Phishing क्या है? Phishing अटैक से कैसे बचे पूरी जानकारी

इंटरनेट जिसके बिना अब भविष्य की कल्पना कर पाना भी असंभव सा लगता है क्यू की आजकल हमे ज़्यादकर सेवाये online ही मिलती है, Phishing क्या है धीरे धीरे बैंकिंग से लेकर एजुकेशन तक सभ इंटरनेट पर आधारित हो रहा है, इंटरनेट की वजह से हमारे जीवन मे कई तरह की सुख सुविधाये आई है पर इसी के साथ कुछ बड़ी दिक्कते भी है जैसे की Phishing Attack, इस ब्लॉग पोस्ट मे फिशिंग क्या है इससे कैसे बचे इसके बारे मे विस्तार से बताया गया है।आजकल हर कोई किसी ना किसी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल तो करता है,

आपने भी कई बार सुना होगा की उस सेलिब्रिटी की ट्विटर अकाउंट या Facebook अकाउंट हैक हो गया या फिर किसी YouTuber का अकाउंट हैक हो गया, क्या आपने कभी सोचा की इतनी बड़ी बड़ी कंपनीया क्या अपने प्लेटफॉर्म को इतना भी सिक्युर नहीं बना सकती की कोई उसे हैक ना कर सके?

असल मे 99% केस मे यदि किसी का सोशल मीडिया अकाउंट या बैंक अकाउंट Hack होता है तो उसमे उस कंपनी की नहीं बल्कि यूजर की गलती होती है और Phishing अटैक सभी हैकिंग के तरीकों मे सबसे आसान पर पावरफूल है। मजेदार बात ये भी है की फिशिंग करने के लिए हमे कोडिंग या टेक्निकल नॉलेज की जरूरत नहीं होती।

  

Phishing क्या है? Phishing अटैक से कैसे बचे पूरी जानकारी
TEJWIKI.IN

 

What is Phishing in Hindi

 

फ़िशिंग एक साइबर क्राइम है जिसमें संवेदनशील इनफॉर्मेशन जैसे कि बैंकिंग, क्रेडिट/डेबिट कार्ड डिटेल्‍स, और पासवर्ड प्राप्‍त करने के लिए टार्गेट को किसी वैध ऑर्गनाइज़ेशन या बैक द्वारा ईमेल, टेलिफोन या टेक्स्ट मैसेज के जरिए संपर्क किया जाता हैं, जब ही वह फेक होता हैं।

अटैकर मालिसियस लिंक या अटैचमेंट डिस्ट्रीब्यूट करने के लिए Fishing Email का उपयोग करता है, जो विभिन्न प्रकार के फंक्‍शन कर सकता है, जिसमें पीड़ितों से लॉगिन क्रेडेंशियल्स या बैंक अकाउंट इनफॉर्मेशन कि चोरी शामिल है।

फ़िशिंग अब साइबर क्रिमिनल्स में लोकप्रिय है, क्योंकि किसी कंप्यूटर के डिफेंस को तोड़ने की कोशिश करने के बजाय फ़िशिंग ईमेल पर मालिसियस लिंक भेजकर किसी को फसाना आसान हैं।

 

Phishing Kya Hai

 

फ़िशिंग एक प्रकार का सोशल इंजीनियरिंग हमला है जिसका उपयोग अक्सर यूजर के डेटा को चोरी करने के लिए किया जाता है, जिसमें लॉगिन क्रेडेंशियल और क्रेडिट कार्ड नंबर शामिल हैं। यह तब होता है जब एक हमलावर, एक विश्वसनीय इकाई के रूप में, एक ईमेल, इंस्‍टंट मैसेज या टेक्‍स्‍ट मैसेज ओपन करने के लिए एक पीड़ित को धोखा देता है। इसके बाद प्राप्तकर्ता को एक दुर्भावनापूर्ण लिंक पर क्लिक करने के लिए प्रेरित किया जाता है, जिससे मैलवेयर का इंस्‍टॉलेशन, रैंसमवेयर हमले के हिस्से के रूप में सिस्टम को फ्रिज करना या संवेदनशील जानकारी को चुराना हो सकता है।

