Meditation क्या है? Meditation कैसे करे और उसके फायदें?

Meditation एक ऐसा रास्ता है जो हमारे जीवन को और बेहतर बनाने में हमारी मद्त करता है Meditation क्या है यह न केवल हमारी मानसिक शांति को बनायें ऱखने में योगदान देता है बल्कि यह हमारे जीवन के उद्देश्य को प्राप्त करने में भी भूमिका अदा करता है परंतु बहुत सारे लोगों को मैडिटेशन के बारे में पता नही होता की Meditation क्या होता है और कैसे करते है इसलिए वह इसे वंचित रह जाते है। आज के समय में हर व्यक्ति मानसिक रूप से परेशान है और उसकी यही स्थिति उसके जीवन में दुःख और अशांति का कारण बनती है यही कारण है जिसकी वजह से वह अपने जीवन में सफलता प्राप्त नही कर पाते क्योकि उन्हें लगता है कि सफ़लता का मतलब सिर्फ़ अपनी इछाओ की पूर्ति करना है।

what is meditation and dhyan हिंदी लेकिन हर एक इच्छा पूरी होने के बाद एक नयी इच्छा जन्म लेती है और फिर वह उसे प्राप्त करने में लग जाता है और यह चक्र उसका पूरी ज़िन्दगी चलता रहता है इस तरह वह समझ ही नही पता की उसके जीवन का उद्देश्य क्या है और उसे अपनी जिंदगी से क्या चाहिए। हर एक इंसान के जीवन का उद्देश्य अलग-अलग होता है और वह स्वयं ही अपने जीवन का उद्देश्य चुनता है लेक़िन अगर वह समझ ही नही पाया है कि उसके जीवन का क्या उद्देश्य है तो वह अपनी इच्छाओ को ही अपने जीवन का उद्देश्य समझ लेता है

ये सही है कि आपकी इच्छाओ से ही उदेश्य की उत्तप्ति होती है पर इस पर आपका पूरी तरह से नियंत्रण होता है। जैसे आपके अनियंत्रित ग़ुस्से के कारण आपको नुक़सान होता है परन्तु नियंत्रित ग़ुस्से से आपका ग़ुस्सा करने का उदेश्य पूरा होता है। जब तक इच्छाओ पर आपका कोई नियंत्रण नही होता है तब तक आप अपने जीवन के उद्देश्य को प्राप्त करने में असमर्थ रहते है।

इसलिए Meditation एक ऐसा तरीका है जिसे आप अपनी इच्छाओ को नियंत्रण कर सकते है और मन को शांत करके अपने जीवन के उद्देश्य को प्राप्त कर सकते है तो आज हम आपको meditation क्या है और कैसे करते है इस बारे में पूरी जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

 

Meditation क्या है? Meditation कैसे करे और उसके फायदें?
TEJWIKI.IN

 

Meditation kya hai   

 

मेडिटेशन का अर्थ है (Meditation Meaning in Hindi) अपने मन को किसी एक जगह, विचार, या कार्य पर केंद्रित करना। हमारा मन एक ही समय में कई तरह की बातें सोचता है। ऐसे में मन की शांति भंग हो जाती है। ध्यान करने से हमें आतंरिक रूप से शांति का अनुभव होता है। कुछ वक्त के लिए हमारे सभी तनाव (Depression) और चिंता दूर हो जाते है और इसका हमारे ऊपर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

ध्यान एक ऐसी युक्ति है जो आपको मानसिक और शारीरिक तौर पर कई तरह से मदद कर सकता है। यह आपकी याददाश्त को तेज करने, तनाव को कम करने और एक व्यक्ति के रूप में आपको अधिक कुशल एवं प्रफुल्लित बनाने में सहायक होता है।

साथ ही साथ यह क्रोध को आप पर हावी नहीं होने देता। ऐसे और भी कई फायदे होते है नियमित ध्यान या मेडिटेशन करने के।Meditation Kab Aur Kaise Kare और Meditation Kaise Shuru Kare ये एक बहुत ही आवश्यक व महत्वपूर्ण सवाल है, जिसका जवाब हम आपको आगे देने जा रहे है। और रही बात मेडिटेशन कैसे किया जाता है या Meditation Kaise Kare in Hindi की, तो वो भी हम आपको इसी लेख में बता रहे है।

