eSIM क्या है (What is eSIM in Hindi) eSIM कैसे काम करता है?

वर्तमान समय में लगभग सभी स्मार्टफोन के यूजर है। और, यह फोन के उपियोगकर्ता होने के नाते Sim Card के बारे में तो सभी जानते हैं। eSIM क्या है Sim Card एक छोटा सा कागज के टुकड़े जैसा देखने को होता है। और, यह आकार में बहुत ही छोटा होता है। सबसे पहले Mini Sim Card का प्रचलन था। इसके बाद, Micro Sim Card, और Nano Card का प्रचलन शुरू हुआ। अब इंटरनेट के जमाने में आ गया है वर्चुअल सिम जिसका प्रचलन सम्पूर्ण रूप में आज के समय में शुरू नहीं हुआ है।

परन्तु, eSim की उपयोगिता के कारण वर्तमान समय से लेकर आने वाले समय में सभी यूजर eSim का इस्तेमाल करेंगे। eSim है एक वर्चुअल सिम, जिसके लिए फोन में अलग से कोई जगह नहीं रहता है। यह, फोन में सॉफ्टवेयर के साथ अंतर्निहित रहता है। आप लोगों की जानकारी के लिए बता दे eSim सबसे पहेले सन 2016, march में पब्लिश हुआ था। तो, क्या आप जानते हैं eSim क्या है? eSim के फायदे। eSim कैसे खरीदे? और, eSim कोन से फोन में सपोर्ट करता है? यदि, नहीं तो यह पोस्ट आप के लिए बहुत उपीयोगी होने वाला है।

 

eSIM क्या है (What is eSIM in Hindi) eSIM कैसे काम करता है?
TEJWIKI.IN

 

eSIM क्या है (What is eSIM in Hindi)

 

“eSIM” का Full Form होता है embedded SIM (Subscriber Identity Module) card. इसमें कोई physical SIM cards का इस्तमाल नहीं होता है और न ही आपको कोई physical swapping करने की जरुरत पड़ती है. इस eSIM को next generation connected consumer devices का SIM कहना भूल नहीं होगा. eSIM को सही रूप से चलने के लिए एक network या carrier की जरुरत होती है और जिसे उनके द्वारा बाद में enable किया जाता है, इसलिए आपके नए iPhone XS या XS Max के लिए आपको एक eSIM-compatible network की तलाश करनी होगी जो की उसे चलने में support करे एक second SIM support के तोर पर.

एक eSIM basically एक छोटे chip के तरह ही काम करता है आपके phone के भीतर और ये एक NFC chip के जैसे ही कार्य करता है. eSIM के ऊपर जो information होता है वो rewritable होता है, इसका मतलब की आप एक simple phone call से ही operator बदल सकते हैं. साथ ही इसमें आसानी से कोई data plan add किया जा सकता है – इसके अलावा eSIMs को आपके mobile account के साथ connect करना मिनटों की बात होती है.

एक बात आपको जरुर note करनी चाहिए की iPhone XS और XS Max में एक SIM card के लिए physical SIM slot भी होता है – वहीँ ये eSIM का इस्तमाल एक second SIM support के तरह ही किया जा सकता है. है न ये एक बहुत ही मज़ेदार बात. eSIM में GSMA technology का इस्तमाल होता है, दुसरे mobile networks के association के साथ. यह GSMA पुरे दुनियाभर में eSIM का एक worldwide standard होता है

 

इन्हें भी पढ़ें:-

eSIM Meaning in Hindi eSIM Ka Matalb Hindi Me;

 

eSIM एम्बेडेड सिम का एक छोटा वर्शन है, जहाँ SIM का मतलब Subscriber Identity Module है। तो, एक eSIM एक Embedded Subscriber Identity Module है।

eSIM एक सिम-कार्ड है जो मोबाइल डिवाइस में एम्बेडेड होता है। SIM उन सभी इनफॉर्मेशन को स्‍टोर करता है जो मोबाइल सब्सक्राइबर को पहचानने और प्रमाणित करने के लिए आवश्यक हैं।

एक eSIM एक इंटिग्रेटेड सिम चिप के रूप में आएगा जिसे किसी डिवाइस से हटाया नहीं जा सकता और इसकी आवश्यकता भी नहीं होती।

eSIM को कभी-कभी eUICC (embedded Universal Circuit Card) कहा जाता है। eSIM पर इनफॉर्मेशन ऑपरेटरों द्वारा फिर से लिखने योग्य होगी। ऑपरेटर आपकी identification information को ऑनलाइन ही अपडेट करने में सक्षम हो सकते है। इसलिए अब आपको नए ऑपरेटर के लिए नए SIM की जरूरत नहीं होगी।

 

eSIM को कब Launch किया जा रहा है?