 

Phishing Meaning in Hindi

 

फ़िशिंग एक झील में मछली पकड़ने के समान है, लेकिन मछली पकड़ने के लिए कोशिश करने के बजाय, फिशर्स आपकी पर्सनल इनफॉर्मेशन चोरी करने का प्रयास करते हैं।

 

Phishing शब्द का मतलब क्या है – फिशिंग क्या है – Phishing kya hai

 

फिशिंग के नाम से ही प्रतीत हो रहा है मछली पकड़ना | जिस प्रकार मछली पकडने के लिये मछली पकड़ने वाले कॉटे में कोई चारा लगाकर डाला जाता है और चारा खाने के लालच या धोखे में आकर मछली कॉटें में फंस जाती है। उसी प्रकार फ़िशिंग (Phishing) भी हैकर्स (Hackers) द्वारा इन्‍टरनेट पर नकली वेबसाइट (Fake Website) या ईमेल (Email) के माध्‍यम से इन्‍टरनेट यूजर्स के साथ की गयी धोखेबाजी (scams) को कहते हैं। जिसमें वह आपकी निजी जानकारी (personal information) को धोखेबाजी (scams) के माध्‍यम से चुरा लेते हैं और उसका गलत उपयोग करते हैं –

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

Phishing क्या होता है? (What is Phishing)

 

Phishing एक तरह का साइबर अटैक होता है जिसका मकसद किसी यूजर के सोशल मीडिया अकाउंट, या किसी इंटरनेट आधारित सेवा के यूजर के अकाउंट के बारे मे गलत तरीके से जानकारी प्राप्त करके उसे खुद के कंट्रोल मे करना है। फिशिंग मे एक यूजर को Email, SMS या किसी मेसेन्जर की मदद से कान्टैक्ट किया जाता है।

Phishing Attack आम तोर पर किसी अकाउंट को हैक करने यानि की खुद के कंट्रोल मे करने के लिए किया जाता है व इसमे यूजर खुद ही अटैकर को अपने अकाउंट की जानकारी देता है पर उस टाइम उसे इस बात का अंदाज नहीं होता। वैसे तो अटैकर फिशिंग करने के नये नये तरीके ईजाद करते रहते है पर एक बार आपको समझ आ जाए की Phishing Attack कैसे किया जाता है तो शायद आप इसके जाल मे कभी नहीं फसोगे।

 

फिशिंग अटैक का उद्देश्य क्या है?

 

इनका उद्देश्य बिल्कुल साफ है. आपकी जानकारी चुराना, आपकी पहचान चुराना, आपके क्रेडिट और डेबिट कार्ड की डिटेल चुराना, Phishing क्या है आपकी इंटरनेट बैंकिंग की जानकारी चुराना, यूजर नेम पासवर्ड चुराना और आपके जितने भी डिजिटल अकाउंट हैं उनके यूजर नेम, पासवर्ड चोरी करना और इसके अलावा कभी-कभी सीधे-सीधे आपसे डायरेक्ट धन की मांग कर ली जाती है.

ऐसा करने के लिए वह यह आपके कंप्यूटर या मोबाइल को जरिया बनाता है, आपके इंटरनेट को जरिया बनाता है और ईमेल, व्हाट्सएप या एसएमएस सर्विस का इस्तेमाल करते हुए आपको मालीशियस लिंक भेजते है. जिन लिंक्स के ऊपर आप क्लिक करके उनकी वेबसाइट पर विजिट करते हैं और जाने-अनजाने अपनी जानकारियां उनके साथ में शेयर कर देते हैं और उनके जाल में फंस जाते हैं.

