Graphic Card क्या होता है? इसके कितने प्रकार के होते हैं?

दोस्तों आज ईस आर्टिकल में आप जानेंगे की Graphic Card क्या होता है?, यह कितने प्रकार का होता है क्या काम आता है और ग्राफिक कार्ड के क्या-क्या Features होते है? ग्राफिक कार्ड कौनसी कंपनी बनाती है इसके साथ में आप यह भी जानेंगे की Discrete vs Integrated graphics कार्ड क्या होता है? तथा आपके Laptop या कंप्यूटर में कौन सा Graphic Card है कैसे चेक करें? तो चलिए शुरू करते हैं। ग्राफिक्स कार्ड Laptop का एक अहम हिस्सा होता है।

ग्राफिक कार्ड के बिना या फिर ग्राफिक्स प्रोसेसिंग यूनिट जिसे हम GPU कहते हैं, Laptop या फिर कंप्यूटर स्क्रीन में कुछ भी जैसे: इमेज या वीडियोस को देख पाना संभव नहीं है। Laptop या फिर कंप्यूटर के डिस्प्ले में ग्राफिक्स को दिखाना GPU का काम होता है तो यह सरल सी बात है कि बिना GPU के हमारा Laptop का डिस्पले या फिर टीवी और मॉनिटर का डिस्पले किसी भी प्रकार का विजुअल को नहीं दिखा सकता है।

GPU शब्द का प्रयोग कम से कम 1980 के दशक से किया जा रहा है। लेकिन 1999 में NVIDIA कंपनी के दुवारा एक Graphic Card या GPU बनाया गया था। जिसका नाम GeForce 256 था। यह उस समय काफी पॉपुलर था। उसके बाद से NVIDIA ने कंप्यूटर Graphic Card के क्षेत्र में सराहनीय योगदान दियाहै। ध्यान दीजिए अभी तक मैं GPU और Graphic Card को एक जैसा ही बता रहा हूँ, लेकिन इनके बिच में थोड़ा अंतर है, जो आपको आगे पढ़ने को मिलेगा। तो चलिए अब हम सबसे पहले समझते हैं कि ग्राफिक्स कार्ड क्या होता है और यह हमारे किस काम आता है?

 

Graphic Card क्या होता है? इसके कितने प्रकार के होते हैं?
TEJWIKI.IN

 

Graphic Card क्या होता है? (What is a Graphic Card)

 

Graphic Card एक Computer Hardware का piece है, जो सभी graphics को monitor पर display करता है. हमे अपनी कंप्यूटर स्क्रीन अर्थात मॉनिटर पर जो भी ग्राफ़िक्स दिखाई देते है जैसे – पिक्चर, वीडियो, एनीमेशन इत्यादि उन सभी को display तक render करने का काम इन्ही graphic card का होता है. ऐसा करने के लिए ये graphical data को signals में convert करता है, जिससे monitor उसको समझ पाता है.

Graphic Card को कुछ अन्य नामो से भी जाना जाता है, जिनमे video card, graphics adapter, display adapter, video controller जैसे नाम शामिल है. अधिकतर PC में graphics की processing का काम CPU के पास ही होता है. अगर आप सिर्फ अपने पर्सनल कामों के लिए इसका उपयोग करते है, तो आपको computer में अलग से इसे लगाने की कोई जरूरत नही है.

परन्तु यदि आप gaming व video editing जैसे high graphics वाले Software को चलाना चाहते है, तो आपको अपने computer या laptop में इसे लगाना ही पढ़ेगा. क्योंकि inbuilt graphic card के पास processing करने के लिए अपनी RAM व processor नही होती है. तो क्या हमें इन कार्ड्स की जरूरत है, आइये इसे थोड़ा आसान भाषा में समझते है.

