वैसा खाने से ही उसके फायदे असली में मिलते हैं। लहसुन को स्वाद के लिए खाने के तरीके और लहसुन के फायदे लेने के तरीके अलग- अलग होते हैं। और लहसुन के लाभ कच्चा खाने से ज्यादा मिलते हैं इसलिए यहां से आप कच्चा लहसुन खाने के तरीके के बारे में जान सकते हैं।

 

कच्चा लहसुन खाने के तरीके (Ways to eat raw garlic)

 

अगर आपको कोई कच्चा लहसुन खाने की सलाह दे तो आपको सबसे पहले इसका स्वाद याद आएगा क्योंकि कच्चा लहसुन खाने के हिम्मत की जरुरत है। साथ ही यह सवाल भी आएगा कि लहसुन कैसे खाएं? इसका जवाब आपको यही मिल जाएगा क्योंकि हम हम आपके लिए कच्चा लहुसन खाने के कई तरीके लेकर आएं हैं जिनको आप अपना सकते हैं।

अगर आपको कभी लहसुन से एलर्जी के आसार नज़र आएं हैं तो लहसुन के सेवन से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरुर लें।

 

1. लहसुन और गुनगुना पानी

 

रोज सुबह खाली पेट गुनगुने पानी में कच्चा लहसुन के टुकड़े डालकर खाना सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है। लहसुन से लाभ-हानि ऐसा करने से वजन कम करने में भी मदद मिलती है। आपको बता दें कि लहसुन का सेवन सही मात्रा में करने से ही आपको लहसुन के फायदे मिलेंगे।

 

2. लहसुन और शहद

 

लहसुन की 1-2 कली लें और इसके छोटे-छोटे टुकड़े कर लें। लहसुन के टुकड़ो को शहद के ऊपर डालें और इस मिश्रण का सेवन करें। कच्चा लहसुन खाने के कई सारे तरीके हैं लेकिन सबसे आसानी से होने वाला यही तरीका है।

 

3. लहसुन और सैंडविच

 

लहसुन के फायदे लेने के लिए आप अपने सैंडविच में कच्चा लहसुन दबाकर भी खा सकते हैं। इससे आपके सैंडविच को अलग स्वाद भी मिल जाएगा। इसके अलावा ब्रेड पर बटर लागकर और इसके ऊपर लहसुन की छोटे-छोटे डालकर भी सेवन किया जा सकता है।

 

4. लहसुन, नींबू और टमाटर का जूस

 

अगर आपके पास समय है तो आप लहसुन का सेवन जूस के रूप में भी कर सकते हैं। इसमें आपको बस टमाटर, नींबू और कच्चा लहसुन की 1-2 कली को ब्लैंड करना है और आपका जूस तैयार है।

 

5. लहसुन और सलाद

 

अगर आपको अकेले कच्चा लहसुन खाने में दिकक्त है तो आप लहसुन को सलाद के साथ खा सकते हैं। सलाद में कच्चे लहसुन के छोटे-छोटे टुकड़े डालें। ऐसा करने से आपको सिर्फ कच्चे लहसुन का स्वाद नहीं आएगा।

 

कच्चे लहसुन की बदबू कैसे कम करें (How to reduce the smell of raw garlic)

 

लहसुन के फायदे कई सारे हैं जैसे कि सेहत, त्वचा, बाल आदि। और अब आपको यह भी पता चल गया है कि कच्चा लहसुन खाने के सबसे ज्यादा फायदे होते हैं। लहसुन से लाभ-हानि इसके बाद आप यह सोच रहे होंगे कि कच्चा लहसुन खाने से आपकी सांस में जो महक हो जाएगी उसको आप कैसे दूर करेंगे। अगर आप कहीं बाहर जा रहे हैं तो यह एक समस्या हो सकता है।

 

1. सेब के साथ खाएं

 

अगर आप पूरे दिन में कभी भी सेब खाते हैं तो इसके साथ कच्चा लहसुन खा सकते हैं। आपको बता दें कि सेब के साथ कच्चा लहसुन खाने से महक कम हो जाती है, इससे आ पको सेब के साथ लहसुन के फायदे भी मिल जाते हैं।

