Tally (टैली) क्या है-What is Tally in Hindi? Tally कैसे सीखे

दोस्तों अगर आप नहीं जानते कि Tally(टैली) क्या है तो Tally (टैली) एक सबसे Popular Accounting Software है, जिसके द्वारा किसी व्यक्ति या कंपनी द्वारा किए गए सभी लेन-देन की जानकारी एकत्रित करके रखी जाती है। तो अगर आप भी Tally Meaning in Hindi और What is Tally in Hindi के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं, तो आज हम आपको इस पोस्ट में Tally in Hindi, टैली क्या है, टैली कोर्स कितने दिन का होता है और टैली का फुल फॉर्म इन हिंदी के बारे में विस्तार से बताएंगे। Tally एक Acconting Software है, जो भी किसी भी व्यवसाय, कंपनी, बैंक या सरकारी कार्यालय के Accounting से जुड़े सभी कार्यों जैसे लेन-देन का रिकॉर्ड रखना, उसे मेंटेन करना, उसके डाटा को सुरक्षित रखना इन सभी कार्यों के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

अगर आप Tally ke Bare me Jankari चाहते हैं कि Tally Kya Hota Hai, Tally Kise Kahate Hain, टैली कोर्स के फायदे (Tally Ke Fayde) क्या हैं तो आपको कहीं और जाने की जरूरत नहीं है। हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से Tally Me Kya Kya Sikhaya Jata Hai और Tally Course in Hindi(टैली कंप्यूटर कोर्स) पूरी जानकारी उपलब्ध कराएँगे,जानने के लिए हमारे साथ बने रहिए और इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़िए।

 

Tally (टैली) क्या है-What is Tally in Hindi? Tally कैसे सीखे
TEJWIKI.IN

 

Tally क्या है – What is Tally in Hindi

 

Tally का अर्थ पैसे की गणना करना साथ ही उसका व्यस्थापन और संरक्षित करना हैं. इसके अलावा वस्तु कहाँ से खरीदी गयी कितने में खरीदी गई इन सभी कामो का रिकॉर्ड Tally में रखा जाता है. एक ज़माना हुआ करता था जब लोग अपने बिज़नेस में होने वाले सभी वित्तीय लेन देंन को हाथ से लिख कर डॉक्यूमेंट और दस्तावेज में रखा करते थे. लेकिन अब वो वक़्त बीत चूका है. आज के समय में सभी प्रकार के व्यवसायों में कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है और अकाउंट से जुड़े बहुत सारे सॉफ्टवेयर में Tally सबसे अधिक प्रयोग किया जाता है.

जब भी कंप्यूटर में अकाउंटिंग के काम के बारे में बात की जाती है तो सबसे पहला नाम जो दिमाग में आता है वो है Tally है. अकॉउंटिंग में बहुत तरह के पेचीदा गणना करना होता है वो कंप्यूटर में बिना सॉफ्टवेयर के नहीं किया जा सकता है. इस तरह के मुश्किल कैलकुलेशन करने के लिए ही Tally काम में लाया जाता है.

आपकी जानकारी के लिए बता दूँ की Tally का इस्तेमाल तो भारत में होता है अलावा कई अन्य देशों में भी Tally बहुत प्रचलित है. ये सॉफ्टवेयर बहुत साडी कंपनियों और अकॉउंटिंग से जुड़े लोगो के रोज़मर्रा काम आने वाला सॉफ्टवेयर है. लेकिन Tally की शुरुआत कैसे हुई ये बहुत कम लोगो को ही पता होगा. ये कितने काम का है ये तो अब आप समझ गए होंगे लेकिन इसकी जरुरत कब पड़ी इसी बात को चलिए आगे जानते हैं.

 

Tally का फूल फ़ॉर्म 

 

Tally का फूल फ़ॉर्म है Transactions Allowed in a Linear Line Yards. Tally भारत में प्रयोग होने वाला सबसे पॉपुलर अकॉउंटिंग सॉफ्टवेयर है. Tally Solutions Pvt. Ltd. एक मल्टीनेशनल कंपनी है जिसने Tally का निर्माण किया है. इसका Headquarter भारत के बैंगलोर शहर में स्थित है. कंपनी के रपोर्ट के मुताबिक tally सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल 10 लाख से ज्यादा लोग करते हैं.