 

 

Graphic कार्ड के कार्य ? (Functions of Graphic Cards )

 

Graphics Card कंप्यूटर में एक्स्ट्रा Graphics Processing Power बढ़ाने के लिए इश्तेमाल किया जाता है। जितना अधिक प्रोसेसिंग पावर होता है, उतना ही अच्छे से इमेज और वीडियो की प्रोसेसिंग यानि (Decoding या Encoding) होती है। जिसके कारण हमें बेहतर से बेहतर और बहुत खूबसूरत फोटोज और वीडियो डिस्प्ले में नजर आते है। हालाँकि फोटो और वीडियो को खूबसूरत दिखने के लिए सिर्फ Graphics Card ही अकेला जिम्मेदार नहीं है, बल्कि Graphics Card के साथ-साथ Display या Monitor भी अच्छा होना चाहिए। इसलिए आप अक्सर UHD, HD+, 4K और 8K इत्यादि डिस्प्ले बारे में सुनते है।

सरल भाषा में अच्छा विज़ुअल (फोटो और वीडियो) को देखने के लिए अच्छा मॉनिटर या डिस्प्ले और पावरफुल ग्राफ़िक्स प्रोसेसिंग यूनिट होना जरूरी है। यदि आप एक गेम डेवलपर, Animator, Video Editor या Photo Rendere/Editor इनमे से कोई एक है, तो आपको एक अच्छा Dedicated Graphic Card लेने की जरूरत है। ताकि Game, या Video रेंडरिंग एकदम हाई क्वालिटी और बहुत जल्दी यानि कम समय में पूरा हो सके।

कुलमिलाकर Graphic कार्ड हमें अच्छे क्वालिटी में इमेज और वीडियो को उत्पन करता है। यह हमारे समय की बचत करता है तथा कंप्यूटर का ओवरआल परफॉरमेंस को बढ़ाता है। जिससे हमरा कम्प्यूटर या फिर Laptop तेज गति से कार्य करता है।

 

क्या ग्राफिक्स कार्ड की जरुरत है (is graphics card required)

 

क्या आपको “Graphic card” की जरूरत है, इसको समझने के लिए हम इसे दो मुख्य प्रकारों में विभाजित करते है. जिसमे पहला एकीकृत ग्राफ़िक्स (integrated graphics) और दूसरा समर्पित ग्राफ़िक्स (dedicated graphics) है. एकीकृत ग्राफ़िक्स किसी भी computer या laptop में inbuilt होते है और ये graphics की processing के लिए उस कंप्यूटर के CPU और RAM का उपयोग करते है.

अब यदि आप अपने computer का उपयोग browsing करने video देखने या अपने ऑफिस के काम करने के लिए करते है, तो आपके कंप्यूटर पर इसका उतना प्रभाव नही पड़ेगा और वह smooth कार्य करेगा. परन्तु यदि आप उसमे high graphics game खेले या किसी video editing software का इस्तेमाल करना चाहे तो वह hang हो जाएगा.

ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि graphics की rendering के लिए कंप्यूटर के CPU और RAM का उपयोग हो रहा है. जिससे कंप्यूटर पर load बढ़ता है और वह hang हो जाता है. इसीलिए gaming streamers एक dedicated graphic card अपने PC में लगाते है. इस ग्राफ़िक कार्ड के पास खुद की RAM व processor होता है, जिसे हम GPU (graphical processing unit) कहते है.

तो कुल मिलाकर यदि आप heavy game खेलना चाहते है या video editing सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करना चाहते है. तो आपको एक अच्छा graphic card अपने computer में लगाना चाहिए. लेकिन यदि आप normal task करते है, तो आपको इसकी कोई जरूरत नही है.

 

Graphic कार्ड कार्य कैसे करता है? (How does a graphic card work)

 

