Cryptocurrency क्या है? इसके कार्य और प्रकार की जानकारी हिंदी में

दोस्तों क्या आपको पता है Cryptocurrency क्या है? आपने पैसों यानि करेंसी के कई रूप देखे होंगे, जैसे भारत में रूपये, अमेरिका में डॉलर, ब्रिटेन में पौंड, यूरोप में यूरो आदि. इस सभी करेंसी को आपने कागज के दुकड़ों के रूप में देखा होगा, और इसे आप हाथ से छू सकते हैं, अपने जेब में रख सकते हैं. आप दुनिया में जहाँ भी जायें, आपको वहाँ की करेंसी का इस्तेमाल करना होता है. ऐसे में आज डिजिटल पेमेंट को प्रोत्साहित किया जा रहा है. इसी के चलते एक ऐसी डिजिटल करेंसी का दौर शुरू हो गया है,

जिसे आप देख नहीं सकते हैं छू नहीं सकते, किन्तु यह आज के समय में सबसे मूल्यवान करेंसी बन गई है. वह करेंसी है बिटकॉइन. यह एक विश्वव्यापी क्रिप्टो करेंसी और डिजिटल भुगतान प्रणाली है. ऐसा कहा जा सकता है कि यदि इंटरनेट किसी जगह का नाम होता तो यह वहाँ की राष्ट्रीय करेंसी होती. इसके बारे में जानकारी यहाँ दी जा रही है.भारत में यह पूरी तरह से अवैध्य है अर्थात भारतीय सरकार द्वारा इसे मान्यता नहीं दी गई हैं,

इसलिए भारत में कोई भी व्यक्ति यह न खरीद सकता और न बेच सकता है. यह कानूनन अपराध है. इसके बारे में यहाँ इसलिए दर्शाया जा रहा है, क्योकि दुनिया में पहली बार भारत इसके जरीये हुए लेनदेन को फ्रीज करने की तैयारी कर रहा है. इसका प्रयोग कर ड्रग्स बेचने वालों ने इसके जरिये पैसे का लेनदेन शुरू कर दिया है. इस लेनदेन के 500 बिटकॉइन को फ्रीज करने की तैयारी भारत के नारकोटिक कंट्रोल ब्यूरो ने कर दी है.

 

Cryptocurrency क्या है? इसके कार्य और प्रकार की जानकारी हिंदी में
TEJWIKI.IN

 

क्रिप्टोकरेंसी क्या है? (what is cryptocurrency)

 

Cryptocurrency को digital currency भी कहा जाता है. यह एक तरह का Digital Asset होता है जिसका उपयोग चीज़ों की खरीदारी या Services के लिए किया जाता है. इन currencies में cryptography का उपयोग होता है. यह एक Peer to Peer Electronic System होता है जिसका इस्तमाल हम Internet के माध्यम से regular currencies के जगह में Goods और Services को purchase करने के लिए कर सकते हैं. इस व्यवस्था में सरकार ये Banks को बिना बताए भी काम हो सकता है इसलिए कुछ लोगों का मानना है की Cryptocurrency का इस्तमाल गलत तरीके से भी किया जा सकता है.

अगर हम सबसे पहले Cryptocurrency की करें तो वो होगा Bitcoin जिसे सबसे पहले दुनिया में इन्ही कार्यों के लिए लाया था. अगर आज हम देखें तो लगभग 1000 से भी ज्यादा Cryptocurrency पूरी दुनिया में मेह्जुद हैं लेकिन उनमें से कुछ ही ज्यादा महत्वपूर्ण है जिसके विषय में हम आगे चलकर जानेंगे. Cryptocurrency को बनाने के लिए Cryptography का इस्तमाल होता है.

 

 

अगर हम सभी cryptocurrency की बात करें तो उनमें से जो सबसे पहले प्रसिद्ध हुआ वो है Bitcoin. इसे सबसे पहले भी बनाया गया था और इसे सबसे ज्यादा भी इस्तमाल में लाया जाता है. Bitcoin को लेकर काफी controveries आयीं लेकिन आज में Bitcoin Cryptocurrencies में सबसे ऊपर स्तिथ है. यहाँ में आप लोगों को कुछ दुसरे Cryptocurrencies के बारे में बताने वाला हूँ जिनके बारे में शायद आपको पहले से पता हो.

