Windows Registry क्या होता है? यह कैसे कार्य करती है?

दोस्तों क्या आप जानते हैं की ये Windows Registry क्या होता है? आप सब लोग Computer का यूज़ करते है तो आपके Computer में विंडोज जरुर इनस्टॉल होगा. ऐसे में आपने Registry का नाम जरुर सुना होगा. रजिस्ट्री विंडोज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. हमारे Computer में इनस्टॉल होने वाले सारे प्रोग्राम और Software रजिस्ट्री पर ही डिपेंड करते है और इन Software और Program का कुछ हिस्सा रजिस्ट्री में ही लोड होता है.

लेकिन आपने सिर्फ विंडोज रजिस्ट्री के बारे में सुना है, आपको यह पता नहीं है की आखिर विंडोज रजिस्ट्री क्या है, यह कैसे काम करती है, इसकी जरूरत क्या है, रजिस्ट्री क्लीनिंग की क्यों जरुरी है? इन सब चीजों के बारे में हम आज की इस पोस्ट में जानेंगे. इस पोस्ट को पढने के बाद आप विंडोज रजिस्ट्री के बारे में सब कुछ जान जायेंगे. तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं की आखिर ये Windows Registry क्या होता है?

 

Windows Registry क्या होता है? यह कैसे कार्य करती है?
TEJWIKI.IN

 

Windows Registry क्या होता है? (What is Windows Registry)

 

Windows Registry, जिसे की usually referred किया जाता है just the registry से. यह Microsoft Windows ऑपरेटिंग सिस्टम में कॉन्फ़िगरेशन सेटिंग्स के डेटाबेस का एक संग्रह है.

आपने अपने विंडोज में कई जरुरी Software इनस्टॉल किये होंगे तो आपको यह पता होगा की हर Software का कुछ जरुरी डाटा होता है जैसे उसका path, location, address, Software की जरुरी सेटिंग्स, Themes, Resources भी होते है, इसके अलावा Software का वर्जन भी होता है.

 

 

इन सबको इनस्टॉल करने के लिए जिस जगह का इस्तेमाल होता है उसे विंडोज रजिस्ट्री कहते है. विंडोज रजिस्ट्री एक तरह का Database होता है जहां Software के सारे डाटा को ट्री के फोर्मेट में रखा जाता है. इसमें एक फोल्डर के अंदर दूसरा फोल्डर होता है और हर फोल्डर के राईट साइड में उसका डाटा होता है.

Software के अलावा विंडोज की जरुरी सेटिंग्स, References, Database आदि भी विंडोज रजिस्ट्री में ही इनस्टॉल होते है. इसके अलावा Operating System और Hardware से संबधित डाटा भी Windows Registry में ही इनस्टॉल होता है. इस तरह आप जान गए होंगे की विंडोज रजिस्ट्री में कितना महत्वपूर्ण डाटा इनस्टॉल रहता है.

सबसे ख़ास बात यह है की विंडोज रजिस्ट्री को हम Read भी कर सकते है और जरूरत पड़ने पर हम उसे Write भी कर सकते है अर्थात उसमे बदलाव भी कर सकते है. रजिस्ट्री विंडोज का मुख्य भाग है जहां सभी तरह के Software, Hardware, Windows Settings आदि कई तरह के Databse install रहते है.

 

Windows Registry कैसे कार्य करती है? (How Windows Registry Works)

 

Windows Registry में Software और प्रोग्राम की सेटिंग्स, विंडोज की डिफ़ॉल्ट सेटिंग्स, Operating System Configure, Hardware Configure, कण्ट्रोल पैनल सेटिंग्स आदि इनस्टॉल रहती है. हम जब भी कोई Software या प्रोग्राम विंडोज में लोड करते है तो उसका सारा Database विंडोज रजिस्ट्री में चला जाता है. जब भी हम विंडोज में कुछ बदलाव करते है तो विंडोज रजिस्ट्री में भी अपने आप बदलाव हो जाता है.

उदाहरण के लिए विंडोज में जब भी कोई Software Install किया जाता है तो रजिस्ट्री में एक Sub Key बन जाती है जिसमे उस Software का location, केशन, Version , इस Software को शुरू करने की तकनीक, कुछ जरुरी settings आदि अपने आप इंस्टाल हो जाती है. आप रजिस्ट्री में जाकर उस सॉफ्टवेयर के बारे में जानकारी पा सकते है.