अगर आपने मेरा पुराना आर्टिकल कंप्यूटर कैसे काम करता है और एक दूसरा आर्टिकल प्रोसेसर कैसे काम करता है पढ़ा होगा तो उसमे मैंने बताया था, की प्रोसेसर, कंप्यूटर का एक अहम् हिस्सा है, सभी गणितीय गणना प्रोसेसर ही पूरा करता है इसलिए प्रोसेसर को कंप्यूटर का दिमाग भी कहते है। तो यँहा से एक बात यह समझ में आता है, की कंप्यूटर अपने सभी कार्य गणितीय गणना पूरा करके करता है। सभी कार्य जैसे: कंप्यूटर के पेरीफेरल डिवाइस को चलाना हो, किसी गणितीय समीकरण को हल करना हो, किसी सॉफ्टवेयर को ओपन या क्लोज करना हो, या फिर किसी भी इनपुट और आउटपुट सिग्नल को प्रोसेस कर, और उसे कण्ट्रोल करना है, सभी काम गणितीय गणना से पूरा होता है।

आखिर गणितीय गणना ही क्यों? क्यूंकि हमारा कंप्यूटर लॉजिक गेट्स पर आधारित है, और लॉजिक्स गेट्स केवल बाइनरी भाषा (Binary Code) को समझते है। बाइनरी भाषा केवल 1 और 0 से मिलकर बना होता है, जिसे हम सोर्स कोड या बाइनरी कोड कहते है। बाद में इन्ही बाइनरी भाषा को Number System (नंबर सिस्टम) में बदला जाता है, जैसे: Octal, Decimal, Hexadecimal इत्यादि और फिर इनके इश्तेमाल से मनुष्य के समझने योग्य भाषा का निर्माण किया जाता है। जिसके फलस्वरूप अनेकों सॉफ्टवेयर को डेवेलोप किया जाता है। तो ये सभी काम एक प्रोसेसर या माइक्रो कंट्रोलर के बिना संभव नहीं हो सकता है।

इसलिए अलग-अलग और बेहतर से बेहतर प्रोसेसर का बनाया जाता है और उसका इश्तेमाल किया जाता है। जितना अधिक पावर फूल प्रोसेसर होता है, उतना ही तेज गति से गणितीय गणना संभव हो पाता है, जिसके परिणाम से हम अधिक तेज गति से काम कर सकते है। हालाँकि तेज गति से काम करने के लिए प्रोसेसर को भी अच्छी RAM, और अच्छे Storage का जरूरत पड़ता है। सिर्फ अकेला प्रोसेसर कंप्यूटर को अधिक तेज गति से नहीं चला सकता है। इसलिए हमें अच्छे प्रोसेससर के साथ अच्छे RAM और स्टोरेज डिवाइस जैसे: SSD (Solid State Drive) का इश्तेमाल करना पड़ता है।

कंप्यूटर या Laptop के मदर बोर्ड में किसी खाश जगह पर खाश प्रोसेसर लगा होता है, जिसे प्रोसेसिंग यूनिट कहते है। यह प्रोसेसिंग यूनिट सिर्फ और सिर्फ, कंप्यूटर में सभी प्रोसेसिंग कार्य को पूरा करता है। इसलिए मदर बोर्ड में अलग-अलग प्रोसेसिंग से सम्बंधित कार्य को पूरा करने के लिए अलग-अलग प्रोसेसिंग यूनिट को लगाना पड़ता है। चूँकि यह प्रक्रिया काफी जटिल है और इसमें काफी खर्च आते है। इसलिए अधिकतम Laptop में केवल एक ही प्रोसेसिंग यूनिट लगा होता है। हालाँकि इसको अपग्रेड करने का ऑप्शन दिया जाता है और Graphic Card, Sound Card इत्यादि इसका सबसे अच्छा उदाहरण है।

तो अब आप समझ गए होंगे की Graphics Processing Unit या Graphic Card का मुख्य कार्य क्या है और यह काम कैसे करता है। Graphics Processing Unit चूँकि मदर बोर्ड में अटैच या इनबिल्ट रहता है, और यह इमेज और वीडियो से संबधित सभी कार्य को करने के लिए Motherboard में पहले से दिया गया RAM का इश्तेमाल करता है जिसे GPU Shared Memory भी कहते है।

