मोबाइल का आविष्कार किसने किया? मोबाइल का फुल फॉर्म क्या है?

दोस्तों मोबाइल का आविष्कार किसने वैज्ञानिक ने किया था? आज के समय मे आप सबसे बड़ा नशा किस चीज को मानेंगे? एल्कोहोल, सिगरेट, चाय? मैं कहूंगा स्मार्टफोन! आज की नई पीढ़ी क्रिकेट नही बल्कि स्मार्टफोन में हैवी ग्राफिक्स वाले गेम खेलती हैं. फ़ोन के आविष्कार को पॉजिटिव और नेगेटिव, दोनों ही तरीके से लिया जा सकता हैं. लेकिन फ़ोन के आविष्कार ने जैसे दुनिया को बहुत छोटा और आसान बना दिया हैं.

अगर आपके पास एक फोन और उसमें इंटरनेट है तो आप पूरी दुनिया की खबरों से अपडेटेड रह सकते हैं और अपने दोस्तों व रिश्तेदारों के साथ जुड़े रह सकते हैं. आज के स्मार्टफोन्स से न केवल कॉल्स और SMS किये जा सकते हैं बल्कि इंटरनेट के जरिये सोशल मीडिया जैसे माध्यमो से हम लोगो से जुड़े रह सकते हैं.

स्मार्टफोन इंडस्ट्री काफी तेजी से आगे बढ़ रही हैं. आज के समय मे हमें काफी कम कीमत में काफी एडवांस और बेहतरीन स्मार्टफोन मिल जाते हैं. लेकिन क्या आपको याद हैं कि दुनिया के पहले मोबाइल फ़ोन की कीमत 2 लाख से भी ज्यादा थी जिससे एक बार चार्ज करने पर केवल 30 मिनट बात की जा सकती थी.

स्मार्टफोन के आविष्कार में आज उन कामो को सामान्य बना दिया है जिनजे बारे में शायद आज से 20 साल पहले किसी ने सोचा भी नही होगा. अगर आपके पास स्मार्टफोन है तो ना आपको घड़ी रखने की जरूरत है और ना ही वॉलेट! इसके अलावा और ना जाने कितने काम हमारा फ़ोन ही कर देता हैं.

हम सभी रोजाना कई घंटे अपने स्मार्टफोन पर बिताते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि फोन का आविष्कार किसने किया और फोन का आविष्कार कब हुआ? अगर नहीं, तो यह लेख पूरा पढ़िए. इस लेख में हमने दुनिया के पहले फ़ोन के आविष्कार के विषय पर बात की हैं.

 

मोबाइल का आविष्कार किसने किया? मोबाइल का फुल फॉर्म क्या है?
TEJWIKI.IN

 

मोबाइल MOBILE का फुल फॉर्म क्या है? (What is the full form of MOBILE MOBILE)

 

हम आप को बता दे कि MOBILE का फुल फॉर्म मॉडिफाइड ऑपरेशन बाइट इंटीग्रेशन लिमिटेड एनर्जी है

M – मॉडिफाइड
O – ऑपरेशन
B – बाइट
I – इंटीग्रेशन
L – लिमिटेड
E – एनर्जी

 

मोबाइल फ़ोन को हिंदी में क्या कहते है? (What is mobile phone called in Hindi)

 

मोबाइल फ़ोन को हिंदी में दुरभाषाक यन्त्र कहते है।

 

मोबाइल का आविष्कार किसने किया (who invented mobile)

 

दुनिया का सबसे पहला मोबाइल फ़ोन बनाया गया अमेरिकन इंजीनियर मार्टिन कूपर ने 3 अप्रैल, साल 1973 में किया। इससे पहले काफी फ़ोन का निर्माण हुआ लेकिन यह रेडियो और कार फ़ोन थे जो ज्यादा तर आर्मी में इस्तेमाल किये जाते थे। इस मोबाइल का आविष्कार मार्टिन कूपर ने मोटोरोला कंपनी के साथ मिलकर बनाया था। इस पहले फ़ोन का नाम रखा गया DYNA TAC 8000x। इस अविष्कार के बाद मोटोरोला कंपनी ने उन्हें अपने कंपनी का सीईओ बनाया।

 

 

DYNA TAC 8000X फ़ोन एक सेलुलर फ़ोन था जिसमे कोई डिस्प्ले नहीं था, इसमें कालिंग और मस्सागिंग करने की विशेषता थी। इस फ़ोन में बैटरी बैकअप लगभग 6 घंटे की थी, लेकिन चार्जिंग करने के लिए करीबन 10 घंटे लग जाते थे और टॉक टाइम भी सिम्मित समय के लिए ही थी। उस समय इस फ़ोन की कीमत रखी गयी थी 4000$। यह फ़ोन को मार्किट में साल 1983 में लाइ गई थी।

 

दुनिया के पहले फोन का आविष्कार कब हुआ? (When was the world’s first phone invented)

 

सन 1876 में एलेग्जेंडर ग्राहम बेल ने टेलीफोन का आविष्कार किया था. Guglielmo Marconi ने 1890 के दशक में वायरलेस टेक्नोलॉजी को सिद्धांतो के साथ इंट्रोड्यूस किया था. इसके बाद दोनों ही क्षेत्रों में कई विद्वान काम करने लगे.

