Mobile क्या है?(What is mobile) -जाने मोबाइल से जुडी पूर्ण जानकारी

दोस्तों हम सभी जानते हैं की Mobile क्या है? अगर आपसे आपका मोबाइल ले लिया जाए और कहा जाये की आपको 1 साल तक बिना मोबाइल के ही रहना है तो फिर आप reaction क्या होगा? जी हाँ आप कहेंगे की मोबाइल के बिना आप नहीं रह सकते। यही हाल सबका है. सभी के लिए जिंदगी का एक बहुत जरुरी हिस्सा बन चूका है. लेकिन क्या आप जानते हैं की Mobile के फायदे और नुकसान क्या है (Advantages and disadvantages of Mobile phones in Hindi). हम इस पोस्ट में आगे इन बातों पर भी चर्चा करेंगे.

एक ज़माना हुआ करता था जब हमे अपनी बात दूसरी जगह पहुंचानी होती थी तो एक कबूतर के पैरों में चिट्ठी लिख कर भेजा करते थे. उसके बाद जैसे जैसे जमाना बढ़ा तो ये काम डाकिया करने लगा. लेकिन फिर भी हमारा सन्देश जाने में काफी वक़्त लगा करता था. लेकिन कुछ साल पीछे की ही बात करें तो उस वक़्त भी टेलीफोन ही आया था जो कुछ लोगों के पास ही था, वो भी wireless नहीं था.

 

लेकिन टेलीफोन के बाद जैसे ही मोबाइल फ़ोन का अविष्कार हुआ और ये लोगों के हाथों में आया वैसे ही सबकुछ बिलकुल बदल गया. अब लोगों को एक जगह से टेलीफोन से चिपक कर बात करने की जरुरत ही नहीं रही. लोग कहीं भी बैठ कर, लेट कर, चलते हुए बात कर सकते हैं. यहाँ तक की मोबाइल फ़ोन अब स्मार्टफोन में तब्दील हो चुके हैं. इंसान की जीने का तरीका ही बदल गया. शुरू में तो कई बार ऐसा होता था की लोग सोचते थे की ये अकेला आदमी अकेला खुद से बातें कर रहा है क्या। लेकिन ये एक चमत्कार से कम भी नहीं था. चलिए थोड़ा और विस्तार से जानते हैं की Mobile क्या है (What is Mobile Phone in hindi).

 

Mobile क्या है?(What is mobile) -जाने मोबाइल से जुडी पूर्ण जानकारी
TEJWIKI.IN

 

Mobile क्या है? (What is mobile)

 

मोबाइल फ़ोन एक ऐसा वायरलेस हैंडहेल्ड डिवाइस है, जिसके माध्यम से आप आसानी से एक दूसरे से बातचीत कर सकते है. यह एक लंबी दूरी का इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है. इस डिवाइस का उपयोग न सिर्फ बातचीत करने के लिए किया करते है बल्कि मोबाइल फ़ोन का प्रयोग संदेश भेजने में, Email करने में, Internet आदि ऑनलाइन कार्यों में भी करते है. इसके साथ ही Bluetooth, गेमिंग, वीडियो रिकॉर्ड, ऑडियो रिकॉर्ड, MP3 Player, Radio, GPS इत्यादि के साथ-साथ तस्वीर खींचने में भी मोबाइल फ़ोन का उपयोग किया जाता है.

मोबाइल फ़ोन को Cell Phone, Cellular Phone, Wireless Phone जैसे अलग अलग नामों से भी जाना जाता है.

इसी के साथ अब आप Mobile Kya Hai in Hindi में जान गए होंगे. आईये अब आगे जानते है Mobile Ke Bare Mein कुछ अन्य महत्वपूर्ण जानकारी जैसे- मोबाइल क्या है हिंदी में, मोबाइल का मतलब हिंदी में क्या होता है या फुल फॉर्म एवं इसके अविष्कारक कौन थे?

क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी: Computer Ka Avishkar Kisne Kiya – आविष्कारक, इतिहास, वर्ष।

 

 

Mobile Ka Full Form In Hindi

 

मोबाइल (Mobile) का फुल फॉर्म Modified Operation Byte Integration Limited Energy होता है. मोबाइल को हिंदी में “दूरभाष यंत्र” कहते है.