जबकि Graphic Card आपके कंप्यूटर में एक्स्ट्रा ग्राफ़िक्स प्रोसेसिंग पावर को बढ़ाने के लिए अलग से डेडिकेट किया जाता है। इसके अपने खुद के RAM, और प्रोसेसर होते है, जिसकी मेमोरी कैपेसिटी 2 Gb, 4Gb, 6Gb इत्यादि होता है। उदाहरण के लिए आप टास्क बार को खोलकर Performance के अंदर GPU मेमोरी को देख सकते है। अगर आपके पास इंटेल का प्रोसेसर है, तो उसमे कॉमन रूप से बाय डिफ़ॉल्ट Intel HD 620 GPU होता है। अगर Intel के अलावा अन्य नाम दिखाई देता है, तो वह या तो दूसरे कंपनी का है या फिर डेडिकेटेड Graphic Card लगा है। आपके Laptop या कंप्यूटर में कौन सा Graphic Card है? आप निचे पढ़कर जान सकते है।

एक ही प्रोसेसर और लिमिटेड RAM में सभी कार्य, यानी गणितीय गणना, न करना पड़े इसलिए, हमें अलग से मदर बोर्ड में डेडिकेटेड Graphic Card लगाना पड़ता है, जिससे हमारा मुख्य (Main) CPU फ्री रहता है, और कंप्यूटर के सभी दूसरे टास्क को आसानी से और तेज गति से पूरा करता है। और ग्राफ़िक्स से सम्बंधित सभी गणितीय गणना Graphic Card को करना पड़ता है। ऊपर से लेकर अब तक इतना डिटेल में एक्सप्लेनेशन सिर्फ आपको बेसिक कॉन्सेप्ट समझाने के लिए किया। उम्मीद है की अब आप अच्छे से समझ गए होंगे, तो निचे जरूर कमेंट कीजिए ताकि मुझे भी मालूम चले।

 

कंप्यूटर में Graphic Card कैसे चेक करे? (How to Check Graphic Card in Computer?)

 

अगर आप देखना चाहते है, कि अभी आपके कंप्यूटर या लैपटॉप में कौन सा GPU मौजूद है और उसकी क्या क्षमता तो इसके लिए नीचे बताये गए स्टेप को फॉलो करें.

1. सबसे पहले आपको Start menu पर Click करना है.

2. अब start menu के अंदर Run टाइप करके enter कर देना है.

Search programs and files in start menu
3. इस open box में आपको “dxdiag” बिना quotation mark के type करके enter कर देना है.

Enter command for any program
4. आपके सामने DirectX Diagnostic Tool ओपन हो जाएगा. जिसमे आपको display tab पर click करना है.

DirectX components and driver installed details of system
5. इस डिस्प्ले टैब में Display section के अंदर आपको display के बारे में सारी जानकारी मिल जाएगी. इससे आपको अपने GPU का नाम उसकी मेमोरी और निर्माता के बारे में जानने को मिलेगा.

Video Card व Graphic Card में अंतर (Difference Between Video Card and Graphic Card)

 

Video Card और Graphic Card में ज्यादा difference नही है. ये दोनों ही computer के जरूरी part है, जो Motherboard में स्थित होते है. इन दोनों का मुख्य काम computer display तक images और video के दृश्य पहुंचाना है. Graphic Card क्या होता है? आमतौर पर देखा जाए तो दोनों के बीच कोई बुनयादी अंतर नही है. असल में ये दो प्रकार के ग्राफ़िक कार्ड है, जिनमे एक integrated graphics card और दूसरा dedicated graphics card है.

इनके बीच सबसे बड़ा difference इनका purpose है. कहने का मतलब है, video card को small task को करने के लिए बनाया गया है. जबकि एक graphic card किसी भी complex task को आसानी से कर सकता है.

 

एक अच्छा ग्राफिक्स कार्ड क्या है? (What is a good graphics card)

 

अब तक आप ये जान चुके होंगे कि ग्राफ़िक कार्ड क्या है और आपके कंप्यूटर के लिए क्यों उपयोगी है. लेकिन बहुत से यूजर इस दुविधा में रहते है, कि वे कौन सा ग्राफ़िक कार्ड ले. तो आइये जानते है, कि इसका चुनाव किस आधार पर करना चाहिए. आमतौर पर ये कई चीजों पर निर्भर करता है, परन्तु frame rate सबसे अधिक मायने रखता है.