 

What is a phishing attack? फिशिंग क्या है – फ़िशिंग अटैक की जानकारी हिंदी में

 

’फिशिंग’’ इंटरनेट चोरी का एक सामान्य रूप है। इसका प्रयोग हैकर द्वारा किस भी यूज़र की व्यक्तिगत एवं गोपनीय जानकारी जैसे बैंक खाता संख्याएं, नेट बैंकिंग पासवर्ड, क्रेडिट कार्ड संख्या, व्यक्तिगत पहचान विवरण आदि चुराने के लिए किया जाता है। इसके बाद धोखेबाज़ इन जानकारियों का उपयोग प्रभावित व्यक्तियों के खातों से धन निकालने या प्रभावित व्यक्तियों के क्रेडिट कार्ड से बिलों का भुगतान करने में करता है। सबसे खराब स्थिति वह है जब किसी व्यक्ति पहचान ही चोरी हो जाती है। कई बार तो फिशिंग अटैक के बड़े ही घातक परिणाम देखने को मिले हैं | गोपनीयता और सुरक्षा के द्रिशितिकों से फिशिंग एक बेहद ख़तरनाक किस्म का साइबर क्राइम हैं | अगर हम भारतीय बैंक और उनके ग्राहकों कि बात करे तो कई भारतीय बैंकों के कुछ ग्राहक सन 2006 की स्टार्टिंग में फिशिंग से काफी ज्यादा प्रभावित हो चुके हैं।

 

फिशिंग के जानकर अपराधी फ़िशिंग के माध्‍यम से आपको नकली ईमेल या संदेश भेजते हैं, जो किसी प्रतिष्ठित कम्‍पनी, आपकी बैंक, आपकी क्रेडिट कार्ड कम्‍पनी, ऑनलाइन शॉपिंग कि वेबसाइट की तरह मिलते-जुलते होते हैं| Phishing क्या है कई बार ये इतने सिमिलर होते हैं कि एक अच्छा खासा अनुभव वाला व्यक्ति भी गच्चा खा जाता है | अगर आप सतर्क नहीं हैं तो आप इनके झॉसे में जल्‍द ही आ जाते हैं। इन नकली ईमेल (Fake email) या संदेश का उद्देश्‍य आपकी PII यानी पर्सनल आइडेंटिफाइएबल इन्फ़ॉर्मेशन (Personally identifiable information) को चुराना है। पर्सनल आइडेंटिफाइएबल इन्फ़ॉर्मेशन (Personally identifiable information) के अन्‍तर्गत आपकी निजी और गोपनीय जानकारियॉ आती है जैसे –

Tags – Phishing kya hai
आपका पूरा नाम
आपकी ईमेल यूजर आई0डी
आपका पासवर्ड
आपका मोबाइल नम्‍बर या फोन नम्‍बर
आपका पता
बैंक खाता नम्‍बर
एटीएम कार्ड, डेबिट कार्ड तथा क्रेडिट कार्ड नम्‍बर
एटीएम कार्ड, डेबिट कार्ड तथा क्रेडिट कार्ड आदि का वेलिडेशन कोड
आपकी जन्‍मतिथि का डाटा
और ऐसी कोई भी जानकारी जो आप के लिए नुकसान दायक साबित हो

 

How Phishing Works in Hindi
फ़िशिंग कैसे कार्य करता है:

 

फ़िशिंग अटैक आमतौर पर सोशल नेटवर्किंग टेक्निक्स पर भरोसा करते हैं, जो ईमेल या अन्य इलेक्ट्रॉनिक कम्युनिकेशन मेथड पर लागू होते हैं, जिनमें सोशल नेटवर्क, एसएमएस टेक्‍स्‍ट मैसेजेस और अन्य इंस्टेंट मैसेजिंग मोड शामिल हैं। Phishers पीड़ित कि पर्सनल और काम कि हिस्‍ट्री, उनकी रुचियों और उनकी एक्टिविटीज और बैकग्राउंड की जानकारी एकत्र करने के लिए सोशल इंजीनियरिंग और अन्य पब्‍लीक सोर्स जैसे लिंक्डइन, फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल नेटवर्कों का उपयोग कर सकते हैं।