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

Tally का इतिहास (History of Tally in Hindi)

 

दोस्तों जैसा की मैंने पहले ही बता दिया है की Tally का निर्माण भारत के बैंगलोर स्थित कंपनी में कियस गया है. लेकिन Tally Solution कंपनी को पहले Peutronics के नाम से जाना जाता था. क्या आप जानते है टैली के जनक कौन है? सन 1986 में श्याम सुन्दर गोयनका और उनके बेटे भारत गोयनका ने मिलकर बनाया था. उस वक़्त श्याम सुन्दर गोयनका एक कंपनी चलाया करते थे जिससे की दूसरे प्लांट्स और टेक्सटाइल मिल्स को कच्चा माल और मशीन पार्ट्स सप्लाई करते थे. तो इस बिज़नेस को मैनेज करने के लिए उनके पास कोई ऐसा सॉफ्टवेयर नहीं था जिससे वो अपना हिसाब किताब आसानी से कर सके.

तब उन्होंने अपने बेटे से कहा की एक ऐसा सॉफ्टवेयर बनाओ जिससे हम अपने बिज़नेस को आसानी से मैनेज कर सके. भारत गोयनका जो की मैथमेटिक्स में ग्रेजुएट थे उन्होंने अकॉऊंटिंग एप्लीकेशन के लिए सबसे पहला संस्करण MS – DOS एप्लीकेशन के रूप में लांच किया. इस में सिर्फ बेसिक अकॉउंटिंग फंक्शन थे. जिसका नाम Peutronics financial Accountant रखा गया.

1988 में इस प्रोडक्ट का नाम बदलकर पहली बार Tally रखा गया.

1999 में इस कंपनी ने formally कंपनी का नाम बदलकर Tally Solutions रखा.

2001 के साल में Tally के नए संस्करण यानि Tally 6.3 को लांच किया गया. ये संस्करण से थोड़ा एडवांस था क्यों की इस में Accounting के अलावा Educational उद्देश्य से उपयोग करने की योग्यता थी. इसके साथ इस में License की सुविधा भी दी गई.

सन 2005 में Tally को और भी अच्छा डिज़ाइन के साथ बाजार में उतारा गया जिसमे सबसे मुख्या फीचर था Value Added Taxation (VAT). जो की भारतीय कस्टमर्स के लिए बहुत उपयोगी था. ये Tally 7.2 version था.

2006 में Tally के 2 version को release किया गया जिनमे से एक Tally 8.1 था और दूसरा Tally 9. ये Tally के maultilingual version थे.

2009 में इस कंपनी ने Tally ERP 9 एक Business management solution रिलीज़ किया.

2016 में GST Server और Tax Payers के बिच में interface के रूप में GST सुविधा प्रदान करने के लिए Tally Solutions को चुना गया और 2017 में कंपनी ने बिलकुल अपडेटेड GST Compliance Software लांच किया.

 

Tally के Version

 

Tally 4.5
टैली का यह वर्ज़न एमएस डॉस पर आधारी था जिसे सन 1990 मे पहली बार लौंच कीया गया था.

Tally 5.4
यह टैली का ग्राफ़िकल इंटरफेस वाला वर्ज़न हुआ करता था जिसे सन 1996 मे जारी कीया गया था वह यह टैली का दूसरा वर्ज़न था.

Tally 6.3
टैली का यह वर्ज़न विंडोज़ पर आधारित जा जो की प्रिंटिंग को भी सपोर्ट करता था वही टैली के इस वर्ज़न को 2001 मे लौंच कीया गया था जो की टैली का तीसरा वर्ज़न था.

Tally 7.2
टैली के इस वर्ज़न को सन 2005 म लौंच ककिया गया था जिसे वैट की कुछ नई विसेसता के साथ लौंच कीया गया था यह टैली का चौथा वर्ज़न था.

Tally 8.1
टैली का यह वर्ज़न टैली मे कई बदलाओ के साथ आया था जिसमे हमे POS इत्यादि मे नए विसेसता देखने को मिले.

