Credit Score क्या होता है? Free में क्रेडिट स्कोर कैसे जानें?

दोस्तों, Credit Score क्या होता है? आज के फाइनेंसियल वर्ल्ड में CIBIL Score या  Credit Score क्या होता है? का बहुत महत्व हैं। जब हमको कोई लोन या क्रेडिट कार्ड लेना हो तो हमें अच्छे CIBIL Score की आवश्यकता होती हैं। हम सब को एक वित्तीय रूप से समझदार व्यक्ति होने के नाते CIBIL Score की जानकारी होनी आवश्यक हैं, ख़ासतौर पर जब हमें लोन या क्रेडिट कार्ड लेना हैं।

आज इस आर्टिकल के माध्यम से आप जानेंगे की CIBIL Score क्या होता हैं, CIBIL Score कैसे कैलकुलेट किया जाता हैं, Credit Score कैसे चेक करें और इससे जुड़े हर सवाल का जवाब।

 

Credit Score क्या होता है? Free में क्रेडिट स्कोर कैसे जानें?
TEJWIKI.IN

 

Credit Score क्या होता है? (What is credit score)

 

क्रेडिट रिपोर्ट में लोन अकाउंट (क्रेडिट कार्ड और लोन) की विस्तृत जानकारी, दिवालिया होने और देर से भुगतान (यदि हो तो) के साथ एक व्यक्ति का क्रेडिट रिकॉर्ड शामिल होता है। मतलब ये रिपोर्ट बताती है कि आपने कब-कब लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन किया, आपको किस-किस बैंक या लोन संस्थान से लोन या क्रेडिट कार्ड मिला और आपने लोन या क्रेडिट कार्ड का EMI और बिल का भुगतान समय पर किया या नहीं। क्रेडिट रिपोर्ट में शामिल एक अन्य महत्वपूर्ण जानकारी उन बैंकों / NBFC की लिस्ट है जिन्होंने आपकी क्रेडिट रिपोर्ट की जांच की है।

क्रेडिट स्कोर को क्रेडिट रिपोर्ट में पाए गए क्रेडिट हिस्ट्री डेटा का उपयोग करके प्रोपराइटरी फॉर्मूला का उपयोग करके क्रेडिट स्कोर को कैलकुलेट किया जाता है। यह स्कोर कई कारकों जैसे- भुगतान और उधार पैटर्न, क्रेडिट कार्ड या लोन आवेदन की संख्या और क्रेडिट उपयोग से प्रभावित होता है । क्रेडिट स्कोर निकालने के लिए उपयोग किया जाने वाला फ़ॉर्मूला एक क्रेडिट ब्यूरो से दूसरे क्रेडिट ब्यूरो में भिन्न होता है, इसलिए एक व्यक्ति का क्रेडिट स्कोर अलग-अलग ब्यूरो में अलग-अलग हो सकता है| क्रेडिट स्कोर लोन या क्रेडिट कार्ड आवेदन को मंज़ूरी दिलाने में प्रमुख भूमिका निभाता है| अगर आवेदक का स्कोर 900 के पास है, तो नए क्रेडिट कार्ड / लोन के लिए स्वीकृत होने की उसकी संभावना अधिक होती है।

 

 

Credit Score को प्रभावित करने वाले कारक (Factors Affecting Credit Score)

 

नए लोन / क्रेडिट कार्ड पाने वालों के लिए एक अच्छा क्रेडिट स्कोर होना ज़रूरी है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हम क्रेडिट स्कोर को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारकों को जानें। कुछ कारक जो किसी व्यक्ति के क्रेडिट स्कोर को प्रभावित करते हैं, वे नीचे दिए गए हैं:

 

1. क्रेडिट यूटिलाइज़ेशन रेश्यो (credit utilization ratio)

जब भी आपको क्रेडिट कार्ड प्राप्त होता है तो उसकी एक क्रेडिट लिमिट होती है। आप उस लिमिट का जितना उपयोग करते हैं, उसी के आधार पर आपका क्रेडिट यूटिलाइज़ेशन रेश्यो निकाला जाता है| उदाहरण के लिए, अगर आपके पास 1 लाख रु. की क्रेडिट लिमिट है और आप उसमें से 60,000 रु. का उपयोग करते हैं तो आपका रेश्यो 60% हुआ। यह क्रेडिट पर आपकी निर्भरता को दर्शाता है। अधिक क्रेडिट यूटिलाइज़ेशन रेश्यो भी भुगतान का बोझ बढ़ने का संकेत देता है जिसका आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। कम क्रेडिट यूटिलाइज़ेशन रेश्यो (30% या उससे कम) अधिक लोन योग्यता को दर्शाता है।