 

Meditation क्या है – What is Meditation

 

Meditation जिसे हिंदी भाषा में ध्यान कहते है हर व्यक्ति के लिए इसकी परिभाषा अगल-अलग हो सकती है अगर हम आपको बिलकुल सरल शब्दों में बताये तो meditation एक ऐसी प्रकिया है जो आपके गतिशिल मन और इच्छाओ पर नियंत्रण करना सिखाता है और साथ ही हर व्यक्ति के अंदर की असीम शक्तियों को पहचाने में मद्त करता है। हर इंसान के अंदर कुछ ऐसी शक्तियां होती है जो उसके पूरे जीवन को बदल कर रख सकती है लेक़िन वह इस सांसारिक जीवन की भाग दौड़ में इस तरह भागें जाते है कि वह अपने आप को पूरी तरह से नही पहचान पता की उसके जीवन का उद्देश्य क्या है ?

Meditation बिलकुल उसी तरह काम करता है जैसे आप रात को सोने के बाद सुबह को अपने आपको शांत और एनर्जी से भरा हुआ महूसस करते है। परन्तु मैडिटेशन का मतलब सोना नही है बल्कि यह एक ऐसी अवस्था होती है जो आपके जाग्रित होते हुए आपके दिमाख में चलने वाले विचारों को शून्य कर देता है और आपके वास्तविक रूप से अवगत कराता है।

ओसो कहते है कि Meditation मानवता के लिए एक वरदान की तरह है क्योकि Meditation से हम उन्ह बीमारियों का भी इलाज़ कर सकते है जिनका इलाज़ अभी तक संभव नहीं है। शुरुवाती दिनों में Meditation करना थोड़ा कठिन होता है इसलिए इसके लिए आपको प्रतिदिन अभ्यास की आवस्यकता होती है ध्यान या meditation करने के हमारे शरीर को अनगिनित लाभ प्राप्त होते है और शरीर में नई ऊर्जा का संचार होता है तो चलिए जानते है कि ध्यान या फिर meditation कैसे करते है।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

ध्यान क्या हैं – What is Meditation

 

मेडिटेशन का मतलब होता ध्यान लगाना, ध्यान को केंद्रित करना। ध्‍यान एक ऐसी पुरातन भारतीय पद्धति जो आपके मन और मस्तिष्‍क को शांत और एकाग्रचित्‍त बनाने में मदद करती है। अकसर हमारे मन किसी ना किसी कारण एक जगह पर नही लगता हैं और मन मे अकबकाहट सी रहती हैं, जिस कारण हम अपने लक्ष्य के प्रति सही तरह से कार्य नही कर पाते। ऐसे मे मेडिटेशन से आप अपने मन को जीत सकते हैं और मन मे शांति बनाए रख सकते हैं।

मेडिटेशन का मुख्या उद्देश् है अपने मन को शांत करना और धीरे धीरे अपनी अंदुरूनी मन की शांत को उचा स्थान पर ले जाना। शांत और एकाग्रचित्‍त व्‍यक्ति अपने लक्ष्‍य को आसानी से हासिल कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि ध्‍यान केवल किसी आश्रम या शांत स्‍थल पर ही किया जा सकता है। लेकिन, यदि आपको अभ्‍यास हो, तो आप घर पर ही ध्‍यान कर सकते हैं।

 

Meditation Kaise Kare

 

ध्यान (Meditation) करने का सबसे सही वक्त होता है अमृतावेला, यानी सुबह 4-5 बजे का समय और नुमाशम, यानि शाम के 6-7 बजे का समय, क्योंकि इस वक्त चारो तरफ शांति रहती है और हमारा मन भी शांत रहता है। ध्यान शुरू करना एक अच्छा फैसला है लेकिन इसे करने के कुछ नियम होते है जैसे- शुरुआत में आपको लंबे समय तक मेडिटेशन से बचना चाहिए, ​भोजन के बाद मेडिटेशन न करें,​ जागरूक और सक्रिय रहें, एवं ​हमेशा खुले वातावरण में ध्यान करें आदि।

