DNA क्या है? (what is dna) डीएनए क्या काम करता है? की जानकारी

दोस्तों DNA क्या है? हम अक्सर जब फिल्में या फिर समाचार देखते हैं तो हमें डीएनए के बारे में सुनने को मिलता है लेकिन क्या कभी आपने यह जानने की कोशिश की है कि आखिर यह डीएनए क्या है (What is DNA in Hindi) और इस की खोज किसने की. वैसे बहुत सारे लोग हैं जो इसके नाम को तो सुनते हैं लेकिन बहुत कम लोग ऐसे हैं जिन्हें डीएनए के बारे में जानकारी (knowledge of DNA in Hindi) होती है.

यही वजह है कि आज मेरे दिमाग में यह ख्याल आया कि क्यों ना आप सभी को आसान शब्दों में बताया जाए कि आखिर डीएनए क्या होता है और डीएनए स्ट्रक्चर का मतलब क्या है. तो चलिए बिना देरी किए हुए शुरू करते हैं और जानते हैं कि डीएनए क्या होता है (What is DNA in Hindi) और इस का फुल फॉर्म क्या है.

 

DNA क्या है? (what is dna) डीएनए क्या काम करता है? की जानकारी
TEJWIKI.IN

 

DNA क्या है?  (what is dna)

 

DNA, जीवों की प्रत्येक कोशिका में मौजूद एक जैविक इकाई है। यह एक लंबा वर्तुल आकार सीढ़ी नुमा जैविक अणु है, जो जीवों की कोशिका के केंद्र में पाया जाता है। यह जीवन के विकास, वृद्धि, प्रजनन कार्य के लिए जिम्मेदार होता है।

डीएनए क्रोमोजोम्स के रूप में हमारे शरीर में मौजूद रहता है, जिन में जेनेटिक्स की बेसिक यूनिट होती है, जो एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक ट्रांसफर या स्थानांतरित होती है। जन्म से पूर्व बच्चा माता-पिता दोनों से डीएनए प्राप्त करता है। हम अपने माइटोकांड्रियल डीएनए केवल अपनी मां से प्राप्त करते हैं, अपने पिता से नहीं। माइट्रोकांड्रिया डीएनए सेल के नाभिक के बाहर स्थित होते हैं।

 

 

डीएनए के माध्यम से किसी व्यक्ति की आने वाली पीढ़ियों के बालों का रंग, आंखों का रंग पता किया जा सकता है। इसके साथ-साथ उसे भविष्य में कौन-कौन सी बीमारियाँ हो सकती है, इसका भी पता चल जाता है। डीएनए पीढ़ी दर पीढ़ी हस्तांतरित होता जाता है, इसलिए इसे अमर कहा गया है। यह किसी भी जीवधारी की व्यक्तिगत विशेषता है।

DNA Matlab Kya Hota Hai के बारे में जाने लेने के बाद आपके मन में D N A Full Form in Hindi और DNA Details in Hindi में जानने की उत्सुकता और बढ़ गयी होगी, तो चलिए अब इसके बारे में और विस्तार से जान लेते हैं।

 

DNA Full Form in Hindi

 

DNA Ka Full Form – “Dioxyribo Nucleic Acid” तथा हिंदी में – “डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक एसिड” होता है। इसे न्यूक्लिक एसिड इसलिए माना गया, क्योंकि यह न्यूक्लियस में पाया जाता है।

डीएनए नाइट्रोजन छार से बना जैविक अम्ल है। सभी मनुष्यों का DNA 99.9 प्रतिशत समान ही होता है। मनुष्य शरीर में जो DNA होता है वह केले, गोभी और चिम्पांजी के DNA की संरचना के समान होता है, यह मनुष्य की प्रत्येक कोशिका में होता है। जब कोशिकाएं विभाजित होती है तब डीएनए अपनी एक कॉपी बनाता है जिससे की दोनों तरह की कोशिकाओं में एक-एक डीएनए पहुँच सके।

 

डीएनए की खोज (DNA discovery)

 

डीएनए की खोज दो वैज्ञानिकों, जेम्स वॉटसन (James Watson) और फ्रांसिस क्रिक (Francis Crick) ने 1953 में की थी। इस खोज के लिए उन्हें 1962 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। डीएनए जीवित जीव की अनुवांशिक विशेषताओं को एन्कोड करता है। अधिकांश पौधों और जानवरों में डीएनए राइबो न्यूक्लिक एसिड और प्रोटीन के साथ संकुचित संरचनाओं के रूप में पाया जाता है, जिसे कोशिका नाभिक में रहने वाले गुणसूत्र कहा जाता है।

 

डीएनए की संरचना (Structure of DNA)

