Dark Web कैसे कार्य करता है? डार्क वेब क्या होता है?

दोस्त Dark Web कैसे कार्य करता है? डार्क वेब क्या होता है? आप सभी इंटरनेट का इस्तेमाल हर दिन करते हैं लेकिन क्या आपको पता है डार्क वेब या डार्क नेट क्या है? अगर नहीं पता तो आज हम इस आर्टिकल में डार्क वेब की जानकारी हिंदी में जानेंगे

आजकल की दुनिया डिजिटल होती जा रही है और लगभग हर इंफॉर्मेशन के लिए हम इंटरनेट का उपयोग करते हैं. आपको बता दें हम लोग इंटरनेट का लगभग 4% भाग ही यूज करते हैं यानी कि इंटरनेट यूजर 4% वेब को ही यूज करते हैं

Google, Yahoo, Bing या कोई भी अन्य सर्च इंजन केवल 4% ही इंटरनेट को कवर करता है. वही बाकी 96% वेब के बारे में आम इंसान को शायद ही पता हो, इसी 96% वेब भाग को डार्क वेब या डार्क नेट कहा जाता है

इसके अंतर्गत हैकिंग, ऑनलाइन ड्रग्स की लेन देन और कई अन्य प्रकार की Illegal चीजें शामिल है. डार्क वेब में कई सारे बड़े-बड़े देश शामिल है जिसमें से एक भारत भी है. यदि आपको डार्क वेब क्या होता है और डार्क वेब कैसे काम करता है इसके बारे में जानना है तो आपको इस पोस्ट को पूरा पढ़ना होगा. गजब का नॉलेज आपको इस पोस्ट में दिया गया है आइए जानते हैं

 

Dark Web कैसे कार्य करता है? डार्क वेब क्या होता है?
TEJWIKI.IN

 

डार्क वेब क्या होता है? (What is dark web)

 

Dark Web Internet के उस हिस्से को कहा जाता है जिसे की Search Engines के द्वारा Index किया गया नहीं होता है. यूँ कहे तो Dark Web एक हिस्सा होता है Deep Web का. Researchers के अनुसार, internet का केवल 4% ही general public को visible होता है और इसे Surface Web कहा जाता है.

इसका मतलब ये भी है की बाकि के 96% की internet इस “The Deep Web या Dark Web” से बनी हुई होती है.

यह dark Web में ऐसे websites होते हैं जो की public को visible नहीं होती हैं, क्यूंकि उनके IP address details को जानबूझकर hidden रखा गया होता है. वहीँ ऐसी websites को सही tools का इस्तमाल कर देखा जरुर जा सकता है, डार्क वेब क्या होता है? लेकिन इनके server details को खोज पाना मनो नामुमकिन होता है. वहीँ इन्हें पूरी तरह से track कर पाना भी उतना ही कठिन होता है.

 

 

Dark Web तक पहुँचने के लिए आप बहुत से anonymity tools का इस्तमाल ले सकते हैं. जिनमें कुछ popular tools हैं Tor और I2P. यह dark Web बहुत ही popular होता है दोनों black market और user protection वाले लोगों के लिए, इसलिए इन्हें दोनों positive और negative aspects भी होते हैं.

 

Dark Web को किसने बनाया (Who created the Dark Web)

 

लेख को यहाँ तक पढने पर आप जरुर समझ गए होंगे कि Dark Web क्या है. अब एक प्रश्न आपको विचलित कर सकता है कि आखिर डार्क वेब को किसने बनाया?

Dark Web को वास्तव में अमेरिका ने 1990 के दशक में अपने सैनिकों के लिए विकसित किया था. दरसल अमेरिका ने अपने सैनिकों के दस्तावेजों को सुरक्षित रूप से भेजने के लिए Onion Routing टेक्नोलॉजी का निर्माण किया था.

Onion Routing टेक्नोलॉजी का उपयोग करने से हैकर के लिए डेटा हैक करना असंभव था. यही टेक्नोलॉजी Dark Web के विकास में उपयोग हुई.

Dark Web की असल में शुरुवात 2002 में हुई जब TOR ब्राउज़र (The Onion Routing Project) के अल्फा वर्शन को लांच किया गया. TOR एक Open Source Software है जो यूजर को गुमनाम तरीके से इंटरनेट एक्सेस करने की अनुमति देता है. आधुनिक TOR ब्राउज़र का विकास 2006 में हुआ, इसके द्वारा कोई भी यूजर आसानी से Dark Web में पहुँच सकता है.