 

2. लोन इंक्वायरी / आवेदन (Loan Inquiry / Application)

जब भी आप लोन के लिए आवेदन करते हैं तो बैंक या लोन संस्थान क्रेडिट ब्यूरो से आपकी क्रेडिट रिपोर्ट प्राप्त करने के लिए आवेदन करते हैं, इसे हार्ड इन्क्वायरी के रूप में जाना जाता है। आपके लिए कितनी बार हार्ड इन्क्वायरी हुई है इसकी जानकारी आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में दर्ज की जाती है और इस से आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

 

3. भुगतान रिकॉर्ड (Payment record)

आपका क्रेडिट स्कोर आपके लोन के भुगतान के रिकॉर्ड जैसे-EMI और क्रेडिट कार्ड बिलों से प्रभावित होता है। क्रेडिट कार्ड के बिलों का समय से भुगतान न होना और EMI तय समय पर न भरने से आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है|

 

4. क्रेडिट मिक्स (Credit mix)

क्रेडिट मिक्स सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड क्रेडिट दोनों का मिश्रण है। मतलब आप कितने सुरक्षित या असुरक्षित लोन लेते हैं उस से आपका क्रेडिट मिक्स सामने आता है| क्रेडिट कार्ड और पर्सनल लोन जैसे कई असुरक्षित लोन होने से आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है क्योंकि इसे अक्सर प्राइवेट फाइनेंस के गलत मैनेजमेंट के संकेत के रूप में दर्शाया जाता है। जैसा कि यदि आपके पास सुरक्षित लोन (जैसे ऑटो और होम लोन) अधिक हैं तो आपके क्रेडिट स्कोर के अधिक होने की संभावना है।

 

5. बार-बार क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ाना (Frequently increasing credit card limit)

आपके क्रेडिट कार्ड पर क्रेडिट लिमिट बढ़ाने के लिए लगातार अनुरोध करने से भी इंक्वायरी की संख्या बढ़ जाती है जो आपके क्रेडिट स्कोर पर विपरीत प्रभाव डाल सकती है। यह आपके खर्चों के मैनेजमेंट के लिए क्रेडिट पर अधिक निर्भरता को भी दर्शाता है जिससे पता चलता है कि आप पर लोन का बोझ अधिक है और बैंकों द्वारा इसकी नकारात्मक रूप से व्याख्या की जा सकती है।

 

6. क्रेडिट हिस्ट्री की कमी (lack of credit history)

आपके क्रेडिट स्कोर को कैलकुलेट करने के लिए आपके क्रेडिट बिहेवियर, क्रेडिट यूटिलिटी लिमिट, लोन भुगतान रिकॉर्ड आदि का उपयोग किया जाता है। क्रेडिट हिस्ट्री की अनुपस्थिति आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव डालती है। यदि आपने कभी लोन नहीं लिया है या आपके पास कभी क्रेडिट कार्ड नहीं था, तो बैंक के लिए यह तय करना मुश्किल हो जाता है कि आप कम या अधिक जोखिम की कैटेगरी में आते हैं या नहीं।

 

7. क्रेडिट रिपोर्ट में गलत जानकारी (Incorrect information on credit report)

कई बार बैंक या क्रेडिट ब्यूरो की प्रशासनिक कमी के कारण आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में गलत जानकारी आ जाती है, जैसे आपका नाम गलत लिख देना, कोई ऐसा लोन रिपोर्ट में दिखा देना जो आपने कभी लिया ही नहीं, आदि। अगर आपको अपनी रिपोर्ट में ऐसी कोई जानकारी मिलती है तो उसकी सूचना क्रेडिट ब्यूरो को दें ताकि उसमें सुधार हो सके।

 

क्रेडिट के प्रकार जो आपके क्रेडिट स्कोर को प्रभावित करते हैं (Types of Credit That Affect Your Credit Score)

 