 

अगर इंसान के डीएनए को खोला जाए तो एक व्यक्ति के शरीर में इतना डीएनए है कि उसकी लंबाई धरती से प्लूटो और प्लूटो से धरती तक आ सकती है। 1 ग्राम डीएनए 713 बाइट तक डाटा स्टोर कर सकता है। दुनिया में 99.9 प्रतिशत लोगों का डीएनए एक समान होता है। डीएनए की संरचना डबल हेलिक्स कही जाती है। DNA हमारे शरीर की सबसे महत्त्वपूर्ण इकाई है।

 

डीएनए के प्रकार (Types of DNA)

 

अगर आपको नहीं पता कि डीएनए कितने प्रकार के होते हैं तो इस लेख के माध्यम से आप जान जाएँगे कि जीवों में मुख्यता तीन प्रकार के डीएनए (Three Types of DNA) पाए जाते हैं।

A – DNA: ए – डीएनए वामावर्त कुंडलिक होता है इसमें चार युग में पाए जाते हैं तथा क्षार युग्म की कुंडली से दूरी 130 दूरी पर होती है।
B – DNA: इस प्रकार की डीएनए में भी चार युग्म पाए जाते हैं। इनकी कुंडली से दूरी 20 दूरी पर होती है।
Z – DNA: इस प्रकार के डीएनए का कुंडली वामावर्त नहीं बल्कि दक्षिणावर्त कुंडलिक होता है। इसमें प्रत्येक कुंडली की आकृति टेढ़ा-मेढ़ा दिखने के कारण इसका नाम Z-DNA रखा गया है।

 

 डीएनए के कार्य (functions of DNA)


डीएनए का प्रमुख कार्य में यह अनेक प्रकार के आर एन ए का निर्माण करता है, जो प्रोटीन संश्लेषण की क्रिया में संचालन एवं नियंत्रण करते हैं। कोशिका में डीएनए की भूमिका सूचना का भंडारण है। विभिन्न एंजाइम डीएनए पर कार्य करते हैं और इसकी जानकारियों को डीएनए प्रतिकृति में कॉपी करता है। डीएनए का मुख्य कार्य जेनेटिक कोड का उपयोग कर प्रोटीन में एमिनो एसिड अवशेषों के अनुक्रम को एन्कोड करना है।

 

डीएनए क्या काम करता है? (what does dna do)

 

डीएनए सेल को बनाने और नियंत्रित करने के लिए आवश्यक जानकारी को स्टोर करके रखता है. मां से बेटी, जानकारी का जो ट्रांसफर होता है जिसे हम जीन ट्रांसफर के रूप में भी जानते हैं यह डीएनए रिप्लिकेशन प्रोसेस के द्वारा होता है. डीएनए रिप्लिकेशन तब होता है जब कोई सेल अपने डीएनए की डुप्लीकेट कॉपी बनाता है और सेल बट जाता है जिसके फल स्वरूप हर सेल में एक डीएनए कॉपी का सही डिस्ट्रीब्यूशन होता है.

सेल के लिए न्यूक्लियोसाइड और न्यूक्लियोटाइड के इस रूप में डीएनए को भी रासायनिक रूप से डिग्रेड और उपयोग किया जा सकता है. दूसरे मैक्रोमोलीक्यूल के विपरीत डीएनए कोशिकाओं में एक स्ट्रक्चरल रोल को नहीं निभाता है.

 

 

प्रोटीन के लिए कोडिंग – Coding for Proteins

 

डीएनए प्रोटीन के लिए कोड रखता है जो जटिल अणु होते हैं और जो हमारे शरीर के चारों तरफ भारी मात्रा में काम करते हैं. डीएनए में जानकारी शुरू में पढ़ी जाती है और फिर इसे एक मैसेंजर अणु में बदल दिया जाता है.

इसके बाद इस संदेश वाहक अनु में रखी गई जानकारी को एक भाषा में ट्रांसलेट किया जाता है जिसे शरीर समझ सकता है.

यह भाषा अमीनो एसिड में से एक है जिसे प्रोटीन के बिल्डिंग ब्लॉक के रूप में जाना जाता है. यह स्पेशल भाषा है जो यह बताती है कि अमीनो एसिड को एक स्पेशल प्रोटीन का उत्पादन कैसे करना चाहिए.

 

डीएनए की नकल – DNA Replication

 

डीएनए रिप्लिकेशन कोशिका, उत्तक और, बॉडी सिस्टम के रिप्रोडक्शन से लेकर मेंटेनेंस और ग्रोथ तक के हर फंक्शन के लिए जरूरी होता है.

