कॉम्पैक्ट डिस्क (CD) क्या है? इसके प्रकार और उपयोग की जानकारी

दोस्तों कॉम्पैक्ट डिस्क (CD) क्या है? हम में से प्राय सभी ने अपने जीवन में CD या DVD का जरुर से इस्तमाल किया होगा. क्यूंकि कुछ वर्षों के पहले की बात करूँ तब चाहे वो कोई गाना हो, या आपकी favourite movies हो सभी को store करने के लिए CD या DVD का ही इस्तमाल किया जाता था. लेकिन क्या आपको पता है की ये CD या Compact Disc क्या है? इसके advantages क्या हैं? और ऐसे बहुत से सवाल जिन्हें शायद आप न जानते हों. Floppy Disk के बाद CD ऐसा storage device था जिसे की आसानी से एक जगह से दूसरी जगह तक ले जाया जा सकता था और इसे store करना भी आसान था.

जहाँ CD में बहुत ही कम space होने के वजह से इसमें केवल songs ही store किया जाता था वहीँ DVD में ज्यादा space के होने से उसमें गाना के साथ साथ videos, movies भी store किये जाते थे. बहुत से लोगों को इसके विषय में अभी तक भी कुछ पता नहीं है इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को CD क्या है और इसके features क्या हैं के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये in hindi जिससे आपको Storages Devices के इस प्रकार के विषय में पूरी जानकारी प्राप्त हो सके जो की आपको आगे के storage devices को समझने में मदद कर सकें. तो बिना देरी चलिए शुरु करते हैं और जानते हैं की आखिर में ये CD क्या होता है?

 

कॉम्पैक्ट डिस्क (CD) क्या है? इसके प्रकार और उपयोग की जानकारी
TEJWIKI.IN

 

कॉम्पैक्ट डिस्क (CD) क्या है ? (What is Compact Disc)

 

कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) एक ऑप्टिकल डिस्क या एक कंप्‍यूटर स्टोरेज डिस्क है जो डेटा को डिजिटल रूप से स्टोर करती है, Computer में कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) पोर्टेबल और सेकंडरी स्टोरेज डिवाइस के रूप में प्रयोग किया जाता है जिसे आमतौर पर सीडी के नाम से जाना जाता है सीडी ड्राइव एक ऐसा मैकेनिज्म है जिसका उपयोग किसी भी सीडी पर डिजिटल जानकारी को पढ़ने/लिखने के लिए किया जाता है, ये कई तरीके के फॉर्मेट में बाजार में उपलब्ध होती है, CD/R केवल पढने के उद्देश्य के लिए होती है और CD/RW पढ़ने और लिखने दोनों के काम में आती है

 

Compact Disc का इतिहास (History of Compact Disc)

 

सबसे पहली बार सन् 1979 में सीडी का आविष्कार हुआ था इसके एक साल बाद इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स कंपनी Phillips और Sony ने एक टीम बनाकर काम करना स्टार्ट किया ताकि आम नागरिकों को सीडी की टेक्‍नोलॉजी मिल सके, सन् 1982 में आम लोग को सीडी की टेक्‍नोलॉजी मिल चुकी थी आज किसी भी डाटा को स्‍टोर करने का सबसे अच्‍छा तरीका सीडी बन चुकी है

 

 

सीडी आम लोगों के बीच बहुत जल्दी बहुत ज्यादा Popular हो गयी क्योंकि इनमें आप केवल उन गानों को सुन सकते हैं जिनको आप सुनना चाहते है अगर आप किसी गाने को सुनना नहीं चाहते हैं तो आप उसे छोड़ सकते हैं, साल 2007 तक पूरे विश्व में तकरीबन 200 बिलियन सीडी बिक चुकी थीं

 

सीडी कितने प्रकार की होती है (what are the types of cd)

 

सीडी ROM (रीड ओनली मेमोरी) दो प्रकार की होती है –

सीडी -R – इसका पूरा नाम सीडी रिकॉर्डेबल होता है, ये ऐसी डिस्‍क होती है जिसमें आप केवल एक ही बार लिख सकते हैं पर लिखे हुए डाटा को कितनी भी बार पढा जा सकता है, इस तरह की डिस्क को किसी भी डिस्‍क रीडर के माध्‍यम से रीड कराया जा सकता है, जब आप इस तरह की सीडी में कुछ भी चीज रिकॉर्ड करते हैं तो उस समय यह बिल्कुल खाली होती है और आपके द्वारा रिकॉर्ड किए हुए डाटा को इसमें आसानी से स्टोर कर सकते हैं