 

eSIM को iPhone XS और XS Max में launch किया जा चूका है. साथ ही हम इसे Apple Watch Series 3 और Watch Series 4 में भी देख सकते हैं. इसे users के द्वारा काफी सराहा जा रहा है. अगर में देशों की बात करूँ तब केवल 10 countries में ही फिलहाल ये eSIM support कर रहा है. जो की हैं Austria, Canada, Croatia, the Czech Republic, Germany, Hungary, India, Spain, UK, और US. Company का कहना है की बहुत ही जल्द दुसरे देशों में ये service उपलब्ध करा दी जाएगी.

 

eSIM आपके Devices के लिए क्या माईने रखती है?

 

एक बहुत ही बेहतरीन advantage जो ये offer करती है वो ये की design point of view से अगर देखें तब आप इस eSIM का इस्तमाल एक छोटे से device में भी कर सकते हैं क्यूंकि इसमें SIM card को रखने के लिए कोई extra SIM tray की जरुरत ही नहीं पड़ती है. साथ ही आसानी से इसमें manufacturer को network के लिए बहुत सारे SIM cards को distribute करने की जरुरत नहीं होती है.

साथ ही eSIMs आपके दुसरे devices जैसे की laptops और tablets के लिए भी बहुत अच्छा है, क्यूंकि बिना physical SIM Card के ही seamless connectivity प्राप्त की जा सकती है. साथ ही eSIMs के माध्यम से बहुत सारे devices के साथ एक साथ ही इसे connect किया जा सकता है क्यूंकि eSIMs को extra space की जरुरत ही नहीं होती है.

 

किन Devices में eSIM का इस्तेमाल किया जा सकता है?

 

Apple ने eSIM की connectivity का इस्तमाल अपने Apple Watch Series 3 और Watch Series 4 में किया है साथ ही dual SIM support के तोर पर नए iPhone XS और XS Max में भी किया है. Google’s Pixel 2 भी eSIM support करती है लेकिन ये केवल US के Google’s Project Fi तक ही सिमित है.

India में कौन कौन सी Network Providers eSIM को Suport करते है?
फिलहाल India में बस दो हो network providers है जो eSIM technology को support करते है; वो है Jio और Airtel.

 

eSIM कैसे काम करता है?

 

पूछे जाने पर की ये eSIM कैसे नए iPhone XS और XS Max में कार्य करता है, उन्होंने कहा की अगर आपके पास एक physical और eSIM की provision हो और ये दो separate networks के साथ connected होती हैं तब आपका iPhone दोनों networks को एक साथ screen में प्रदर्शित करेगा वो भी एक ही समय में.

अगर आपका handset standby mode में है और दोनों SIM और eSIM provisioned हैं, तब customers अपने दोनों SIM में calls और texts receive कर सकते हैं. फिर आप एक “default” line choose कर सकते हैं जिसमें आप calls, SMS, iMessage और FaceTime का इस्तमाल कर सकते हैं. वहीँ दूसरा line केवल SMS और voice के लिए ही होता है.

Alternatively आप Secondary का इस्तमाल केवल cellular data के लिए कर सकते हैं – ये useful हो सकता है अगर आप abroad जा रहे हों और एक local data eSIM का इस्तमाल कर रहे हों. साथ ही आप एक से ज्यादा eSIM अपने iPhone में इस्तमाल कर सकते हैं, लेकिन आप केवल एक ही SIM का इस्तमाल एक समय में कर सकते हैं.

आप eSIMs को switch कर सकते हैं बताए गए तरीके से tapping Settings > Cellular > Cellular Plans से और फिर सही plan को tap कर जिसे की आप use कर सकते हैं. फिर आप tap कर सकते हैं Turn On This Line.

 

कैसे eSIM का इस्तमाल आप iPhone XS और XS Max में कर सकते हैं?