Tally 9
टैली के इस वर्ज़न मे हमे टी डी एस,एफ बी टी पेरॉल इत्यादि विशेषता देखने मिली वही टैली का यह वर्ज़न सन 2006 मे आया था.

Tally ERP 9
टैली के इस वर्ज़न मे हम GST और भी कई नई फीचर देखने को मिला वही टैली का यह वर्ज़न सन 2009 मे आया था जो किसी भी बिजनस के लिए काफी उपयोगों सभीत हुआ है.

 

Tally कैसे सीखे

 

दोस्तों शुरुआत में जब आप Tally में काम करने जाते हैं तो ये काफी मुश्किल लगता है. टैली सीखना इतना आसान नहीं है, और मेरी माने तो इतना मुस्किल भी नहीं है. एक तो इसमें माउस का काम नहीं होता बल्कि सारा काम कीबोर्ड से करना होता है. साथ ही इस पर काम करना आसान है लेकिन अगर आप इस के बारे में सिख जाते हैं तो. Tally के बेसिक फंक्शन मेसिख जाने के बाद आप को इस पर काम करने में भी मज़ा आने लगेगा.

तो चलिए थोड़ा टैली कैसे सीखे हिंदी में के बारे में जान लेते हैं.

Capital – जब कोई पैसा व्यापर के लिए लगता है तो उस रकम को capital बोलते हैं. इसके अलावा इसे equity भी बोलते हैं.

Transaction – लेन देन करने के प्रोसेस को ही ट्रांज़ैक्शन बोलते हैं. इसमें सर्विसेस और प्रोडक्ट्स का एक्सचेंज किया जाता है.

Discount – अपनी प्रोडक्ट और सेवा के इस्तेमाल को बढ़ाने के लिए जब कोई कंपनी मालिक अपने कस्टमर को डिस्काउंट के रूप में कुछ रकम वापस देता है. Discount 2 तरह के होते हैं.

Trade Discount – ये डिस्काउंट सेलर अपने कस्टमर को लिस्टेड प्राइस पर प्रेजेंट के रूप में देता है.

Cash Discount – ये कस्टमर को सही समय पर बिल करने पर कॅश के रूप में दिया जाता है.

Liability – ये वैसे सामान होते हैं जो किसी से कर्ज के रूप में लिए जाते हैं.

Assets – बिज़नेस से जुडी जितने भी चीज़ें होती हैं उन्हें Assets बोला जाता है.

 

Tally में वाउचर प्रकार 

 

टैली में आमतौर उपयोग किए जाने Vouchers इस प्रकार है –

  • Sales Voucher
  • Receipt Voucher
  • Payment Voucher
  • Purchase Voucher
  • Contra Voucher
  • Journal Voucher
  • Debit Note Voucher
  • Credit Note Voucher
  • Inventory Vouchers, Physical Stock Verification
  • Material In and Material Out Voucher
  • Delivery Note and Receipt Note Vouchers
  • Purchase Order and Sales Order Vouchers

इन्हें भी पढ़ें:-

 

Tally मे Entry कैसे करें?

 

यदि आप एक बार इस software को अच्छे से समझ जाते हैं तो इस पर काम करना आपके लिए बेहद आसान हो जाता है। Tally (टैली) क्या है Entry करने से पहले आपको यह जानने की आवश्यकता होती है की आप इस Software को अपने System पर कैसे खोलें?

  • यदि आपके Desktop पर Tally ERP 9 नामक Icon उपलब्ध है तो आप उस पर Click करके इस सॉफ्टवेयर को खोल सकते हैं।
  • यदि आपके Desktop पर icon नहीं है तो आप इन Steps को Follow करें:
    Start Button पर Click करें।
  • Programs नामक Folder खोजें एवं उस पर Click करें।
  • Program folder के अंदर आपको Tally ERP 9 नामक Icon मिल जाएगा, उस पर एक बार Click कर दें।

अब आपको यह जानना होगा की आप किस प्रकार की Entry करना चाह रहे हैं। टैली पर आप इन प्रकार की Entries कर सकते हैं:

  • Purchase Entry
  • Sales Entry
  • Receipt Entry
  • Payment Entry
  • Contract Entry
  • Journal Entry

मान लीजिये की हमे यह Entry Pass करनी है:

26 August 2019 Telephone Expense to Airtel: 2000

01 September 2019 Electric Bill: 5000

इस Entry को Fill करने के लिए आपको निम्न Steps follow करने होंगे:

  • टैली सॉफ्टवेयर को Open करें एवं Homepage या Dashboard (मुख्य Page) पर आ जाएँ।
    इसके बाद यह आपको Year Period Select करने के लिए कहेगा। उपरयुक्त उदाहरण मे दर्शाये गए Data के अनुसार हम Period 2019-20 का चुनाव करेंगे क्यूंकी यहाँ 2019 के bills की बात हो रही है।
  • इसके बाद हम उपरयुक्त दर्शाये गए Entry Types मे से कोई एक चुनेंगे जैसे: Payment Entry
  • इसके बाद आप Date डालेंगे (उदाहरण डाटा मे date, 26 aug और 01 sep 2019 दर्शाई गयी है तो हम वही Enter करेंगे)
  • अब आप जिनहे payment करना चाहते हैं यह Software उनकी Bank Details (Credit/Debit Card Details) इत्यादि माँगेगा। यदि यह details आपके पास पहले से Saved हैं तो आप उन्हे चुन लें। अन्यथा आप नयी details add करने के लिए ALT + C shortcut का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • यदि आप किसी प्रकार का Comment डालना चाहते हैं तो आप डाल सकते हैं।
  • Enter button की मदद से सारी Details Save कर लें।
  • इसी प्रकार आप और भी entries save कर सकते हैं।

 

Tally  सॉफ्टवेयर की उपयोगिता तथा विशेषताएं

 

  • पुरानी बही खाता प्रणाली का स्थान Tally सॉफ्टवेयर ने लिया है. जिससे समय, धन तथा ऊर्जा दोनों की बचत हुई है.
  • यूजर फ्रेंडली तथा सरलतम उपयोग के कारण Tally का इस्तेमाल बैंकों, ऑडिटर्स, चार्टेड अकाउंटेंट जैसे विभिन्न वित्तीय स्थानों के साथ ही छोटे स्तर के व्यापार में उपयोग होता है.
  • पारंपरिक खाता व्यवस्थित प्रणाली में कॉपी, डायरी आदि में पेन-पेंसिल की मदद से खाते का रिकॉर्ड व्यवस्थित किया जाता था. जिसे हम “कागज़ी रिकॉर्ड” भी कह सकते हैं. परन्तु आज कंप्यूटर के इस युग में Tally सॉफ्टवेयर की मदद से कॉलम, ग्राफ तथा इनबिल्ट कैलकुलेटर से एकाउंट को तैयार करना (प्रबंधन कार्य) सरल हो गया है.
  • Tally में व्यवस्थित डेटा को लंबे समय तक सहेजना आसान है तथा उस डेटा को अन्य व्यक्ति या कंपनी के साथ साझा करने में भी आसानी होती थी.
  • इस सॉफ्टवेयर में पुरानी एकाउंटिंग प्रणाली के मुक़ाबले अनेक सुविधाएं मौजूद हैं, जिसमें डेटा को सुरक्षित रखने के लिए फ़ाइल में लॉक लगा सकते हैं.
  • अकाउंटिंग में Tally के इस्तेमाल से गणितीय त्रुटियों से बचा जा सकता है. जिससे यह व्यापार के प्रबंधन में मदद करता है. जहाँ बहुत अधिक लेखांकन एवं गणना की आवश्यकता होती है.

 

Tally क्यूँ  सीखे 

 

अगर आप अच्छी Company में Job करना चाहते है तथा अधिक Money को कमाना चाहते है तो आपके लिए Better होगा कि आप Tally का Knowledge जरुर लें. ऐसी बात नहीं है कि आपको सिर्फ Tally का Knowledge हो जाने से आपको कोई Company Job दे देगा, बल्कि ऐसा है Tally (टैली) क्या है कि आपको Tally का Knowledge लेने के साथ-साथ Fundamental Of Computer, M.S. Excel, M.S. Word का भी Knowledge होना आवश्यक होता है.