सीडी-RW – सीडी-RW डिजिटल डिस्‍क होती है जिसमें आप किसी भी लिखी हुई चीज को हटा कर बार-बार लिख सकते हैं, ये साधारण सीडी से बिल्कुल विपरीत होती है, और आप इनको साधारण रीडर में रीड तो कर सकते हैं लेकिन राइट करने के लिये आपको सीडी राइटर की आवश्‍यकता होती है जब आप इनमें से डाटा को हटाते हैं तो वो पूरी तरह से खत्म हो जाता है, इनका इस्तेमाल करने का मुख्‍य उद्देश्‍य किसी Confidentially डाटा को कहीं भेजने के लिए किया जाता है, ये सिल्वर, इंडियम, एंटीमनी और टेल्यूरियम की मिश्र धातुओं से बनी होती है

 

CD में कितना डाटा स्‍टोर किया जा सकता है CD Capacity in Hindi

 

वैसे तो Compact Disc कई साइज में आती है लेकिन एक सामान्‍य CD का साइज 4.7 in होता है Capacity 700 MB होती है लेकिन इसमें 737 MB तक डाटा स्‍टोर किया जा सकता है

 

CD में Data कैसे स्‍टोर किया जाता है (How data is stored in CD)

 

आप तो जानते हैं कंप्‍यूटर केवल बायनरी भाषा को ही समझता है ऑप्टिकल डिस्क सीडी रोम में डाटा को बायनरी रूप में स्टोर करने के लिए हाई इंटेंसिटी और डाटा को पढने के लिये लो इंटेंसिटी वाली लेजर बीम का उपयोग किया जाता है

कॉन्पैक्ट डिस्क में डाटा को स्टोर करने के लिए सीडी राइटर का इस्तेमाल किया जाता है इसमें हाई इंटेंसिटी वाली लेजर किरणे जब सीडी पर पड़ती हैं तुम्हें सीडी पर कहीं गड्ढा बनाती है और कहीं नहीं तू जहां पर यह गड्ढे बनते हैं वह बायनरी में 1 को दर्शाता है और जहां पर गड्ढा नहीं बना होता है उसे लैंड (land) कहते हैं वह बायनरी में 0 को दर्शाता है

इस तरह से डाटा सीडी में राइट कर लिया जाता है अब इस डाटा को पढ़ने के लिए लो इंटेंसिटी वाली यानि कम पावर वाली लेजर किरणों का प्रयोग किया जाता है सीडी अपने ट्रैक पर घूमती है औरलेजर लाइट सीडी में आने वाले गड्ढों और लैंड (land) से रिफ्लेक्ट होकर वापस आती है इस तरह से लाइट को इलेक्ट्रिक सिग्नल में बदला जाता है और डाटा को रीड किया जाता है

 

सीडी कैसे काम करती है (How Compact Disc Works)

 

किसी भी साधारण सीडी को मॉडिफाई नहीं किया जा सकता है उन्हें केवल पढ़ा जा सकता है पर सीडी -R डिस्क को एक ड्राइव की आवश्यकता होती है जिससे आप उसमें कुछ लिख सकें क्योंकि इस तरह की डिस्‍क में लेजर लाइट नॉन रिफलेक्टिव एरिया बनाती है, जिसमें एक अतिरिक्त लेयर होती है जो लेजर को आसानी से मॉडिफाई कर सकती है, इसमें जो अतिरिक्त लेयर होती है उसका रंग हरा होता है

किसी साधारण सीडी के ऊपर Aluminum का कवर होता है पर सीडी-R प्लास्टिक से बनी होती है,इसमें Dye और रिफलेक्टिव Gold लेयर होती है, किसी भी नई सीडी-R में डिस्‍क का पूरा सरफेस रिफलेक्टिव होता है जिससे जब कोई लेजर किसी डाई पर पडती है तो वो चमकती है और Gold की लेयर की वजह से वो रिफ्लेक्ट कर जाती है

