Micro ATM क्या होता है? माइक्रो एटीएम का उपयोग कैसे करें?

दोस्तों Micro ATM क्या होता है? वर्तमान समय में लगभग सभी के बैंक में अकाउंट है, और ATM के बारे में भी लगभग हर कोई जानते होंगे। ATM मशीन के माध्यम से हम पैसों को Withdraw करने के साथ साथ Deposit भी कर सकते है, परन्तु कुछ ऐसे ग्राहक है जो अभी भी एटीएम सुविधा का इस्तेमाल नहीं करना चाहते है।

सिर्फ यही नहीं पल्की कुछ क्षेत्र ऐसे है जहां एटीएम मशीन की स्थापना में समस्या होती है जैसे, ग्रामीण इलाकों में एटीएम की स्थापना करने में समस्या दिखाई देती है। इन सारे समस्याओं का निवारण करने के लिए NPCI अर्थात, National Payment Corporation of India ने सभी बैंकों के साथ मिलकर एक नया एटीएम का प्रचलन शुरू किया, और वह है Micro ATM.

तो क्या आप Micro ATM क्या है; इसे कैसे इस्तेमाल करें; इसके फायदे व नुकसान के बारे में जानते है यदि नहीं तो यह पोस्ट आप सभी के लिए बहुत उपयोगी होने वाला है।

 

Micro ATM क्या होता है? माइक्रो एटीएम का उपयोग कैसे करें?
TEJWIKI.INo atm ka

 

माइक्रो एटीएम क्या होता है? (What is Micro ATM)

 

आप किसी मॉल या स्टोर में खरीदारी करने जाते हैं तो वहां एटीएम कार्ड या क्रेडिट कार्ड से भुगतान करने का विकल्प भी होता है। यह काम उनके पास मौजूद कार्ड स्वाइपिंग मशीन से होता है। उस मशीन में कार्ड लगाने पर या फिर EVM चिप वाले कार्ड को सामने लाने पर भुगतान की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। फिर पासवर्ड डालकर आप पेमेंट पूरा कर देते हैं।

लगभग इसी तरह माइक्रो एटीएम मशीन भी होती है। बस उसमें ग्राहक की पहचान करने के लिए एक फिंगरप्रिंट स्कैनर भी लगा होता है। माइक्रो एटीएम में, आधार नंबर दर्ज करने और अंगूठे या उंगली से पहचान सत्यापित होने के बाद, यह आपके बैंक अकाउंट के डिटेल ले लेता है। इसके बाद उस अकाउंट से पैसों का भुगतान कारोबारी के अकाउंट में हो जाता है और वह ग्राहक को उस रकम का भुगतान कर देता है।

 

 

माइक्रो एटीएम कैसे कार्य करता है? (How does Micro ATM work)

 

ये GPRS की मदद से केंद्रीय बैंकिंग सर्वर से कनेक्ट होते हैं, जिससे बैंक खातों संबंधी डिटेल इन तक पहुंचती है। हालांकि, किसी खाते से लेन देन की प्रक्रिया ग्राहक की ओर से पर्याप्त सत्यापन के बाद ही संभव होती है। जिन देशों में आधार जैसी प्रणाली नहीं है, वहां पर ये मोबाइल डाटा की मदद से सत्यापन की प्रक्रिया पूरी होती है।

ATM की तरह ही, Micro ATM से भी किसी भी बैंक खाते से पैसों का लेन-देन किया जा सकता है। यह IMPS और NEFT जैसी सुविधाएं भी देता है, जिससे आनलाइन पैसों का ट्रांसफर किया जा सकता है। Micro ATM क्या होता है? इससे बिजली, पानी, गैस, डीटीएस, मोबाइल सिम, DataCard वगैरह का रिचार्ज भी किया जा सकता है।

एटीएम कही तरह, इसके अंदर पैसे रखने के लिए Drawer नहीं होता, पैसे कारोबारी को अलग से लाकर रखने होते हैं। अकाउंट से अकाउंट में लेन-देन हो जाता है और कारोबारी आपको अपने पास से कैश दे देता है। यह सुविधा उपलब्ध कराने के बदले उसे कुछ प्रतिशत कमीशन मिलता है।

एक एटीएम मशीन लगाने में जहां कई लाख रुपए की लागत आती है, वहीं माइक्रो एटीएम के लिए ज्यादा से ज्यादा 20 हजार रुपए तक ही लागत पडती है। हालांकि, माइक्रो एटीएम से पैसा निकालने की एक सीमा होती है। बडी रकम निकालने के लिए आपको बैंक की शाखा ही जाना पडेगा।

 

माइक्रो एटीएम मशीन की विशेषताएं (Features of Micro ATM Machine)

 

माइक्रो एटीएम मशीन मुख्या विशेषताएं निम्न प्रकार से है।

  • यह GPRS in-build, Smart Card, Biomatric Registration, Thermal Printer, आधारित सिस्टम है।
  • लगभग सभी बैंको को सपोर्ट करता है।
  • माइक्रो एटीएम क्रडिट कार्ड और डेबिट कार्ड को सपोर्ट करता है।
  • ऑनलाइन और ऑफलाइन लेनदेन को सपोर्ट करता है।
  • बायोमैट्रिक एनरोलमेंट को सपोर्ट करता है।
  • 10 से 12 घंटे बैटरी बैकअप की सुविधा।

