Internet क्या है? -जाने इंटरनेट कि सुविधा हम तक कैसे पहुंचती है

दोस्तों Internet क्या है? आज हम बात करेंगे इंटरनेट के बारे में क्योंकि वर्तमान समय में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति बचा होगा जो इंटरनेट का यूज ना करता हो। इंटरनेट ने पूरी तरह से हमारी जिंदगी को बदल दिया है। अब तो लोगों को ऐसा लगता है कि इंटरनेट के बिना रह पाना बहुत मुश्किल है। लेकिन क्या आप लोग जानते हैं कि इस इंटरनेट का उपयोग हम अपने दैनिक जीवन में करते हैं उसका मालिक कौन है? यह सवाल कभी ना कभी तो आपके मन में आता होगा। तो चलिए फिर बिना देरी किए आज हम आपको अपनी इस पोस्ट के माध्यम से इंटरनेट से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां आपको प्रदान करेंगे। यदि आप भी इंटरनेट के बारे में और ज्यादा जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो हमारी इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

 

Internet क्या है? -जाने इंटरनेट कि सुविधा हम तक कैसे पहुंचती है
TEJWIKI.IN

 

Internet क्या है? (What is Internet)

 

इंटरनेट का पूरा नाम interconnected networks हैं. यह Web Server Worldwide का एक बहुत बड़ा नेटवर्क हैं. इसीलिए इसे world wide web के नाम से भी जाना जाता हैं. साधारण तौर पर इसे web के नाम से जाना जाता हैं यह एक ऐसा नेटवर्क है जो दुनिया भर के सर्वर से जुड़ा हुआ है.

इंटरनेट एक विश्व व्यापक नेटवर्क है जो दुनिया भर के कंप्यूटर को एक सिस्टम में जोड़ता है. इंटरनेट में कई उच्च-बैंडविड्थ शामिल होते हैं जिसे इंटरनेट का बैकबोन समझा जाता हैं यह एक अत्यंत व्यस्त कंप्यूटर नेटवर्क हैं. इंटरनेट किसी महाजाल से कम नहीं है. इंटरनेट आज के इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी की दुनिया में एक बिल्कुल आधुनिक प्रणाली हैं. इंटरनेट पूरी दुनिया में जानकारी और संचार का आदान प्रदान करता है.

 

 

इंटरनेट, interconnected networks का एक बड़ा जाल है जो एक दूसरे से जुड़े रहने के लिए standardized communication protocols का इस्तेमाल करता हैं. इंटरनेट एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में TCP/IP Protocol के माध्यम से संबंध स्थापित करता हैं इंटरनेट राउटर एवं सर्वर के माध्यम से दुनिया के सभी कंप्यूटर को आपस में जोड़ता है.

 

internet का मालिक कौन है (who owns the internet)

 

अगर बात की जाये इन्टरनेट के ओनरशिप की तो इसका वैसे तो कोई भी मालिक नहीं है परन्तु 1969 में टिम बर्नर्स ली ने शुरू किया था. ICANN (Internet Corporation for Assigned Names and Numbers) यह नॉन प्रॉफिट कंपनी अमेरिका में स्थित है जो डोमेन यानि साईट के नाम प्रदान करती है और काफी बार यह कहा जाता है की इस पर अमेरिका का एकाधिकार है लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. हाँ काफी सारी सरकारें यह चाहती है की इन्टरनेट हमारे नियंत्रण में रहे लेकिन इसमें किसी भी एक व्यक्ति या देश का नियंत्रण नहीं है.

इन्टरनेट का अविष्कार एक विशेष व्यक्ति या कंपनी द्वारा नहीं किया गया है जो भी इन्टरनेट आज आप इस्तेमाल करते है और जितनी भी इन्टरनेट प्रदान करने वाली कंपनियाँ है वो एक इन्टरनेट को चलाने का जरिया है ना की उनका मालिकाना हक़ है. Internet विश्व का नेटवर्क सिस्टम है जिसका इस्तेमाल आज लगभग पूरी दुनिया के व्यक्ति करते है.

 

इंटरनेट कहां से आता है? (Where does internet come from)

 

साधारण शब्दों में कहें तो इंटरनेट एक ऐसा माध्यम हैं जो हमें किसी भी काम करने में मदद करता हैं अगर हम किसी व्यक्ति को मैसेज भेजना चाहते हैं तो वो काम इंटरनेट के जरिए होता है. या फिर अगर हम किसी ब्लॉग पर आर्टिकल पढ़ना चाहते हैं तो यह काम भी इंटरनेट के जरिए होता हैं.

इन सभी कामों को करने के लिए इंटरनेट दूसरे सर्वर को निवेदन भेजता है. जैसे ही यह रिक्वेस्ट सर्वर तक पहुँचता है तो सर्वर आप के रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट कर लेता हैं और जिस चीज का आप ने मांग किया था यानि मैसेज भेजना उसका रिजल्ट आप के फोन या लैपटॉप में तुरंत आ जाता हैं.