जब आप किसी भी सीडी-R में लिखते हैं तो आपकी लिखने वाली लेजर ( लिखने वाली लेजर हमेशा सुनने वाली लेजर से ज्यादा ताकतवर होती है ) डाई को गर्म कर देती है और उसकी पारदर्शिता को बदल देती है, ये बदलाव पूरी तरह से होता है, आपकी साधारण सीडी या फिर सीडी-R दोनों डाई को आसानी से पढ़ सकती है

इस सब बातों से यह बात तो साफ हो गयी है कि सीडी की डाई लाइट में आते ही अपना रंग बदल लेती है तो आपको अपनी सीडी-R डिस्क को कभी भी सूरज की रोशनी में नहीं रखना चाहिए

 

कॉम्पैक्ट डिस्क(CD) का मुख्य उपयोग (Main uses of compact discs)

 

CD का उपयोग Computer Software, Movie’s, Songs, Applications, License, Audio-Video Material एवं अन्य प्रकार के डाटा को store करने के लिए किया जाता हैं। इस प्रकार की Compact Disc में डाटा को संरक्षित रखना एवं एक स्थान से दूसरे स्थान में भेजना काफी सरल होता हैं।

CD का उपयोग अधिक डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता हैं, क्योंकि इसकी Storage Capacity अधिक होती हैं। Compact Disk के माध्यम से हम अपने स्टोर डाटा को आसानी से देख सकते हैं। वर्तमान समय मे इसका सर्वाधिक उपयोग Computer से संबंधित डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता हैं।

 

CD के बारे में महत्‍वपूर्ण तथ्‍य (Important facts about CDs)

 

कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) से पहले सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस के तौर पर फ्लॉपी डिस्क का इस्तेमाल किया जाता था जो कि एक Magnetic Storage था फ्लॉपी डिस्क की भंडारण क्षमता केवल 1.44 मेगाबाइट से 2.8 मेगाबाइट के बीच होती थी जबकि कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) की भंडारण क्षमता 700mb है जिसमें लगभग 800 फ्लॉपी का डाटा स्टोर किया जा सकता है

 

 

 

कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) अन्य मैग्नेटिक डिवाइस से ज्यादा पॉपुलर इसलिए हुई क्योंकि एक तो इसमें इनसे ज्यादा डाटा स्टोर किया जा सकता था साथ ही यह आसानी से खराब नहीं होती थी यह बहुत ही हल्की और पॉलिटिकल होती हैं और इन्हें लंबे समय तक डाटा को तोड़ कर के रखा जा सकता है एक बार जब सीडी राइट कर ली जाती है तो उसे कई बार इस्तेमाल किया जा सकता है और हल्के फुल्के स्क्रैच अगर लग भी जाए तो भी आपका डाटा नष्ट नहीं होता है

 

कंप्यूटर पर CD कैसे चलाएं (How to Play Compact Disc on Computer)

 

अगर आप सीडी को अपने सिस्टम पर चलाना चाहते हैं तो आपको पहले ड्राइव में सीडी को लगाना होगा, सीडी लगाते ही अपने आप चलने लग जाती है, अगर आपकी सीडी ड्राइव में लगाने के बाद भी नहीं चलती तो आप अपने Window Media Player को खोलकर प्लेयर लाइब्रेरी से डिस्‍क का नाम सलेक्ट कर सकते हैं

अगर आपकी सीडी रोम सेफ मोड में सही काम कर रही है पर Windows में नहीं चल रही है तो ये आपके किसी प्रोग्राम के चलने की वजह से हो सकता है या फिर आपकी ड्राइव करप्ट हो गयी है तो इसके लिए आपको अपना डिवाइस मैनेजर खोलना होगा वहां से सीडी को डिलीट बटन के माध्यम से हटा सकते हैं उसके बाद आप अपने सिस्टम को रिबूट करें, Windows आपकी सीडी रोम की समस्या को डिटेक्ट कर लेगी और आप आसानी से फिर से इनस्टॉल कर सकते हैं –

 

CD से होने वाले लाभ (Advantages of CD ROM)

 

