Algorithm क्या है? (What is Algorithm in Hindi) इसका उपयोग(2021)

आप सभी ने Algorithm के बारे में तो सुना ही होगा, अगर नहीं..तो दोस्तों आज हम आपको Algorithm क्या है? इसके बारे मे बताने जा रहे हैं। इसके साथ ही हम आपको इस पोस्ट में Characteristics of Algorithm in Hindi इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे। हम अपने जीवन में जब भी किसी नए काम की शुरुआत करने जाते हैं या किसी काम को करने की योजना बनाते हैं, तो उसकी एक रुपरेखा हम अपने दिमाग में बैठा लेते हैं, कि इस काम को कैसे करना है, कब करना है, क्यों करना है और कहाँ करना है। इसी प्रकार की रूपरेखा को कई कार्य करने के लिए कागज़ों पर भी एक लिस्ट के रूप में अलग-अलग तरह से बनाया जाता है।

Algorithm एक Procedure होता है, किसी भी प्रॉब्लम को Solve करने के लिए, जिसके कुछ Limited Rules (सीमित नियम) होते हैं जिसे आप Instructions भी कह सकते हैं। Algorithm का प्रयोग मुख्य तौर पर देखा जाये तो Computer की भाषा में प्रोग्राम लिखने से पहले Programming Language में Algorithm बनाया जाता है जिससे आसानी से प्रोग्राम बनाया जा सके किसी भी तरह की प्रॉब्लम का हल ढूंढने में सबसे पहले हम किन स्टेप्स को करते है, क्या-क्या करते है उसे कंप्यूटर की लैंग्वेज में Algorithm कहा जा सकता है।

आज की पोस्ट में आपको What is Algorithm in Computer के बारे में भी जानने को मिलेगा जिसके बारे में हम आपको बिल्कुल सरल व आसान भाषा में बताएँगे आशा करते हैं कि आपको हमारी पिछली पोस्ट की तरह आज की पोस्ट में भी बहुत कुछ जानने को मिलेगा वो भी हिंदी में। तो अगर आप भी Algorithm In Hindi के बारे में जानना चाहते है तो इसके लिए आपको हमारी पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक जरुर पढ़ें।

 

Algorithm क्या है? (What is Algorithm in Hindi) इसका उपयोग(2021)
TEJWIKI.IN

 

Algorithm क्या है? (What is Algorithm in Hindi)

 

Algorithm (Al-go-rith-um) यह एक Procedure (Step by Step Process) या फिर यह एक Formula है. जो की एक Problem को Solve करता है. यह एक Procedure है जिसमे सीमित नियम होते हैं, जिनको Instruction भी कहा जाता है.

जिन नियमों को एक के बाद एक लिखा जाता है और हर एक नियम(Steps) कुछ ना कुछ Operation को दर्शाते है. इन नियमों के जरिए Problem का Solution निकलते हैं.

दुसरे सब्दों में कहें तो Algorithm किसी भी समस्या या Problem का समाधान निकलने की Step by Step प्रक्रिया है. अब और थोडा सरल भाषा में समझते हैं Algorithm में कुछ Steps होते हैं, जिनमे हर एक Step एक Operation को दर्शाता है.

एक Step सुरुवात करता है और आखिर में एक Step रहता है जो ख़तम करता है और इन दोनों Steps के बिच में और बहुत सारे Steps होते हैं जो अलग अलग कार्य करते हैं. जैसे चावल बनाना यह आपकी Problem है. इस काम को ख़तम करने के लिए चलिए कुछ Steps लिखते हैं. पहले चावल को धोना होगा फिर, पानी गरम करो और पानी गरम करने के उसमे चावल डालना है और चावल के उबलने का इंतजार करना होगा.

10-15 मिनट में चावल बन के तयार. अब यहाँ हर एक steps कुछ न कुछ Operation को Perform करते हैं. जैसे चावल धोना मतालब इसमें कचे चावल में पानी डालके धोया जाता है. ऐसे ही हर Steps में अलग अलग Operations होते हैं. देखिए यहाँ हम Problem को छोटे छोटे Steps में divide कर दिए यही तो है जिसको आपको सझना था.

