LiFi का फुल फॉर्म क्या है? LiFi कार्य कैसे करता है (How LiFi Works)

दोस्तों इस पोस्ट में आपको Li-Fi के बारे में जानकारी मिलेगी जैसे LiFi का फुल फॉर्म क्या है? आपने Wi-Fi के बारे में तो काफी सुना होगा और आपको इसकी जानकारी भी होगी, लेकिन क्या आपने Li-Fi के बारे में सुना है, क्या आपको इसकी कोई जानकारी है।

अगर आप नहीं जानते तो कोई बात नहीं इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको Li-Fi की पूरी जानकारी देंगे, तो पोस्ट को पूरा पढ़ें। इंटरनेट का इस्तेमाल तो सभी करते हैं, चाहे आपको गूगल द्वारा कोई जानकारी लेनी हो, कोई मूवी देखनी हो, या फिर कुछ डाउनलोड या अपलोड करना हो, आप अपनी जरुरत अनुसार इंटरनेट का उपयोग करते हैं।

और आज के समय में जिस तेजी से IOT पर कार्य चल रहा है और इंटरनेट यूजर भी बढ़ रहें हैं, उसके अनुसार आने वाले समय में डाटा की मांग भी बढ़ती चली जाएगी जिसमे हर किसी को फ़ास्ट इंटरनेट स्पीड की जरुरत पड़ेगी।

इंटरनेट स्पीड को बढ़ाने की इसी कड़ी में Li-Fi Technology को डेवलप किया गया, जिसमे अनुमान लगाया गया की कैसे इंटरनेट स्पीड में Li-Fi टेक्नोलॉजी द्वारा वर्तमान Wi-Fi टेक्नोलॉजी की तुलना में और अधिक तेजी लाई जाए, तो आईए जानते हैं Li-Fi क्या है।

 

LiFi का फुल फॉर्म क्या है? LiFi कार्य कैसे करता है (How LiFi Works)
TEJWIKI.IN

 

LiFi का फुल फॉर्म क्या है?

 

लाई-फाई का पूरा अर्थ है Light Fidelity, लाई-फाई का आविष्कार प्रोफेसर Harald Haas ने वर्ष 2011 में किया था। वह LED बल्ब के दृश्य प्रकाश का उपयोग करके 10MBPS तक की Bandwidth उत्पन्न करने वाले पहले व्यक्ति थे।

इस लाइट वेव का इस्तेमाल डेटा ट्रांसमिशन के लिए किया जाएगा। इस प्रकाश तरंग को डी-लाइट कहते हैं। वाई-फाई रेडियो फ्रीक्वेंसी पर आधारित है, इसके विपरीत, ली-फाई वास्तव में प्रकाश पर आधारित है, जो वाई-फाई की तुलना में 100 गुना तेजी से डेटा का आदान-प्रदान करने में सक्षम है। है।

 

 

LiFi कार्य कैसे करता है (How LiFi Works)

 

जैसे सारे Internet Devices काम करते हैं वैसे ही LiFi भी काम करता है. कैसे काम करता है यह जानने से पहले आपको यह जान लेना चाहिए इसमें कोन कोन से Components का इस्तमाल किया जा रहा है. मुख्य रूप से ये 3 component होते हैं.

1. Lamp Driver
2. LED Lamp
3. Photo Dectector

इन तीनो Components के साथ साथ आपको एक और Connection चाहिए जिसको हम और आप कहते हैं Internet. पहले से ही मैं आपको एक जानकारी दे चूका हूँ यह Lights के जरिए data Transmission करता है.

LED बल्ब के कुछ Characteristics हैं. LED बल्ब में Light Emitting Diode और Fluorescent Component के कारण LiFi के लिए यह सही Component है.

LiFi के लिए High-Speed data rate की आवस्यकता है और LED बल्ब में DATA Light की Speed से Transmit होते हैं. इन LED Bulb में Light Intensity काफी तेजी से बदलता रहता है. Light कभी On होता है तो कभी Off.

Human Eyes इन LIght On और Off को कभी देख ही नहीं सकते. किंतु Photo Detector को यह सब दिखाई देता है. इन सभी वजहों के कारण LED बल्ब सबसे सही है. LiFi की कार्य प्रणाली को समझने के लिए आपको LED को समझना जरुरी था.

 

कार्य प्रणाली

 

Internet Source Lamp Driver से जुड़ा रहता है और Lamp driver, internet cables से आने वाली Information Led Bulb के अंदर Transmit करता है. फिर LED बल्ब में जो Ligth आती है. वह निचे Photo Dectector से टकराते ही, Photo detector Light में होने वाल्रे बदलाव को आसानी से पहचान जाता है.