Phishing अटैक के प्राथमिक आक्रमण में पीडि़त का नाम, जॉब टाइटल और ईमेल एड्रेस के साथ ही उनके सहकारी और उनके कंपनी के एम्प्लॉइज के नामों का उल्लेख हो सकता है।

इस जानकारी का उपयोग एक विश्वसनीय ईमेल को तैयार करने के लिए किया जा सकता है।आमतौर पर, विक्टिम को एक मैसेज मिलता है जो एक ज्ञात कॉन्‍टैक्‍ट या ऑर्गनाइज़ेशन द्वारा भेजा गया है ऐसा प्रतीत होता हैं।

अटैक या तो एक मालिसियस फ़ाइल अटैचमेंट के माध्यम से किया जाता है जिसमें फ़िशिंग सॉफ़्टवेयर होता है, या मालिसियस वेबसाइटों से कनेक्‍शन के लिए लिंक के माध्यम से किया जाता है।

  

इन्हें भी पढ़ें:-

  

या तो किसी भी मामले में, पीड़ित के डिवाइस पर मैलवेयर इंस्‍टॉल करना या पीड़ित को एक मालिसियस वेबसाइट पर ले जाना होता है ताकि उन्हें अपनी पर्सनल और फाइनेंसियल इनफॉर्मेशन, जैसे कि पासवर्ड, अकाउंट आईडी या क्रेडिट कार्ड डिटेल्‍स भरने के लिए ट्रिक किया जा सके।

सफल फ़िशिंग मैसेजेस, जो आमतौर पर किसी प्रसिद्ध कंपनी से होने के रूप में दर्शाए जाते हैं, और ओरिजनल मैसेजेस से उनकी तुलना करना मुश्किल होता है: फ़िशिंग ईमेल में कॉर्पोरेट लोगो और डाटा होता हैं जिससे वह ई-मेल असली लग सके।

फ़िशिंग मैसेजेस में मालिसियस लिंक को भी इस तरह से डिज़ाइन भी किया जाता है जैसे कि वह ओरिजनल बैंक या ऑर्गनाइज़ेशन से आते हैं।

 

Types Of Phishing Attack In Hindi

 

Phishing Attack भी कई प्रकार के होते है Phishing Attack के प्रकारों के बारे में आपको आगे बताया गया है।

SMS Phishing

इस Phishing में यूज़र को Bank Account Credential का खुलासा करने या मैलवेयर को इंस्टाल करने के लिए टेक्स्ट मैसेज का प्रयोग किया जाता है।

Pharming Attack

यह अटैक DNS कैश पोइजनिंग पर निर्भर करता है जिससे उपयोगकर्ता को Valid Site से किसी फ्रॉड वेबसाइट पर सीधे पहुँचाया जा सके इस फ्रॉड साईट में लॉग इन करने पर उनकी लॉग इन इनफार्मेशन को चुराया जा सकता है।

Spear Phishing

Spear Phishing अटैक कंपनियों या किसी विशेष व्यक्तियों पर किया जाता है। इस फिशिंग में जिस पर अटैक किया जाता है उसकी कंपनी के सहकर्मी या ऑफिसर्स के रेफ़रेन्स उसका लोकेशन, नाम, पर्सनल रेफ़रेन्स शामिल होते है।

Voice Phishing

यह Voice Communication Media पर होता है। इसमें हैकर कॉल के द्वारा लोगों के क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड की जानकारी मांगते है। इसे विशिंग भी कहते हैं।

Whaling Attacks

यह एक तरह से Spear Phishing Attack होता है। जिसमें किसी आर्गेनाईजेशन के अधिकारियों को टारगेट करते है ज्यादा रकम पाने के लिए।

 

Common Features of Phishing Emails in Hindi

 

