हनुमान जी की रहस्यमयी मंदिर : CG जहां हनुमान जी को पूजते हैं स्त्री रूप में

 

हनुमान जी की रहस्यमयी मंदिर : CG जहां हनुमान जी को पूजते हैं स्त्री रूप में

जय श्री राम दोस्तों आज हम बात करेंगे हनुमान जी की रहस्यमयी मंदिर : CG जहां हनुमान जी को पूजते हैं स्त्री रूप में: छत्तीसगढ़ का एक ऐसा मंदिर जहां हनुमान जी को पूजते हैं स्त्री रूप में, जी हां दोस्तों आप सभी ने तो भारत में हनुमान जी के कई प्रसिद्ध मंदिर देखे ही होंगे | लेकिन आज हम आपको एक अनोखे मंदिर के बारे में जानकारी दे रहे हैं। आप सभी जानते है की हनुमान जी बाल ब्रह्मचारी हैं।

लेकिन छत्तीसगढ़ के इस मंदिर में हनुमान जी की पूजा एक स्त्री के रूप में होती है। यह मंदिर छत्तीसगढ़ के बिलासपुर शहर से लगभग 25 किलोमीटर दूर रतनपुर में स्थित है। इस मंदिर में हनुमान जी को पुरुष नहीं बल्कि स्त्री के रूप में पूजा जाता है। लेकिन आज हम हनुमान जी की ऐसे मंदिर का दर्शन कराएंगे जिसे देखकर आप हैरान हो जाएंगे. क्योंकि पहली बार आपको नारी रूप में बजरंग के दर्शन होंगे. आखिर ब्रह्मचारी बजरंग बली का नारी स्वरूप मूर्ति क्यों बनाई गई है? इसके पीछे क्या पौराणिक कथा है ये भी आपको आज बताते हैं.

 

हनुमान जी की रहस्यमयी मंदिर : CG जहां हनुमान जी को पूजते हैं स्त्री रूप में
TEJWIKI.IN

 

Hanuman Ji Ke Rahasyamayi Mandir ki puri kahani

दोस्तों यह पूरी दुनिया में मौजूद इकलौता मंदिर है जहां आप को भगवन हनुमान जी की पूजा एक स्त्री के रूप में देखने को मिलेगी रतनपुर के गिरजाबांध में मौजूद है इस मंदिर में “देवी” हनुमान जी की मूर्ति | इस मंदिर के प्रति लोगो में काफी आस्था है | यह ऐसा माना जाता है की जो भी यहाँ पूजा अर्चना करता है उसकी मनोकामना पूरी होती है | दोस्तों आप सभी के मन में प्रश्न होंगे की ब्रह्मचारी हनुमान जी आखिर नारी स्वरूप में क्यों है ?

तो चलिए इस रहस्य का पर्दा मंदिर के पुजारियों ने प्राचीन किदवंतियों को आधार बनाते हुए बताया किराम रावण युद्ध के समय जब श्रीराम और लक्ष्मण से रहे थे, तब छल से पटल लोक का नरेश अहिरावण उन्हें उठाकर पाताल लोक ले गया. अहिरावण अपनी कामदा देवी के सामने राम लक्ष्मण का बाली चढ़ाने वाला था. हनुमान जी राम लक्ष्मण को ढूंढते हुए पाताल लोक पहुंचे और कामदा देवी की मूर्ति में प्रवेश कर गए |

जैसे अहि रावण बली चढ़ाने देवी के चरणों में झुका वैसे ही हनुमान जी ने कामदा देवी के स्वरूप में आविरावण को अपने बाएं पैर से दबाकर उसका वध कर दिया. इसके बाद राम लक्ष्मण को अपने दोनों कंधों में बिठा लिए |

राजा को सपने में मिला बजरंग बली की मूर्ति का पता

दोस्तों कहा जाता है की इस मूर्ति का प्रचलन में आने की कहानी भी अनोखी है | दोस्तों लगभग हजार साल पहले राजा पृथ्वी देव को कोढ़ का बीमारी हो था. कोढ़ की बीमारी से राजा लाचार हो गए थे. इसके बाद उन्हें एक रात स्वप्न आया जिसमे हनुमान जी की मूर्ति तालाब में होने की जानकारी लगी है.

इसके बाद राजा ने महामाया कुंड में जाकर प्रतिमा की खोज की तो एक नारी स्वरूप में बजरंगबली की मूर्ति मिली. इसके बाद इस मूर्ति की स्थापना गिरजावान में किया गया और मंदिर के पीछे भाग में एक तालाब खुदवाया गया. मान्यता के अनुसार इस तालाब में स्नान करने के बाद लोगों के कोढ़ की बीमारी खत्म होती है |

Hanuman Ji Ke Rahasyamayi Mandir : छत्तीसगढ़ का ऐसा मंदिर जहां हनुमान जी को पूजते हैं स्त्री रूप में

हनुमान जी की बिना पूंछ वाली मूर्ति की अनोखी कहानी

रतनपुर में अर्धनारेश्वर हनुमान जी की आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए रोजाना दूर दूर से श्रद्धालु आते हैं.  यह प्रतिमा लगभग 10,000 साल पुरानी स्वयंभू प्रतिमा है। स्वयंभू का अर्थ होता है, स्वयं प्रकट हुई। हालाँकि हनुमान जी की यह प्रतिमा नारी स्वरूप में क्यों है, इसका कोई प्रमाणिक विवरण उपलब्ध नहीं है।

दोस्तों आपको चंचल चतरू भक्ति की परिभाषा देने वाले हनुमान जी प्रतिमा के बारे में बताते हैं. इस प्रतिमा में बजरंगबली का वेशभूषा देवी जैसे है. एक हाथ में मोदक है. दूसरे में राम मुद्रा अंकित है. कर्ण में भव्य कुंडल है. माथे पर सुंदर मुकुट और माला.

पहली मूर्ति जिसमे हनुमान जी की पूछ नहीं है. मंदिर के पुजारी बताते हैं कि हनुमान जी प्रतिमा में सीधे हाथ की तरफ पुरुष रूप में है इस लिए पुरुष रूप में पूजा जाता है. लेकिन मूर्ति के बाएं हाथ की तरफ हनुमान जी के गले में देवी की माला, कलाई में देवी का चूड़ा, पैरों में भी चूड़ा है और हनुमान को देवी की मुद्रा में है. इसके अलावा पैरों के नीचे अहिरावण को दबाए रखे हैं और दोनों कंधे में राम और लक्ष्मण को बैठाए हुए हैं.

Also Read :-The Adm Show New Video – मोगरा के मया कहाँ पाबे 2024

लोग ढूंढ रहे हैं –

Conclusion

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको हमारी यह लेख हनुमान जी की रहस्यमयी मंदिर : CG जहां हनुमान जी को पूजते हैं स्त्री रूप में जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

hi.wikipedia.org/wiki

हनुमान जी की रहस्यमयी मंदिर : CG जहां हनुमान जी को पूजते हैं स्त्री रूप में

Join our Telegram Group

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

Leave a Comment