इसे frame per second (FPS) में मापा जाता है. ये बताता है, कि per second में card कितने images को display कर सकता है. अगर आप एक graphic card खरीदते है, तो आपको उसकी FPS rate जरूर देखनी चाहिए. इसके अलावा कई दूसरी चीजे भी आपको देखनी चाहिए जैसे –

  • GPU clock speed
  • Bits
  • Memory
  • Memory clock rate
  • Memory bandwidth
  • RAMDAC speed.

 

Graphics Card Manufacturer Company’s

 

Graphics Card बनाने वाली निम्नलिखित company’s है:

  • Nvidia
  • AMD
  • Intel
  • Asus
  • Gigabyte
  • EVGA
  • Zotac
  • Sapphire
  • Via
  • Power VR.

 

 

Graphic Card के प्रकार (Types of Graphic Card)

 

ग्राफिक्स कार्ड्स मुख्य रूप से चार प्रकार के होते है.

 

Integrated

 

अधिकतर यूजर के computer में integrated cards उपयोग किये जाते है. जब हम कंप्यूटर को खरीदते है, या उसे assemble कराते है. तो संभावना ये है, कि आपके कंप्यूटर में एक integrated graphics card मौजूद हो. ये standard motherboard के साथ inbuilt होकर आते है. इसीलिये इन्हें हम on-board graphics card भी कहते है.

 

PCI

 

ये वो graphic card है, जिन्हें आपके computer में उपयोग करने के लिए motherboard के PCI slots में लगाया जाता है. हालांकि आजकल के नए मदरबोर्ड में ये उपयोग नही होते है. लेकिन यदि आपके पास एक पुराना system है, तो उन्हें upgrade करने के लिए आप इनका उपयोग कर सकते है.

 

AGP

 

इन graphic card में और PCI में ज्यादा अंतर नही है. लेकिन अपनी बेहतर speed के कारण AGP cards उन पीसीआई कार्ड्स की तुलना में अधिक व्यापक थे. परन्तु जबसे PCI-E card चलन में आये है, इनका उपयोग भी सिर्फ पुराने सिस्टम तक ही रह गया है.

 

PCI-Express

 

सबसे नए और advance graphics card की लिस्ट में PCI-E cards का नाम सबसे उप्पर है. इनकी क्षमता किसी भी दूसरे प्रकार के graphic card की तुलना में कई अधिक होती है. उदाहरण के लिए PCI व AGP card की क्षमता 1x, 2x और 4x तक होती है. लेकिन PCI-E cards को 16x तक accelerated किया जा सकता है. Graphic Card क्या होता है? तो यदि आप एक high performance चाहते है, तो आपको एक उपयोग करना चाहिए.

 

Graphic Card के प्रमुख Components

 

हर एक मशीन कई दूसरे पार्ट्स से मिलकर बनी होती है. वो सभी पार्ट्स उस मशीन के लिए एक specific task को पूरा करते है. ऐसे ही Graphics Card में कई components है, जो graphics processing में एक अहम भूमिका निभाते है. नीचे कुछ प्रमुख घटकों के बारे में बताया गया है, जो सभी ग्राफिक्स कार्ड में मौजूद होते है.

GPU: ये ग्राफ़िक कार्ड का main component है. GPU यानी graphics processing unit का मुख्य कार्य ग्राफ़िक्स की प्रोसेसिंग करना होता है.

VRAM: इसका पूरा नाम Video RAM है, जिसे अक्सर video memory भी कहा जाता है. इसका प्रमुख कार्य graphics data को store करना होता है, ताकि GPU उसे process कर पाए.

VRM: अर्थात voltage regulator module किसी graphic card में लगी एक main circuit है, जो सभी पार्ट्स को power supply करती है.

Fan: सभी पार्ट्स को cool रखने के लिए fan को उपयोग में लिया जाता है. हालांकि कई में heat sink का इस्तेमाल भी होता है.