 

 

Algorithm की परिभाषा

 

Algorithm, निर्देशों (Instructions) का एक सेट है, जो किसी समस्या (Problem) को हल करने की पूरी प्रकिया (Procedure) को परिभाषित करता है। इसका प्रमुख लक्ष्य अपेक्षित परिणाम (expected output) प्राप्त करना है। इसमें कई निरन्तर Steps होते है, जिनके समाप्त होने के बाद ही आउटपुट आता है।

इसे एक कप चाय (Tea) बनाने के उदाहरण से समझा जा सकता है:

स्टेप 1. केतली में पानी भरे
स्टेप 2. पानी को उबाल लें
स्टेप 3. केतली में चायपत्ती डालें
स्टेप 4. कूटकर अदरक डालें.
स्टेप 5. डेढ़ चम्मच चीनी डाले
स्टेप 6. चाय को पकने दे
स्टेप 7. चाय को छाने और कप में डाल दे।

जिस प्रकार एक कप चाय बनाने के लिये हमें उप्पर बताये गए Steps को बारी-बारी से निष्पादित (execute) करना होता है। ठीक उसी प्रकार Programming में किसी प्रकिया (Process) या कार्य (Task) को करने के लिये Algorithm लिखी जाती है, ताकि मनचाहा परिणाम (desired output) प्राप्त हो सके।

इसका उपयोग कई विभिन्न क्षेत्रों में होता है, जिनमे कंप्यूटर साइंस और गणित मुख्य है। उदाहरण के लिए Search Algorithm, ये एक Step By Step प्रकिया है जिसका उपयोग Data Structure के भीतर स्टोर वेब-पेज को पुनःप्राप्त करने के लिये किया जाता है।

इसके अलावा Encryption Algorithm, एक गणितीय प्रकिया (Mathematical procedure) है, जिसके उपयोग से किसी डेटा या मैसेज को इनकोड किया जाता है जिससे उसे पढ़ना या समझना मुश्किल है। इस तरह की Algorithm का उपयोग करके डेटा को अनधिकृत उपयोगकर्ताओं की पहुँच से दूर रखा जाता है।

 

एल्गोरिथ्म के प्रकार (Types of Algorithm)

 

एल्गोरिदम को उन अवधारणाओं के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है जिनका उपयोग वे किसी कार्य को पूरा करने के लिए करते हैं। जबकि कई प्रकार के एल्गोरिदम हैं, कंप्यूटर विज्ञान एल्गोरिदम के सबसे मौलिक प्रकार हैं:

  • 1.Divide and conquer algorithms: समस्या को एक ही प्रकार की छोटी उप-समस्याओं में विभाजित करें; उन छोटी समस्याओं को हल करें, और मूल समस्या को हल करने के लिए उन समाधानों को मिलाएं।
  • 2.Brute force algorithms: संतोषजनक समाधान मिलने तक सभी संभावित समाधानों का प्रयास करें।
  • 3.Randomized algorithms: समस्या का समाधान खोजने के लिए गणना के दौरान कम से कम एक बार यादृच्छिक संख्या का उपयोग करें।
  • 4.Greedy algorithms: पूरी समस्या के लिए एक इष्टतम समाधान खोजने के इरादे से स्थानीय स्तर पर एक इष्टतम समाधान खोजें।
  • 5.Recursive algorithms: किसी समस्या के निम्नतम और सरल संस्करण को हल करें, फिर समस्या के बड़े संस्करणों को हल करें जब तक कि मूल समस्या का समाधान न मिल जाए।
  • 6.Backtracking algorithms: समस्या को उप-समस्याओं में विभाजित करें, जिनमें से प्रत्येक को हल करने का प्रयास किया जा सकता है; हालाँकि, यदि वांछित समाधान नहीं पहुँचा है, तो समस्या में पीछे की ओर तब तक जाएँ जब तक कि कोई ऐसा मार्ग न मिल जाए जो इसे आगे ले जाए। Dynamic programming algorithms: एक जटिल समस्या को सरल उप-समस्याओं के संग्रह में तोड़ते हैं, फिर उनमें से प्रत्येक उप-समस्या को केवल एक बार हल करते हैं, उनके समाधानों को फिर से गणना करने के बजाय भविष्य के उपयोग के लिए उनके समाधान को संग्रहीत करते हैं।

 

Algorithm कैसे काम करता है?

 

दोस्तों हम YouTube Algorithm का ही उदाहरण लेकर चलते हैं अल्गोरिथम चाहे किसी के लिए भी तैयार किया जा रहा हो उसमें सबसे पहले निर्देश तैयार किए जाते हैं उन्हीं निर्देशों पर पूरा एल्गोरिथ्म काम करता है अगर कुछ भी आपको एल्गोरिदम में बदलाव करने होते हैं तो आपको एल्गोरिथम की भाषा में लिखकर बदलाव करने होंगे.