ध्यान करने के लिए या मेडिटेशन कैसे करें हिंदी में जानने के लिए निचे बताये गए बिंदुओं को ध्यानपूर्वक पढ़े –

 

1. Meditation के लिए शांत व खुले स्थान का चुनाव करें।Peace Place for Meditation

 

Meditation किसी शांत एवं खुले जगह पर ही सबसे अच्छे से हो सकती है। इसलिए ऐसी जगह का चयन करें, जहाँ किसी भी तरह का शोर ना हो। शांतिपूर्ण वातावरण ध्यान के अनुभव और अधिक आनंदमय बनाता है जिससे आप ऐसा अनुभव करते है जैसे आप किसी और ही दुनिया में हो। इसके अलावा अपने चारों ओर बहने वाली शुद्ध ठंडी हवा और पक्षियों के चहचहाट की मधुर आवाज आपके मन में एक अद्भुत ऊर्जा, शांति और प्रेम का रस घोल देती है।

 

2. सही समय का चुनाव करें।Choose Right Time For Meditation

 

Meditation करने का वैसे तो कोई नियमित समय नहीं होता, पर अगर भौर और शाम को मेडिटेशन किया जाए, तो ध्यान ज्यादा अच्छे से लगता है। यदि आप भौर या शाम को मैडिटेशन करते है तो आपको शांतिपूर्ण वातावरण मिलता है जिससे आपका मन एकाग्रचित रहता है।

 

3. कुछ देर शांत और सीधा रहने का अभ्यास करें।staying calm and upright for some time

 

अब अपनी आँखें बंद करके शांति में बैठे। मैडिटेशन करते वक़्त आप एक आरामदायक मुद्रा (Comfortable Posture) में बैठिये, ताकि आपको अधिक समय तक बैठने में परेशानी ना हो। हांलांकि रोजाना ध्यान पर बैठने से धीरे-धीरे आपका ध्यान पर बैठने का समय भी बढ़ता जायेगा।

4. अब धीरे-धीरे गहरी लंबी सांस ले।slowly take deep long breaths

 

शुरुआत में आपका मन इधर-उधर जाता है ऐसे में धीरे-धीरे गहरी साँस ले और मन को एकाग्रचित रखने का प्रयास करें। आहिस्ता-आहिस्ता आपका मन शांत और आपको शारीरिक आराम (Body Relax) मिलता जायेगा। और फिर आप अपने मन और मस्तिष्क को दोनों आँखों के बिच नियंत्रित कर पाएंगे।

 

Meditation क्या है? Meditation कैसे करे और उसके फायदें?
TEJWIKI.IN

 

 

5. अब अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करें।focus on your breath

 

श्वास लें और छोड़ें के पैटर्न को ध्यान में रखते हुए अपना ध्यान सांस पर केंद्रित करें। आपको अपना पूरा ध्यान दोनों आँखों के बिच में केंद्रित करके रखना है। गहरी सांस लेना और छोड़ना नाड़ी शोधन प्राणायाम होता है जिससे साँस की लय स्थिर हो जाती है और मन शांतिपूर्ण एवं एकाग्रचित होकर ध्यान अवस्था में चला जाता है।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

 

6. चेहरे पर मुस्कराहट रखें।Keep-Smile-on-Your-Face

 

मेडिटेशन के अनुभव को और अच्छा बनाने के लिए चेहरे पर सौम्य मुस्कान जरूर रखे। इसकी विधि पूरी होने के बाद आंखों को आराम से धीरे-धीरे खोले और मन में शांति का अनुभव महसूस करे। निरंतर सौम्य मुस्कान से आप आंतरिक रूप से आराम और शांतिपूर्ण महसूस करेंगे, जिससे रोजाना आपके ध्यान का अनुभव और गहरा होता जाता है।

Pregnancy Me Meditation Kaise Kare, Deep और Mindfulness Meditation Kaise Kare, इन सभी सवालों का जवाब एक यही है। रही बात Third Eye और Om Shanti Meditation Kaise Kare, तो इसके लिए आपको एक शांत जगह ढूंढ़कर बिलकुल Relax होकर बैठना है और अपना ध्यान अपनी आँखों के बीच में लगाना है और धीरे-धीरे सभी Thoughts को अपने मस्तिष्क से निकालते जाना है।