 

क्रिप्टोकोर्रेंसी का इतिहास (History of cryptocurrency)

 

  • सबसे पहले वर्ष 1963 में  अमेरिकी क्रिप्टो ग्राफर डेविड चाउम ने इस गुमनाम इलेक्ट्रॉनिक है कल्पना की थी जिसे एक्स कहा जाता है।
  • उसके बाद वर्ष 1995 में क्रिप्टोकरंसी को लागू किया गया।
  • जिसके बाद वर्ष 1996 में नेशनल सिक्योरिटी एजेंसी द्वारा हाउ टू मेक टू मेक इंक्रिप्ट इलेक्ट्रॉनिक कैश की फोटोग्राफी का एक पेपर प्रिंट करवाया जिसमें उन्होंने क्रिप्टोकरंसी प्रणाली के बारे में विस्तार से बताया।
  • उसके बाद वर्ष 1997 में अमेरिकन लो रिव्यू में प्रकाशित किया गया।
  • वर्ष 1998 में विदाई ने बी पैसा का वर्णन प्रकाशित करवाया जिसमें उन्होंने एक गुमनाम इलेक्ट्रॉनिक नगदी प्रणाली के रूप में चित्रित किया गया।
  • जिसके तुरंत बाद निक सुजाबो ने बिट गोल्ड का वर्णन करवाया।
  • पहली बार वर्ष 2009 में ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में बिटकॉइन को जारी किया गया था यह पहला विकेंद्रीकृत क्रिप्टोकरंसी है।
  • बिटकॉइन जारी होने के बाद से, अन्य क्रिप्टोकरेंसी बनाई गई हैं।
  • मार्च 2018 में, क्रिप्टोक्यूरेंसी शब्द को मरियम-वेबस्टर डिक्शनरी में जोड़ा गया था 

 

Cryptocurrencies में invest कैसे करें? (How to Invest in Cryptocurrencies)

 

Cryptocurrencies में invest करने के लिए आपको सही प्लाट्फ़ोर्म का चुनाव करना होगा। क्यूँकि यदि सही प्लाट्फ़ोर्म न चुना जाए तब आपको ज़्यादा फ़ीस देनी पड़ सकती है ट्रेडिंग करते वक्त। ऐसे ही भारत में अभी के समय में सबसे पोपुलर Cryptocurrency प्लाट्फ़ोर्म है “Wazirx“।

इसमें investment करना और ट्रेडिंग करना बहुत ही आसान है और इसके फ़ाउंडर भी एक भारतीय ही हैं। Cryptocurrency क्या है? मैंने भी इसमें investment किया है और कई वर्षों से किया है। आप भी चाहें तो इसमें अपना पैसा इन्वेस्ट कर सकते हैं।

 

क्रिप्टो करेंसी कैसे काम करती है? (How does crypto currency work)

 

अगर Cryptocurrency के वर्क करने की प्रोसेस के बारे में बात की जाए तो आपको बता दें कि Cryptocurrency का लेनदेन Peer 2 peer टेक्नोलॉजी के प्रयोग से होता है, जिसका मतलब होता है कि एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर पर डायरेक्ट क्रिप्टो करेंसी को ट्रांसफर करना। लोगों के पास क्रिप्टो करेंसी को ब्लॉकचेन की तरह सेंड किया जाता है और यह ठीक उसी प्रकार काम करता है जिस प्रकार बैंक अपने सभी लेनदेन को मेंटेन रखती है, Cryptocurrency क्या है? ठीक उसी प्रकार क्रिप्टोकरंसी भी अपने सभी लेनदेन का खाता मेंटेन करके रखती है।

दुनिया भर में ऐसे हजारों बिटकॉइन माइनर है जो लगातार बिटकॉइन के लेन-देन के ट्रांजैक्शन पर निगाह बनाकर रखते हैं और इसके ट्रांजैक्शन के गणित को समझाते हैं। जो लोग ऐसा करते हैं उन्हें बिटकॉइन का माइनर कहा जाता है और इन्हीं लोगों के कारण बिटकॉइन वर्तमान समय में सबसे सेफ करेंसी मानी जाती है जिसके कारण लोग इस पर काफी विश्वास कर रहे हैं और इसके अंदर Invest कर रहे हैं।

 

Cryptocurrencies के प्रकार (Types of Cryptocurrencies)

 

देखा जाये तो Cryptocurrencies बहुत सारे हैं लेकिन उनमें से कुछ ही ऐसे हैं जो की अच्छा perform कर रहे हैं और जिन्हें आप Bitcoin के अलावा भी इस्तमाल कर सकते हैं.