इसके बाद साल 2009 में बिटकॉइन नाम की क्रिप्टोकरेंसी का निर्माण हुआ, क्योंकि लोग Dark Web में गैर कानूनी काम तो करते थे लेकिन पैसों की लेन – देन को गुप्त रखना असंभव था. लेकिन बिटकॉइन के आ जाने से Dark Web में लेन – देन करना भी आसान हो गया.

Dark Web पर गैर कानूनी कार्य तब और अधिक बढ़ने लगे जब 2011 में Silk Road नाम का एक ऑनलाइन मार्केटप्लेस डार्क वेब में लांच किया गया, इसमें अवैध तरीके से Drug बेचे जाते थे. इस वेबसाइट को आगे चलकर प्रतिबंध लगा दिया गया, लेकिन Ban होने से पहले यह मार्केटप्लेस अरबों डॉलर की कमाई कर चुका था. डार्क वेब क्या होता है? आज के समय में Dark Web में होने वाले अवैध कामों की अनेक सारी घटनायें लगातार सामने आ रही है.

 

DarkNet Markets क्या होते हैं? (What are DarkNet Markets)

 

वो industries जो की इन dark Web में ही operate होते हैं उन्हें ही darknet markets कहा जाता है. इनमें बहुत से illegal products की black market भी होती हैं, वहीँ porn, child trafficing, government के secrets, defence secrets इत्यादि. यहाँ वो सभी कार्य होते हैं जिनका governments और law enforcement agencies विरोध करती हैं.

वहीँ यहाँ आप credit card numbers भी खरीद सकते हैं, सभी प्रकार के drugs, guns, चोरी के पैसे, चुरायी गई subscription credentials, सभी hacked Netflix accounts और software जो की आपकी मदद कर सकते है किसी के computer system को hack करने के लिए.

 

Dark Web कैसे कार्य करता है? (How does the Dark Web work)

 

ये dark web के काम करने का ढंग पूरी तरह से अलग होता है हमारे usual websites के मुकाबले. आप इन dark websites को access नहीं कर सकते हैं इन normal web browsers के मदद से जैसे की Google Chrome, Mozilla FireFox, Safari इत्यादि से.

इन्हें visit करने के लिए आपको एक special web browser का इस्तमाल करना होगा जिसे की Tor कहा जाता है. केवल इसी browser से ही आप dark web के websites को खोल सकते हैं अपने system में. वहीँ dark websites के extension भी बहुत ही अलग होते हैं. जैसे की .onion जो की highly encrypted domain name होता है, इनका इस्तमाल किया जाता है इन dark websites के लिए.

अब तो शायद आप बहुत ही excited भी होंगे इस dark web में जाने के लिए. और हो भी क्यूँ न ये है इतना exciting.

वैसे इसमें घुसना उतना भी आसान नहीं होता है, की आप केवल login कर इस dark web में enter कर जाएँ. वहीँ आपको इसमें enter होने के लिए कुछ चीज़ों का पालन करना होगा. चलिए उन्ही के विषय में जानते हैं.

1. सबसे पहली चीज़, आपको एक secured VPN service की जरुरत होगी जो की आपके identity को दूसरों से protect करे. क्यूंकि web की ये side उतनी ज्यादा safe नहीं होती है और बहुत से hackers हमेशा इसमें घूम रहे होते हैं इन dark web के हिस्सों में.

इसलिए अपने आपको और अपने data को secure रखने के लिए एक secured VPN service का इस्तमाल करना चाहिए. जैसे की आप चाहने तो Nord VPN, Strong VPN, HideMyIP, Cactus VPN, Kepard VPN और HideIPVPN का इस्तमाल कर सकते हैं.

2. वहीँ दूसरी बात, आपको Tor Web Browser को download करना होगा जिससे की आप dark web में safe और secure login कर सकें.

Note : Tor Web Browser को हमेशा official websites से ही download करें, क्यूंकि internet में आपको बहुत से duplicate web browsers मिल सकते हैं, जो की बाद में जाकर आपके लिए problem बन सकते हैं.

3. एक बार आपने securely Tor web browser को install कर लें, फिर आपको सभी apps और programms को बंद कर देना चाहिए जिससे की आप आसानी से dark web में crawl कर सकें.