Phishing in Hindi
फ़िशिंग ईमेल की सामान्य विशेषताएं

सच होने के लिए बहुत अच्छा है – आकर्षक ऑफ़र और आकर्षक या ध्यान खींचने वाले बयान लोगों का ध्यान तुरंत आकर्षित करने के लिए डिज़ाइन किए जाते हैं। उदाहरण के लिए, कई लोग दावा करते हैं कि आपने iPhone, लॉटरी, या कोई अन्य भव्य पुरस्कार जीता है। लेकिन, किसी भी संदिग्ध ईमेल पर क्लिक न करें। याद रखें कि अगर यह सच होने के लिए अच्छा लगता है, तो शायद यही फ़िशिंग है!

तात्कालिकता की भावना – साइबर अपराधियों के बीच एक पसंदीदा रणनीति यह है कि वे आपको तेजी से कार्य करने के लिए उकसाते हैं क्योंकि सुपर सौदे केवल सीमित समय के लिए होते हैं। उनमें से कुछ आपको यह भी बताएंगे कि आपके पास जवाब देने के लिए कुछ ही मिनट हैं। जब आपके सामने इस प्रकार के ईमेल आते हैं, तो बेहतर होगा कि आप उन्हें अनदेखा कर दें। कभी-कभी, वे आपको बताएंगे कि आपका अकाउंट तब तक ससपेंड कर दिया जाएगा जब तक कि आप अपना पर्सनल डिटेल्‍स तुरंत अपडेट नहीं करते। अधिकांश विश्वसनीय संगठन किसी अकाउंट को बंद करने से पहले पर्याप्त समय देते हैं और वे कभी भी अपने ग्राहकों को इंटरनेट पर पर्सनल डिटेल्‍स अपडेट करने के लिए नहीं कहते हैं। जब संदेह हो, तो ईमेल में किसी लिंक पर क्लिक करने के बजाय सीधे स्रोत पर जाएं।

हाइपरलिंक्स – एक लिंक वह सब नहीं हो सकता है जो वह प्रतीत होता है। एक लिंक पर होवर करने से आपको वास्तविक यूआरएल दिखाई देता है जहां आपको उस पर क्लिक करने के लिए निर्देशित किया जाएगा। यह पूरी तरह से अलग हो सकता है या यह गलत स्‍पेलिंग वाली एक लोकप्रिय वेबसाइट हो सकती है, उदाहरण के लिए www.bankofbadoda.com – ‘r’ वास्तव में एक ‘d’ है, इसलिए ध्यान से देखें।

अटैचमेंट – यदि आप किसी ऐसे ईमेल में अटैचमेंट देखते हैं जिसकी आपको उम्मीद नहीं थी या इसका कोई मतलब नहीं है, तो इसे ओपन करें! उनमें अक्सर रैंसमवेयर या अन्य वायरस जैसे पेलोड होते हैं। एकमात्र फ़ाइल प्रकार जिस पर क्लिक करना हमेशा सुरक्षित होता है, वह है .txt फ़ाइल।

असामान्य सेंडर – ऐसा लगता है कि यह किसी ऐसे व्यक्ति से है जिसे आप नहीं जानते हैं या कोई ऐसा व्यक्ति है जिसे आप जानते हैं, अगर कुछ भी सामान्य, अप्रत्याशित, चरित्र से बाहर या सामान्य रूप से केवल संदिग्ध लगता है, तो उस पर क्लिक न करें!