 

1. Bitcoin (BTC)

 

अगर हम Cryptocurrency की बात करें और Bitcoin की बात न हो तब तो ये बिलकुल भी मुमकिन नहीं है. क्यूंकि Bitcoin दुनिया से सबसे पहला Cryptocurrency है. जिसे Satoshi Nakamoto ने 2009 में बनाया था.

ये एक digital currency है जिसे की केवल online ही goods और services खरीदने के लिए इस्तमाल किया जाता है. यह एक De-centrallized currency है जिसका मतलब है की इसपर Government या कोई भी institution का कोई भी हाथ नहीं है. अगर हम आज की बात करें तो इसका मूल्य अब काफी बढ़ गया है जो की अब लगभग 13 Lacks के करीब है एक coin का मूल्य. इससे आप इसके वर्तमान के महत्व के बारे में पता लगा सकते हैं.

 

2.Ethereum (ETH)

 

Bitcoin के जैसे ही Ethereum भी open-source, decentralized blockchain-based computing platform है. इसके Founder का नाम है Vitalik Buterin. इसके Cryptocurrency token को ‘Ether’ भी कहा जाता है.

ये Platform इसके users को digital token बनाने में मदद करता है जिसकी मदद से इसे currency के तोर पर इस्तमाल किया जा सकता है. हाल ही में ही एक Hard Fork के होने से Ethereum दो हिस्सों में विभाजित हो गया है Etherem (ETH) और Etheriem Classic (ETC). Bitcoin के बाद ये दूसरा सबसे प्रसिद्ध Cryptocurrency है.

 

3. Litecoin (LTC)

 

Litecoin भी decentralized peer-to-peer cryptocurrency है जिसे की एक open source software जो की release हुआ है under the MIT/X11 license के अंतर्गत October, 2011 में Charles Lee के द्वारा जो की पहले एक Google Employee रह चुके हैं.

इसके बनने के पीछे Bitcoin का बहुत बड़ा हाथ है और इसकी बहुत सारी features Bitcoin से मिलती झूलती हैं. Litecoin की block generation की time Bitcoin के मुकाबले 4 गुना कम है. इसलिए इसमें Transaction बहुत हो जल्दी पूर्ण हो जाती हैं. इसमें Scrypt algorithm का इस्तमाल होता है Mining करने के लिए.

 

4. Dogecoin (Doge)

 

Dogecoin की बनने की कहानी काफी रोचक है. इसे Bitcoin को मजाक करने के लिए कुत्ते से उसकी तुलना की गयी जो आगे चलकर एक Cryptocurrency का रूप ले लिया. इसके Founder का नाम है Billy Markus. Litecoin की तरह ही इसमें भी Scrypt Algorithm का इस्तमाल होता है.

 

 

आज Dogecoin की Market Value है $197 million से भी ज्यादा और इसे पुरे विश्व में 200 merchants से भी ज्यादा में accept किया जाता है. इसमें भी Mining दूसरों के मुकाबले बहुत जल्दी होती है.

 

5. Faircoin (FAIR)

 

Faircoin एक बहुत ही बड़े grand socially-conscious vision का हिस्सा है जो की Spain-based co-operative organization है और जिसे Catalan Integral Cooperative, or CIC के नाम से भी जाता जाता है.

ये Bitcoin की blockchain technology का इस्तमाल करता है, लेकिन ज्यादा socially-constructive design के साथ. दुसरे cryptocurrencies के जैसे Faircoin mining or minting new coins के ऊपर तो बिलकुल भी निर्भर नहीं करता है.

लेकिन उसके जगह में ये certified validation nodes, or CDNs, का इस्तमाल करते हैं block generation के लिए. Faircoin में coins को verify करने के लिए proof-of-stake or proof-of-work के बदले में ‘proof-of-cooperation’ का इस्तमाल किया जाता है.

 

6. Dash (DASH)

 

इसके पहले के नाम थे XCoin और Darkcoin, Dash, का अर्थ है की ‘Digital’ और ‘Cash’. ये एक open source, peer-to-peer cryptocurrency है Bitcoin के जैसे ही.

लेकिन इसमें Bitcoin की तुलना में ज्यादा features मेह्जुद है जैसे की ‘InstantSend’ और ‘PrivateSend’. InstantSend में Users आसानी से अपने transactions को पूर्ण कर सकते हैं वहीँ Privatesend में transaction पूरी तरह से safe होता है जहाँ की users की privacy को काफी importance दिया जाता है.