 

Micro ATM का उपयोग कैसे करें (How to use Micro ATM)

 

माइक्रो एटीएम के विषय थोड़ा जानकारी प्राप्त करने के बाद, अब सवाल आता है कि Micro ATM का इस्तेमाल कैसे करें, Micro ATM क्या होता है? तब इसके उत्तर मे बता दें कि माइक्रो एटीएम का उपयोग बहुत ही आसान है।

जैसे, साधारण ATM मशीन में डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड के जरिए लेनदेन किया जाता है, ठीक वैसे ही Micro ATM में Aadhaar Card के सहायता से लेनदेन किया जाता है। माइक्रो एटीएम का इस्तेमाल करने के लिए नीचे बताए गए कुछ आसान नियमों का पालन करना होगा।

 

माइक्रो एटीएम मित्र के पास जाएं

 

सबसे पहले आपको अपने क्षेत्र में स्थित Micro ATM Dealer के पास जाना होगा।

 

आधार नंबर को इंटर करें

 

माइक्रो एटीएम डीलर के पास जाने के बाद, Micro ATM मशीन में आपको अपने Aadhaar Card के 12 नंबर दर्ज करना है।

 

स्कैन और वेरिफिकेशन

 

आधार नंबर दर्ज करने के बाद, आपको biometric fingerprint करना है जिससे आपका अंगूठा स्कैन करके वेरिफाई हो जाएगा।

 

Bank Account select करें

 

Biometric verification के बाद, transaction शुरू करने के लिए माइक्रो एटीएम मशीन की स्क्रीन पर आपको कुछ ऑप्शन देखने को मिलेंगे।

उन विकल्पों में से आपको एक निर्धारित बैंक अकाउंट सेलेक्ट कर लेना होगा, जिस अकाउंट मे आप लेनदेन करना चाहते है।

 

विड्रवाल/मनी ट्रांसफर विकल्प को चुने

 

Bank Account को सेलेक्ट करने के बाद, withdrawal और money transfer दोनों विकल्प आयेगा जिन में से आपको किसी एक विकल्प को सेलेक्ट कर लेना है।

जैसे कि आप यदि राशि ट्रांसफर करना चाहते है तब आपको मनी ट्रांसफर में क्लिक करना है। और, यदि आप राशि विड्रवाल करना चाहते है तब आपको withdrawal ऑप्शन में क्लिक करना होगा।

 

सफलतापूर्वक लेनदेन संपन्न होने की वार्ता

 

माइक्रो एटीएम के माध्यम से सफलतापूर्वक लेनदेन संपन्न होने के बाद मशीन कि स्क्रीन में एक मेसेज प्रदर्शित होगा, और साथ में एक print receipt भी जेनरेट हो जाएगा।

सिर्फ यही नहीं ATM मशीन की तरह इस मशीन के जरिए transaction करने पे भी आपके बैंक से आपको SMS alert प्राप्त होगा।

उपर में बताए गए सारे नियमों का पालन करने से आप आसानी से माइक्रो एटीएम का उपयोग कर सकते है।

 

 

माइक्रो एटीएम से हो सकने वाले कार्य (Functions that can be done with Micro ATM)

 

सामान्य एटीएम मशीन एक जगह स्थिर रहती है, जबकि माइक्रो एटीएम मशीन को कहीं भी ले जाया जा सकता है। छोटे कस्बों और गांवों में, जहां कि एटीएम लगाना फायदे का सौदा नहीं होता, वहां पर माइक्रो एटीएम बडे उपयोगी सिद्ध हुए हैं।

माइक्रो एटीएम की मदद से निम्नलिखित काम किए जा सकते हैं—

  • ग्राहक की बायोमीट्रिक पहचान सत्यापित करना
  • बैंक अकाउंट से पैसा जमा करना और निकालना
  • लेन देन की प्रिंटेड रसीद निकालना
  • खाते में मौजूद बैलेंस की जानकारी पता करना
  • मिनी स्टेटमेंट निकालकर पिछले लेन-देन पता करना
  • दूसरे अकाउंट या दूसरे बैंक में फंड ट्रांसफर
  • रिचार्ज और बिल पेमेंट जैसी सुविधाएं

 

FAQ- Micro ATM से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल जवाब :-

 

1. भारत में Micro ATM का प्रचलन सबसे पहले किस बैंक ने शुरू किया?

भारत में माइक्रो एटीएम का प्रचलन सबसे पहले Kotak Mahindra Bank ने शुरू किया। इस बैंक ने ही सबसे पहले पूरे देशे में माइक्रो एटीएम सुविधा का घोषणा किया था। और, माइक्रो एटीएम सुविधा को लॉन्च करने के लिए बैंकों को Business Correspondents  नेटवर्क का उपयोग करना पड़ता है।

2. माइक्रो एटीएम के माध्यम से किस तरह की लेनदेन की जाती है? 