 

2. सेब का सिरका और पानी में मिक्स करें

 

अगर कच्चे लहसुन को आप सेब का सिरका और पानी में मिक्स कर खाएंगे तो आपके मुंह से लहसुन की महक आएगी। लेकिन आपको बता दें कि कच्चे लहसुन का सेवन 1-2 कली से ज्यादा ना करें, ज्यादा मात्रा में कच्चे लहसुन का सेवन करने से मुंह में बदबू ज्यादा आ सकती है।

 

3. शहद और पानी के साथ मिलाएं

 

शहद और गुनगुने पानी के साथ कच्चे लहसुन का सेवन करने से लहसुन के फायदे बहुत आम हैं। इस तरह से कच्चे लहसुन का सेवन करने से आपको इसका तीखा स्वाद कम आने के साथ-साथ इसकी बदबू भी कम आती है।

 

 

लहसुन के बारे में कुछ रोचक तथ्य (Some interesting facts about garlic)

 

लहसुन के बारे में कई ऐसे रोचक तथ्य हैं, जिनकी जानकारी लोगों को बिल्कुल भी नहीं है। ऐसे लहसुन से जुड़े कुछ रोचक तथ्य नीचे पढ़िए।

  • माना जाता है कि दुनियाभर में लहसुन की 300 से भी ज्यादा प्रकार हैं ।
  • 19 अप्रैल को राष्ट्रीय लहसुन दिवस मनाया जाता है।
  • पहले और दूसरे विश्व युद्ध में लहसुन को एंटीसेप्टिक की तरह घाव के संक्रमण के लिए उपयोग किया गया था।
  • लहसुन को सिरका और नींबू के रस के साथ मिलाकर डिसइनफेक्टेंट की तरह उपयोग किया जा सकता है।
  • कुछ लोग हैं, जो वास्तव में लहसुन से डरते हैं। यह एक फोबिया है और इसे नाम भी दिया गया है ‘एलियमफोबिया’ (Alliumphobia)।
  • कुत्ते और बिल्लियों को लहसुन से दूर रखना चाहिए,लहसुन से लाभ-हानि क्योंकि यह उनके लिए जहरीला हो सकता है।
  • प्राचीन ग्रीस में शादी समारोह में लहसुन और अन्य जड़ी बूटियों से बने गुलदस्ते दिए जाते थे।
  • माना जाता है कि ग्रीक और रोमन के सैनिक युद्ध से पहले लहसुन का सेवन किया करते थे।

 

 

लहसुन से हानि (Harm from garlic)

 

जब तक आपको लहसुन से एलर्जी नहीं है तब तक आपको लहसुन से परहेज़ नहीं रखने चाहिए। लेकिन जिस चीज़ के फायदे होते हैं उसको साथ ही नुकसान भी होते हैं। लहसुन के नुकसान से जुड़ी जानकारी आप नीचे से जान सकते हैं।

  • कच्चे लहसुन के सेवन से गैस, उलटी और पेट खराब होने की परेशानी हो सकती है। अगर आपको पहले से ही पेट से जुड़ी दिक्कतें हैं तो लहसुन से परहेज़ करें या फिर लहसुन के सेवन पर खास ध्यान दें।
  • ज़्यादा लहसुन खाने से ही लहसुन के नुकसान होते हैं। लहसुन से लाभ-हानि जैसे कि अधिक मात्रा में लहसुन के सेवन से मुंह में बदबू लंबे समय के लिए रह सकती है।
  • अगर आप सर्जरी करवाने वाले हैं तो लहसुन से परहेज़ रखें।
  • अगर आपको एसिडिटी की परेशानी हो लहसुन के सेवन से बचें क्योंकि इससे एसिडिटी बढ़ सकती है।
  • अगर आपका ब्लड प्रेशर अकसर लो रहता है तो लहसुन से परहेज़ रखें क्योंकि इससे ब्लड प्रेशर सामान्य से और भी कम हो सकता है।

 

 

 

 

 

Conclusion

 

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख दोस्तों लहसुन से लाभ-हानि व उपयोग कैसे किया जाता है? जानकारी  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.
यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!