तो ये थे कुछ प्रमुख घटक जो एक graphic card में मौजूद रहते है. यदि किसी ग्राफिक्स कार्ड की कीमत अधिक है, तो इसका सीधा मतलब यही है, कि उसके अंदर मौजूद पार्ट्स की capabilities अधिक है. अगर आप कभी एक इसे खरीदे तो इन चीजों पर ध्यान जरूर दे. आइये अंत मे इसके कुछ फायदों के बारे में जाने.

 

Graphic Card  से लाभ क्या है? (What is the benefit of Graphic Card)

 

अगर कभी आप अपने PC के लिए एक dedicated graphics card का इस्तेमाल करते है, तो उसके आपको क्या-क्या फायदे हो सकते है आइये उनके बारे में जाने.

1. पहले फायदे में आपको अपने PC की performance बेहतर होते हुवे दिखाई देगी. क्योंकि अलग से कार्ड लगाने पर graphics से सम्बंधित सभी कार्य इसके पास आ जाते है.

2. ये आपको एक बेहतर gaming experience देता है. आप अपने computer में सभी latest video game को उच्च ग्राफिक्स के साथ enjoy कर पाते है.

3. कंप्यूटर की graphics quality को काफी better कर देते है. यदि आप 4K movies या high graphics games खेलना पसंद करते है, तो आपको इन्हें लगाना चाहिए.

4. एक Integrated graphics की तुलना में dedicated cards बेहतर driver support और compatibility देता है.

5. इसे उपयोग करने से आप कई monitor को एक set up से नियंत्रित कर पाते है.

 

FAQ- Graphics Crad पर अक्सर पूछे जाने वाले सवाल जवाब :-

 

1. Dedicated और Integrated graphics कार्ड में क्या अंतर होता है?

 

Dedicated Graphics Card आपके सीपीयू से पूरी तरह अलग आता है, जिसे अलग से खरीद कर मदर बोर्ड में इनस्टॉल किया जाता है। Dedicated Graphics Card का अपना खुद का GPU और मेमोरी होता है, मेमोरी को VRAM (Video RAM) भी कहते है। जबकि, 
Integrated Graphics Card मदरबोर्ड के साथ निर्मित होते हैं यानि अटैच रहते है। इस प्रकार का Graphics Card को आसानी से अपग्रेड नहीं किया जा सकता है और ना ही इसे मदरबोर्ड से हटाया जा सकता है। Graphic Card क्या होता इसके पास अपना खुद का मेमोरी नहीं होता है।  यह मदर बोर्ड में उपस्थित रैम से मेमोरी लेता है जिसे शेयर्ड मेमोरी भी कहते हैं। Integrated Graphics Card को GPU कहा जा सकता है। 

 

2. Discrete या Dedicated ग्राफ़िक्स कार्ड को और किन नामों से जानते है?

Discrete या Dedicated ग्राफ़िक्स कार्ड को निम्नलिखित नामों से जाना जाता है:
1. Expansion Card
2. Dedicated Card
3. Video card
4. Display card
5. Graphics adapter और 
Video adapter इत्यादि। 
तो इतने सारे नाम में आप कंफ्यूज मत कीजियेगा, ये सभी नाम कंप्यूटर मदर बोर्ड में अलग से Graphic Card लगाने के लिए इश्तेमाल होता है।

 

3. GPU क्या होता है और यह किस काम में आता है?

GPU का पूरा नाम Graphics Processing Unit होता है। यह कंप्यूटर या फिर Laptop के मदर बोर्ड में इनबिल्ट मिलता है, जो अकेला ही ग्राफ़िक्स से सम्बंधित सभी कार्य करता है। आपने CPU के बारे में अवश्य सुना होगा, जैसे CPU कंप्यूटर के सभी गणितीय गणना को पूरा करने के काम आता है, उसी प्रकार GPU ग्राफ़िक्स से सम्बंधित सभी कार्य को पूरा करने के काम आता है।

 

4. ग्राफिक्स कार्ड का दिमाग किसे कहा जाता है?