  • क्रेडिट को आमतौर पर सिक्योर्ड या अनसिक्योर्ड के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। सिक्योर्ड क्रेडिट के उदाहरण, जैसे कि होम लोन, प्रॉपर्टी के बदले लोन, गोल्ड लोन आदि के लिए सिक्योरिटी/गारंटी की आवश्यकता होती है, जबकि, क्रेडिट कार्ड और पर्सनल लोन जैसे अनसिक्योर्ड लोन को किसी भी सिक्योरिटी की आवश्यकता नहीं होती है।
  • क्रेडिट मिक्स सभी सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन दोनों में संतुलन बनाए रखने के बारे में है। यह आपके क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव डालता है और नए क्रेडिट का लाभ उठाने की संभावना बढ़ा सकता है।
  • दूसरी ओर, अगर आपके पास बहुत अधिक अनिसक्योर्ड लोन है, तो इसका आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। ऐसे मामलों में बैंक आपको जोखिम भरे उधारकर्ता के रूप में देख सकते हैं।

 

भारत में क्रेडिट ब्यूरो (credit bureaus in india)

 

लाइसेंस प्राप्त क्रेडिट इंफॉर्मेशन कंपनियों (CIC) को क्रेडिट ब्यूरो के रूप में भी जाना जाता है जो व्यक्तियों से जुड़ी वित्तीय जानकारी इकट्ठा करते हैं और उस जानकारी के आधार पर क्रेडिट रिपोर्ट बनाते हैं। इन क्रेडिट रिपोर्ट्स का उपयोग किसी व्यक्ति के क्रेडिट स्कोर का मूल्यांकन करने के लिए किया जाता है, जिसका उपयोग बैंकों या लोन संस्थानों द्वारा किसी व्यक्ति को नए क्रेडिट कार्ड या लोन देते समय किया जाता है। क्रेडिट स्कोर व्यक्ति की साख तय करने में मदद करता है। भारत में 4 प्रमुख क्रेडिट ब्यूरो हैं-

  • ट्रांसयूनियन सिबिल
  • इक्विफैक्स
  • एक्सपीरियन
  • क्रिफ हाईमार्क

 

Free में क्रेडिट स्कोर कैसे जानें? (How to Know Credit Score for Free)

 

ट्रांसयूनियन सिबिल, इक्विफैक्स, एक्सपेरियन और क्रिफ हाईमार्क 4 क्रेडिट ब्यूरो हैं, जो क्रेडिट रिपोर्ट और क्रेडिट स्कोर जेनरेट करता है। जब आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में आपके क्रेडिट हिस्ट्री के संदर्भ में समान डेटा होगा, तो आपका क्रेडिट स्कोर एक क्रेडिट ब्यूरो से दूसरे में भिन्न होगा। आप अपने सिबिल स्कोर के साथ-साथ अन्य क्रेडिट ब्यूरो द्वारा दिए गए क्रेडिट स्कोर को मुफ्त में पैसाबाज़ार.कॉम वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं। पैसाबाज़ार.कॉम के माध्यम से आपके क्रेडिट स्कोर की जानने की प्रक्रिया नीचे दी गई है:

स्टेप 1: पैसाबाज़ार.कॉम पर जाएं और होम पेज पर ‘Get Report’ बटन पर क्लिक करें

स्टेप 2: इसके बाद खुलने वाले पेज पर, अपना लिंग, नाम, जन्मतिथि, पैन नंबर जैसी जानकारी भरें और अपने क्रेडिट स्कोर की जांच से जुड़े नियम और शर्तों से सहमत होने के लिए चेकबॉक्स पर क्लिक करें

स्टेप 3: अपने क्रेडिट स्कोर को मुफ्त में ऑनलाइन जानने के लिए ‘Get Your Credit Score’ पर क्लिक करें।

 

क्रेडिट स्कोर को कैसे कैलकुलेट करें? (How to Calculate Credit Score)

 