For Example:- आपको सिर्फ Tally का Knowledge है, लेकिन आपको Computer के अन्य Software के बारें में बिल्कुल भी Knowledge नहीं है तो आपको कोई भी Company Job नहीं दे सकती है. कम से कम आपको ऊपर बताया गया Software And Computer का Basic आना आवश्यक होता है. M.S. Word का भी आपको Knowledge हो जाता है आपको typing भी अच्छी तरीके से आ ही जाएगी जिससे आप Tally में अधिक Work कर सकते है इसके बाद आपको कोई भी Company Job दे सकती है.

 

Tally सॉफ़्टवेयर के मुख्य फ़ीचर्स – Key Features of Tally in Hindi?

 

  • Tally मल्टी-यूज़र सॉफ्टवेयर है अर्थात एक Tally सॉफ्टवेयर में कई यूजर्स काम कर सकते हैं. जिससे नए यूज़र को किसी विशेष कंप्यूटर सिस्टम की आवश्यकता नहीं होती है.
  • टेली सॉफ्टवेयर की पूरी जानकारी तथा इस सॉफ्टवेयर की कार्य-प्रणाली को सीखने के बाद कोई भी व्यक्ति किसी कंपनी में अकाउंटिंग कार्य हेतु नौकरी के लिए आवेदन कर सकता है अर्थात विद्यार्थी भी बिना ग्रेजुएशन की डिग्री के टैली सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • इस क्षेत्र ने कई प्रकार फ्रीलॉसिंग जॉब लोगों को उपलब्ध करने में मदद की है. फाइनेंस मैनेजर, फाइनेंस एडवाइजर, पब्लिक अकाउंटेंट आदि और आजकल लगभग सभी कंपनियों को एक अकाउंटेंट की आवश्यकता होती है जो उचित रूप से खातों को चला सकें.
  • टेली Easy-to-Use सॉफ्टवेयर है. टैली सॉफ्टवेयर को इस तरह से डिजाइन तथा विकसित किया गया है जिससे दैनिक जीवन में तथा बिजनेस में वित्तीय क्रियाकलापों को व्यवस्थित किया जा सके.
  • अधिकतर कंपनियां पैसों के लेन देन का रिकॉर्ड रखने के लिए टैली सॉफ्टवेयर का उपयोग करती हैं, जिससे जाहिर होता है कि आने वाले समय में Tally की मांग बढ़ती ही जाएगी.

इस प्रकार के अनेक महत्वपूर्ण एकाउंटिंग फ़ीचर्स Tally सॉफ्टवेयर में होते हैं. तथा प्रत्येक नए वर्जन के साथ Tally के फ़ीचर्स भी अपग्रेड होते रहते हैं.

 

Tally इस्तेमाल करने के फायदे

 

1) Business Grow करने मे आसानी होती है: बढ़ते व्यवसाय के साथ ज़रूरत होती है पुरजोर monitoring की। इसकी मदद से यह पता लगता है की कब व्यवसाय फायदे मे चलता और कब उसे घाटे की मार झेलनी पड़ती है। Tally (टैली) क्या है एक बार जब यह पता लग जाये की व्यवसाय मे हो रहे घाटे कब और किन कारणों से उत्पन्न होते हैं तो उसके बाद उन्हे सुधारना और business grow करना बेहद आसान हो जाता है। टैली की मदद से आप सूची, पेरोल और बैंकिंग तथा इत्यादि चीजों का record आसानी से रख सकते हैं।

2) Data Security: किसी भी software को इस्तेमाल करने से पहले कोई भी company चाहेगी की उसका data software कंपनी द्वारा अन्य स्थानों पर share न किया जाये। ऐसा करने से कंपनी के competitors इस बात का लाभ उठा सकते हैं एवं आपके data की मदद से अपनी strategy तैयार कर आपको business मे पीछे छोड़ सकते हैं। टैली को इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा फायदा यह है की आपका data कसी अन्य व्यवसाय या व्यक्ति द्वारा साझा नहीं करा जाता।