 

अगर आपके पास एक QR code हो:

1. Go to Settings > Cellular.

2. फिर Tap करना होगा Add Cellular Plan.

3. उसके बाद iPhone का इस्तमाल करना होगा QR code को scan करने के लिए जो की आपको carrier provide करता है – वहीँ आपको कोई activation code enter करने के लिए भी कह सकता है.

 

Or कैसे आप carrier app से इन्हें activate कर सकते हैं :

 

1. इसके लिए पहले App Store को जाएँ और फिर अपने carrier’s app को download करें.

2. इसी app का इस्तमाल आप कोई cellular plan को खरीदने के लिए कर सकते हैं.

आप अपने plans को label भी कर सकते हैं जिसके लिए आपको ये करना होगा Settings > Cellular. फिर उस number पर tap करें जिसके label को आप बदलना चाहते हैं. इसके बाद आपको tap करना होगा Cellular Plan Label और फिर आपको एक नए label या कोई custom label को enter करना होगा.

eSIM कैसे एक Regular Travelers के लिए एक बेहतरीन विकल्प है?

eSIM के मदद से एक regular traveler को बहुत आसानी होती है. जैसे की हम जानते हैं की travellers का काम ही है की दुसरे देशों को घुमने जाना. वहीँ उन्हें SIM को लेकर हमेशा तकलीफ होती है. साथ में नयी SIM लेना और पुराने को निकालकर नए को लगाना. वहीँ बहुत से charges भी लगते है जैसे की roaming charges. इन सभी तकलीफों से बचने के लिए eSIM एक बहुत ही बढ़िया विकल्प है. इसे activate करना बहुत ही आसान है और इसमें physical SIM की जरुरत नहीं होती है. इसके अलावा ये आसानी से बहुत से devices से connect कर सकते हैं.

 

इन्हें भी पढ़ें:-

ई-सिम की विशेषताएं?

 

  • ई-सिम की विशेषताओं की बात करें तो इसकी निम्नलिखित विशेषताएं हो सकती है, जैसे-
  • ई-सिम की तकनीक का उपयोग करने पर हमें अपने मोबाइल में कोई Physical SIM Card लगाने की जरुरत नहीं पड़ती है जिससे कभी भी Unsupported SIM का Issue आने के चान्सेस नहीं है।
  • मोबाइल खोने या चोरी हो जाने की स्थति में वो मोबाइल जिसके हाथ लगती है वे हमारी eSIM Activation को किसी भी सूरत में बिना हमारे द्वारा नेटवर्क ऑपरेटर को Request किये Deactivate नहीं करवा सकता है, जिस कारण मोबाइल फ़ोन ढूंढने में आसानी हो सकती है।
  • ई-सिम सर्विस में किसी एक नेटवर्क ऑपरेटर से दूसरे नेटवर्क ऑपरेटर में जाने के लिए PORT करना भी आसान है।
  • अगर किसी के द्वारा पहले से eSIM सर्विस प्रोवाइडर टेलीकॉम कंपनी का ही Physical SIM का उपयोग मोबाइल में किया जा रहा हो और उसे eSIM Activate कराना हो तो वे घर बैठे Activation Process को Follow करते हुए घंटों में eSIM सर्विस एक्टिवेट करा सकता है।

 

eSIM के QAdvantages क्या है?

 

चलिए eSIM के advantages के विषय में जानते हैं.

  • यह एक nano sim के टुकड़े के size का होता है. इसलिए ये कहीं पर भी fit हो जाता है.
    इसके लिए SIM tray की कोई भी जरुरत नहीं है.
  • इसमें एक user बहुत ही जल्द दुसरे operator को switch कर सकते हैं. बिना किसी SIM card को बदले. Travellers के लिए ज्यादा उपयोगी होता है.
  • ज्यादा devices को एक साथ आप connect कर सकते हैं. जैसे की अगर आपके पास smartphone है और smartwatch भी है तब आप इन दोनों को एक ही eSIM से connect कर सकते हैं.
  • इसमें remote provisioning की सुविधा होती है जिससे आपको पुराने sim को deactivate होने तक का इंतजार नहीं करना पड़ेगा बल्कि नए eSIM को आसानी से activate किया जा सकता है.
  • यह SIM card phone के साथ embedded होता है इसलिए ये subscriber के सारे information को store किये हुए होता है जो की mobile subscriber को identify और authenticate करने के लिए जरुरी होता है.
  • नए SIM के लिए आपको SIM card बदलने की कोई जरुरत ही नहीं पड़ती है आप बिना change किये ही ये कर सकते हैं.
  • eSIM बाकि sim card के तुलना में ज्यादा सुरक्षित होता है.