विभिन्न क्रेडिट ब्यूरो जैसे कि– ट्रांसयूनियन सिबिल, इक्विफैक्स, एक्सपेरियन और क्रिफ हाईमार्क क्रेडिट स्कोर जेनरेट करने के लिए क्रेडिट रिपोर्ट डेटा का उपयोग करने के लिए विभिन्न स्कोरिंग मॉडल का उपयोग करते हैं। ये स्कोरिंग मॉडल किसी व्यक्ति के क्रेडिट स्कोर को बनाते समय कई कारकों का उपयोग करते हैं। यही कारण है कि एक ही व्यक्ति का अलग-अलग क्रेडिट ब्यूरो में अलग स्कोर होगा, भले ही क्रेडिट हिस्ट्री बिल्कुल एक जैसी हो। यह केवल इसलिए होता है, क्योंकि क्रेडिट ब्यूरो के पास अपना विशिष्ट प्रोपराइटरी एल्गोरिथम होता है, जिसका उपयोग किसी व्यक्ति के क्रेडिट स्कोर को कैलकुलेट करने के लिए किया जाता है। कुछ प्रमुख कारक जैसे कि क्रेडिट मिक्स, क्रेडिट हिस्ट्री अवधि, क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेश्यो, हार्ड इंक्वायरी और लोन भुगतान रिकॉर्ड किसी व्यक्ति के क्रेडिट स्कोर को प्रभावित करते हैं। इनके बारे में आप लेख के शुरुआत में जाकर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

 

क्रेडिट स्कोर और क्रेडिट रिपोर्ट को समझना (Understanding credit scores and credit reports)

 

क्रेडिट स्कोर आपकी क्रेडिट हिस्ट्री की 3 अंकों की संख्या है। यह 300 से 900 के बीच होता है और किसी व्यक्ति के क्रेडिट बिहेवियर को दर्शाता है। यह 3 अंकों की संख्या प्रभावी रूप से भुगतान हिस्ट्री समेत किसी व्यक्ति की क्रेडिट हिस्ट्री को प्रस्तुत करती है। क्रेडिट कार्ड, लोन आदि के लिए आवेदन, अधिक क्रेडिट स्कोर आम तौर पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। रिपोर्ट में शामिल मुख्य जानकारी निम्नलिखित हैं:

  • क्रेडिट नंबर
  • बकाया (ड्यू) और बैलेंस समेत आपके लोन और क्रेडिट कार्ड अकाउंट की पूरी जानकारी
  • देर से भुगतान और चूक (यदि कोई हो)
  • उन संस्थाओं की लिस्ट, जिन्होंने आपकी क्रेडिट रिपोर्ट की जांच की है और जांच का कारण (नया लोन / नया क्रेडिट कार्ड, आदि)
  • आपकी व्यक्तिगत जानकारी

 

बता दें कि आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में आपकी बचत, निवेश, भुगतान या यूटिलिटी बिल इत्यादि के बारे में जानकारी शामिल नहीं होती है (भारत के अलावा अन्य कई देशों में क्रेडिट रिपोर्ट के विपरीत)। हर क्रेडिट इंफॉर्मेशन कंपनी – ट्रांसयूनियन सिबिल, इक्विफैक्स, एक्सपेरियन और सीआरआईएफ हाईमार्क विभिन्न स्कोरिंग मॉडल का उपयोग करके अपनी रिपोर्ट तैयार करती है।

क्रेडिट स्कोर की लिमिट 300 और 900 के बीच होती है। 900 के करीब स्कोर को आमतौर पर एक अच्छा स्कोर माना जाता है और यह किसी व्यक्ति को अधिक अनुकूल शर्तों पर क्रेडिट सुरक्षित करने में सक्षम बनाता है क्योंकि यह जिम्मेदार क्रेडिट बिहेवियर को दर्शाता है। सामान्य क्रेडिट स्कोर लिमिट नीचे दी गई है:

 

  • खराब: 300-579
  • संतोषजनक: 580-669
  • अच्छा: 670-739
  • बहुत अच्छा: 740-799
  • सर्वोत्तम: 800-850

 

Credit Score कैसे कार्य करता है? (How does Credit Score work)

 

आपके टाइम पर लोन भरने और आपके क्रेडिट कार्ड के भुगतान की रिपोर्ट को बैंकों और वित्तीय संस्थाओं द्वारा मासिक आधार पर सिबिल के पास जमा किया जाता है इस जानकारी का उपयोग करके क्रेडिट इनफार्मेशन रिपोर्ट और क्रेडिट स्कोर बनाया जाता है. इसके आधार पर ही लोन की स्वीकृति होती है. CIBIL Score या Credit Score लोन आवेदन प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है अगर आप लोन लेना चाहते है तो आपके आवेदन के बाद आपका क्रेडिट इनफार्मेशन रिपोर्ट और क्रेडिट स्कोर चेक किया जाता है यदि क्रेडिट स्कोर कम है तो कर्जदाता यानी बैंक या वित्तीय संस्था आपके लोन पर विचार ही न करे अगर क्रेडिट स्कोर अच्छा है तो कर्जदाता लोन देने पर विचार करता है.