  • सीडी को बनाना और खरीदना बहुत सस्ता है
  • सभी कंप्यूटर आसानी से सीडी को रीड कर लेते है, अगर आपके सिस्टम में ड्राइव न हो तो आप इनको डीवीडी ड्राइव में भी आसानी से चला सकते हैं
  • इसमें आप किसी भी डाटा को तेजी से ट्रांसफर कर सकते हैं
  • ये इतनी छोटी होती है कि इसे आप आसानी से कही भी ले जा सकते हैं
  • आप अपनी जरूरी फाइलों को इसमें स्टोर कर सकते हैं

 

CD से होने वाले हानि (Disadvantages of CD ROM)

 

  • इनमें आसानी से स्क्रैच और खरोंच लग जाते हैं
  • अगर इनको आप हार्ड ड्राइव से Compare करेंगे तो इनकी स्‍टोरेज क्षमता बहुत कम होती है

 

CD की जानकारी हिंदी में (CD information in Hindi)

 

CD का आविष्कार ‘जेम्स रसैल’ (James Russell) ने किया था। सोनी और फिलिप्स कम्पनी ने 1980 में जेम्स के पेटेंट का लाइसेंस ले लिया था और व्यावसायिक रूप से 1982 में सीडी बनने लगी। सोनी कम्पनी ने 1982 में दुनिया की पहली सीडी ऑडियो प्लेयर (CDP-101) लाँच किया। एक समय ऐसा था जब रील वाले कैसेट का प्रयोग करते थे।

CD कैसे काम करता है? सीडी पर कार्य करने का तरीका हार्ड डिस्क से कुछ अलग होता है। Compact Disk के ट्रैक स्पाइरल (Spiral) और Flat होते हैं l यह एक प्रकार से रीड ओनली मेमोरी ही है। सीडी पर डाटा Encode करने के लिए लेजर तकनीक (Laser Technology) का प्रयोग किया जाता है। लेजर बीम की सहायता से सीडी में मौजूद Data की Encoding होती है।

CD पर डाटा Write करने के लिए एक और विशेष प्रकार के डिवाइस का उपयोग किया जाता है जिसे सीडी राइटर (CD-Writer) कहते हैं। इससे सीडी पर स्टोर किए गए डाटा को रीड भी किया जा सकता।

सीडी के आविष्कार ने कैसेट को पूरी तरह से खत्म कर दिया। एक स्टैंडर्ड सीडी में 700 MB का Data सेव किया जा सकता है। सीडी ड्राइव में लगा हुआ सेंसर सीडी के डॉट से रिफ्लेक्ट लाइट को पढ़ता है। और हमारी डिवाइस में इमेज क्रिएट करता है।

 

CD को कैसे साफ करें (How to Clean Compact Disc)

 

किसी भी सीडी को आप मुलायम फॉम शीट या मुलायम कपडें से आसानी से साफ कर सकते हैं जिससे आपकी सीडी को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है और आपकी सीडी भी साफ हो जाती है या फिर आप अपना Solution भी बना सकते हैं कॉम्पैक्ट डिस्क (CD) क्या है आप डिस्‍क को शेम्‍पू और पानी मिलाकर को साफ कर सकते हैं पर जब आप अपना Solution बना रहे हो तो आपको अनुपात को ध्‍यान रखने की जरूरत होती है आप शेम्‍पू का एक ड्राप और पानी को तकरीबन एक क्वार्टर लें और इससे आपका Solution बनकर तैयार हो जाता है

अगर आपकी डिस्‍क में स्क्रैच आ गए हैं तो आप उसे आसानी से टूथपेस्ट से साफ कर सकते हैं जिसके लिए आपको सबसे पहले सीडी को मुलायम कपडें को हल्‍के गुनगुने पानी भिगो कर और साबुन से अच्छी तरह से साफ करना होता है कॉम्पैक्ट डिस्क (CD) क्या उसके बाद उसे अच्छी तरह से पोछ लें ताकि कोई निशान न रहे उसके बाद टूथपेस्‍ट को सीडी के ऊपर सीधे सीधे लगाएं इससे आपकी सीडी के स्क्रैच आसानी से चले जाएंगे और आपकी सीडी एकदम नई जैसी हो जाएंगी

 

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख कॉम्पैक्ट डिस्क (CD) क्या है? इसके प्रकार और उपयोग की जानकारी जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

कॉम्पैक्ट डिस्क (CD) क्या है? इसके प्रकार और उपयोग की जानकारी

 

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

 

Leave a Comment