 

Mobile का अविष्कार किसने किया (Who invented mobile)

 

दुनिया मे सबसे पहला मोबाइल फ़ोन 1973 में मोटोरोला कम्पनी के इंजीनियर John F. Mitchell और Martin Cooper द्वारा लॉन्च किया गया था. इसका वजन 2 Kg और कीमत 2 लाख रुपये थी. इसके पश्चात 1983 में मोटोरोला का ही Dynatac 8000X मॉडल आया, जिसकी बैटरी को एक बार चार्ज कर करीब 35 मिनट तक बात की जा सकती थी. उनके इस आविष्कार से संचार क्षेत्र में एक क्रांति आ गई. जो आज के समय मे लोगो के लिए ये एक वरदान है.

विश्व में सर्वप्रथम Automated Cellular Network जापान में सन 1979 में शुरू किया गया था. यह एक First Generation (1G) System था, जिसकी मदद से एक ही बार में कई लोग आपस में कॉल कर सकते थे. इसके बाद 1991 में 2G टेक्नोलॉजी की शुरुआत फ़िनलैंड में Radiolinja द्वारा शुरू की गयी और 1997 में सर्वप्रथम कैमरे वाले मोबाइल की शुरुआत हुई.

2G मोबाइल फ़ोन आने के पूरे 10 वर्षों बाद सन 2001 में 3G मोबाइल फ़ोन का आगमन हुआ, जो जापान की कंपनी NTT Docomo द्वारा शुरू किया गया. आजकल तो 4G और 5G मोबाइल फ़ोन का ज़माना चल रहा है. इन सभी के अलावा मोबाइल फ़ोन के बारे में एक रोचक तथ्य यह भी है कि 1983 से 2014 तक दुनियाभर में लगभग 700 करोड़ मोबाइल फ़ोन का उपयोग किया गया था तथा अब तक सबसे ज्यादा बिकने वाला फ़ोन Nokia 1100 है.

 

दुनिया का पहला मोबाइल (World’s first Mobile phone)

 

अमेरिका के इंजीनियर मार्टिन कूपर (Martin Cooper) ने दुनिया के पहले मोबाइल फोन को बनाया था। पहला मोबाइल 3 अप्रैल 1973 को बनाया गया था। ये फोन मोटोरोला (‘Motorola’) कंपनी का था।

दरअसल, मार्टिन ने मोटोरोला कंपनी को साल 1970 में ज्वॉइन किया था। जिसके बाद से ही वो पूरी दुनिया में वायरलेस फोन क्रांति लाना चाहते थे। उसी का नतीजा का पहले मोबाइल फोन का आविष्कार किया गया।

 

कैसा दिखता था दुनिया का पहला मोबाइल फोन?

 

  • इस फोन का वज़न 2 किलोग्राम था।
  • इस फोन को एक बार चार्ज करने पर 30 मिनट तक ही बात की जा सकती थी। दोबारा चार्ज करने में 10 घंटे का वक्त लगता था।
  • हैरानी की बात ये है कि इस फोन की कीमत उस वक्त 2700 डॉलर यानि 2 लाख रूपए के आसपास थी।
  • इस फोन को 0G यानि जीरो जेनरेशन का नाम दिया गया।
  • पहले फोन के करीब 10 साल बाद यानि साल 1983 में मोटोरोला का पहला फोन मार्केट में आया जिसका नाम Motorola DynaTAC 8000X था।
  • इसकी खासियत थी कि इसमें 30 मोबाइल नंबर्स को सेव किया जा सकता था। इसकी कीमत अमेरिकी डॉलर ( 2,95,669 रूपए) रखी गई थी।

 

Mobile फ़ोन कार्य कैसे करता है? (How does a mobile phone work)

 

एक अनुमान के अनुसार 2019 तक करीब 4 .8 billion मोबाइल user हो जायेंगे. आज हर कोई मोबाइल फ़ोन की अहमियत समझता है. ये हमे दुनिया के किसी भी कोने में किसी भी इंसान से बात करा सकती है लेकिन क्या आपने ये जानने की कोशिश की है आपका cell phone काम कैसे करता है.