तो आप जान गए होंगे कि CIBIL score या Credit Score क्या होता है यहां पर ध्यान देने वाली बात ये है कि क्रेडिट स्कोर जितना अधिक होगा लोन के स्वीकृत होने की सम्भावना उतनी ही अधिक होती है. एक अच्छा सिबिल स्कोर 750 से 900 के बीच माना जाता है Credit Score क्या होता है? यदि आपका सिबिल स्कोर 750 से ऊपर है तो बैंक और अन्य वित्तीय कंपनियां आपको आसानी से लोन दे देंगी यदि आपका सिबिल स्कोर 750 से कम है. तो बैंक और अन्य वित्तीय कंपनियां आपको लोन देने पर आनाकानी करेंगी यानी जिसका सिबिल स्कोर जितना ज्यादा होगा उसके लोन स्वीकृत होने की सम्भावना उतनी ज्यादा होती है

 

 

अपने क्रेडिट स्कोर में सुधार कैसे करें? (How to improve your credit score)

 

आपके क्रेडिट स्कोर को सुधारने के कुछ तरीके नीचे दिए गए हैं:

क्रेडिट मिक्स: सिक्योर्ड और अनिसक्योर्ड लोन दोनों में संतुलन बनाए रखें। पर्सनल लोन और क्रेडिट कार्ड जैसे कई अनसिक्योर्ड लोन होने के कारण, बैंक आपको जोखिम भरा उधारकर्ता मानते हैं और आपके क्रेडिट स्कोर को कम कर सकते हैं।

लोन राशि का समय पर भुगतान: समय पर अपना बकाया भुगतान करने की कोशिश करें। यह एक जिम्मेदार क्रेडिट बिहेवियर और भुगतान क्षमता को दर्शाता है।

कमियों के लिए बार-बार अपनी क्रेडिट रिपोर्ट की जाँच करना : कई बार प्रशासनिक कमियों और डेटा / सूचना के धोखाधड़ी के कारण आपकी रिपोर्ट में गलत जानकारी दर्ज हो जाती है| इसलिए ये सलाह दी जाती है कि आप समय-समय पर अपनी रिपोर्ट की जांच करते रहें और कोई गलत जानकारी मिलने पर तुरंत क्रेडिट ब्यूरो से संपर्क करें।

ज़्यादा आवेदन से बचें : बहुत कम समय के भीतर कई बार क्रेडिट कार्ड या लोन के लिए आवेदन ना करें। यह आपकी क्रेडिट रिपोर्ट पर हार्ड इंक्वायरी की संख्या बढ़ा सकता है और आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

कम क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेश्यो: अपने क्रेडिट उपयोग को कम करें। अपनी उपलब्ध क्रेडिट लिमिट के अधिकतम 30% तक अपने क्रेडिट उपयोग को सीमित करें। उपलब्ध क्रेडिट का 30% से अधिक खर्च करना क्रेडिट पर आपकी अत्यधिक निर्भरता को दर्शाता है और आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव डालता है।

क्रेडिट लिमिट बढ़ना : अगर आपका बैंक आपसे आपकी क्रेडिट लिमिट बढ़ाने के लिए कहता है तो मना न करें और आप खुद भी बैंक से आपकी क्रेडिट लिमिट बढ़ाने के लिए कह सकते हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि आप अधिक खर्च करना शुरू करें या अपने खर्चों को बढ़ाएं। लेकिन इसके बजाय यह क्रेडिट यूटिलाइज़ेशन रेश्यो को कम करने में मदद करता है क्योंकि इससे उपलब्ध क्रेडिट लिमिट बढ़ती है लेकिन उपयोग कम रहता है। इससे आपके क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

डेट को सेटल न करें: अपने डेट को निपटाने से बचें। हालांकि, यह डेट के बोझ को कम कर सकता है, यह आपके डेट को चुका नहीं पाता है और इससे आपके क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

 

क्रेडिट स्कोर आपकी योग्यता को कैसे प्रभावित करता है? (How does a credit score affect your eligibility)

