ग्रेजुएशन कैसे करें? ग्रेजुएशन करना क्यों जरूरी है?

दोस्तों ग्रेजुएशन कैसे करें? :- प्रत्येक स्टूडेंट्स के पास अलग – अलग मानसिकता होता है जो उन्हें किसी चीज के बारे में जानकारी एकत्रित करने के लिए प्रेरित करता है, जिससे उनके नॉलेज में बृद्धि हो. यह प्रक्रिया उनके सोच पर निर्भर होता है कि उनकी मानसिकता क्या है. विद्वानों के अनुसार यही सोच विद्यार्थियों को उच्च एवं प्रभावशाली बनाती है.

ग्रेजुएशन सिर्फ एक पढ़ाई का जरिया नही है बल्कि यह आपको सुनिश्चित कराता है कि अब आप व्यस्क (Young) हो गए है. अपनी कुशल सोच एवं समृधि के साथ अपना फ्यूचर प्लान खुद बना सकते है. इसलिए, पहले वास्तिविकता को पहचाने फिर करियर सुनिश्चित करे.

भारत में ग्रेजुएशन का पद बेहद सम्मानित और उर्जावान है. इस डिग्री के मदद से भारत के विभिन्न क्षेत्र में सरलता से नौकरी प्राप्त किया जा सकता है. इसलिए, सरकारी या गैर सरकारी संस्थाएं जॉब के लिए ग्रेजुएट होना अनिवार्य कर दिया है. यदि आप ग्रेजुएशन पूरा करते है तो बेहतर जॉब के साथ-साथ बेहतर सैलरी मिलना लाजमी है.

स्टूडेंट्स होने के नाते हमें उस फील्ड की जानकारी होनी चाहिए जिसके साथ हम अपने फ्यूचर को आगे बढ़ान चाहते है. इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए आपको Graduation in Hindi से सम्बंधित सभी जानकारी यहाँ दिया जा रहा है कि वास्तव में Graduation क्या है और करना जरुरी क्यों है.

 

ग्रेजुएशन कैसे करें? ग्रेजुएशन करना क्यों जरूरी है?
TEJWIKI.IN

 

ग्रेजुएशन क्या है? (What is graduation)

 

ग्रेजुएशन 12th पास करने के बाद बैचलर डिग्री पाने के लिए किया जाने वाला एक कोर्स है। इसकी अवधि 3 साल से लेकर 5 साल तक होती है। बीए, बीएससी, बीकॉम, बीटेक इत्यादि डिग्री कोर्स ग्रेजुएशन के उदाहरण है।

Graduation को हिंदी में स्नातक कहते है। अब यदि आपके मन में प्रश्न आता है कि स्नातक पास का मतलब या अर्थ क्या है तो इसका अर्थ है किसी के द्वारा ग्रेजुएशन करना। अगर किसी ने ग्रेजुएशन डिग्री कर ली है तो उसे स्नातक पास या ग्रेजुएट बोलते है।

 

 

ग्रेजुएशन को बैचलर डिग्री, स्नातक, अंडर ग्रेजुएट डिग्री, पूर्व स्नातक डिग्री के नाम से भी जाना जाता है।

यह कुछ लोकप्रिय ग्रेजुएशन प्रोग्राम या कोर्स है जो अधिकतर यूनिवर्सिटी में कराये जाते है। हालाँकि इनमें से कुछ कोर्स के लिए स्पेशल कॉलेज या यूनिवर्सिटी होते है जैसे बीटेक के लिए इंजीनियरिंग कॉलेज, एमबीबीएस एवं डेंटल कोर्स के लिए मेडिकल कॉलेज आदि।

 

ग्रेजुएशन कोर्सेज के नाम Short Form
Bachelor of Arts B.A.
Bachelor of Science B.SC
Bachelor of Commerce B.COM
Bachelor of Computer Applications BCA
BA with Bachelor of Law BA LLB
Bachelor of Design B.Des
Bachelor of Architecture B.Arch
Bachelor of Technology B.Tech
Bachelor of Computer Science BCS
Bachelor of Fine Arts BFA
Bachelor of Engineering B.E.
Bachelor of Hotel Management B.F.M
Bachelor of Dental Surgery B.D.S

 

Note: यह सिर्फ कुछ ग्रेजुएशन कोर्सेज के नाम है जो इंडिया में सबसे ज्यादा पॉपुलर है। इनके अलावा भी यूनिवर्सिटीज द्वारा ग्रेजुएशन के अनेक courses करवाए जाते है जिनके बारे में अधिक जानकारी आप किसी भी यूनिवर्सिटी की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर पा सकते है।

Important: जिन स्टूडेंट्स को graduation means in hindi का पता नहीं है, उनको बता दें कि इसका मतलब “स्नातक स्तर की पढ़ाई” करना है।

 

Graduation के लिए योग्यता (Qualification for Graduation)

 

