RTO officer कैसे बने ? आरटीओ ऑफिसर क्या होता है? पूरी जानकारी

दोस्तों RTO officer कैसे बने ? :- क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (RTO) एक सरकारी संगठन है जो वाहनों के पंजीकरण, ड्राइवर लाइसेंस जारी करने, मोटर बीमा, और परिवहन वाहनों को फिटनेस का अनुदान प्रमाण पत्र देने आदि कार्यों के लिए जिम्मेदार है। RTO Adhikari की जॉब भारत में उच्च प्रतिष्ठित सरकारी नौकरियों में से एक है। बहुत से छात्र RTO ऑफिसर बनने का ख्याब देखते है अगर आप भी RTO Officer Kaise Bane के बारे में जानना चाहते है तो आप बिलकुल सही जगह है।

RTO Officer एक ग्रेड-बी प्रकार का अधिकारी होता है जिनकों अच्छे वेतन के साथ विभिन्न सुविधाएं प्राप्त होती है। वे उम्मीदवार जो आरटीओ अधिकारी बनने की चाह रखते है, उनका किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक उत्तीर्ण होना आवश्यक है। इतना ही नहीं आपको RTO Inspector से जुड़ी अन्य जानकारी जैसे आरटीओ ऑफिसर क्या होता है, RTO Ke Liye Qualification, RTO Office Me Job Kaise Paye या आरटीओ कैसे बनते हैं? इन सभी आवश्यक बातों के बारे में भी पता होना चाहिए, जिसकी जानकारी आपको इस लेख के माध्यम से प्राप्त होने जा रही है।

 

RTO officer कैसे बने ? आरटीओ ऑफिसर क्या होता है? पूरी जानकारी
TEJWIKI.IN

 

आरटीओ ऑफिसर पूरी जानकारी (RTO officer full details)

 

उसी तरह आज के इस पोस्ट में हम RTO Officer Kaise Bane इसके बारे में जानने वाले है यदि आप भी सरकारी जॉब पाना चाहते है और अपना सपना पूरा करना चाहते है तो इस आर्टिकल को शुरू से लेकर अंतिम तक जरूर पढ़िए। इसमें मैंने RTO Officer Kya Hai और एक RTO ऑफिसर कैसे बन सकते है इसके बारे में पूरी जानकारी दी है।

तो सबसे पहले हम ये जानेंगे RTO Officer क्या होता और इसका काम क्या होता है और एक RTO Officer की सैलरी कितनी होती है, ये जानने के बाद आपको RTO ऑफिसर बनने में बहुत ही ज्यादा हेल्प मिलेगी।

 

आरटीओ ऑफिसर क्या होता है? (What is an RTO Officer)

 

दोस्तों RTO ऑफिस का नाम आपने जरूर सुन रखा होगा। अगर आप गाड़ी चलाते हैं या घर में किसी के पास लाइसेंस है तो आपको इसकी थोड़ी-बहुत जानकारी जरूर होगी।

ये एक सरकारी विभाग (department) है जो कि भारत सरकार के अंतर्गत आता है। इस विभाग को मोटर वाहनों से जुड़े अधिनियमों के पालन, देखरेख और रक्षा के लिए बनाया गया है।

RTO का full form “Regional Transport Office” होता है, हर एक शहर में एक आरटीओ ऑफिस होता है।

आरटीओ ऑफिसर वो ऑफिसर होता है जो इन दफ्तरों में एक अधिकारी के तौर पर काम करता है।

सरल भाषा में समझने के लिए हम इसे आरटीओ ऑफिस का इंचार्ज कह सकते हैं। आरटीओ ऑफिसर के कार्य क्या होते हैं ये हमने आगे
समझाया है।

 

 

RTO ऑफिसर बनने के लिए योग्यता (Eligibility to become RTO Officer)

 

RTO ऑफिसर बनने के लिए कम से कम ग्रेजुएशन होना जरूरी है।

आपने किसी भी स्ट्रीम यानि साइंस, कॉमर्स से ग्रेजुएशन किया हो आप आटीओ ऑफिसर बनने के योग्य हैं।आपके मिनिमम मार्क्स 55% होने चाहिए।

कुछ राज्यों में बारहवीं के बाद ऑटोमोबाइल, मैकेनिकल जैसे विषयों में डिप्लोमा किए उम्मीदवार भी योग्य माने जाते है।

आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए एज लिमिट 21-30 साल होती है। सरकारी नियमों के अनुसार उम्र सीमा में 3-10 साल तक छूट दी जाती है।
आपके पास ड्राइविंग लाइसेंस होना जरूरी है।