 

क्रेडिट स्कोर बैंकों को किसी व्यक्ति की क्रेडिट योग्यता तय करने और भुगतान पर डिफ़ॉल्ट के जोखिम का आकलन करने में मदद करता है। वास्तव में यह बैंकों के लिए पहली धारणा के रूप में काम करता है। क्रेडिट स्कोर जितना अधिक होगा, उतना ही लोन शर्तों पर सकारात्मक असर पड़ता है। निम्नलिखित तरीकों से क्रेडिट स्कोर पर्सनल लोन, कार लोन, होम लोन और क्रेडिट कार्ड को सुरक्षित करने की आपकी योग्यता को प्रभावित करता है:

पर्सनल लोन: कम क्रेडिट स्कोर से आपका लोन आवेदन खारिज हो सकता है, जबकि अधिक क्रेडिट स्कोर आपके लोन आवेदन की समीक्षा और मंज़़ूर होने की संभावना को बढ़ाता है। अधिक क्रेडिट स्कोर कम ब्याज दर, अधिक राशि या लॉन्ग टर्म अवधि जैसी अधिक शर्तों पर पर्सनल सिक्योरिटी क्रेडिट का कारण बन सकता है।

कार लोन: अधिक क्रेडिट स्कोर वाले व्यक्ति कम ब्याज दर के साथ लोन पा सकते हैं और 0% फाइनेंसिंग पर नया कार लोन प्राप्त कर सकते हैं। Credit Score क्या होता है? कम क्रेडिट स्कोर भुगतान राशि को भी प्रभावित कर सकता है क्योंकि कम क्रेडिट स्कोर वाले व्यक्तियों को भुगतान राशि का भुगतान करने की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि इससे बैंकों को भी अधिक जोखिम की संभावना होती है।

होम लोन: अच्छा क्रेडिट स्कोर होम लोन हासिल करने के आपके अवसरों को बढ़ाता है और आपको बेहतर नियमों और शर्तों पर बातचीत करने में सक्षम बनाता है।

क्रेडिट कार्ड: अधिक क्रेडिट स्कोर से अधिक क्रेडिट हासिल करने की आपकी संभावना बढ़ती है, आप अधिक क्रेडिट लिमिट का लाभ उठा सकते हैं और बेहतर रिवार्ड और लाभ के साथ क्रेडिट कार्ड प्राप्त कर सकते हैं। अधिक क्रेडिट स्कोर वाले भी ब्याज की कम दरों और अनुकूल शर्तों पर क्रेडिट कार्ड प्राप्त कर सकते हैं।

 

आपको एक अच्छा क्रेडिट स्कोर क्यों बनाए रखना चाहिए? (Why should you maintain a good credit score)

 

हालांकि क्रेडिट स्कोर केवल वो नहीं है, जिस पर बैंक किसी व्यक्ति को पैसे उधार देते समय विचार करते हैं, लेकिन यह निश्चित रूप से महत्वपूर्ण है जो लोन आवेदनों का मूल्यांकन करते समय बैंक देखते हैं। एक अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाए रखने के कई लाभ हैं। उनमें से कुछ नीचे दिए गए हैं:

  • एक अच्छा क्रेडिट स्कोर आपके लोन आवेदन की मंज़ूरी की संभावना को बढ़ाता है, क्योंकि एक अधिक क्रेडिट स्कोर अच्छा लोन व्यवहार, अधिक लोन योग्यता और बैंक के लिए कम जोखिम को दर्शाता है
  • लोन की शीघ्र और आसान मंज़ूरी
  • प्री-अप्रूव्ड लोन
  • अच्छा क्रेडिट स्कोर से आपको कम ब्याज दरों पर लोन मिल सकता है
  • बेहतर रिवार्ड और लाभ के साथ क्रेडिट कार्ड प्राप्त करें
  • अधिक क्रेडिट कार्ड लिमिट प्राप्त करें
  • प्रोसेसिंग फीस और अन्य शुल्क पर छूट

 

क्रेडिट स्कोर और क्रेडिट रेटिंग के बीच अंतर (Difference between credit score and credit rating)

 

क्रेडिट स्कोर और क्रेडिट रेटिंग के बीच अंतर नीचे दिए गए हैं:

 