 

Registry Editor क्या है? (What is Registry Editor)

 

Registry editor windows में एक ऐसा tool होता है जिसका उपयोग system में stored सारी registries को एडिट करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग करके हम registry को आसानी से एडिट कर सकते हैं लेकिन इसके बारे में बिना ठीक से जाने इसका इस्तेमाल करने से काफी problems हो सकती है यहाँ तक की आपका System क्रेश भी हो सकता है इसलिए अगर आपको computer के बारे में बहुत कम जानकारी है तो आपको इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.. लेकिन अगर आपको computer के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी पहले से है और Registry editor का इस्तेमाल करके देखना चाहते हैं तो आप निचे दिए गए स्टेप्स फॉलो कर सकते हैं।

 

Registry कैसे Edit करें? (How to Edit Registry)

 

Registry को एडिट कैसे करते हैं यह जानने के लिए हम अपने computer की OEM information में Manufacturer का नाम change करेंगे आप भी इसे Follow कर सकते हैं यह बहुत ही आसान है कुछ इस तरह से –

स्टेप #1. सबसे पहले Windows key + r दबाकर Run डायलॉग open कर लें।

 

स्टेप #2. अब Run डायलॉग में “regedit” (बिना डबल quote के) टाइप करके enter दबाये।

स्टेप #3. अब आपके सामने registry editor खुल जाएगा।

स्टेप #4. अब registry editor में सबसे पहले HKEY_LOCAL_MACHINE में तीर के निसान पर क्लिक करें अब आपके सामने और भी फ़ोल्डर्स खुलेंगे जिनमे से आपको SOFTWARE को open करना है (इसी तरह)।

स्टेप #5. अब SOFTWARE के अंदर Microsoft नाम का फोल्डर open करना है जिसके अंदर Windows और Windows के अंदर CurrentVersion open करें।

स्टेप #6. अब इसके अंदर आपको OEM इनफार्मेशन नाम का फोल्डर दिखेगा जिसपर आपको डबल क्लिक करना है।

स्टेप #7. अब राईट साइड में कुछ फाइल्स दिखाई देंगी जिनमे आपको Manufacturer नाम की फाइल ढूंढनी है और अगर नहीं है तो आपको इसी Window में राईट क्लिक करना है और उसके बाद मेनू में New पर जाकर String value पर क्लिक करना है।

स्टेप #8. अब Value name में आपको Manufacturer टाइप करना है और Value data में कुछ भी नाम लिख दें। अगर उसमे Manufacturer की फाइल पहले से ही उपलब्ध है तो उसपर राईट क्लिक करके Modify पर क्लिक करके value change कर दें।

स्टेप #9. अब registry को क्लोज करके This PC या My Computer की प्रॉपर्टीज में System वाले सेक्शन में Manufacturer पर एक नज़र डालें उसके आगे अपने जो भी नाम डाला था वो लिखा हुआ नाम दिख रहा है।

अगर आपको यह बापस पहले जैसा करना है या हटाना है तो आप फिर से यही स्टेप्स फॉलो करके पहले वाला name भर सकते हैं या Manufacturer नाम की value को डिलीट कर सकते हैं।

 

इसी तरह से आप Registry values को Create और delete कर सकते हैं इसके अलावा आप Registry भी create कर सकते हैं और custom values भी लेकिन उसका कोई फायदा नहीं होगा क्यूंकि Windows आपके द्वारा बनायीं गयी registry को नहीं जानता है हम केवल registry को एडिट कर सकते हैं और वह भी तब जब उसकी जरूरत हो।

 

 

Windows Registry का क्यूँ उपयोग  किया जाता है? (Why is Windows Registry used)

 

Windows Registry का इस्तमाल होता है Software programs की information और setting को store करने के लिए, जिसमें hardware devices, user preferences, operating system configurations, इत्यदि मुख्य रूप से शामिल होते हैं.

उदाहरण के लिए, जब आप कोई new program को install करते हैं, तब एक नयी set की instructions और file references automatically ही add हो जाती है registry में, एक specific location में program के लिए, और दुसरे के लिए जो की उनके साथ interact करते हैं, जिससे ये दुसरे चीज़ों को refer कर सके more information के लिए जैसे की कहाँ files कहाँ पर located होते हैं, कोन से options का इस्तमाल करें program में इत्यादि.