नोट– हर राज्य के अपने रूल होते हैं। इसलिए एज लिमिट, क्वालिफिकेशन और मिनिमम मार्क्स में थोड़ा- बहुत अंतर हो सकता है। इसलिए आपको नोटिफिकेशन को ध्यान से पढ़ना चाहिए ताकि आप एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को सही तरह समझ सकें।

 

RTO officer selection process – चयन प्रक्रिया (RTO officer selection process – Selection Process)

 

इससे पहले कि हम आगे बढ़ें आप सबसे महत्वपूर्ण बात समझ लीजिए।

RTO कोई डायरेक्ट पोस्ट नहीं होती है। इसके लिए पहले आपको MVI (Motor Vehicle Inspector) या ARTO ऑफिसर बनना होता
है।

कहीं कहीं IMV नाम की पोस्ट भी होती है। ये सारी पोस्ट B ग्रुप में आती हैं। इनके लिए राज्य लोक सेवा आयोग की तरफ से एग्जाम लिया जाता है। कुछ राज्यों में परिवहन विभाग की तरफ से भी भर्ती की जाती है।

कुछ सालों तक MVI या ARTO ऑफिसर की पोस्ट पर काम करने के बाद RTO के तौर पर तरक्की मिल जाती है।

जैसे कि पहले आपको MVI grade 2 पर 4-5 साल काम करना होता है। इसके बाद आपको MVI grade 1 पर प्रमोट किया जाता है। 8-9 साल काम करके आप RTO के लेवल पर पंहुचते हैं। बीच बीच में कुछ एग्जाम भी क्लीयर करने होते हैं।

RTO selection process में तीन चरण होते हैं

लिखित परीक्षा
फिजिकल फिटनेस टेस्ट
इंटरव्यू

1. लिखित परीक्षा (written test)

 

ये 200 नंबर का एग्जाम होता है। इसके लिए दो घंटे का समय दिया जाता है।

इस एग्जाम में करेंट अफेयर्स, इतिहास, बेसिक साइंस, जनरल अवेयरनेस, हिंदी, अंग्रेजी, राज्य की भाषा (तेलगू, मराठी), भूगोल,
रीजनिंग, ऑटोमोबाइल, एप्टीट्यूड जैसे विषयों से सवाल पूछे जाते हैं। लिखित परीक्षा ऑब्जेक्टिव टाइप होती है।

 

2. फिजिकल फिटनेस टेस्ट

 

इसमें शारीरिक जाँच, हाइट, आई साइट, वेट जैसी चीजें जाँची जाती हैं।

 

3. इंटरव्यू

 

पहले दो चरण पार करने के बाद इंटरव्यू लिया जाता है। इसके बाद एक फाइनल मेरिट लिस्ट बनाई जाती है।

 

RTO Officer की वेतन/सैलरी (Salary)

 

चाहे कोई सी भी नौकरी हो हम सबसे पहले उसकी सैलरी जानना चाहते है की इस नोकरी से हमे कितनी सैलरी प्राप्त होगी।

जी हां आरटीओ ऑफिसर की सैलरी में बहुत सी रैंक शामिल होती है और यह Rto Officer Rank के अनुसार अलग-अलग होती है। Rto Officer की सैलरी बहुत अच्छी सम्मान जनक मिलती है और यह 20,000 से 40,000 रूपए तक की होती है।

नोट- यदि आप Rto Officer बनने के लिए मेहनत कर रहे है तो आपको इसकी तैयारी पर पूरी तरह से टारगेट के साथ करनी चाहिए।

 

 

RTO Exam की तैयारी कैसे करें? (How to prepare for RTO Exam)

 

बहुत सारे स्टूडेंट है वो हमेशा पूछते रहते है कैसे हम RTO Officer के लिए तैयारी कर सकते है इसका सबसे आसान जवाब है एग्जाम के तैयारी के लिए सबसे पहले तो आप अपने पुरे Syllabus के लिए एक टाइम टेबल निर्धारित कीजिये। जिसमे आप अपने अलग अलग Syllabus की तैयारी कर सकें।

इसके बाद आप अपने उस सब्जेक्ट के लिए ज्यादा समय निकाले जिसमे आप कमजोर है। RTO officer कैसे बने ? आज के डिजिटल समय में तरह तरह के टेक्नॉलजी का भी इस्तेमाल कर ऑनलाइन प्लेटफार्म से सिख सकते है जैसे यूट्यूब इत्यादि।