आप चाहे तो सोते हुए भी ध्यान लगा सकते है। Sote Hue Meditation Kaise Kare इसका तरीका है किसी शांत जगह पर लेट जाइए, अपनी आँखें बंद कीजिए और धीरे-धीरे सांस ले। गहराई से सांस लें और छोड़ें। इस बीच अगर आपके मन में किसी भी तरह का ख़याल आता है तो अपना ध्यान अपने स्वास पर केंद्रित कर ले। मैडिटेशन करते-करते ही आप सो जाएंगे।

 

Meditation Ke Prakar

 

Meditation कई तरह से किया जा सकता है। आप घर पर बैठकर भी मेडिटेशन कर सकते है, सोते हुए भी कर सकते है और चलते-चलते भी कर सकते है। मेडिटेशन के 5 मुख्य प्रकार इस तरह है –

Deep Meditation: डीप मेडिटेशन का अर्थ है कि आपका मन जागरूकता की सतह से सुक्ष्म जागरूकता को होते हुए, अंतः बिना किसी जागरूकता की स्तिथि में चला जाएगा। आपका मन हज़ारो विचारों को पीछे छोड़ते हुए बिलकुल गहराई तक पहुंच जाएगा जहाँ किसी भी तरह का कोई विचार उस तक नहीं पहुंच सकेगा।

Third Eye Meditation: तृतीय नेत्र ध्यान आपके मन को एकाग्र करने में सबसे अधिक फायदेमंद है। इसमें आपको अपना ध्यान अपने Eyebrows के बीच स्तिथ तीसरे नेत्र पर लगाना होता है और धीरे-धीरे अपनी सांसों की गति को समझना पड़ता है।

Mindfulness Meditation: माइंडफुलनेस मेडिटेशन में आप अपने विचारों पर या अपने श्वास पर अपना ध्यान क्रेंद्रित करते है,और उनको Observe करते है। इससे आपकी एकाग्रता शक्ति में वृद्धि होती है और इसे आप कभी भी और कहीं भी Practice कर सकते है।

Om Shanti Meditation: ॐ शांति मेडिटेशन में आपको अपना ध्यान एक Point Of Light पर केंद्रित करना होता है और धीरे-धीरे अपनी सभी चिंताओं को मस्तिष्क से हटाते जाना होता है। इससे शरीर को बहुत ठंडक पहुँचती है।

Mantra Meditation: मंत्र मेडिटेशन में आपका ध्यान एक शब्द या ध्वनि पर केंद्रित होता है, जैसे – ‘ॐ‘। इस शब्द का उच्चारण करते-करते आपका ध्यान पूरी तरह से आपके वातावरण में लीन हो जाता है। यह आपके जागरूकता को गहराई तक अनुभव करने की क्षमता को बढ़ाता है।

Meditation और ध्यान के लिए ज़रूरी सुझाव 

 

1. मैडिटेशन के लिए शांत वातावरण का स्थान चुनें ताकि बाहरी ध्वनियों से आपका ध्यान न भटकें।

2. मैडिटेशन के लिए सुबह का समय सबसे अच्छा माना जाता है।

3. मैडिटेशन के लिए ऐसी सुविधाजनक अवस्था में बैठे जिसे आप लंबे समय तक बिना हिले-डुले रह सके।

4. मैडिटेशन करने से पहले भोजन न करे ऐसा करने से आपको नींद आने लगती है और न ही ख़ाली पेट करें इसे मन में खाने के विचार उत्तपन होते है इसलिए 1 से 2 घण्टे बाद ही meditation करें।

5. मैडिटेशन के दौरान अपने चेहरे पर हल्की सी स्माइल रखें।

6. मैडिटेशन के दौरान धीरे-धीरे लम्बी और गहरी सांस ले ताकि मासपेशियां शांत हो जायें।

 

रोज कितनी देर मेडिटेशन करना चाहिए? (How Long Should One Meditate Daily)