 

eSIM के Disadvantages क्या है?

 

जैसे की सिक्के के दो पहलु होते हैं इसलिए eSIM के भी हैं, तो चलिए इसके विषय में और जानते हैं.

  • अगर आपके पास बहुत सारे devices हैं और आप अपने operators regular interval में बदलते रहते हैं तब ये आपके लिए थोडा confusion पैदा करेगा क्यूंकि अगर आपके सभी devices connected हैं तब इसे बदलने में confusion आ सकती है और साथ में आपको SIM card को activate करना होगा उस device के software के मदद से. आप केवल पुराने SIM card को निकालकर नया SIM card लगा नहीं सकते हैं जैसे की आप पहले किया करते थे.
  • अगर आपकी battery low है और आप अपने eSIM को किसी दोस्त के phone से connect कर कोई call करना चाहते हैं तब इसके तकलीफ आ सकती है क्यूंकि Sim card activate होने में थोडा समय लगता है और ये ज्यादा fast और आसान भी नहीं होता है.
  • eSIM को activate करने के लिए आपको operator से contact करना होगा और उनके द्वारा भेजे गए userid और password को enter कर ही आप SIM को activate कर सकते हैं.

 

eSim से लाभ

 

eSim एकदम new technology है। अब तक इस पोस्ट के माध्यम से eSim के बारे में जितनी भी जानकारी आपलोगों को प्राप्त हुई है, उस के जरिए आप को eSim के फायदे के बारे में थोड़ा बोहोत जानकारी मिल गई होगी। हालाकि वर्तमान समय में eSim का प्रचलन सम्पूर्ण रूप में शुरू नहीं हुआ है।

परन्तु, eSim के उपियोगिता के कारण eSim साधारण SIM card के तुलना में भविष्य में सबसे ज़्यादा प्रचलित होने वाला है। अब, आप लोगों के मन में यह सवाल ज़रूर आया होगा कि eSim का क्या क्या फायदा है? इसके बारे मे हमने नीचे विस्तार में बताया है।

जगह का बचत

eSim की सबसे महत्वपूर्ण फायदा है जगह का बचत। इस पोस्ट के द्वारा आप पहले ही जान गए हे कि eSim के लिए फोन में अलग से कोई स्पेस की ज़रूरत नहीं होती है, क्यों कि यह चिप के साथ अंतर्निहित रहेता है। इसलिए स्मार्टफोन में eSim के लिए कोई Sim Card Tray नहीं बनाना पड़ता है। इस से जगह की बचत होती है और, यह स्पेस स्मार्टफोन की अन्य टेक्नोलॉजी को प्रभावित करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

बैटरी कम खर्च होना

eSim साधारण अर्थात, किसी फिजिकल सिम के तुलना में फोन की बैटरी कम खर्च करती है। क्यों की, यह eSim सॉफ्टवेयर के सहायता से चलती है। जो अप्रत्यक्ष रूप में फोन की बैटरी को सेव करने में सहायता करता है।

 

सर्विस प्रोवाइडर बदलने में आसानी

eSim के और एक महत्वपूर्ण उपियोगिता है eSim की इस्तेमाल करने से सर्विस प्रोवाइडर बदलने में आसानी होती है। अर्थात, यदि कोई यूजर मान लीजिए आप Airtel के कस्टमर है और आप jio के सेवाओं का उपियोग करना चाहते हे तब आप बोहोत आसानी से ही Airtel सर्विस प्रोवाइडर को jio में बदल सकते है।

 

चोरी होने का कोई डर नहीं

eSim कोई फिजिकल सिम कार्ड नहीं है। यह है फोन में सॉफ्टवेयर के साथ अंतर्निहित रहेने वाला एक सिम कार्ड। इसलिए अलग से यह सिम चोरी होने की कोई डर नहीं है। यदि, चोर फोन चोरी कर ले तब यह सिम भी चोरी हो जाएगी। ज़्यादातर कोई फोन चोरी हो जाने से उसे ट्रैक नहीं किया जा सकता है क्यों की चोर फोन से सिम कार्ड को निकाल देता है।परन्तु, eSim के तहत चोर कभी भी इसे फोन से निकाल नहीं सकता और बड़े आसानी से फोन को ट्रैक किया जा सकता है।