Dark websites को search करने के लिए चाहें तो GRAM search engine का इस्तमाल कर सकते हैं. ये बहुत ही similar होता है Google के जैसे और इसे specially designed किया गया है dark web के लिए.

 

Dark Web को अपने Computer से कैसे Access करें (How to Access the Dark Web from Your Computer)

 

यहाँ पर आज हम जानेंगे की कैसे आप अपने computer की मदद से Dark Web को access कर सकते हैं. साथ में इससे जुडी सभी छोटी बड़ी बात की ओर भी गौर करेंगे.

 

Step 1


अपने लिए एक बढ़िया सा VPN Service चुनें. चाहे आप TOR का इस्तमाल कर रहे हों या नहीं. फिर भी आपको एक VPN Service का जरुर से इस्तमाल करनी चाहिए.

आपको अपनी anonymity और security का ख़ास ध्यान रखा आवश्यक होता है. वो भी तब जब आप Dark Web का इस्तमाल कर रहे हों.

इस गलतफैमी में कभी न रहे की आपके ISP’s (Internet Service Providers) और Law Enforcement आपके गतिविधियों को track नहीं कर रहे हैं. वैसे Tor Browser का इस्तमाल करने वाले वैसे भी बहुत ही secure network का इस्तमाल करते हैं अपने लिए.

अभी हाल फिलहाल में एक खबर आई थी TOR के vulnerability को लेकर जहाँ की TOR का इस्तमाल करने वालों की real IP address को hack कर लिए गया था. जिससे उन्हें आसानी से track किया जा सकता था. इसलिए अगर आप TOR का इस्तमाल करते हों तब उसे जल्द ही Update कर लें. और ऐसे vulnerability का होना आम बात है.

बस एक VPN software का इस्तमाल करने से ये आपको और आपके IP Address को ISP और Government Agencies से छुपाती है. साथ में आपके सभी Internet usage को भी encrypt कर देती है. इसलिए आपके real identity को ढूंड पाना लगभग नामुमकिन हो जाता है.

वहीँ दूसरी benefit ये है की एक VPN के इस्तमाल से ये आपको hackers से दूर रखती है जो की आसानी से आपके identity और personal files को आपने computer से चोरी कर सकते हैं. इसलिए जल्द ही आपको एक VPN को अपने system में install कर देनी चाहिए.

 

Step 2


आप Dark Web को एक common browser जैसे की Internet Explorer या Google Chrome का इस्तमाल कर खोल नहीं सकते हैं. Dark Net पर access पाने के लिए आपको भी एक dark web browser को download करना होगा Dark Web कैसे कार्य जिसे की TOR browser bundle भी कहते हैं। केवल official TOR website का ही इस्तमाल करें, कभी भी किसी दुसरे websites से इसे download न करें.

TOR Official Website: https://www.torproject.org/download/download.html सभी programs को close कर आप Tor Browser का इस्तमाल कर सकते हैं.

 

Step 3


Install करें TOR browser bundle को अपने PC में. जब download complete हो जाये, तब आप double-click कर सकते हैं downloaded file को, और साथ में destination folder का चुनाव कर सकते हैं और फिर choose करें extract.

 

Step 4


Start करें TOR Browser.

उस folder को open करें जहाँ आपने TOR browser को extract किया था और फिर double-click करें “Start Tor Browser”.

अब TOR start page खुल जायेगा आपके browser window में. बस आपको बधाई आपने Dark Web का द्वार खोल दिया है. अब आप एक नयी दुनिया में प्रवेश कर सकते हैं.

 

 

क्या Dark Web को Browse करना खतरनाक हो सकता है? कैसे?

 

सच में Dark Web को browse करना बहुत ही खतरनाक हो सकता है, यदि आपने कुछ चीज़ों को ध्यान न दिया हो. तो चलिए उनके विषय में जानें जिन्हें आप खुद से दूर रखकर इन problems से दूर रह सकते हैं.

 

Viruses

 

कुछ websites आपके devices को infect कर सकती हैं viruses से, और ऐसे बहुत से अलग अलग प्रकार के virus dark web में मेह्जुद हैं. इसलिए याद रखें की ऐसी websites से कुछ भी download न करें जिन्हें आप trust नहीं करते हैं.