इस software मे store किए जाने वाला data पूरी तरह से आप तक सीमित रेहता है और कोई चाह कर भी आपके data तक नहीं पहुँच सकता जब तक आपकी अनुमति न हो। शुरुवात मे लोगों को यह बात हजम करने मे मुश्किल ज़रूर हुई, परंतु आज इस कंपनी के 1 million से भी ज्यादा satisfied customers हैं। इससे इस बात का अंदाज़ा तो हो ही जाता है की आप इस कंपनी पर भरोसा कर सकते हैं।

3) Manage Client Data: जब आप टैली software का इस्तेमाल करते हैं तो आपको client के data को manage करने के लिए किसी प्रकार के अन्य software का इस्तेमाल नहीं करना पड़ता। आप एक ही जगह पर client के सारे data को संजोग कर रख सकते हैं एवं उसमे किसी भी प्रकार के बदलाव कर सकते हैं। आपको बार बार शुरू से शुरुवात करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

4) Globally Accessible: किसी भी प्रकार की record book को हर समय अपने साथ ले कर घूमना मुमकिन नहीं है। ऐसे मे Globally Accessible का अर्थ है की आप टैली software की मदद से दुनिया के किसी भी कोने मे कहीं भी बैठे हुए अपने data को Internet की मदद से देख एवं analyze कर सकते हैं। इसके लिए बस आपको एक system और Internet की आवश्यकता होती है।

5) GST Solution: भारत मे 2016-17 मे उद्यमों मे GST के लागू होने के बाद से काफी प्रभाव पड़ा। शुरुवाती दौर मे लोगों को इसे समझने मे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इसी बात को ध्यान मे रखते हुए Tally Solutions ने अपने software मे GST File करने का feature उपलब्ध करवाया। इस feature की मदद से लोगों को GST के बारे मे जानना एवं GST return भरना बेहद आसान हो गया। इसकी मदद से लोगों को GST से जुड़े लगभग सभी सवालों का न सिर्फ जवाब मिला बल्कि उन्हे GST भरने मे काफी आसानी भी हुई।

6) Saves Incorrect Data: जब आपके company मे लोग manually details record करते हैं तो उसमे इस बात के काफी आसार होते हैं की उनसे record store करने मे कोई गलती या चूक हो जाये। परंतु टैली सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल से इन गलतियों से बचा जा सकता है। यह आपके Post-Dated चेक, bank मे किए गए निवेश एवं अन्य जानकारियों का record रखने मे बेहद सक्षम है।

Accounting किसी भी व्यवसाय का एक अभिन्न हिस्सा है और इसका सही से किया जाना भी बेहद ज़रूरी है क्यूंकी इसमे करी जाने वाली एक गलती पूरे व्यवसाय को मिट्टी मे मिलाने के लिए काफी होती है।

7) Saves Time: Manually records को दर्ज करने मे अक्सर काफी लंबा समय लगता है और ऐसे मे गलतियों के होने की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं। टैली का इस्तेमाल आपके बेहद कीमती समय को बर्बाद होने से एवं गलत डाटा रेकॉर्ड होने से बचाता है।

 

Tally Kaise Aur Kaha Se Sikhen

 

दोस्तों अगर आप भी टैली कोर्स करके इसमें अपना भविष्य बनाना चाहते हैं, तो टैली सीखने के लिए आप किसी मान्यता प्राप्त कंप्यूटर इंस्टिट्यूट में जाकर यह कोर्स कम समय में कर सकते हैं, आप चाहें तो इसे घर से ही online भी सीख सकते हैं। Tally (टैली) क्या है इसके लिए Youtube भी एक अच्छा प्लेटफार्म है।कोर्स करने के साथ आपको इसकी प्रैक्टिस करना बहुत जरुरी है,क्योंकि किसी भी काम में महारथ हासिल करने के लिए प्रैक्टिस अनिवार्य है।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख  Tally (टैली) क्या है-What is Tally in Hindi? Tally कैसे सीखे  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Tally (टैली) क्या है-What is Tally in Hindi? Tally कैसे सीखे

 

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

 

Leave a Comment