आसान शब्दों में कहें तो mobile phone एक two -way radio है. जिसमे एक transmitter और दूसरा receiver radio होता है. जब आप अपने दोस्त के साथ कर रहे होते हैं तो ये आपकी आवाज़ को electrical signal में convert कर देता है. जिसके बाद इसे radio waves के रूप में नज़दीकी cell tower तक transmitt कर दिया जाता है. अब उस cell tower का network आपके दोस्त cell phone तक radio wave को भेज देता है. electrical signal में convert कर के sound में बदल दिया जाता है. मोबाइल फ़ोन walkie-talkie पर ही आधारित होता है.लेकिन ये उससे विकसित होता है. जिसमे मुख्या काम तो call करना और receive करने का होता है लेकिन इसके अलावा इसमें अलग से इंटरनेट, multimedia और कैमरा भी होता है. Smartphone तो अब डेवेलोप हो हो चुके की कंप्यूटर जो काम कर सकता है एक smartphone भी लगभग वो सभी काम कर लेता है बस कुछ कामों को छोड़ दे तो.

 

Process of working of Mobile Phone

 

चलिए थोड़ा जान लेते हैं की ये मोबाइल फ़ोन काम कैसे करता है.

 

Radio Waves

 

Mobile Phone communication करने के लिए radio waves का इस्तेमाल करते हैं. हम जो बात करते हैं उन आवाज़ों को radio waves electric और magnetic field के रूप में transmit करती है, जिसे हम electromagnetic field कहते है. Radio waves सारे डाटा को लेकर light की speed के साथ चलता है. मोबाइल से जो रेडियो wave निकलता है वो हर direction में फैलता है और tower तक पहुँचते पहुँचते बिच में जो भी चीज़ें मिलती वो भी radio wave को absorb या reflect कर देते हैं.

चलिए इसे एक उदाहरण के जरिये समझ लेते हैं. जब हम मोबाइल को अपने कान में लगाकर बात कर रहे होते हैं तो लगातार radio waves emf वहां पर फैलता रहता है. आधे radio waves हमारे शरीर और सर के अंदर भी चले जाते हैं इस तरह अधिकतर emf बेकार में बर्बाद हो जाता है. कुछ मोबाइल फ़ोन में सिर्फ एक ही antenna होता है जो transmit और receive करने के दोनों काम अकेला करता है और कुछ मोबाइल फ़ोन में त्रिसके लिए अलग अलग antenna लगे हुए होते हैं.

 

Connectivity

 

हैं है की मोबाइल फ़ोन ऐसा डिवाइस है जो 2 way wireless communication डिवाइस होता है.यानि को signal रिसीव करता है और भेजता भी है. Tower जितना signal की मात्रा को receive करता है उसे ही Signal strength कहा जाता है. आप अपने फ़ोन में ये strength बहुत अच्छे से जानते हैं. और कभी कभी इस तरह से बोलते भी हैं की मेरे में full टावर है या sirf एक ही tower है. Signal की ताक़त दूरी होने से कम हो जाता है. कम सिग्नल होने से आप ये जरूर पाएंगे की की आपकी मोबाइल की बैटरी बहुत जल्दी ख़तम हो जाती है. ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि मोबाइल कमजोर सिग्नल की वजह से जयदा म्हणत करता हैं tower तक सिग्नल भेजने के लिए. यही वजह है की अच्छा नेटवर्क होने से बात भी अच्छी होती है और बैटरी भी अच्छी चलती है.

 

Antenna

 

हर cell फ़ोन में एक antenna जरूर होता है जो radio signal को receive और transmit करता है. Antenna ही electrical signal को radio wave में convert करता है और साथ ही radio wave को electrical signal के रूप में बदल देता है.

 

 

Mobile Knowledge in Hindi

 

1) दुनिया के सबसे पहले मोबाइल फोन Motorola DynaTAC 800x की कीमत लगभग 4000$ (2500 पाउंड) थी, जिसे वर्ष 1983 में लॉन्च किया गया था.

2) मोबाइल फोन किसी भी टॉयलेट के हैंडल से ज्यादा गंदे होते है.

3) Apple ने एक बार प्रतिदिन 340,000 iPhone बेचे थे.

4) Nokia 1100 दुनिया सबसे अधिक बिकने वाला मोबाइल फोन है, जिसके 25 करोड़ यूनिट की बिक्री हुई थी, जिसका वर्ल्ड रिकॉर्ड अब तक कायम है.

5) दुनिया के सबसे पहले मोबाइल फोन का वजन 2.5lbs था.

6) हम दिन में औसतन 150 बार अपने मोबाइल फोन को चेक करते है.

