Computer Operator क्या होता है? और (CO) कैसे बने जानकारी

दोस्तों Computer Operator क्या होता है? आज हम जानेंगे दोस्तों यदि आप भी 10th या 12th पास कर चुके और थोड़ा मोड़ा कंप्युटर की ज्ञान रखते है और कंप्युटर ऑपरेटर की जॉब प्राप्त करना चाहते है तो यह पोस्ट पूरा पढे।

आपने कई बार अखवारों और इश्तिहारों में ग्राम पंचायत कंप्यूटर ऑपरेटर भर्ती,Computer Operator is needed या कंप्युटर ऑपरेटर भर्ती इत्यादि जरूर पढ़ा या सुन होगा।

पर क्या आप जानते है यह कंप्युटर ऑपरेटर क्या है और कंप्युटर ऑपरेटर के कार्य क्या होते है यदि नहीं तो आज हम इस पोस्ट में जानेंगे क्यू की बहुतों छात्र है जो की कंप्युटर कोर्स जैसे DCA,ADCA या PGDCA इत्यादि कोर्स करने के बाद कंप्युटर से जुड़े कार्य करना चाहते है।

जिसमें सबसे आसानी से प्राप्त होने वाला जॉब है कंप्युटर ऑपरेटर या DEO जिसका पूरा नाम है Data Entry Operator तो जानते है विस्तार से Computer Operator kya hai और कंप्युटर ऑपरेटर जॉब कैसे पाए।

 

Computer Operator क्या होता है? और (CO) कैसे बने जानकारी
TEJWIKI.IN

 

Computer Operator क्या होता है? (What is Computer Operator)

 

कंप्यूटर ऑपरेट (Computer Operator) एक ऐसा व्यक्ति होता है जो कि कंप्यूटर से जुड़ी हुई सभी छोटी बड़ी कार्य करने में सक्षम होता है। Computer Operator और DEO का कार्य लगभग एक समान ही होता है। वहीं जहां पर DEO का कार्य मुख्य रूप से डेटा एंट्री तक ही सीमित रहता है। वहीं कंप्यूटर ऑपरेटर का कार्य डेटा एंट्री तक सीमित नहीं रहता है, बल्कि वो कम्प्यूटर से जुड़ी सभी कार्य करने में सक्षम होना आवस्यक है।

DEO का Full Form होता है Data Entry Operator. यह भी Computer Operator के तरह ही होता है. या यूँ कहें की दोनों असल में एक ही होते हैं. इन दोनों में ही operator को data computer में input करना होता है.

इसमें उस operator की typing speed और basic computer की knowledge ही उसके ज्यादा काम आती है. चूँकि data की मात्र बहुत होती है इसलिए यदि अच्छी typing speed न हो तब ये काम कर पाना ज्यादा difficult ही जाता है.

 

 

इसके साथ DEO की error rate भी कम होनी चाहिए, नहीं तो इसका impact उसके effciency में पड़ेगा. Official Work अक्सर data entry करना, excel sheet तैयार करना , MS Word में typing करना होता है इसलिए Computer Operator को computers के विषय में या इसके application के इस्तमाल के बारे में थोडा बहुत ज्ञान तो जरुर से होना चाहिए.

जिससे उसे इन applications का इस्तमाल करने में कोई भी तकलीफ न हो. Computer Operator को output devices जैसे की keyboard, mouse, printer का इस्तमाल आना चाहिए क्यूंकि उसे अपने काम के लिए इन्ही का ही इस्तमाल करना होता है.

 

कंप्यूटर ऑपरेटर बनने के लिए क्या Knowledge होना जरुरी होता है?

 

वैसे तो एक कंप्यूटर ऑपरेटर को किसी विषय में ज्यादा knowledge रखने के जरुरी नहीं है. लेकिन फिर भी ऐसे कुछ चीज़ें हैं जिनके विषय में उन्हें कुछ knowledge अवस्य से होनी चाहिए. चलिए इसी के विषय में और कुछ जानते हैं.