अब Youtube Algorithms को ही ले लीजिए कई बार हमने यह बात नोटिस की होगी कि यूट्यूब हमारे Interest के हिसाब से अपने आप Videos हमारे सामने लाता रहता है कोई भी व्यक्ति यूट्यूब पर वीडियो डालता है तो लोगों को यूट्यूब उस व्यक्ति की वीडियो को Recommend करता है आपत्तिजनक वीडियो को तुरंत हटा देता है Tranding पर अपने आप वीडियोस अपडेट हो जाती हैं ऐसी और भी बहुत बातें हैं जो कि यूट्यूब के एल्गोरिथम बनाने के दौरान लिखी गई है.

यूट्यूब अल्गोरिथम सब कुछ अपने आप मैनेज करता रहता है क्योंकि यह सब बातें Algorithms Program में लिखी हुई है ऐसे ही गूगल एल्गोरिथम,फेसबुक,ट्विटर सभी के अपने-अपने Algorithm Instructions दिए गए हैं जो कि अपने आप काम करते रहते हैं ठीक इसी प्रकार Algorithms काम करता है।

 

Programming में Algorithm का उपयोग (Uses/Importance Of Algorithm)

 

Algorithm का इस्तमाल तो हर जगह है जैसे आप पने हर दिन की समस्याओं का जवाब भी आप इस Step by Step Process के जरिए निकाल सकते हो. Technically हम बोले तो ज्यदा इस्तमाल IT Industry, Business Model, Programming में किया जाता है. तो चालिए एक एक कर इसके Uses के बारे में जानते हैं.

  • Computer Programming में Program को लिखने से पहले Algorithm लिखा जाता है. अगर आप एक Computer Sc, IT, BCA और MCA के Student हो तो आपको एक Program लिखना है. जैसे Check Whether the Number is Prime और Not ? इस Program को अगर आप बिना सोचे लिखना सुरु कर देंगे तो सायद Program में आपको बहुत सारे Error देखने को मिल सकते हैं. इन Errors को आप कम कर सकते हो अगर आप पहले Algorithm बना लें तो.
  • Flowchart बनाने से पहले Algorithm लिखा जाता है. वरना गलतियाँ होने की संभावना बढ़ जाती है.
  • Computer Scientist और Software Engineer इसका इस्तमाल करते हैं. क्यूंकि इसके इस्तमाल से उनका समय और महनत कम हो जाती है. जैसे एक Software Company को SBI के लिए app Develop करना है. अब यह software Engineer के लिए एक समस्या है इसका समाधान Step by Step लिखने से ही होगा. अगर कोई problem या गलती हो जाती है तो समाधान वहीँ पे मिल जाता है. जिसे Application Develop करने आसानी होती है.
  • Search Engine, Facebook में like, google map Shortest Path, Rating, Searching वगेरा यह सब algorithm के जरिए काम करते हैं.
  • Mathematical Problem Solve करने के लिए इसका इस्तमाल होता, जैसे एक छोटा उदहारण लेते हैं. आपको यह पता लगाना है एक Number –ve है या +ve ?. आपके मन जवाब तुरंत आया होगा की + और – चिन्ह को देख के आप बता सकते हैं. लेकिन यह आप समझ जाओगे लेकिन Computer कैसे समझेगा. इसके लिए आपको algorithm लिखना होगा. अगर एक नंबर 0 से बड़ा है तो वह +ve Number है और अगर 0 से छोटा है तो वह number –ve नंबर है.

 

 

  • Pseudo Code लिखने के लिए भी इसकी जरुरत होती है वरना Pseudocode को दोबारा लिखना पड़ता है.व्यक्तिगत जीवन की समस्याओं का समाधान भी कर सकते हैं. जैसे मुझे कल सुबह जल्दी उठाना है. सबसे पहले इसके Steps कैसे लिखोगे 1. मुझे जल्दी सोना है. 2. Alarm थोडा दूर रखना है. 3. अब सो जाना है . 4. सुबह alarm बजा तो उठके अलार्म बंद करो 5. मुह दोहने जाओ. यह 5. काम ख़तम Steps भी एक Algorithm हैं. (यह उदाहरण समझाने लिए लिया गया है)
  • AI, space research, robotics इन सभी Field में बहुत उपयोग किया जाता है.यह जो सवाल था Algorithm क्यूँ चाहिए ये सवाल कुछ इस तरह था हम काम क्यूँ करते है. हर काम को सठिक तरीके से ख़तम करने के लिए एक प्रक्रिया की होनी अति अवश्यक है.

 

एल्गोरिथम का उपयोग कहाँ होता है? – Uses of Algorithm in Hindi.