इनमें से कुछ ऐसे भी थे जो इन दोनों तकनीकी को मिलाकर एक ऐसा यंत्र बनाना चाहते थे जिससे बिना किसी केबल के दो या दो से अधिक व्यक्ति आपस में बात कर सकें. वायरलेस तकनीकी में रुचि रखने वाले मार्टिन कूपर ने 1970 में मोटोरोला कम्पनी को एक इंजीनियर के तौर ओर जॉइन किया और साल 1973 में उन्होंने पहले फोन का आविष्कार किया. एक ध्यान देने वाली और रोचक बात यह भी हैं की दुनिया का पहला फ़ोन मोटोरोला का था.

 

मोबाइल फ़ोन का इतिहास (mobile phone history)

 

साल 1973 में मोटोरोला कंपनी और मार्टिन कूपर ने मिलकर पहला सेलुलर फ़ोन निर्माण किया , यह फ़ोन एक कीपैड फ़ोन था जिसके ऊपर एक ऐन्टेना लगा हुआ था।

साल 1983 में इस मोबाइल फ़ोन में कई बदलाव लाकर इसे अमेरिका के मार्किट में लांच किया गया और इस फ़ोन का वजन था 2 पौंड और हाइट 9 इनचेस था।

साल 1979 में , पहला ऑटोमेटेड सेलुलर नेटवर्क जापान में शुरू किया गया और इसी को हम फर्स्ट जनरेशन 1 G नेटवर्क रखा गया ।

साल 1991 में पहला सिम कार्ड बनाया गया गैसेकि और देवरिएंट नामक इंजिनीर्स ने मुनिच कार्ड मेकर के एक नेटवर्क कंपनी के लिए बनाया था। साल 1991 में 2G नेटवर्क फ़िनलैंड शहर के रदिओलिंजा कंपनी ने बनाया था।

साल 1993 में IBM कंपनी ने पहला स्मार्टफोन बनाई और इसका नाम IBM SIMON रखा गया। यह एक स्मार्टफोन था जिसमे फैक्स मशीन, कैलेंडर , एड्रेस बुक , एप्प्स , ईमेल , कैलकुलेटर सेवाए दी गई।

साल 1996 में , मोटोरोला ने स्टार टैक् नामक मोबाइल आम जनता के लिए बनाई।

साल 1997 में पहले कैमरा वाला फ़ोन बनाया गया फिलिप्पे कहन ने जो की काफी चर्चित हुआ।

साल 1999 में Nokia ने IBM साइमन मोबाइल के सामने अपनी स्मार्टफोन Nokia 9000 मोबाइल बनाई गई साल 1999 में , पहली बार इंटरनेट की शुरुवात हुई NTT डोकोमो जापान में किया गया।

साल 2002 में 3G नेटवर्क का निर्माण हुआ और

साल 2008 में 4G नेटवर्क का अविष्कार हुआ। साल 2008 में गूगल कंपनी ने एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम में चलने वाली फोन का निर्माण किया और सबसे पहला एंड्राइड फ़ोन था एंड्राइड स्मार्टफोन एचटीसी।

साल 2007 में, स्टीव जॉब्स ने एप्पल कंपनी में iphone मोबाइल फ़ोन को मार्किट में उतारा और यह फ़ोन साल 2021 में भी काफी महंगी और लोकप्रिय स्मार्टफोन है।

 

भारत में मोबाइल फ़ोन का निवेश कब हुआ (When was mobile phone investment in India)

 

करीबन 23 साल पहले यानी साल 1995 में पश्चिम बंगाल के तत्कालीन मुख्यमंत्री ज्योति बासु ने मोबाइल फ़ोन का सेवन किया। इसके बाद से भारत में मोबाइल फ़ोन उसेर्स की गिनती काफी तेज़ी से बढ़ गई।

सबसे पहला कॉल ज्योति बासु ने कोलकत्ता से कॉल नई दिल्ली के संचार भवन में लगाई। भारत में सबसे पहली कंपनी मोदी टेल्स्ट्रा थी और पहले नेटवर्क का नाम मोबाइल नेट था। मोदी टेल्स्ट्रा एक जॉइंट वेंचर थी भारत की मोदी ग्रुप ऑफ़ कम्पनीज और ऑस्ट्रेलियन कंपनी टेल्स्ट्रा द्वारा बनाई गई थी।

मोबाइल फ़ोन के प्रचलित तथ्य :