GPU को ग्राफ़िक्स कार्ड का दिमाग कहा जाता है, क्यूंकि डेडीकेटेड ग्रैफिक्स कार्ड में अलग से एक जीपीयू इनस्टॉल रहता है, जो ग्राफिक से संबंधित सभी गणितीय गणनाओं को प्रोसेस करता है इसलिए GPU को ग्राफिक्स कार्ड का दिमाग भी कहा जाता है। 

 

5. Graphic Card और GPU में क्या अंतर है?

यदि हम इन दोनों शब्दों को मनुष्य से तुलना करें तो Graphic Card एक पूरे शरीर की तरह है, और GPU मनुस्य के दिमाग के तरह है। ठीक जैसे मनुष्य का शरीर उसके दिमाग के बिना अधूरा है, उसी तरह सिर्फ ग्राफ़िक्स कार्ड बस एक नार्मल कार्ड के तरह जब तक की उसमे GPU न लगा हो। ध्यान दीजिए:
Graphic Card और GPU को कई बार इश्तेमाल करने के आधार पर एक ही नाम से पुकारा जाता है, लेकिन इनमें अंतर तब करना चाहिए जब आप एक डेडिक्टेड ग्राफ़िक्स कार्ड खरीदते है, या इश्तेमाल करते है। क्यूंकि सिर्फ डेडिक्टेड  ग्राफ़िक्स कार्ड में ही यह अंतर करना उचित है अन्यथा इनबिल्ट ग्राफ़िक्स कार्ड में अंतर करना अनुचित है।

 

6. GPU और CPU का पूरा नाम क्या होता है?

GPU और CPU का पूरा नाम इस प्रकार है:
GPU: Graphics Processing Unit 
CPU: Central Processing Unit या Control Processing Unit

 

7. GPU और CPU में क्या अंतर होता है?

GPU और CPU में  कोई बड़ा अंतर नहीं है इनकी बनावट काफी हद तक सामान होता है, और कार्स करने का तकनीक भी समान होता है।  इनमें सिर्फ कार्य करने के उद्देश्य के आधार पर अंतर किया जा सकता है Graphic Card क्या होता जैसे: CPU कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर और पेरीफेरल डिवाइस से सम्बंधित सभी गणितीय गणनाओं को पूरा करने के काम आता है। लेकिन GPU सिर्फ ग्राफ़िक्स यानि Video प्रोसेसिंग और Decoding से सम्बंधित सभी कार्य को पूरा करने के काम आता है। 

 

8. Graphic Card में क्या-क्या कंपोनेंट्स होते है?

 

ग्राफिक कार्ड के मुख्य कंपोनेंट इस प्रकार होते हैं जो नीचे दिए गए हैं: 
GPU: इसका पूरा नाम Graphics Processing Unit है। यह ग्राफ़िक्स से सम्बंधित सभी कार्य को पूरा करने के काम आता है।
VRAM: इसका पूरा नाम वीडियो RAM (Random Access Memory) होता है
VRM: इसका पूरा नाम वोल्टेज रेगुलेटर मॉड्यूल होता है 
Cooling Fan: यह फैन का मतलब एक नॉर्मल पंखा ही है आप इसे कुछ और मतलब मत समझीय।
Heat Sink:  यह कूलिंग फैन का एक अट्रैक्टिव ऑप्शन है।  Heat Sink का इस्तेमाल हिट को कम करने के लिए किया जाता है। जो महंगे ग्राफ़िक्स कार्ड के तुलना में एक सस्ता ग्रैफिक्स कार्ड में लगा होता है।
Connection Port:
VGA: इसका पूरा नाम Video Graphics Array (वीडियो ग्राफिकस ऐरे) होता है। 
HDMI:  इसका पूरा नाम High-Definition Multimedia Interface होता है। 
DVI: इसका पूरा नाम Digital Visual Interface होता है। 

 