किसी भी स्टूडेंट का ग्रेजुएशन करने के लिए मिनिमम योग्यता बाहरवीं कक्षा पास होना जरूरी है। स्टूडेंट्स किसी भी stream से 12th करे, वो अपनी stream के लिए suitable या यूनिवर्सिटी के वो ग्रेजुएशन प्रोग्राम जिनमें वो प्रवेश लेने की योग्यता रखता है, ग्रेजुएशन कर सकता है।

बीटेक, बीई अंडर ग्रेजुएशन कोर्स में प्रवेश लेने के लिए स्टूडेंट्स को आईआईटी का jee mains एग्जाम क्लियर करना जरूरी होता है। MBBS, BDS जैसे ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन के लिए नीट का एग्जाम पास करना होता है।

कई टॉप यूनिवर्सिटी में ग्रेजुएशन कोर्स में प्रवेश के लिए एंट्रेंस एग्जाम लिया जाता है जबकि अधिकतर स्टेट लेवल टॉप यूनिवर्सिटी में 12th के नंबर्स के आधार पर एडमिशन दिया जाता है।

 

ग्रेजुएशन कैसे करें? (How to do graduation)

 

ग्रेजुएशन कैसे किया जाता है, इसके लिए कुछ खास नहीं करना पड़ता है। अगर आपने बाहरवीं कक्षा उत्तीर्ण कर ली है तो आप किसी भी सरकारी कॉलेज, यूनिवर्सिटी या ओपन संस्थान से ग्रेजुएशन की डिग्री कर सकते है।

यदि आप किसी टॉप प्राइवेट कॉलेज या यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन करना चाहते है तो इसके लिए ये स्टेप्स अपनाएं:

  • टॉप यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेना है तो 12th क्लास में अच्छे नंबर्स का होना बहुत जरूरी है क्योंकि इसके बिना टॉप यूनिवर्सिटी में एडमिशन नहीं मिलता है
  • बीटेक ग्रेजुएट होना है तो 12th मैथ्स में 75% से ज्यादा अंक और आईआईटी की jee exam के मेरिट लिस्ट में आना जरूरी है
  • किसी अच्छे प्राइवेट कॉलेज में भी एडमिशन के लिए 12th में 80% प्लस नंबर्स होने बेहतर रहते है।

कला वर्ग से 12th करने वाले अधिकतर स्टूडेंट बीए (BA) करते है, साइंस वाले बीएससी (BSC) या बीटेक (B.Tech), वाणिज्य वाले बीकॉम (BCOM) कोर्स को करते है। इसके अलावा कई ऐसे कोर्स होते है जिनमें किसी भी वर्ग से 12th करने वाला स्टूडेंट एडमिशन ले सकता है।

ध्यान दें: विज्ञान वर्ग से 12th करने वाले बीएससी, btech के अलावा BA में भी एडमिशन ले सकते है जबकि कला एवं वाणिज्य वर्ग वाले बीएससी नहीं कर सकते।

 

ग्रेजुएशन कितने साल की होती है? (How long is graduation)

 

सामान्यत: ग्रेजुएशन 3 साल का कोर्स होता है। परंतु आपको ग्रेजुएशन के अंतर्गत आने वाले कुछ कोर्स ऐसे भी मिल जाएंगे जिसमें 4 एवं 5 साल अध्ययन करना होता है।

 

Graduation की फीस कितनी होती है? (How much is the graduation fee)

 

Graduation करने की Fees आपके कोर्स व कॉलेज पर निर्भर करती है।

अगर 12th में आपके marks अच्छे हैं तो आपको Graduation करने के लिए Government College मिल जाएगा। ग्रेजुएशन कैसे करें? ऐसे में आपको कम पैसे खर्च करने पड़ेंगे।

वहीं अगर आप किसी प्राइवेट कॉलेज से अपने Graduation की पढ़ाई करने की सोच रहें तो आपको इसके लिए अच्छे खासे पैसे खर्च करने पड़ सकते हैं।

कॉलेज के अलावा कोर्स पर भी निर्भर करता है कि आपकी Graduation में कितनी fees लगेगी।

अगर आप B.A. (Bachelor of Arts) या B.Sc. (Bachelor of Science) या फिर B.Com (Bachelor of Commerce) जैसे कोर्स करते हैं तो आपके कम पैसे खर्च होंगे।

लेकिन अगर आप B.Tech (Bachelor of Technology) या फिर B.B.A. (Bachelor of Business Administration) जैसे कोर्स करते हैं तो आपको अधिक पैसे खर्च करने पड़ेंगे।

 

 

ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन में अंतर (Difference between graduation and post graduation)

 

ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री अलग-अलग होती है। जो स्टूडेंट अपने स्नातक स्तर की पढ़ाई (बाहरवीं कक्षा के बाद की) पूरी कर लेते है, उन्हें ग्रेजुएशन की डिग्री / उपाधि मिलती है।

पोस्ट ग्रेजुएशन वो होता है जो ग्रेजुएशन करने के बाद किया जाता है यानि पोस्ट ग्रेजुएशन में admission लेने के लिए graduate होना जरूरी है।