 

Hackers

 

इन Hackers से आपको दूर रहना चाहिए. क्यूंकि ये आसानी से आपके devices को hack कर सकते हैं. Dark Web में ऐसे बहुत से hacker forums है जहाँ पर आप इन computer hackers को hire कर सकते हैं, बहुत सी illigal activities करने के लिए. फिर याद रखें की आपके systems को भी कोई आसानी से hack कर सकता है.

 

Webcam Hijacking

 

Dark Web में ऐसी website भी हैं जो की एक remote administration tool — जिसे की “RAT” भी कहा जाता है — उसे आपके device में install करने के लिए उकसायेंगे. इससे होगा ये की वो आसानी से आपके webcam को hijack कर सकते हैं. Dark Web कैसे कार्य वो फिर camera lens के जरिया आपके सभी गतिविधियों पर नज़र रख सकते हैं.

इसलिए आप हमेशा Dark Web में browse करते वक़्त कोई paper या कपडे से lens के face को ढक सकते हैं. इससे उनके मनसूबों पर पानी फिर जायेगा.

 

Surface Web या Clear Web क्या होता है?

 

Surface Web को Clear Web/Clear Net भी कहा जाता है. ये normal internet / world wide web को दर्शाता है जहाँ पर आप वो सभी चीज़ें कर सकते हैं जो की आप रोजमर्रा के जिंदगी में करते हैं जैसे की Gmail, Facebook, Twitter, online shopping करना Amazon या Flipkart से.

सभी websites और web pages जिन्हें की एक search engine जैसे की Google खोज सकता है वो सभी को Clear Net या Surface Web कहा जाता है. ये पुरे internet का केवल 4% ही हिस्सा होता है.

 

Deep Web क्या होता है? (What is Deep Web)

 

फिर आता है Deep Web. ये Internet के उस बाकि हिस्सों को कहा जाता है जो की Surface Web के बाद आता है. इन deep web के sites को search engines index नहीं कर सकते हैं.

इनमें बहुत से web pages शामिल हैं जैसे की membership logins, सभी company Dark Web कैसे कार्य और organization के web pages इत्यादि. DeepWeb के majority हिस्से में कोई भी illegal चीज़ नहीं होता है.

 

Dark Web या Dark Net क्या होता है? (What is Dark Web or Dark Net)

 

Dark web एक छोटा सा हिस्सा होता है Deep Web का जहाँ की सभी illegal चीजें उपलब्ध होते हैं. Dark Web के अधिकतर encrypted होते हैं इसलिए इन्हें केवल ऐसे browser से ही access किया जा सकता है जो की इन्हें खोल सकें जैसे की TOR Browser.

Dark Net के Websites को traditional search engines में ढूंडा नहीं जा सकता है. इन Dark Net में आपको drugs, counterfeit goods, weapons, के साथ साथ hacking sites, X-rated sites, bitcoin buying और Selling, जैसे सभी illegal चीज़ें आसनी से मिल सकती हैं.

 

Deep web और Dark Web exist ही क्यूँ करते हैं?

 

दोनों deep web और dark web offer करती हैं privacy और anonymity.

ये deep web मदद करती हैं आपके personal information को protect करने में जिन्हें की आप चाहते हैं वो private ही रहे.

उदाहरण के लिए जब आप अपने bank account को access करते हैं, तब वो पूरी तरह से private नहीं होता है. यहाँ पर bank को ये पता होता है की आपने अपने account को access किया है.

वहीँ dark web operate करता है पुरे anonymity के साथ. आप जो भी काम करते हैं ये आपकी business होती है. किसी को कुछ भी मालूम नहीं पड़ता है. यदि आप थोडा सा precautions लें तब आपको बिलकुल भी track या trace नहीं किया जा सकता है.

कुछ लोगों के लिए, privacy एक बहुत ही बड़ा concern है internet पर. उन्हें उनके सभी personal information के ऊपर control चाहिए जो की standard internet service providers और websites अक्सर हमसे collect कर लेते हैं.

Freedom of speech भी एक issue है,और कुछ लोग अपनी argument इसी privacy और anonymity को लेकर करेंगे. यही कारण है की law मानने वाले नागरिक Tor Browser की privacy को ज्यादा ध्यान देते हैं.

Anonymity की अपनी ही positive effects हैं — जैसे की बड़ी ही आसानी से अपने views को express कर पाना जो की unpopular हो सकता है, लेकिन illegal नहीं. और dark web भी मदद करती है ऐसे चीज़ों को possible करने में.