अब Photo detector Light Signals को Binary data Convert कर देता है. और Computer या फिर Smartphone पे Process होने के लिए भेज देता है. बाद में वह Audio, Video, Images में Convert हो जाता है. इसके बाद Application में हम डाटा को देख सकते हैं.

जैसे Lamp Driver से होते हुए Led Lamp और इसके बाद Photo Detector से data Mobile के पास आता है. वैसे ही इसके वीपरीत Mobile से डाटा वापस LED Lamp से होते हुए data वापस Receiver के पास जा सकता है. यह Bidirectional System पे भी काम करता है. Sender से Receiver और Receiver से Sender.

 

LiFi vs WiFi in Hindi

 

Feature LiFi WiFi
Full form Light Fidelity Wireless Fidelity
Operation LiFi में Data Transmission का माध्यम Light है WiFi में Data Transmission का माध्यम Radio Waves है
Devices LED bulb Wireless Router है
Interference इसमें कोई भी Interference Problem नहीं है Routers के साथ Interference Problem है
Technology Present IrDA compliant devices WLAN 802.11a/b/g/n/ac/ad standard compliant devices
Applications airlines undersea explorations hospitals के operation theaters में office और home में Internet Browsing के लिए इस्तमाल किया जाता है WiFi Hotspot के जरिए Internet Access किया जाता है
Advantages Interference कम है salty sea water में काम करता है घंच Area में भी काम करता है Interference ज्यादा है salty sea water में काम नहीं करता है घंच Area में भी काम कम करता है
Privacy Light दिवार के दूसरी तरफ ना जाने के कारण Transmission Secure रहता है इसमें Network Open रहने के कारण Data Transmission Secure नहीं रहता है
Data transfer speed 1 Gbps 150 Mbps+
Frequency of operation Radio Waves के Frequency से 10 गुणा अधिक इसमें 2.4GHz 4.9GHz और 5GHz
Coverage distance 10 meters 32 meters (WLAN 802.11b/11g) Transmission Power और Antenna पे निर्भर है
Components Lamp driver LED Photo Detector LED bulb Wireless Router

 

History of LiFi in Hindi

 

Prof. Harald Haas, वो UK के University of Edinburgh के थे. जिनको LiFi Technology का Founder भी बताया जाता है. अपने Invention को वो Tech Talk में Represent किये थे. Harald Haas Pure LiFi के Co-Founder हैं. जिनकी सोच से ही आज हम LiFi Technology को भविष्यत में इस्तमाल कर सकते हैं.

Harald Haas के मुताबिक अगर किसी भी Information को Visible Light Portion के माध्यम से भेजा जाए. तो उसे Visible light communication (VLC) कहा जाता है. Harald Haas ने एक D-Light Project को सुरु किया.

2010 से 2012 तक इस प्रोजेेेक्ट को  काफी समय दिये थे जब वो Edinburgh’s Institute में थे. काफी समय से इस project के  उपर बिताने के बाद.

2011 में TED Global Talk दौरान LiFi Technology को लोगों के सामने प्रदर्सन किए थेे. इसके बाद लोग इस Technology के बारे में लोग जानने लगे थे. उसी समय बिना समय गवाए एक Company की सुरुवात की गई थी जिसका नाम था PureLiFI जो अभी है.

PureLiFi का पहले एक  नाम था Pure VLC जो की एक original equipment manufacturer (OEM) Company थी. Purelifi के व्यवसाय को बढ़ाने के लिए यह Company मोजुदा LED Lighting पे काम करने लगी.

October 2011 में इस Company ने और Industries के  Groups मिलके LiFi Consortium का गठन किया था. LiFi का फुल फॉर्म दोनों का एक ही मकसद था High Speed Wireless System का गठन करना है .

Radio Waves में जो Limitation है उनको ख़तम करना. एसी बहुत सारी Companies थी जो Uni-Directional VLC Product बनाने लगी थी लेकिन वह Li-Fi से काफी भिन थी.

2012 में VLC Technology को LiFi के साथ प्रदर्सन किया गया था. August 2013 के एक प्रदर्सन में यह प्रमाणित हो चूका था. इसमें Single Color LED 1.6 Gbit/sec के साथ Data Transmission हो रहा था.

2013 September के एक Press में यह बोला गया की LiFi में Line Of Sight की कोई आवस्यकता नहीं है. October 2013 के एक Report में यह बतया गया था की Chinese Manufacturers ने LiFi kit को Development में लगे हुए हैं.

April 2014 में Russian company Stins Coman ने एक wireless Network को Develop किया जिसका नाम था BeamCaster. फ़िलहाल इस में data speed करीबन 1.25 gigabytes per second है.

आगे भविष्यत में LiFi की Speed 5 GB/sec होने वाली है. यही छोटा सा LiFi का इतिहास था. सायद पसंद आया हो आपको. चलिए अब बात करते हैं इसके फायदे और
नुकसान के बारे में.