 

Types of Phishing in Hindi
फ़िशिंग के प्रकार:

 

चूंकि कई ऑर्गनाइज़ेशन अपने एम्प्लॉइज को इन फ़िशिंग से सावधान कर रहे हैं और बैंक भी अपने कस्‍टमर्स को किसी ई-मेल लिंक पर क्लिक न करने कि सलाह दे रहे है, फिर भी रोज नए फ़िशिंग के मामले सामने आ रहे हैं।

फ़िशिंग अटैक के कुछ कॉमन टाइम इस प्रकार हैं:

 

1) Spear Phishing Meaning in Hindi:

स्पीयर फिशिंग हमलों का निर्देश विशिष्ट व्यक्तियों या कंपनियों पर किया जाता है, इसके लिए आमतौर पर पीड़ित व्यक्ति के लिए विशिष्ट जानकारी का उपयोग किया जाता है, जिसका उपयोग मैसेज अधिक वैध और असली लगने के लिए किया जाता हैं।

स्पीयर फ़िशिंग ईमेल में पीड़ित के ऑर्गनाइज़ेशन के सहकर्मियों या ऑफिसर्स का रेफरेंस, साथ ही पीड़ित के नाम, लोकेशन या अन्य पर्सनल रेफरेंस शामिल हो सकते हैं।

 

2) Whaling Attacks:

Whaling attacks एक प्रकार के स्पीयर फिशिंग अटैक होते है जिसमें विशेष रूप से एक ऑर्गनाइज़ेशन के वरिष्ठ अधिकारियों को टार्गेट किया जाता है, अक्सर बड़ी रकम चोरी करने के उद्देश्य से।

इसके लिए मैसेजेस अधिक रियल लगने के लिए पीड़ितों के बारे में डिटेल इनफॅार्मेशन होती हैं। क्योंकि टार्गेट से संबंधित या विशिष्ट जानकारी का उपयोग करने से हमला सफल होने की संभावना बढ़ जाती है।

Whaling Attacks अटैक में उनको अपने एम्प्लॉइज या वेंडर को पेमेंट करने के लिए प्रेरित किया जाता हैं लेकिन असल में वह पेमेंट अटैकर्सै को किया जाता हैं।

 

3) Pharming Attacks:

Pharming Attacks एक प्रकार का फ़िशिंग है जो DNS कैश पोइज़निंग पर निर्भर करता है ताकि यूजर्स को किसी वैध साइट से एक फ्रॉड वेबसाइट पर रीडायरेक्ट किया जा सके और इस फ्रॉड साइट पर लॉग इन करने का प्रयास करने पर उनके लॉगिन क्रेडेंशियल्स को चोरी किया जा सके।

अगर आपने लिंक को क्लिक करने से पहले सेफ्टी कि जाँच नहीं कि, तो आप आप मुसीबत में पड़ सकते हैं|

4) Voice Phishing Meaning in Hindi:

वॉइस फ़िशिंग, जिसे विशिंग के रूप में भी जाना जाता है, फ़िशिंग का एक रूप है जो IP (VoIP) या POTS (plain old telephone service) सहित वॉइस कम्‍युनिकेशन मिडिया पर होता हैं।

इसमें वे कॉल कर लोगों के डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड इनफॉर्मेशन कि मांग करते हैं।

 

5) SMS Phishing:

SMS Phishing में पीडि़तों को बैंक अकाउंट क्रेडेंशियल्स का खुलासा करने या मैलवेयर इंस्टॉल करने के लिए टेक्स्ट मैसेजिंग का उपयोग होता है।

How To Identify Phishing Attacks
फ़िशिंग हमला की पहचान कैसे करें:

फ़िशिंग अटैक अक्‍सर ईमेल, वॉइस कॉल या एसएमएस के माध्यम से किया जाता है। लेकिन इन संदिग्ध ईमेल, कॉल या मैसेजेस को पहचानने के तरीके हैं जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं –

बैंक कभी भी आपके बैंक अकाउंट, डेबिट या क्रेडिट कार्ड कि इनफॉर्मेशन नहीं मांगते। इसलिए यदि इन मेल्‍स, वॉइस या एसएमएस में यह जानकारी मांगी जाती हैं, तो यह फेक हैं।

 

कैसे होते है Phishing का शिकार

 