 

बेहेतर Security

सिम के बारे में रिसर्च करने के बाद एक्सपर्ट्स का सुझाव है कि साधारण सिम के वजय esim कई गुना बेहतर सिक्योरिटी प्रदान करती है।

Roaming charges की कोई परेशानी नहीं है

यह esim ट्रैवेलर्स के लिए बोहोत ही उपीयोगि है, क्यों कि esim इस्तेमाल करने से रोमिंग चार्जेस कि कोई परेशानी नहीं रहेती है।

सिम खराब होने की कोई गुंजाइश नहीं है

eSim एक वर्चुअल सिम है यह तो आप पहले ही जान गए है। यह सिम वर्चुअल होने के तहत ओवरहिटेड हो कर या फिर, पानी मे भीग कर इसे खराब होने की कोई गुंजाइश नहीं है।

 

eSIMs का भविस्य क्या है?

eSIMs का भविस्य बहुत ही उज्जवल है. Apple और Google जैसे बड़े companies ने इसे इस्तमाल कर ये ऐलान कर दिया है की SIM cards का अगर कुछ भविष्य है तो वो केवल eSIM ही है. नयी GSMA के technology से users बड़ी ही आसानी से दुसरे network operators को switch कर सकते हैं. इसमें उन्हें ज्यादा तकलीफ लेने की जरुरत ही नहीं है बस एक दो phone calls से ये काम किया जा सकता है.

साथ में जैसे की हम सब ये जानते हैं की दिनप्रतिदिन Mobiles और devices की size छोटी होती जा रही है. ऐसे में SIM size एक बहुत ही बड़ा factor है. इसके अलावा rewritable feature के होने से आसनी से operator में बदलाव लाया जा सकता है. साथ में travellers के लिए SIM की कोई tension नहीं होगी. Future eSIM का ही है क्यूंकि एक बार ये यदि आपके devices के साथ embedded हो गया तब आप इसकी सभी features का भरपूर फायेदा उठा सकते हैं.

 

eSIM से जुड़े कुछ सवाल जवाब

 

Q.1. क्या सभी मोबाइल में eSIM चला सकते हैं?

Ans : eSIM चलाने के लिए आपके पास eSIM Support करने वाला मोबाइल फ़ोन होना जरुरी है।

Q.2. फिजिकल सिम कार्ड को eSIM में कन्वर्ट करने के बाद पुराने सिम कार्ड का क्या करें?

Ans : फिजिकल सिम कार्ड को eSIM में कन्वर्ट करने के बाद आपका पुराना सिम कार्ड कोई काम का नहीं होता है इसको आप तोड़कर फेक दें।

Q.3. क्या eSIM बिना इंटरनेट के चलता है ?

Ans : eSIM भी सभी सिमों जैसा होता है यह बिना इंटरनेट के भी उपयोग कर सकते हैं।

Q.4. क्या iphone में दोनों सिम eSIM होते हैं?

Ans : नहीं iphone में आप एक eSIM और दूसरा Physical सिम लगा सकते हैं और दोनों eSIM सपोर्ट करने वाले मोबाइल अभी मार्केट में उपलब्ध नहीं हैं क्योंकि लोग अभी esim वाले मोबाइल उपयोग नहीं करते हैं हो सकता है बाद में 2 eSIM सपोर्ट करने वाले मोबाइल आये।

Q.5. क्या एक बार eSim लगाने के बाद कभी भी दूसरी सिम नहीं लगा सकते हैं ?

Ans : eSIM को आप अपने नार्मल सिम के जैसे बदल सकते हैं बहुत ही आसानी से आपको अपने मोबाइल में पुराने eSIM को रिमूव करना होगा उसके बाद आप नई सिम को Activate कर सकते हैं।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख  eSIM क्या है (What is eSIM in Hindi) eSIM कैसे काम करता है? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

eSIM क्या है (What is eSIM in Hindi) eSIM कैसे काम करता है?

 

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

 

Leave a Comment