जितने भी ऐसे लोग है जो अपना RTO की एग्जाम पहले ही दे चुके है उनके एक्सपीरिंयस के बारे में जाने, इससे आपको एग्जाम के बारे में काफी ज्यादा अंदाजा हो जायेगा। इन सभी के आलवा ऑनलाइन घर बैठे एक्स्ट्रा क्लास कर सकते है इससे होगा ये आपका कंफ्यूशन होगा वो घर बैठे क्लियर हो जायेगा।

 

आरटीओ ऑफिसर के कार्य क्या है ? (What are the functions of RTO officer)

 

दोस्तों एक आरटीओ ऑफिसर के ऊपर निम्न दायित्व होते हैं

  • नए वाहनों का रजिस्ट्रेशन यानि पंजीयन करना
  • कमर्शियल गाड़ियों के परमिट जारी करना
  • जो लोग गाड़ी चलाने का लाइसेंस लेना चाहते हैं उनका टेस्ट लेना
  • वाहन चलाने के लिए लाइसेंस जारी करना
  • लाइसेंस का नवीनीकरण (renew) करना
  • अपने शहर की सभी गाड़ियों का रिकॉर्ड रखना
  • Motor Vehicle Tax वसूल करना
  • गाड़ियों की कंडीशन की जांच करना कि ये सड़क पर चलाए जाने के लिए सही हैं या नहीं
  • गाड़ियों के इन्श्योरेंस की जांच करना
  • कोई दुर्घटना होने पर ये जांच करना कि गाड़ी कितनी डैमेज हुई है

हम इसे इस तरह summarize कर सकते हैं कि RTO Officer गाड़ियों और उनको चलाने वाले लोगों से जुड़ा सारा डेटा रखता है। इसके साथ एक आरटीओ ऑफिसर इस बात का भी ध्यान रखता है कि परिवहन से जुड़े नियमों का सही तरह से पालन किया जाए।

आप ये न सोचें कि इतने सारे काम बेचारा एक आरटीओ ऑफिसर अकेले किस तरह कर सकता है। किसी भी आरटीओ ऑफिस में एक पूरी टीम होती है। ये अलग-अलग लेवल पर एक दूसरे को सहयोग करते हैं।

लेकिन RTO ऑफिसर इनका सीनियर होता है। हर तरह के सर्टिफिकेट और लाइसेंस उसके साइन के बाद ही जारी और valid होते हैं।

 

RTO officer कैसे बने ? (How to become an RTO officer)

 

  • आरटीओ ऑफिसर के लिए डायरेक्ट भर्ती नहीं होती।
  • आपको पहले MVI या ARTO के लिए अप्लाई करना होता है।
  • इसकी भर्ती के लिए राज्य लोक सेवा आयोग की तरफ से परीक्षा आयोजित की जाती है।
  • मिनिमम क्वालीफिकेशन ग्रेजुएशन है।
  • कुछ राज्य ऑटोमोबाइल या मेकेनिकल विषयों में डिप्लोमा होल्डर को भी मौका देते हैं।
  • इस एग्जाम के लिए न्यूनतम उम्र सीमा 21-30 साल होती है।
  • सरकारी नियमों के अनुसार अधिकतम उम्र में छूट दी जाती है।
  • जब आप कुछ साल MVI या ARTO के पद पर काम कर लेते हैं उसके बाद प्रमोट होकर RTO ऑफिसर बन सकते हैं।
  • आरटीओ ऑफिसर ग्रेड बी की पोस्ट होती है।
  • आरटीओ ऑफिसर अपने कार्यक्षेत्र के अंतर्गत आने वाले वाहनों का पंजीयन, इंश्योरेंस, लाइसेंस जारी करना, डेटाबेस रखना जैसे काम करता है।

 

FAQ- अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न :-

 

  • आरटीओ बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए?

RTO बनने के लिए आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।

  • आरटीओ का फुल फॉर्म क्या है?

RTO का फुल फॉर्म रीजनल ट्रांसपोर्ट कार्यालय होता है।

  • आरटीओ का प्रमुख कौन होता है?

परिवहन आयुक्त RTO (क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय) का प्रमुख होता है।

 

 

Conclusion

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख RTO officer कैसे बने ? आरटीओ ऑफिसर क्या होता है? पूरी जानकारी जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

RTO officer कैसे बने ? आरटीओ ऑफिसर क्या होता है? पूरी जानकारी

 

Leave a Comment