क्रेडिट स्कोर क्रेडिट रेटिंग
क्रेडिट स्कोर किसी व्यक्ति की क्रेडिट हिस्ट्री की 3 अंकों की संख्या है और यह लोन प्रकारों और बैंकों में किसी व्यक्ति की साख और वित्तीय स्थिति को तय करने में मदद करता है। क्रेडिट रेटिंग शेयरों, बॉन्ड, म्यूचुअल फंड, सर्टिफिकेट ऑफ डिपॉज़िट आदि जैसे वित्तीय प्रॉडक्ट से जुड़ें है। क्रेडिट रेटिंग आमतौर पर AA+, AAA, आदि जैसे अल्फ़ान्यूमेरिक संयोजन में दी जाती है।
भारत में क्रेडिट रिपोर्ट और क्रेडिट स्कोर बनाने के लिए लाइसेंस प्राप्त क्रेडिट संस्थान हैं, ट्रांसियन सिबिल, इक्विफैक्स, एक्सपेरियन और क्रिफ हाईमार्क वित्तीय प्रॉडक्ट को क्रेडिट रेटिंग देने के लिए अधिकृत कंपनियां क्रिसिल, ICRA, ब्रिकवर्क रेटिंग्स इंडिया आदि हैं।
यह बैंकों को किसी व्यक्ति को लोन देने में शामिल जोखिम का मूल्यांकन करने में मदद करता है यह एक निवेशक को किसी विशेष वित्तीय प्रॉडक्ट में निवेश करने में शामिल जोखिम का आकलन करने में मदद करता है

 

यह भी उल्लेखनीय है कि सिबिल वर्तमान में सिबिल कंपनी की रिपोर्ट के रूप में जाने जाने वाले व्यवसायों के लिए एक सेवा प्रदान करता है जिसमें सिबिल रैंक शामिल है जो व्यक्तियों के लिए क्रेडिट स्कोर के समान है। हालांकि, यह भी क्रेडिट रेटिंग के समान नहीं है जो विशेष रूप से वित्तीय प्रॉडक्ट पर लागू होता है।

 

FAQs- Credit Scoreपर अक्सर पूछे जाने वाले सवाल जवाब :-

 

प्रश्न. क्या क्रेडिट स्कोर शून्य हो सकता है?


उत्तर: नहीं, क्रेडिट स्कोर कभी भी शून्य नहीं हो सकता है। हालांकि, यदि किसी व्यक्ति की कोई क्रेडिट हिस्ट्री नहीं है या क्रेडिट के लिए बहुत नया है, तो उन्हें क्रेडिट स्कोर “NA” या “NH” के साथ जोड़ा जा सकता है।

 

प्रश्न. होम लोन के लिए न्यूनतम क्रेडिट स्कोर क्या है?


उत्तर: होम लोन के लिए कोई न्यूनतम क्रेडिट स्कोर नहीं है। आपका स्कोर 900 के करीब है। अनुकूल शर्तों जैसे कि कम ब्याज दर, अधिक लोन मंज़ूरी लिमिट, आदि पर लोन मिल सकता है।

 

प्रश्न. अलग-अलग क्रेडिट ब्यूरो में क्रेडिट स्कोर अलग-अलग क्यों होते हैं?


उत्तर: विभिन्न क्रेडिट ब्यूरो के क्रेडिट स्कोर अलग-अलग होते हैं क्योंकि उपयोग किए गए स्कोरिंग मॉडल में अंतर होता है। नतीजतन, भले ही क्रेडिट रिपोर्ट में डेटा बिल्कुल समान है, स्कोर में अंतर है जिसके आधार पर क्रेडिट इंफॉर्मेशन कंपनी स्कोर को कैलकुलेट करती है।

 

प्रश्न. भारत में क्रेडिट स्कोर कितनी बार अपडेट किए जाते हैं?


उत्तर: क्रेडिट ब्यूरो हर 30 – 45 दिनों के बाद डेटा जमा करते हैं, जिसके बाद क्रेडिट स्कोर को क्रेडिट इंफॉर्मेशन कंपनियों द्वारा अपडेट किया जाता है।

 

Conclusion

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Credit Score क्या होता है? Free में क्रेडिट स्कोर कैसे जानें? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Credit Score क्या होता है? Free में क्रेडिट स्कोर कैसे जानें?

 

 

Leave a Comment