 

Li-Fi और WiFi में क्या अंतर हैं। Difference Between Li-Fi & WiFi In Hindi

 

जैसे की आपने ऊपर पढ़ा यह दोनों का कार्य वायरलेस सिग्नल ट्रांसमिट करना है। Li-Fi यानि Lite Fidelity और WiFi यानि Wireless Fidelity लेकिन यह दोनों बिलकुल अलग टेक्नोलॉजी हैं।

Li-Fi और WiFi के बीच निम्नलिखित अंतर हैं।

:- Li-Fi का आविष्कार यूनिवर्सिटी ऑफ़ एडिनबर्घ के प्रोफेसर हेराल्ड हास द्वारा 2011 में किया गया थता। (WiFi को NCR कारपोरेशन द्वारा 1991 लाया गया।)

:- Li-Fi में डाटा लाइट के रूप में LED बल्ब के द्वारा ट्रांसमिट होता है।
(WiFi में डाटा रेडियो तरंगो के रूप में राऊटर के द्वारा ट्रांसमिट होता है )

:- Li-Fi में डाटा ट्रांसमिशन की वर्तमान में गति 1Gbps की है। (WiFi में डाटा ट्रांसमिशन की गति अधिक से अधिक 2Gbps तक होती है।)

:- Li-Fi मे प्रकाश दीवारों को पार नहीं कर सकता जिससे डाटा ट्रांसमिशन प्रकाश जितने क्षेत्र तक ही सीमित रहता है,इससे डाटा ट्रांसफर की सुरक्षा बढ़ती है। (WiFi में रेडियो तरंगे दीवारों के पार भी जा सकता है जिससे डाटा को सुरक्षित रखने के लिए नई तकनीकों का इस्तेमाल करना पड़ता है)

:- Li-Fi की Coverage की दुरी 10 मीटर तक की है। (WiFi की Coverage की दुरी लगभग 32 मीटर के आस पास की होती है,जिसमे यह डिवाइस के एंटेना और ट्रांसमिट करने की क्षमता पर निर्भर करता है।

 

फायदे और नुकसान (Advantages and Disadvantages of LiFi)

 

हर किसी के फायदे और नुकसान होते हैं वैसे ही इसके भी है. इसे आप यह पता लगा सकते हैं की क्या कुछ खास है या नहीं. चलिए सुरु करते हैं.

फायदे (Advantages)

  1. Efficiency:   आपको पता ही होगा यह Technology Visible Light Technology पे आधारित है. जैसे की आपको पता है Office और घर में पहले से ही LED बल्ब हैं. LED बल्ब Light के अच्छे Source होते हैं. इसी वजह से इनको data Transmission के लिए इस्तमाल किया जा सकता है. यह काफी सस्ता और अच्छा Energy का Source है.Data Transmission के दौरान LED बल्ब को On करना अनिवार्य है. अगर आपको Light से परेशानी हो रही है तो आप चाहो तो LED बल्ब की रोशनी को कम कर सकते हैं और फिर भी आप Internet को इस्तमाल कर सकते हैं.
  2. Availability :   जहाँ Light Source है वहां Internet है. आपको हर जगह Light Bulb देख  सकते हैं, जैसे की homes, offices, shops, malls और planes में भी हैं. आपको बोलने का एक ही  तत्वार्य है. जहां रोशनी की व्यवस्ता है वहां आप LiFi का Use कर सकते है.
  3. Security:  इस Technology का एक Advantage है Security. जैसे की आपको पता है Light दीवार के दुसरे पार नहीं जा सकता है. वैसे ही LiFi का Signalभी एक Room से दुसरे room तक Signal ना जाने के कारण LiFi Secure है. बहार का कोई भी User आपके Internet को Access नहीं कर सकता है.

 

नुकसान (Disadvantages)

 

  1. बिना Light Source के आप Internet Access नहीं कर सकते हैं. हर बार आपको Light को On करने की आवस्यकता है.
  2. एक Room के अंदर ही इसे इस्तमाल कर सकते हैं. Range Limited है.
  3. यह एक रौशनी होने के कारण दिवार को भेद नहीं सकती है. इसी वजह से Internet Limited Location पर उपलब्ध है.
  4. Sunlight की वजह से Internet Speed में बाधा होने की संभावना है.
  5. नए LiFi Connection के लिए अलग से Network बनाना पड़ता है.
  6. यह काफी महँगी technology है.

 

 

Conclusion

  

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख LiFi का फुल फॉर्म क्या है? LiFi कार्य कैसे करता है (How LiFi Works) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

LiFi का फुल फॉर्म क्या है? LiFi कार्य कैसे करता है (How LiFi Works)

 

Leave a Comment