 

शैक्षिक योग्यता –

 

यदि में educational qualification की बात करूँ तब +2 pass होना या इंटरमीडीएट होना भी बहुत होता है, वहीँ कुछ जगहों पर graduation (स्ना तक) की demand की जाती है. कुछ जगहों में एक Computer Diploma (6 months की) भी बहुत होती है. असल में ये इस बात पर निर्भर करता है की आप कोन से position के लिए apply कर रहे हो या कोन से विभाग में आपको बाद में काम करना है. क्यूंकि posts और job profile के अनुसार ही educational qualification की demand होती है.

 

Typing Speed –

 

चूँकि एक Operator का मुख्य काम ही होता है data को entry करना इसलिए typing speed का ज्यादा होना एक बहुत ही अहम् कड़ी होती है DEO के चुनाव में. वैसे अगर candidate दोनों English और Hindi में अच्छी type कर लेता है तब उसके selection ही जाने की संभावनाएं ज्यादा होती है।

Typing Speed की बात करूँ तब minimum 35 शब्द प्रति मिनट से ज्यादा हो तब उसे एक अच्छी typing speed मानी जाती है. यदि आपको लगता है की आपकी उतनी speed है तब post के लिए आवेदन कर सकते हैं.

 

भाषा का ज्ञान (language का knowledge होना ) –

 

इस job profile में एक operator को बहुत बार English और hindi दोनों में type करना होता है. ऐसे में अगर operator को यदि भाषा का ज्ञान न हो तब उसे दोनों की typing करने में तकलीफ होगी. कई बार देखकर type करना पड़ता है वहीँ कई बार सुनकर भी type करना पड़ता है तो ऐसे में अगर भाषा का ज्ञान ही न हो तब तो ये operator का काम कर पाना बहुत मुस्किल बात है. इसलिए भाषा पर मजबूती होना अनिवार्य होता है.

 

कंप्यूटर ज्ञान –

 

Data Entry Operator को हमेशा ही Computer में ही काम करना होता है. इसलिए अगर operator का computer के ऊपर कोई भी ज्ञान नहीं है तब उसे यह काम बहुत ही कठिन लगने वाला है. इस काम में typing के साथ साथ Microsoft Word, Microsoft Powerpoint और Microsoft Excel को operate करना आना चाहिए।

इसके अलावा email भेजना जिसे basic technology का इस्तमाल भी आना चाहिए.

 

Computer Operator की चयन प्रक्रिया क्या है? (What is the selection process of Computer Operator)

 

अगर आप सच में Computer Operator बनना चाहते हैं तब आप इसके लिए अच्छे से तैयारी करनी चाहिए, इसके साथ typing का भी ख़ास ध्यान देना चाहिए. एक कंप्यूटर ऑपरेटर की selection procedure में उसे कुछ exams और interview देने होते हैं. ये interview compulsory नहीं होता हैं कुछ जगहों में.

Exams की बात करूँ तब आपको एक Written Test (लिखित परीक्षा) देनी होती है जिसकी एक Cutoff marks होती है और आप आगे के exams देने के लिए उस cut off को पार करना होता है.

वहीँ Written Test के बाद आपकी Typing Speed test भी होती है. यहाँ पर एक candidate की typing के ऊपर ज्यादा ध्यान दिया जाता है. फिर किसी किसी जगहों में Interview भी लिया जाता है जिसमें आपको कुछ basics से technical सवाल और कुछ सामान्य ज्ञान (general knowledge) के बारे में पूछा जाता है।

कम्प्यूटर ऑपरेटर की परीक्षा विभिन्न विभागों द्वारा अलग अलग प्रकार से की जाती है. इसलिए exam की तैयारी करने से पहले ये जानना जरुरी होता है की उसकी Exam Pattern कैसी है.

 

कंप्यूटर ऑपरेटर की आयु सीमा क्या होती है?

 

चलिए एक Computer Operator की आयु सीमा के बारे में जानते हैं.

डाटा इन्ट्री ऑपरेटर (Data Entry Operator) की आयु सीमा – 18 से 28 वर्ष
कम्प्यूटर ऑपरेटर (Computer Operator) की आयु सीमा – 18 से 30 वर्ष

 

कंप्यूटर ऑपरेटर को कितनी Salary (वेतन) मिलती है?