 

जैसा की हमने आपको बताया चाय बनाने से लेकर जटिल computer programming तक हर जगह हम किसी ना किसी रूप में एल्गोरिथम का इस्तेमाल करते ही है|

इसका उपयोग Science, Maths, Artificial Intelligence और Computer Programming जैसी फ़ील्ड्स में सबसे ज्यादा किया जाता है|

 

एल्गोरिथ्म के गुण (Properties of Algorithm)

 

किसी भी प्रकिया को हम Algorithm नही कह सकते है। बल्कि एल्गोरिथ्म उपयोगी होनी चाहिए यानी उससे समस्या का समाधान निकलना चाहिये। ऐसा होने के लिये, एक एल्गोरिथ्म के कुछ गुण (Properties) होते है। Algorithm क्या है अर्थात इसने नीचे बताये गए निन्म मानदंडों को पूरा करना चाहिए:

1) इनपुट (Input): एक Algorithm में अच्छी तरह से परिभाषित इनपुट (Well-defined Input) होने चाहिए। इनपुट वो डेटा या जानकारी है, जिसे हम आउटपुट प्रदान करने के लिये दर्ज करते है।

2) आउटपुट (Output): इसने आउटपुट का उत्पादन (Produced) करना चाहिए। अर्थात समस्या का सही समाधान (Solution) प्रदान करना चाहिये।

3) स्पष्टता (Unambiguous): लिखा गया प्रत्येक निर्देश (Instruction) या Step स्पष्ट (Clear) होना चाहिये। प्रत्येक Steps के इनपुट/आउटपुट भी स्पष्ट होने चाहिये।

4) सीमाबद्धता (Finiteness): इसका मतलब है, कि एल्गोरिथ्म में लिखे गए Steps एक सीमित संख्या (Finite number) के बाद समाप्त (terminate) होने चाहिये। समाप्त का मतलब है, आपको अपेक्षित आउटपुट मिलना चाहिये ना कि प्रोसेसिंग लूप में चलती रहे।

5) प्रभावशीलता (Effectiveness): Algorithm को व्यवहारिक (Practical) होना चाहिए, ताकि उपलब्ध संसाधनों के साथ निर्देशों को निष्पादित करना सम्भव हो। अर्थात इसमें कोई अनावश्यक निर्देश (Unnecessary Instructions) नही होना चाहिए जो उसे अप्रभावी (Ineffective) बना दे।

6) भाषा स्वतंत्र (Language Independent): निर्देश केवल सरल भाषा मे लिखे होने चाहिए। जिन्हें किसी भी Programming Language में लागू किया जा सके।

 

Data structure के मुताबिक यह सब Important Categories होनी चाहिए.

 

Search-item को DATA Structure में Search आसानी से सर्च कर सकें.
Sort-एक लिस्ट को Order कर सके या Sorting कर सकें.
Insert– data Structure में algorithm को Insert कर सकें.
Update– AlGORITHM के जरिए Item को update करने की ख्यामता हो.
Delete– Algorithm से जो item data structure में है उसे Delete कर ने में असुविधा न हो.

The complexity of Algorithm  (एल्गोरिथम की जटिलता)

दो factors को ध्यान में रख के Algorithm की Complexity को Classify किया गया है. एक Time Complexity और दूसरा Space Complexity.

Time Complextiy:
Program को Run होने में जितना टाइम लगता है.

Space Complexity:
computer के अंदर Program को Execute होने के लिए जितना Space चाहिए उसे Space Complexity कहते हैं.

 

Algorithm कैसे लिखें पूरी जानकारी 

 

इसको लिखना बड़ा ही आसान है आपको कुछ ज्यादा सिखने की आवस्यकता ही नहीं. आपको को पता होगा सुरुवात में एक उदहारण लिए थे जहाँ एक ex- था चाय कैसे बनानाते हैं.

उसी तरह आपको लिखना है Step by Step. Algorithm की जादा जरुरत Programming में होती है. Algorithm क्या है आप Direct भी लिख सकते हो या आप कुछ rules का इस्तमाल करके भी लिख सकते सकते हैं.

Rules जैसे Start, Input, Output, Read, Variable, Display, Stop. निचे दिए गए Example को एक बार देख लें जिसे आपको समझने में आसानी होगी.

Example: 1

Q1. दो Number को को enter करें और दोनों Numbers का Sum निकालें?