ऐसा कोई तय समय नहीं है जो बताया जा सके कि एक व्‍यक्ति को रोज कितनी देर ध्‍यान करना चाहिए। मेडिटेशन करते वक्‍त इस बात का ध्‍यान रखें कि आप रोज एक सामन ही मेडिटेशन को समय दें। उदाहरण के लिए अगर आप 1 दिन 20 मिनट मेडिटेशन करते हैं तो अगले दिन भी आपको इतनी ही देर करना चाहिए। हां, 5-7 मिनट अगर आगे-पीछे हो तो उससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। साथ ही मेडिटेशन करते वक्‍त सही पोस्चर को फॉलो करें। गलत पोस्चर में मेडिटेशन का अभ्यास करने से प्रॉब्‍लम हो सकती है।

 

Meditation करने के फायदें

यहां हम आपको बता दे की मैडिटेशन करने के अनगिनत लाभ होते है इसे मानसिक रूप से लाभ होने के साथ शारीरिक रूप से भी बहुत ज्यादा फ़ायदा होता है meditation से होने वाले प्रमुख लाभ

1. यह आपके मस्तिक को शांति प्रदान करता है।

2. यह आपके सोचने की शक्ति में विर्द्धि करता है।

3. यह आपकी मानसिक एकाग्रता को बढ़ाता है।

4. यह मानसिक और शारीरिक रूप से विकसित करता है।

5. यह आपके ग़ुसेले व्यहवार को शांत करता है।

6. यह आपके सिर दर्द , नीद न आना, व्यकुल मानसिक स्थिति को राहत पहुचता है।

7. मैडिटेशन से आपके अंदर ऊर्जा का संचार बढ़ जाता है।

8. मैडिटेशन से जीवन के हर पल के आनंद अनुभव किया जा सकता है।

9. मैडिटेशन से आप अपने दिमाख और इच्छाओ पर नियंत्रण प्राप्त कर पाते है।

10. मैडिटेशन से आपके व्यक्तित्व का विकास होता है।

11. मैडिटेशन करने से आपके अंदर ख़ुशी पैदा होने लगती है।

12. मैडिटेशन करने से आपके अंदर धैर्य रखने की क्षमता में विर्द्धि होती है।

13. मैडिटेशन करने से आपके अंदर आत्मविश्वास बढ़ता है।

14. मैडिटेशन से आपके शारीरिक स्वास्थ्य में लाभ मिलता है।

Meditation क्या है और कैसे करते है इस बात से अधिकतर लोगों अंजान होते है परंतु कई आधात्मिक गुरुओ का माना है कि मैडिटेशन मनुष्य के लिए एक वरदान के समान है और मैडिटेशन यानि ध्यान करने से बहुत सारे लोगों ने माना है कि उनकी ज़िंदगी में बदलाव आये है।

 

 

Meditation Kaise Kare पर आधारित FAQs

 

ध्यान में क्या-क्या अनुभव होते हैं?

जब आप Meditation का अभ्यास करते हैं, तो आपको कुछ विशेष अनुभव होते हैं, जैसे:

1. मन में आंतरिक ऊर्जा का एहसास होना
2. आनंद का एहसास होना
3. Meditation के अभ्यास के दौरान सांसो की गति धीमी होना
4. ध्यान करने पर नकारात्मक विचारों में कमी आना
5. आंखों का आपस में चिपकना
6. मन में तेज प्रकाश का ऐसा होना
7. शारीरिक बदलाव आना
8. प्रेरणा पाना
9. शांति का अहसास होना
10. सकारात्मक ऊर्जा का एहसास होना

ध्यान क्यों करते हैं?

वैसे तो ध्यान का अभ्यास बहुत सारे कारणों से किया जाता है, लेकिन ज्यादातर लोग ध्यान का अभ्यास अपने मन के विचारों को नियंत्रित करने के लिए तथा तनाव से मुक्त होने और शांति प्राप्त करने के लिए करते हैं।

ध्यान (Meditation) के प्रकार क्या है?