Dash में एक uncommon algorithm का इस्तमाल होता है जिसे की ‘X11’ जिसकी खासियत ये है की ये बहुत ही कम powerful hardware से भी Compatible हो जाता है, Cryptocurrency क्या है? जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग अपने currency को खुद ही mine कर सकें. X11 बहुत ही energy efficient algorithm है, जो की Scrypt की तुलना में 30% तक कम बिजली की खपत करता है.

 

7. Peercoin (PPC)

 

Peercoin जो की पूरी तरह से Bitcoin protocol पर based है और जिसमें की बहुत सी Source code दोनों में मिलती झूलती हैं. इसमें transaction को verify करने के लिए केवल Proof of work पर ही मिर्भर नहीं किया जाता बल्कि इसके साथ Proof of stake system को भी नज़र में रखा जाता है.

जैसे की नाम से पता चलता है की Peercoin भी peer-to-peer cryptocurrency है Bitcoin के जैसे ही, जिसमें की source code को release किया गया है MIT/X11 software license के अंतर्गत.

Peercoin भी Bitcoin के जैस ही SHA-256 algorithm का इस्तमाल करता है. और इसमें transaction और mining करने के लिए बहुत ही कम पॉवर की जरुरत पड़ती है.

 

8. Ripple (XRP)

 

Ripple 2012 में release हुआ और ये distributed open source protocol के ऊपर based है, Ripple एक real-time gross settlement system (RTGS) है जो की अपनी खुद की Cryptocurrency चलता है जिसे की Ripples (XRP) भी कहा जाता है.

ये बहुत ही ज्यादा और famous Cryptocurrency है और जिसकी overall market cap है लगभग $10 billion. इनके Officials के अनुसार Ripple users को “secure, instant and nearly free global financial transactions किसी भी size के करने के लिए प्रदान करती है और जिसमें कोई भी chargebacks नहीं होती है.

 

9. Monero (XMR)

 

ये असल में Bytecoin के fork से पैदा हुआ है सन 2014 में और उसके बाद से ही ये प्रसिधी लाभ की है. Cryptocurrency क्या है? ये cryptocurrency सभी systems जैसे की Windows, Mac, Linux, Android, and FreeBSD में काम करती है.

Bitcoin के जैसे ही Monero भी privacy और decentralization पर focus करती है. Bitcoin और Monero में जो सबसे महत्वपूर्ण अंतर है वो ये की Bitcoin में high-end GPUs का इस्तमाल होता है वहीँ Monero में consumer-level CPUs का इस्तमाल होता है.

 

Cryptocurrency से लाभ (Benefit From Cryptocurrency)

 

  1. क्रिप्टो करेंसी एक डिजिटल करेंसी है तो अन्य करेंसी से यह बहुत ही secure करेंसी है.
  2. इसमें किसी भी केंद्र सरकार या बैंक का नियंत्रण नहीं रहता है. इसलिए इसके transaction में किसीकी भी अनुमति लेने की जरुरत नहीं होती है.
  3. ये करेंसी जादा secure है इसके कारन इसमें fraud नहीं किया जा सकता.
  4. इसमें लेन देन और इन्वेस्टमेंट करना बहुत ही आसानी से होता है.
  5. इसमें cryptography algorithm का इस्तेमाल किया जाता है तो यह जादा safe तरीका मन जाता है.
  6. इसे आप आसानी से डिजिटल वॉलेट में स्टोर करके रख सकते है. और आसानी से किसी को भी भेज सकते हो.

 

Cryptocurrency से हानि (Loss from Cryptocurrency)

 

  1. क्रिप्टो करेंसी में रिवर्स transaction की कोई भी सुविधा नहीं होती है. एक बार transaction प्रोसेस पूरी हो गयी तो उसे Reverse नहीं किया जा सकता.
  2. यह ऑनलाइन माध्यम में स्टोर रहती है इसलिए इसे hack भी किया जा सकता है.
  3. अगर आपका वॉलेट ID खो जाता है तो उसे फिरसे प्राप्त नही किया जा सकता. ऐसे में अपनके वॉलेट में जो पैसे होते है वो भी हमेशा के लिए खो जाते है.
  4. इस प्रकार के करेंसी की कीमत पे किसीका भी कण्ट्रोल नहीं होता है. इसलिए इसकी कीमत जादा घटती और उछालती रहती है.

 

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Cryptocurrency क्या है? इसके कार्य और प्रकार की जानकारी हिंदी में  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Cryptocurrency क्या है? इसके कार्य और प्रकार की जानकारी हिंदी में

 

Leave a Comment