  • हर algorithm में सुरुवात में Start और अंत में Stop/End लिखें जैसे निचे लिखा गया है.इसके बाद देखें की कितने Variables की जरुरत है या क्या Input करना है. जैसे निचे दो numbers को Sum करने के लिए 3 Variables चाहिए. Num1 पहले number के लिए Num2 दुसरे Number के लिए और sum variable Num1+num2 को Store करने के लिए. तो आपको इन variables के बारे में सोचें और लिखना सुरु करें.
  • अब कुछ steps ऐसे होंगे जहाँ हमें Arithmetic Operation जैसे +, -, ×, ÷ करने होंगे और कुछ Logical Operation जैसे Comparision Operation, True False, जीनका Output O (false) और 1 (True) होता है. Arithmetic तो आपको पता ही है (+, -, ×, ÷ ) और Logical का एक Example जैसे आपको जानना है. “Largest Number among 2 Number” तो यहाँ आप दोनों Numbers को Compare करोगे. इन Symbols का इस्तमाल कर के “>, <, >=, <=, !=”.
  • अब आखिर में जो Result आता है उसको आप Display लिख के Display कर सकते हैं और अंत Step में Stop या End लिख दें. अब इस उदाहरण को धयान से समझें.

Step 1: Start //स्टेप स्टार्ट हुआ

Step 2: Declare variables num1, num2 and sum. //num1, Num2, Sum वेरिएबल बनाएं जहाँ कोई भी संख्या स्टोर होगी

Step 3: Read values num1 and num2. //जब keyboard से Number enter होगा तो यहाँ read होगा

Step 4: Add num1 and num2 and assign the result to sum.
Sum=num1+num2 //दो numbers का जोड़, Sum में Store होगा

Step 5: Display sum //sum को Display करें

Step 6: Stop //समाप्त

अब कुछ और उदहारण देख के समझने की कोसिस करें.

Example: 2

Step 1. Start
Step 2. Read the number n
Step 3. [Initialize] i=1, fact=1
Step 4. Repeat step 4 through 6 until i=n
Step 5. fact=fact*i
Step 6. i=i+1
Step 7. Print fact
Step 8. Stop

 

Algorithm  का भविष्य क्या है?

 

एल्गोरिदम के भविष्य के बारे में सोचने के बजाय, कुछ लोग दावा करेंगे कि भविष्य उनका है।

एल्गोरिथ्म, वास्तव में, artificial intelligence जैसी संभावित शक्तिशाली प्रौद्योगिकियों के दिल में है। एल्गोरिदम पहले से ही स्वचालित सीखने की तकनीकों या “मशीन लर्निंग” का आधार है, Algorithm क्या है इस प्रकार हमें हर दिन नए फीचर्स के साथ आश्चर्यचकित करता है।

आज, एल्गोरिदम virtual assistants या autonomous vehicles जैसी टेक्‍नोलॉजीज के पीछे हैं। लेकिन कल का क्या…?

 

Algorithm पर अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

 

एल्गोरिथम क्या है संक्षिप्त में उत्तर दे?

एक एल्गोरिथ्म एक विशिष्ट कार्य करने के लिए डिज़ाइन किए गए निर्देशों का एक समूह है। यह एक सरल प्रक्रिया हो सकती है, जैसे कि दो संख्याओं का गुणा करना, या एक जटिल ऑपरेशन, जैसे कि एक कंप्रेस्‍ड वीडियो फ़ाइल चलाना। कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में, एल्गोरिदम अक्सर फ़ंक्शन के रूप में बनाए जाते हैं।

कौन से उपकरण एल्गोरिदम का उपयोग करते हैं?

हर बार जब आप कंप्यूटर का उपयोग करते हैं – आपका लैपटॉप, फोन, या कार में माइलेज कैलकुलेटर – तो आप एल्गोरिदम का उपयोग कर रहे हैं।

हम अपने दैनिक जीवन में एल्गोरिदम का उपयोग कैसे करते हैं?

हम अपने दैनिक जीवन में सामान्य गतिविधियों का वर्णन करने के लिए एल्गोरिदम का उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, हम किसी विशेष भोजन को पकाने के लिए एक नुस्खा को एक एल्गोरिथ्म के रूप में मान सकते हैं। एल्गोरिथ्म चरण 1-3 में वर्णित है। हमारा इनपुट सामग्री की निर्दिष्ट मात्रा है, हम किस प्रकार के पैन का उपयोग कर रहे हैं और हमें क्या टॉपिंग चाहिए।

 

 

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Algorithm क्या है? (What is Algorithm in Hindi) इसका उपयोग(2023) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Algorithm क्या है? (What is Algorithm in Hindi) इसका उपयोग(2023)

 

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

 

Leave a Comment