माइक्रो एटीएम की मदद से ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रकार का लेनदेन किया जाता है।

3. Micro ATM से अमाउंट विड्रॉ करने की सीमाएं कितनी होती है?

माइक्रो एटीएम के माध्यम से एक ग्राहक एक ही समय में ₹10,000 तक का राशि withdraw कर सकता है।

4. माइक्रो एटीएम का उपयोग कहां कहां किया जाता है?

आमतौर पर, ग्रामीण इलाकों में एटीएम मशीन का उपयोग करना बहुत ही कठिन है। इसीलिए, माइक्रो एटीएम का उपयोग ज़्यादातर ग्रामीण इलाकों में ही किया जाता है। इसके अलावा शाहेरों के दुकानों में भी इस मशीन का उपयोग किया जाता है।

5. माइक्रो एटीएम मशीन कि विशेषताएं।

1. Micro ATM ऑनलाइन और ऑफलाइन लेनदेन के लिए उपलब्ध है।
2. माइक्रो एटीएम मशीन biometric enrollment को सपोर्ट करता है।
3. माइक्रो एटीएम GPRS in build, smart card, thermal printer पर आधारित एक सिस्टम है।
4. प्रत्येक बैंक इस मशीन को सपोर्ट करता है। बैंकरों के अनुसार, माइक्रो एटीएम स्थापन करने में खर्च बहुत कम पड़ता है।
5. माइक्रो एटीएम मशीन में 10 से 12 घंटे तक बैटरी बैक उप रहेता है। और, इसीलिए लेनदेन करने मे कोई समस्या नहीं होती है।

6. Micro ATM से पैसे कैसे निकालें?

सबसे पहले, आपको माइक्रो एटीएम मशीन में कार्ड को स्वाइप करना है।
Card swipe करने के बाद, आपको उस मशीन में पिन इंटर करना होगा।
फिर, आपके सामने स्क्रीन में कुछ विकल्प आयेगा जिन में से आपको निर्धारित बैंक खाता को चयन कर लेना होगा।
निर्धारित बैंक अकाउंट को सेलेक्ट करने के बाद, स्क्रीन मे आपके सामने प्रदर्शित विकल्पों  से आपको विड्रॉल के विकल्प को चयन करके, निर्धारित राशि यानिकि जितना अमाउंट आप withdraw करना चाहते है उस राशि को लिखना है।
इस प्रक्रिया में आपके अकाउंट से निर्धारित राशि डेबिट हो जाएगा। परन्तु, यहां एक बात का जानकारी प्रदान करना ज़रूरी है कि, इस प्रक्रिया में निर्धारित राशि माइक्रो एटीएम मशीन से नहीं निकलती है। 
पल्की Withdrawal amount खुद बैंक प्रतिनिधि ही ग्राहक को hand to hand प्रदान करता है। और, ऐसे ही इस प्रक्रिया के जरिए माइक्रो एटीएम से आप आसानी से पैसा withdraw कर सकते है।  

7. Micro ATM की माध्यम से पैसे कैसे जमा करें?

माइक्रो एटीएम के माध्यम से पैसा जमा करना बहुत आसान है, जो कि माइक्रो एटीएम के माध्यम से पैसा निकालने की प्रक्रिया जैसा ही है। इस मशीन के जरिए पैसा जमा करने के लिए पहले बताया गया प्रक्रिया अर्थात, इस मशीन से पैसे निकालने की प्रक्रिया को अच्छे से पालन करना है। और, अंत में स्क्रीन में प्रदर्शित विकल्पों में से आपको deposit की ऑप्शन को सेलेक्ट करके निर्धारित राशि इंटर करना होगा। फिर, वहां बैंक एजेंट के पास ही आपको निर्धारित राशि जमा करना है। इससे आपके अकाउंट में पैसा जमा हो जाएगा। 

8. eKYC क्या है?

e KYC अर्थात इलेक्ट्रॉनिक परिचय, यह एक प्रमाणीकरण प्रक्रिया है, जो बैंक जैसे संगठनों में निवासी प्रमाणीकरण के लिए इस्तेमाल किया जाता है। और, यह आधार कार्ड की xerox copy के रूप में बैध है।

9. AEPS क्या है?

AEPS एक भुगतान प्रणाली है। भारतीय रिसर्ब बैंक ऑफ इंडिया के सलाह से NPCI ने सबसे पहले AEPS को विकसित किया।

10. POS क्या है? 

POS का अर्थ है बिक्री का केंद्र। आमतौर पर, POS एक Computerized machine है जो डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड को पड़ सकता है। दुकानों में POS मशीन का इस्तेमाल किया जाता है। यह मशीन खरीदा हुआ सामान का रशीद भी प्रदान करता है।

 

 

Conclusion

  

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Micro ATM क्या होता है? माइक्रो एटीएम का उपयोग कैसे करें?  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Micro ATM क्या होता है? माइक्रो एटीएम का उपयोग कैसे करें?

 

Leave a Comment