Graduation Degree में BA, BSC, B.com, BBA, BCA, B.Tech आते है जबकि Post Graduation में MA, MSC, MCOM, MBA, MTech etc. कोर्सेज आते है।

पोस्ट ग्रेजुएशन को मास्टर डिग्री कहा जाता है जबकि ग्रेजुएशन को बेचलर डिग्री। ग्रेजुएशन की तुलना में Post Graduation एक बड़ी डिग्री होती है क्योंकि Graduation में अड्मिशन के लिए +2 जरूरी होता है जबकि Post Graduation में admission के लिए 12th के साथ graduation जरूरी होता है। Post Graduation को उच्च शिक्षा कहा जाता है।

 

ग्रेजुएशन करना क्यों जरूरी है? (Why is graduation necessary)

 

ग्रेजुएशन की डिग्री को करना बहुत जरूरी है। इसके निम्न कारण है:

  • ग्रेजुएशन किए हुए स्टूडेंट्स के पास ज्यादा नौकरियां पाने के अवसर होते है क्योंकि उनके पास बैचलर डिग्री आ जाती है और यह कई सारी नौकरियों के लिए जरूरी है।
  • ग्रेजुएशन करने से ज्ञान में भी बढ़ोतरी होती है जो हर तरह से फायदेमंद है।
  • ग्रेजुएशन डिग्री होने से किसी भी सेक्टर में काम करने या मिलने के अवसर बढ़ जाते है
  • उच्च शिक्षा यानि मास्टर डिग्री करने के लिए भी ग्रेजुएशन का होना जरूरी है।
  • ग्रेजुएशन करने के बाद बीएड कर लेने सरकारी स्कूलों में टीचर बनने की योग्यता आ जाती है।
  • इन सबके अलावा भी अनेक ऐसे कारण मिल जायेंगे जो यह बताते है कि Graduate होना जरुरी क्यों है.

कई स्टूडेंट्स स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद Graduation करना महत्वपूर्ण नहीं समझते है या इस डिग्री को करना छोड़ देते है लेकिन इस जानकारी से हर स्टूडेंट को यह जरूर समझना चाहिए कि ग्रेजुएशन करने से कितने फायदे होते है।

 

Graduation करने से लाभ क्या है? (What are the benefits of Graduation)

 

Graduation करने के क्या फायदे हैं इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि आज के समय में लगभग सभी सरकारी नौकरियों में आवेदन के लिए अभ्यर्थियों के पास ग्रेजुएशन की डिग्री का होना आवश्यक माना जाता है।

इसके अलावा प्राइवेट जॉब सेक्टर में भी लगभग 95% से ज्यादा जॉब्स में Graduation की डिग्री का होना अनिवार्य माना जाता है।

इसलिए, अगर आप बेहतर भविष्य पाना चाहते हैं तो Graduation कोर्स करके Graduate अवश्य बने।

 

ग्रेजुएशन करने के बाद क्या करे (what to do after graduation)

 

ग्रेजुएशन कोर्स करने के बाद क्या करे ये आप पर निर्भर करता है आप चाहे तो ग्रेजुएशन के बाद उच्च स्तर की पढाई जैसे पोस्ट ग्रेजुएशन कर सकते है जैसे अगर आपने ग्रेजुएशन कोर्स में B.A किया है तो इसके बाद आप M.A कर सकते है जोकि एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स है। ग्रेजुएशन कैसे करें? और अगर आपने ग्रेजुएशन कोर्स में B.sc किया है तो इसके बाद आप M.sc कर सकते है। इसके अलावा आप चाहे तो किसी सरकारी नौकरी के लिये तैयारी भी कर सकते है।
 

FAQ- ग्रेजुएशन पर अक्सर पूछे जाने सवाल जवाब :-

 

ग्रेजुएशन कितने साल की होती है

ग्रेजुएशन सामान्यत: 3 साल का कोर्स होता है। ग्रेजुएशन के कुछ कोर्स 4 एवं 5 साल के भी होते है।

 

ग्रेजुएशन कब किया जाता है

ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स को 12th पास करने के बाद किया जाता है।

 

ग्रेजुएशन में कितने सब्जेक्ट होते हैं

ग्रेजुएशन के अलग-अलग कोर्स में अलग-अलग सब्जेक्ट होते है। अगर कोई बीए, बीएससी कर रहा है तो उसके विषय कम होते है जबकि बीटेक, बीई जैसे ग्रेजुएशन कोर्स में ज्यादा सब्जेक्ट होते है।

 

ग्रेजुएशन कौनसी क्लास होती है

12वीं क्लास के बाद स्नातक स्तर की पढ़ाई के लिए जो भी classes होती है, वो ग्रेजुएशन क्लास के अंतर्गत आती है

 

Conclusion

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख ग्रेजुएशन कैसे करें? ग्रेजुएशन करना क्यों जरूरी है? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

ग्रेजुएशन कैसे करें? ग्रेजुएशन करना क्यों जरूरी है?

 

Leave a Comment