 

Mobile Phone से लाभ (Benefits of Mobile Phone)

 

दोस्तों मोबाइल फ़ोन के आने से हमारी ज़िन्दगी काफी आसान हो चुकी है. ये जैसा हमारे शरीर का ही एक हिस्सा हो जिसके बिना हमारा काम नहीं चल सकता है. चलिए जानते हैं मोबाइल फ़ोन से हमे क्या फायदे हैं.

  1. मोबाइल फ़ोन की वजह से हम अपने सगे सम्बन्धियों से कभी भी बात कर सकते हैं. ऐसा भी नहीं है की इसके लिए कोई ख़ास वक़्त फिक्स किया गया हो. ऐसा नहीं है बल्कि आप दिनभर में कभी भी 24*7 फ़ोन कर सकते हैं. पहले फ़ोन को बड़े होने की वजह से घर में ही रखा जाता था लेकिन अब इसकी size इतनी छोटी है की सभी pocket में रखते हैं.
  2.  जरुरत के अनुसार हम मोबाइल फ़ोन में ही अनगिनत apps का इस्तेमाल कर सकते हैं. चाहे वो app ticket booking से जुड़ा हो. बैंक से जुड़ा हो या फिर कोई वेब ब्राउज़र हो या  गाना सुनना हो सभी के लिए एप्लीकेशन होता है.
  3. Internet का इस्तेमाल करने के लिए पहले हमे cyber cafe जाना पड़ता था. या फिर कंप्यूटर की जरुरत होती थी लेकिन मोबाइल  तब से हर वक़्त इंटरनेट का इस्तेमाल करना आसान हो गया है. मोबाइल में इंटरनेट के लिए 3G और 4G के आने से सुपर स्पीड से इंटरनेट चलता है.
  4. मोबाइल फ़ोन अगर साथ होते हैं तो ये एक तरह से हमे सुरक्षा देते हैं. खासकर लड़कियां जो अकेली होती हैं और बाहर जाती हैं वो कभी भी अपने जान पहचान के लोगों को फ़ोन कर सकती हैं खतरा महसूस होने पर और मदद मांग सकती हैं.

 

Mobile Phone से हानि  (Loss from mobile phone)

 

जैसा की हर सिक्के के 2 पहलु होते हैं.हमने अभी तक जाना है की मोबाइल फ़ोन से सिर्फ फायदे होते  हैं. लेकिन ये भी सच है की मोबाइल  बहुत सारे नुक्सान हैं. जिनकी जानकारी रखना भी जरुरी है.

  • कुछ  लड़के और लड़कियां ऐसे हैं जो मोबाइल फ़ोन हद से ज्यादा इस्तेमाल करते हैं. और दिन रात मोबाइल में लगे रहते हैं. पढाई लिखे पर ध्यान काम होता है. उनको मोबाइल  फ़ोन की ऐसी लत लगी रहती है की real life से उनका कोई लेना देना नहीं होता है. इस तरह वो अपनी पढाई लिखे और करियर पर ध्यान नहीं दे पाते.
  • मोबाइल फ़ोन के लगातार इस्तेमाल से लोगों की सेहत पर बुरा असर होता है. दिनभर ढेर सारा रेडिएशन शरीर के अंदर जाता  बहुत नुक्सान दे होता है. यहाँ तक की लोग सोते वक़्त भी मोबाइल को अपने सर के आसपास ही रखते हैं.
  • अक्सर लोगों को ऐसी आदत होती है की वो driving करते वक़्त भी फ़ोन का उसे करते हैं. जो की बहुत ही खतरनाक है.
  • हमे मोबाइल फ़ोन में इंटरनेट और कॉल के इस्तेमाल करने के लिए पैसे खर्च करने पड़ते हैं और खर्च भी बढ़ जाता है.
  • आजकल मोबाइल में हम अपने हर डाटा यहाँ तक की पर्सनल information  भी रखते हैं. अगर कभी मोबाइल गम या चोरी हो जाये तो लोगों को शरीर से जान निकलने का एहसास हो जाता है.
  • मोबाइल के लगातार उपयोग करने से ऐसा असर  लोगों को नींद न आने की समस्या शुरू हो जाती है.

 

 

Conclusion

  

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Mobile क्या है?(What is mobile) -जाने मोबाइल से जुडी पूर्ण जानकारी  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Mobile क्या है?(What is mobile) -जाने मोबाइल से जुडी पूर्ण जानकारी

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!