 

इंटरनेट कि सुविधा हम तक कैसे पहुंचती है (How does internet access reach us)

 

हम तक इंटरनेट की सुविधा पहुंचाने के लिए तीन भागों में विभाजित किया गया है। जिन्हें 3 टियर भी कहा जाता है। पहले स्तर पर वह कंपनियां आती हैं जो समुंद्र के नीचे ऑप्टिकल फाइबर केबल डाल कर सर्विस प्रोवाइडर को ग्लोबली जोड़ती हैं। यह कंपनियां नेशनल लेवल की कंपनियों से पैसा लेती हैं।

दूसरे स्तर पर वे लोग आते हैं जो बड़े प्रोवाइडर को नेशनल स्तर पर कनेक्ट करते हैं। औरबड़े प्रोवाइडर से जुड़कर छोटे प्रोवाइडर को यह सर्विस प्रदान की जाती है वह तीसरे स्तर पर आते हैं। यह सभी प्रोवाइडर्स आम जनता तक इंटरनेट की सुविधा प्रदान करते हैं। यह कंपनियां नेशनल लेवल की कंपनियां जैसे एयरटेल, रिलायंस, आइडिया को पैसे देती हैं।

 

इंटरनेट का आविष्कार किसने और कब किया? (Who invented the Internet and when)

 

इंटरनेट का आविष्कार किस एक व्यक्ति विशेष ने नहीं किया था. इंटरनेट को बनाने में बहुत से साइंटिस्ट व इंजीनियर ने भी अपना सहयोग दिया था सन् 1957 में अमेरिका ने द्वितीय विश्व युद्ध के समय एक खास टेक्नोलॉजी का निर्माण करने के लिए Advanced Research Projects Agency (ARPA) नामक एक एजेंसी की स्थापना की इस टेक्नोलॉजी के मदद से एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर से जोड़ा जा सकता था.

सन् 1969 में इस Agency की स्थापना की और अपने नाम पर उन्होंने इस टेक्नोलॉजी को ARPANET का नाम दिया सन् 1980 के शुरूआत में. इस टेक्नोलॉजी का नाम बदलकर Internet रख दिया गया Vinton Cerf और Robert Kahn के द्वारा जब TCP/IP protocol का आविष्कार हुआ तब इस टेक्नोलॉजी को एक नई मोड़ मिली.

 

इंटरनेट की शुरुवात कब हुई? (When did the Internet start)

 

इंटरनेट की शुरुवात 1 January 1983 में हुई थी जब इंटरनेट ने TCP/IP protocol को अपने अंदर ले लिया था TCP व IP protocol को अपने अंदर लेकर इस टेक्नोलॉजी ने एक बड़ा नेटवर्क बनाया जिसके कारण इसे “network of networks” के नाम से पुकारा जाने लगा.

भारत में इंटरनेट की शुरुवात Videsh Sanchar Nigam Limited (VSNL) के द्वारा सन 14 August 1995 में इस नेटवर्क को भारत में लॉन्च किया गया जिसके बाद भारत में भी लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करने लगे.

 

 

इंटरनेट का संस्थापक कौन है? (Who is the founder of Internet)

 

हमारे मन में उठने वाली यह बात की इंटरनेट का मालिक दुनिया का सबसे अमीर व्यक्ति होना चाहिए यह बिल्कुल सही है Internet क्या है? यकीनन इंटरनेट का कोई मालिक होता तो वह दुनिया का सबसे अमीर आदमी होता लेकिन इंटरनेट का कोई मालिक नहीं है.

इंटरनेट न किसी व्यक्ति से संबंधित हैं और न किसी देश, govt या निजी संस्था से सम्बंधित हैं ये भी कह सकते हैं कि इंटरनेट पूरी तरह मुक्त टेक्नोलॉजी हैं जिसपर किसी एक देश का आधिपत्य नहीं हैं.

अब ये सवाल सामने आता हैं कि इंटरनेट को कौन चलाता हैं? इंटरनेट को 3 TR के द्वारा मेंटेन किया जाता है TR1 में वे कंपनी आते हैं जिन्होंने समुद्र के नीचे sabmarine cable बिछाया हैं.

इन केबल के जरिए इंटरनेट एक device को दूसरे device से जोड़ते हैं इन केबल के जरिए सभी डाटा एक जगह से दूसरी जगह जाते हैं ये कंपनी इंटरनेशनल लेवल पर काम करते है.

TR2 में वे कंपनी आते हैं जो TR1 से कम पैसे में इंटरनेट कनेक्शन खरीद कर ज्यादा पैसे में TR3 को बेचते हैं ये कंपनी नेशनल लेवल पर काम करते है इन कंपनी में रिलायंस जियो, एयरटेल, वोडाफोन जैसे कंपनी आते हैं.

TR3 में वे कंपनी आते हैं जो TR2 से कनेंक्शन लेकर इंटरनेट यूज़र को पहुंचाते हैं मोबाइल के क्षेत्र में तो अब TR3 की जरूरत नहीं पड़ती लेकिन वाईफाई का कनेक्शन लेने के लिए इसकी जरूरत पड़ती हैं.

 

 

Conclusion

  

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Internet क्या है? -जाने इंटरनेट कि सुविधा हम तक कैसे पहुंचती है  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Internet क्या है? -जाने इंटरनेट कि सुविधा हम तक कैसे पहुंचती है

 

 

Leave a Comment