 

कम्प्यूटर ऑपरेटर एवं डाटा इन्ट्री ऑपरेटर की job profile अलग अलग sector में अलग अलग होती है. इन्हें भी different sectors में अलग अलग salary भी दी जाती है. भारत में मुख्य रूप से दो sectors हैं Government Sector और Private Sector. इन दोनों sectors में व्यक्ति की योग्यता, एक्सपीरियेंस और ओर्गेनाईजेशन को consider कर उनकी salary निर्धारित होती है.

गवर्नमेंट सेक्टर में सैलरी – 15,000 से 25,000 के लगभग हर महीने
प्राइवेट सेक्टर में सैलरी – 20,000 से 30,000 के लगभग हर महीने
यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है की ये सैलरी समय के साथ साथ बढ़ती रहती है।

 

Computer Operator का क्या कार्य होता है? (What is the work of Computer Operator)

 

जैसे की ये नाम से पता चलता है इनका मुख्य काम data entry करना होता है. इसके लिए वो Keyboard, Mouse, scanner और Computer Screen का इस्तमाल करते हैं. इसके अलावा उन्हें Microsoft Excel में डाटा भरना होता है, MS Word में document बनाना होता है. साथ ही उन्हें कभी कभी email भी करना होता है. सभी चीज़ों के ऊपर गौर करें तब इनका मुख्य रूप से official काम ही होता है.

मंत्रालय में computer operator की Salary कितनी होती है?
यदि हम एक Computer Operator की salary किसी मंत्रालय में देखें तब हमें ये जानने को मिलेगा की ये करीब Rs.15,000 से Rs.24,000 तक होता है. ये figures post और experience के ऊपर भी निर्भर करता है.

 

 

Computer Operator के कोर्स

 

बहटों के मन में यह सवाल आता है की आखिर कंप्युटर ऑपरेटर बनने के लिए कौन सा कोर्स करें तो जैसा की कंप्युटर ऑपरेटर कंप्युटर से जुड़ा जॉब है कंप्युटर ऑपरेटर बनने के लिए आपके पास किसी खास डिग्री की जरूरत नहीं होती है आप बस 12th पास होने चाहीये।

वही यदि आपको कंप्युटर में जरा स भी ज्ञान नहीं तो इसके लिए आप अलग से किसी भी कंप्युटर कोर्स जैसे DCA,ADCA,COPA,Diploma in computer operation, इत्यादि कर सकते है।

वही यदि आप स्नातक पास कर तो आप आगे PGDCA कोर्स भी कर कसते है।

 

कंप्युटर ऑपरेटर बनने के लिए स्किल (Skills to become a computer operator)

यदि आप एक कंप्युटर ऑपरेटर बनना चाहते है तो इसके लिए आपके अंदर इनमें से कुछ स्किल का होना जरूरी है जैसे

 

  • Data analysis
  • Data processing
  • Problem solving
  • Time management
  • Analytical
  • Typing
  • Accuracy
  • Problem solving skills
  • Communication skills
  • Teamwork
  • Deep learning

FAQ- Computer Operator से जुड़े सवालों के जवाब:-

 

कंप्यूटर ऑपरेटर का वर्क क्या होता है?

एक कंप्युटर ऑपरेटर का वर्क कंप्युटर से जुड़े सभी कार्यों को करना होता है जैसे डाटा एंट्री ,प्रिंट ,स्कैन करना अन्य सॉफ्टवेयर जैसे एक्सेल शीट बनाना इत्यादि करना होता है।

 

कंप्यूटर ऑपरेटर बनने के लिए क्या क्या करना पड़ता है ?

कंप्युटर ऑपरेटर बनने के लिए आपको कम से कम 12th पास कर कंप्युटर का कोर्स करना होगा जैसे DCA इत्यादि।

 

कंप्यूटर ऑपरेटर का मतलब क्या है?

किसी भी ऑफिस में कंप्युटर से जुड़े कार्य जैसे डाटा एंट्री इत्यादि करने या कंप्युटर से जुड़े कार्यों को करने वालों को कंप्युटर ऑपरेटर कहते है?

 

कंप्यूटर ऑपरेटर कोर्स कितने साल का होता है?

कंप्युटर ऑपरेटर का कोर्स तीन माह से लेकर एक वर्ष तक का होता है।

 

Conclusion

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Computer Operator क्या होता है? और (CO) कैसे बने जानकारी   जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. 
यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.