आमतौर पर लगभग सभी प्रकार के ध्यान का मकसद सिर्फ एक ही होता है, जो कि अपने मन को किसी एक चीज पर स्थिर करना है। वैसे तो ध्यान के बहुत से प्रकार होते हैं, लेकिन मुख्य रूप से 7 प्रकार के ध्यान जो कि नीचे सूचीबद्ध किए गए हैं, वे बहुत ही फायदेमंद होते हैं।

1. माइंडफूलनेस ध्यान (Mindfulness Meditation)
2. दृश्य ध्यान (Visualization Meditation)
3. Transcendental Meditation
4. आध्यात्मिक ध्यान (Spiritual Meditation)
5. Movement Meditation
6. Focused Meditation
7. मंत्र ध्यान (Mantra Meditation)

क्या समूह में Meditation करना स्वयं अभ्यास करने से बेहतर है?

यहां पर इस बात का ध्यान देना चाहिए, कि दोनों ही प्रकार के ध्यान अभ्यास समान हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है; कि आपको किसमें ज्यादा अच्छा अनुभव मिलता है। जब आप समूह के साथ Meditation का अभ्यास करते हैं, तो यह Meditation में सहायक होता है। जब आप अकेले Meditation अभ्यास करते हैं तो यह आपको अनुशासित बनाता है।

सांसों पर ध्यान कैसे लगाएं?

अक्सर जब कोई नया व्यक्ति Meditation का अभ्यास करता है तो उसके सामने सबसे बड़ी समस्या हो यह होती है, कि उसका मन ध्यान के दौरान इधर-उधर विचलित होने लगता है।

इसके लिए आप अपने मन को अपने नाक के पास लाकर अपनी सांसो को महसूस करें और अगर मन भटक जाए, तो पुनः उसी पर लाएं। अब आप यह प्रक्रिया बार-बार करेंगे तो एक समय आएगा जब आपका ध्यान स्वतः ही आपकी सांसो पर केंद्रित हो जाएगा।

भगवान का ध्यान कैसे लगाएं?

भगवान का ध्यान लगाने के लिए आप Meditation के दौरान किसी प्रकार का मंत्र जैसे ॐ (ओम) का जाप कर सकते हैं। इस दौरान आप अपने मन में भगवान का स्मरण कर सकते हैं।

ध्यान की शुरुआत कैसे करें?

ध्यान का अभ्यास आप स्ट्रेचिंग के साथ कर सकते हैं। स्ट्रेचिंग करने के बाद आप एक आरामदायक स्थिति में बैठकर और अपनी आंखों को बंद करके किसी भी चीज पर अपने मन को फोकस करें। इससे आपके मन की ध्यान करने की शक्ति बढ़ेगी।

ध्यान का हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है?

ध्यान का हमारे जीवन पर बहुत ही लाभदायक तथा परिवर्तनकारी प्रभाव पड़ता है। जो व्यक्ति प्रतिदिन ध्यान का अभ्यास करता है; उसे तनाव से मुक्ति पाने, नकारात्मक विचारों को अपने मन से दूर रखने, समाज में उच्च व्यक्तित्व के साथ रहने, अन्य लोगों के साथ अच्छा भावनात्मक संबंध बनाने आदि में आसानी होती है।

क्या ध्यान करते समय सांस तेज, धीमी या बीच (मध्यम सांस) लेनी चाहिए?

ध्यान करते वक्त उसी गति से सांस लें, जिस प्रकार से आप को सहज महसूस हो, न तो सांस पर बहुत अधिक तेजी से लेना चाहिए और न ही बहुत ही धीमी गति से। मेरा मतलब है कि ध्यान करते वक्त नॉर्मल रूप से ही सांस लेना चाहिए।

ध्यान केंद्रित करने के लिए क्या करें?

जब आप ध्यान का अभ्यास करने लगते हैं, तो आपका मन इधर-उधर विचलित होने लगता है। Meditation करते वक्त मन के इस विचलन से बचने के लिए हमेशा शांत जगह का चुनाव करें। अगर आप तनाव में हैं, तो अपने सामने किसी वस्तु को रख लें और उसे ध्यानपूर्वक देखें। इसके अलावा सही ध्यान मुद्रा का चुनाव करें और फिर उसके बाद आंख बंद करके अपने मन के विचारों को अपनी सांस पर केंद्रित करें, इस प्रकार आप अपने मन को ध्यान पर केंद्रित कर सकते हैं।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख  Meditation क्या है? Meditation कैसे करे और उसके फायदें? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Meditation क्या है? Meditation कैसे करे और उसके फायदें?

 

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

 

Leave a Comment