खुद को कॉपी करने के लिए एक डीएनए अणु अनिवार्य रूप से unzip करता है. डीएनए के मुख्य चार बेस होते हैं. न्यूक्लियोटाइड के सभी भाग स्पेशल होते हैं जिसमें एक शुगर और फास्फेट भी होता है. आपके शरीर की कोशिकाएं इसलिए रिप्लिकेट करते हैं ताकि अच्छा और ब्लड सेल बन सके.

 

जेनेटिक कोड – Genetic Code

 
यह हमारे अनुवांशिक कोड के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है. यह आपके शरीर की सभी कोशिकाओं में जेनेटिक मैसेज ट्रांसफर करता है. अगर आप एक प्रजनन से जुड़े क्रिया देने के बारे में सोचते हैं तो विचार करें कि आप की पहली कोशिका बनाने के लिए एक अंडे और शुक्राणु के जुड़ने से आपका पूरा अनुवांशिक कोड प्रदान होता है जो आपके शरीर का आपके जीवन भर उपयोग करेगा.

उससे पहले सेल के भीतर आपके आधे गुणसूत्र जिसे हम क्रोमोसोम कहते हैं जिसमें आपका डीएनए होता है आपके पिता से आया था और आधा आपकी मां से आया था.

डीएनए देखा जाए तो स्पष्ट रूप से इंसानी शरीर में काफी इंपॉर्टेंट रोल निभाता है और बीसवीं शताब्दी की सबसे इंपोर्टेंट खोजों में से एक है. हमारे डीएनए के काम का नॉलेज के बारे में और भी जानने में मदद करेगा.

 

डीएनए अपनी नकल तीन स्टेप में पूरी करता है। (DNA completes its replication in three steps)

 

1- शुरुआत

 

डीएनए जब अपनी नकल करता है लेने के एक डीएनए और बनाता है इसकी प्रक्रिया ज्ञात बिंदुओं पर शुरू होती है डीएनए हेलिसेज द्वारा के जरिए दो डीएनए स्ट्रैंड को अलग करता है यह अपनी नकल का कांटा कहलाता है जो एक अलग नकल की प्रक्रिया है।

 

2- डीएनए की वृद्धि

 

डीएनए पोलीमरेज़ टेम्पलेट स्ट्रैंड पर न्यूक्लियोटाइड्स को रीड करता है और एक के बाद एक पूरक न्यूक्लियोटाइड जोड़कर एक नया स्ट्रैंड बनाता है। जैसे कि यदि यह टेम्प्लेट स्ट्रैंड पर एक एडेनिन पढ़ता है, तो यह पूरक स्ट्रैंड पर थाइमिन जोड़ देता है। स्ट्रैंड में न्यूक्लियोटाइड्स जोड़ते समय स्ट्रैड्स के बीच कुछ अंतराल बन जाते हैं। इन अंतरालों को ओकाजाकी फ्रेगमेंट कहा जाता है। इन गैप्स या निक्स को लिगेज द्वारा सील कर दिया जाता है।

 

3- समाप्ति की प्रक्रिया

 

डीएनए अपनी नकल के दौरान उत्पत्ति के विपरीत मौजूद टर्मिनेशन कॉपी प्रोसेस को समाप्ति की तरफ ले जाता है। इस तरह की प्रक्रिया पूरी होती है और डीएनए अपनी चैन को बनाए रखता है।

 

DNA के बारे में रोचक तथ्य (Interesting facts about DNA)

 

आगे हम DNA Ke Bare Mein कुछ रोचक तथ्य (DNA Facts) आपको बताने वाले है।

  • डीएनए परीक्षण करने के लिए गाल की कोशिकाएं, मूत्र का सैंपल तथा खून का इस्तेमाल किया जाता है।
  • प्रत्येक दिन शरीर में लगभग 1,000 से 10 लाख तक DNA नष्ट हो जाते है।
  • सबसे हैरान कर देने वाला तथ्य है की केवल एक चम्मच DNA में दुनिया की जितनी भी प्रजाति है उनकी जानकारी को रख सकते है।
  • पुरे विश्व के इंटरनेट डाटा को सिर्फ 2 ग्राम DNA में स्टोर किया जा सकता है।
  • मानव शरीर में बीस हजार से पच्चीस हजार जीन होते है।
  • यदि डीएनए को पूरी तरह से फैलाये तो 600 बार यह पृथ्वी से सूरज तक जाकर दोबारा आ सकता है।
  • सूर्य की UV किरणों से DNA नष्ट हो सकता है।

  

 

Conclusion

  

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख DNA क्या है? (what is dna) डीएनए क्या काम करता है? की जानकारी  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

DNA क्या है? (what is dna) डीएनए क्या काम करता है? की जानकारी

 

Leave a Comment