कोई उपभोक्ता Phishing अटैक का शिकार आसानी से हो सकता है, जैसे आपके पास किसी बड़ी कंपनी के नाम से एक फेक मेल आता है। जिसमें आपको कुछ ऑफर या आपसे कुछ जानकारी ली जाती है।
उदाहरण के लिए अगर आपके पास फेसबुक, ट्विटर, गूगल या फिर आपके बैंक से कोई मेल आता है और उस मेल में लिखा होता है कि आपको कोई बड़ा ऑफर मिला है या फिर आपको अपने अकाउंट को जारी रखने के लिए कुछ जानकारी को वेरीफाई करना होगा।

ऐसे में आप मजबूरन घबराकर उस ईमेल पर दी हुई लिंक पर क्लिक कर देते है। इसके बाद आप एक फेक वेबसाइट पर पहुंच जाते है। फेक वेबसाइट पर पहुंचकर आप अपने फेसबुक, ट्विटर, गूगल या बैंक अकाउंट को लॉग इन करने का प्रयास करते है।ऐसे में आप अपना यूजरनेम और पासवर्ड उस फेक वेबसाइट पर डालते है, जो सीधे हैकर्स या अटैकर्स के पास में पहुंच जाता है और आप Phishing अटैक का शिकार हो जाते है।

 

फिशिंग अटैक से कैसे बचे (How to avoid phishing attack)

 

आप यह तो जान गए कि Phishing क्या है और कैसे बनते है फिशिंग अटैक का शिकार। अब हम जानेंगे कि आखिर Phishing अटैक से कैसे बचा जाए।

तो आपको बता दे कि आप अपनी सूझबुझ से इस तरह के अटैक से बाख सकते है, इसके लिए आपको कुछ विशेष बातों को ध्यान में रखना चाहिए।

  • इसका सबसे आसान तरीका है कि आप किसी भी अनजाने लिंक पर क्लिक ना करें।
  • आप अपने ईमेल को सिक्योर कर सकते है ताकि कोई अनजान ईमेल आपके ईमेल बॉक्स में ना आ सके।
  • आपको यह बात ध्यान में रखना है कि कुछ भी हो जाए अपना बैंक या किसी भी अकाउंट से जुड़ा यूजरनेम और पासवर्ड किसी भी परिस्थिति में किसी को शेयर नहीं करना है।
  • इसके साथ ही आपको थोडा जागरूक होना पड़ेगा, जैसे किसी भी वेबसाइट पर जाने से पहले उसके URL को चेक करें।
  • अगर फेक वेबसाइट होगी तो आपको उसमें स्पेलिंग मिस्टेक नजर आ जाएगी।
  • आप किसी भी अनसिक्योर वेबसाइट पर जाने से बचे।
  • अगर आप अनसिक्योर वेबसाइट परचले गए है तो इस तरह की वेबसाइट पर अपनी जरूरी डिटेल्स कभी न डाले।

 

Anti Phishing Meaning in Hindi

 

लेकिन Google ने हैकर से बचने के लिए Anti Phishing Security फ़ीचर को बनाया है। इस फ़ीचर के द्वारा मिलियन आई फोन और आइपैड के उपयोगकर्ता फिशिंग ईमेल के द्वारा हैकिंग होने के शिकार बनने से बच सकेंगे।

इसमें Security कुछ इस तरह से होगी यदि उपयोगकर्ता किसी ऐसी लिंक पर क्लिक करता है जो गूगल के अनुसार संदेह पूर्ण होगी तो स्क्रीन पर इससे रिलेटेड एक वार्निंग पॉप-अप आ जाएगा। इस वार्निंग में कुछ इस तरह का मैसेज होता है की यदि यूज़र पहली वार्निंग को नज़रअंदाज़ कर देता है और आगे बढ़ता है तो Gmail एप्प दूसरी वार्निंग का मैसेज देता है।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख  Phishing क्या है? Phishing अटैक से कैसे बचे पूरी जानकारी  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Phishing क्या है? Phishing अटैक से कैसे बचे पूरी जानकारी

 

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

 

Leave a Comment