9. Graphic Card में VRM और VRAM का क्या मतलब होता है?

Graphic Card में VRM का मतलब  वोल्टेज रेगुलेटर मॉड्यूल होता है जो ग्राफिक्स कार्ड में सभी इलेक्ट्रॉनिक्स कंपोनेंट्स को रेगुलेटेड पावर सप्लाई देने का कार्य करता है। जबकि VRAM का मतलब वीडियो रेंडम एक्सेस मेमोरी होता है। इसे सरल रूप में वीडियो मेमोरी भी कहते हैं। VRAM का स्टोरेज कैपेसिटी Mb (Megabyte) और Gb (Gigabyte) मैं मापा जाता है जो 512 Mb से लेकर 4Gb तक हो सकता है। 

 

10. Graphic Card में किसी मॉनिटर को कनेक्ट करने के लिए कितने तरह के पोर्ट्स मिलते है?

एक अच्छा ग्राफिक्स कार्ड में हमें कई प्रकार के पोर्ट मिलते हैं जिससे हम किसी भी प्रकार के मॉनिटर या फिर डिस्प्ले को ग्राफ़िक्स कार्ड के साथ कनेक्ट कर सकते हैं।  कॉमन ग्राफिक्स कार्ड में दिए जाने वाले कुछ सामान पोर्ट के नाम नीचे दिए गए हैं: 
VGA: इसका पूरा नाम Video Graphics Array (वीडियो ग्राफिकस ऐरे) होता है। 
HDMI:  इसका पूरा नाम High-Definition Multimedia Interface होता है। 
DVI: इसका पूरा नाम Digital Visual Interface होता है। 

 

11. मुझे किस प्रकार का डेडिकेटेड ग्राफ़िक्स कार्ड अपने Laptop में लगाना चाहिए? 

यदि आप अपने कंप्यूटर पर ग्राफिक से संबंधित कार्य करते हैं और आप ग्रैफिक्स कार्ड अपडेट करना चाहते हैं तो मार्केट में जा कर कंप्यूटर दुकान पर आपको सिंपली बोलना पड़ेगा कि मुझे एक्सटर्नल, या  डेडीकेटेड ग्रैफिक्स कार्ड लगाना है,  Graphic Card क्या होता है?  तो वह दुकान वाला आपकी बात को समझ कर आपसे ग्राफिक कार्ड की मेमोरी कैपेसिटी और कंपनी का नाम पूछेगा तो आपका जो भी रिक्वायरमेंट है 2gb, 4Gb,  6GB उस हिसाब से लगा सकते हैं। 
परंतु इससे पहले आप यह सुनिश्चित कर लें कि आप के मदरबोर्ड में किस प्रकार का एक्सटर्नल ग्रैफिक्स कार्ड सपोर्ट करता है।  क्योंकि एक्सटर्नल ग्राफिक्स कार्ड के तीन प्रकार हैं, और इन तीनों के अपने-अपने फीचर्स होते है, जिसे इसी आर्टिकल में अच्छे से बताया गया है। 

 

12. डेडिकेटेड ग्राफ़िक्स कार्ड किसे लगाना चाहिए और इसमें ध्यान देने वाली बात क्या है?

ध्यान दीजिए की पीसी पर काम करने के लिए अधिकांश लोगों को डेडिकेटेड ग्राफिक्स कार्ड की आवश्यकता नहीं होती है। जो लोग सिर्फ फाइलें बनाना, ऑफिस का काम करना, फिल्में देखना, गाने सूचीबद्ध करना आदि जैसे बुनियादी काम करते है तो उनके लिए एक्सटर्नल ग्राफिक्स कार्ड की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन उच्च रिज़ॉल्यूशन वाले गेम खेलने वाले, इमेज, वीडियो रेंडरिंग करने वाले के लिए एक्सटर्नल या डेडिकेटेड ग्राफिक्स कार्ड की आवश्यकता होती है और यंही आपके लिए ध्यान देने वाली बात है। 

 

 

Conclusion

  

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Graphic Card क्या होता है? इसके कितने प्रकार के होते हैं? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Graphic Card क्या होता है? इसके कितने प्रकार के होते हैं?

 

Leave a Comment