 

Windows Registry क्लीनिंग क्यों जरुरी है? (Why is Windows Registry Cleaning Important)

 b

जब आपका Computer धीरे चलने लगे, चलते-चलते हैंग होने लगे, आपका Computer फ्रीज या क्रेश होने लगे तो समझ जाईये आपको Windows की रजिस्ट्री को क्लीन करने की जरूरत है. हमारे विंडोज रजिस्ट्री में पहले से हजारों एंट्रीज़ होती है और आये दिन नई-नई एंट्रीज़ बनती रहती है और जब यह एंट्रीज़ जरूरत से ज्यादा हो जाती है तो उसका असर हमारे PC पर पड़ता है.

विंडोज में सबसे बड़ी समस्या यह है की हम जब भी कभी कोई Software अनइनस्टॉल करते है तो उस Software से संबधित सारी रजिस्ट्री कभी नहीं निकाली जा सकती है. इस कारण से विंडोज रजिस्ट्री को क्लीन करने की जरूरत पड़ती है. इस काम को आप मैन्युअली नहीं कर सकते है, कहीं कोई गलत रजिस्ट्री क्लीन कर दी तो उसका असर विंडोज की सेटिंग्स पर हो सकता है, इसलिए आप इसके लिए Ccleaner की मदद ले सकते है.

 

Backing Up Registry Keys:

 

रजिस्‍ट्री में कुछ भी बदलाव करने से पहले, आपको हमेशा रजिस्ट्री की बैकअप कॉपी बनानी चाहिए|

इन स्‍टेप्‍स्‍ा को फालो करें –

  • विंडोज 7/ Vista: Run को क्लिक करें और यहाँ Regedit टाइप करें और Enter दबाएं|
  • विंडोज 8: स्‍टार्ट स्क्रीन में regedit टाइप करें और फिर Regedit|exe पर क्लिक करें|
  • File मेनू में सें Export सिलेक्‍ट करें|
  • यह फाइल सेव करने के लिए लोकेशन सिलेक्‍ट करें|
  • रजिस्ट्री बैकअप फ़ाइल के लिए कोई नाम दें|
  • Save को क्लिक करें|
  • अब आपके पीसी की पूरी रजिस्ट्री का बैकअप हो जाएगा|

 

Windows Registry को कैसे देखें? (How to View Windows Registry)

 

Windows Registry को देखने के लिए सबसे पहले Run में जाए इसके लिए Windows + R दबाएँ. अब Run डायलॉग बॉक्स ओपन होगा उसमे Regedit टाइप करें और इंटर करें. अब आपको विंडोज की सारी रजिस्ट्री दिख जाएगी. इसमें सारा डाटा ट्री फोर्मेट में होता है.

 

  • HKEY_CLASSES_ROOT: इस Key में कार्य करने के लिए सुचना या एप्लीकेशन संबधित जानकारी होती है.
  • HKEY_CURRENT_USER: इसमें वर्तमान यूजर की सारी सेटिंग्स होती है.
  • HKEY_LOCAL_MACHINE: इसमें Computer की महत्वपूर्ण जानकारी होती है, जिसमे उसके Software और Hardware शामिल है.
  • HKEY_USERS: इसमें वर्तमान सभी एक्टिव यूजर की सुचना होती है.
  • HKEY_CURENT_CONFIG: इसमें स्थानीय Computer प्रणाली के मौजूदा Hardware की जानकारी होती है.

 

Windows Registry कहाँ संग्रहीत है? (Where is Windows Registry stored)

 

% SystemRoot% \ System32 \ Config \ फ़ोल्डर में सैम, सुरक्षा, सॉफ़्टवेयर, सिस्टम, और DEFAULT रजिस्ट्री फ़ाइलों को Windows के नए संस्करणों (जैसे Windows XP के माध्यम से Windows XP) में संग्रहीत किया जाता है।

विंडोज़ के पुराने संस्करण रजिस्ट्री डेटा को डीएटी फाइलों के रूप में स्टोर करने के लिए % WINDIR% फ़ोल्डर का उपयोग करते हैं। विंडोज 3.11 संपूर्ण विंडोज रजिस्ट्री के लिए केवल एक रजिस्ट्री फ़ाइल का उपयोग करता है, जिसे REG.DAT कहा जाता है।

विंडोज 2000 HKEY_LOCAL_MACHINE सिस्टम कुंजी की एक बैकअप प्रति रखता है जिसे वह मौजूदा के साथ किसी समस्या की स्थिति में उपयोग कर सकता है।

 

Conclusion

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Windows Registry क्या होता है? यह कैसे कार्य करती है? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

 

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Windows Registry क्या होता है? यह कैसे कार्य करती है?

 

Join our Telegram Group

 

Leave a Comment