 

Dark Web को securely उपयोग कैसे करें? (How to use Dark Web securely)

 

ये तो आप सब समझ ही चुके होंगे, web का ये हिस्सा पूरी तरह से hidden है और illegal भी कुछ कारणों के लिए. इसलिए आप यहाँ पर फट से login नहीं कर सकते हैं.

आपको थोडा special attention देना होगा इसकी security के लिए वहीँ जब आप इन dark websites को visit कर रहे हों. Dark Web कैसे कार्य  डार्क वेब क्या होता जैसे की आपको अपने microphone और camera को cover करना चाहिए जब आप इन dark websites को visit कर रहे हों और कभी भी अपने personal details का इस्तमाल नहीं करना चाहिए.

अगर आप इन dark websites का सही इस्तमाल कर रहे हैं जैसे की project search, तब तो ये बहुत ही बढ़िया बात है. लेकिन वहीँ अगर आपके इरादे ठीक नहीं है तब ये ध्यान में रखें की police की आखें आपके ऊपर हमेशा है. इसलिए केवल बहुत जरुरत पड़ने पर ही dark web को enter करें अन्यथा नहीं. या फिर तब जब आपके नेक इरादे हों.

 

Dark Web से क्या हानि हैं? (What are the disadvantages of Dark Web)

 

Dark Web के अनेक सारे नुकसान हैं इसलिए अधिक लोग इसे एक्सेस ना करने की सलाह देते हैं. Dark Web के कुछ नुकसान निम्नलिखित हैं –

  • डार्क वेब पर हर समय हैकर बैठे रहते हैं आपकी थोड़ी से लापरवाही से आपका पूरा डाटा हैक हो सकता है.
  • यहाँ पर आपको अनेक सारे ऐसे लिंक मिल जायेंगे जिन पर क्लिक करते ही आपके सिस्टम में वायरस आ जायेंगे.
  • डार्क वेब में फिशिंग और स्कैम होने का ख़तरा हमेशा बना रहता है.
  • हैकर आपके सिस्टम को हैक कर लेंगे और आपको पता भी नहीं चलेगा, इससे आपको प्राइवेसी को ख़तरा हो सकता है.
  • कुछ भी गैरकानूनी गतिविधि करने पर आपको जेल हो सकती है.
  • डार्क वेब में ऐसे – ऐसे कंटेंट आपको मिलेंगे जो आपको विचलित कर सकते हैं.

 

Dark Web के क्या लाभ हैं? (What are the benefits of Dark Web)

 

Dark Web के कुछ फायदे भी होते हैं इसलिए इसे पूरी तरह से बैन नहीं किया जाता है, डार्क वेब के कुछ फायदे निम्नलिखित हैं –

  • अगर आप सावधानीपुर्वक Dark Web को एक्सेस करते हैं तो कोई आपकी पहचान को ट्रैक नहीं कर पायेगा.
  • आप गुमनाम रहकर इंटरनेट एक्सेस कर सकते हैं.
  • डार्क वेब के द्वारा आप सुरक्षित रूप से फाइलों को शेयर कर सकते हैं.
  • जो विधार्थी किसी चीज के बारे में गहरी रिसर्च करना चाहते हैं उनके लिए यह एक अच्छा स्थान है क्योंकि यहाँ पर ढेर सारा Study Matireal मौजूद है.

 

Dark Web को बैन क्यों नहीं किया जाता है? (Why is the dark web not banned)

 

Dark Web के बारे में पढने के बाद आपके मन में यह सवाल भी आ रहा होगा कि डार्क वेब पर प्रतिबंध क्यों नहीं लगा दिया जाता. तो इसका जवाब है Dark Web पूरी तरह से अवैध नहीं है इसमें कुछ कानूनी कार्य भी होते हैं. और डार्क वेब यूजर को अपनी पहचान बताये बिना इंटरनेट एक्सेस करने की अनुमति देता है, इसलिए इसका इस्तेमाल देश की सरकार, सेनायें, बड़ी कंपनियां भी करती है.

साथ में डार्क वेब का इस्तेमाल करने वाले यूजर को ट्रैक कर पाना बहुत मुश्किल है. इन सभी कारणों से Dark Web को पूरी तह से प्रतिबंधित नहीं किया जा सकता है.

 

Conclusion

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Dark Web कैसे कार्य करता है? डार्क वेब क्या होता है? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Dark Web कैसे कार्य करता है? डार्क वेब क्या होता है?

 

Leave a Comment