दुनिया का सबसे बिकने वाला मोबाइल फ़ोन Nokia फ़ोन थी। इनकी मॉडल Nokia 1100 फ़ोन लगभग 25 करोड़ की बिक्री हुई थी।
Nokia कंपनी का निर्माण फिनलैंड में हुई जहां पर 2G नेटवर्क का निर्माण भी हुआ था।
सबसे ज्यादा फ़ोन पूरी दुनिया में चीन देश निर्माण करता है और यहाँ पर लगभग 90% मोबाइल कम्पनीज की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट चीन में स्थित है ।
आज के समय में लोग स्मार्टफोन्स में व्हाट्सप्प और फेसबुक चलाते है , लगभग 40% लोगो का समय इन एप्प्स के उपयोग में जाता है।
जापान में 90% लोग वाटरप्रूफ फ़ोन का उपयोग करते है और जापान की कंपनियां वाटरप्रूफ मोबाइल्स बनाने में सक्षम है।
साल 2012 में, एप्पल कंपनी ने हर दिन 3 लाख से भी ज्यादा iphones बेचे थे , यानि पुरे साल में लगभग 12 करोड़ से ज्यादा बेचीं गयी।

 

सबसे पहला मोबाइल का नाम क्या था? (What was the name of the first mobile)

 

पूरी दुनिया के पहले मोबाइल का नाम Motorola DynaTAC था जो 9 इंच का था और इसका वजन करीब 2.5 पाउंड यानी 1.1 किलोग्राम था. मार्टिन कोपर के इस आविष्कार के बाद से ही मोबाइल कॉल इंडस्ट्री और टेलीकॉम इंडस्ट्री की शुरुआत होने लगी.

मार्टिन कूपर के द्वारा किए गए इस आविष्कार के बाद एक दशक तक इस पहले मोबाइल फोन की खामियों को दूर करने की कोशिश जारी रही और देश में सेलुलर नेटवर्क को भी बेहतर बनाने पर काम किया जाता रहा. करीब 10 साल बाद 1983 में मोटोरोला ने सामान्य लोगों के लिए मोबाइल फोन बाजार में उतारा जिसका नाम Motorola DynaTAC 8000X था. इस फ़ोन की कीमत 3995 डॉलर यानी कि 2.80 लाख रुपये थी. इस फ़ोन की बैटरी 6 घण्टे तक चलती थी और फ़ोन में 30 लोगो के कॉन्टेक्ट्स तक सेव किये जा सकते थे.

 

मोबाइल फ़ोन का 1G से 5G तक का सफर (The journey of mobile phones from 1G to 5G)

 

1G – इसे फर्स्ट जनरेशन मोबाइल्स कहते है , इस टेक्नोलॉजी में आप सिर्फ कालिंग करके बात कर सकते थे। यह मोबाइल फ़ोन का पहला पड़ाव था जहा पर डाटा ट्रांसफर की तेजी सिर्फ 2.4 किलोबाइट प्रति सेकंड थी।

2G -यह मोबाइल फ़ोन की दूसरी पीढ़ी थी जो पहले पीढ़ी 1G के मुकाबले कुछ बदलाव किये गए थे। इस फ़ोन में आप कालिंग के साथ साथ मेस्सजिंग भी कर सकते है। यह टेक्नोलॉजी फ़िनलैंड शहर में बनाई गई और इस फ़ोन के जरिये एमएमएस भी किया जा सकता था।

3G – इस टेक्नोलॉजी में काफी बदलाव किये गए, यह टेक्नोलॉजी साल 2010 में आई। इस फ़ोन में कालिंग, मस्सागिंग, फोटोज के अलावा वीडियोस भी देख सकते थे। इस टेक्नोलॉजी में अब डाटा ट्रांसफर इंटरनेट की तेजी काफी बढ़ गई थी, इसी से इंटरनेट की दुनिया नए दौर में आ गई।

 

 

4G – यह टेक्नोलॉजी भारत में रिलायंस कंपनी ले आई, यह टेक्नोलॉजी भले ही साल 2010 के बाद आई लेकिन यह टेक्नोलॉजी में इंटरनेट की गति काफी बढ़ गई। इस फ़ोन में इंटरनेट की गति एक गीगाबाइट पर सेकंड हो गई।

5G – यह टेक्नोलॉजी पर काफी रिसर्च किया जा रहा हे , जो लगभग 4G के मुकाबले 20 गुना की डाटा ट्रांसफर संचालित करेगा।

मोबाइल फ़ोन के अब तक कितने प्रकार है
मोबाइल फ़ोन के अब तक तीन प्रकार है – सेल फ़ोन, फीचर फोन और स्मार्टफोन

सेल फ़ोन – यह कीपैड मोबाइल फ़ोन है जिसमे हम कालिंग और मस्सागिंग दोनों कर सकते है। यह फ़ोन का उपयोग इस दौर में काफी कम हो गया है।

फीचर फ़ोन – इस फ़ोन में आपको फ़ोन कालिंग , मस्सागिंग के साथ साथ कैमरा और वीडियोस के फीचर भी मिलेंगे। यह फोन अभी आपको 5000 रूपए के नीचे के रेंज में मिल जाएंगी।

स्मार्टफोन – यह लेटेस्ट मॉडल है जिसमे फीचर फोन के मुकाबले 4 गुना टेक्नोलॉजी अधिक डाली गई है – इस फ़ोन में आपको लाखों एप्प्स मिलेंगे जिसमे आपको लैपटॉप की जैसे सारी फीचर्स मिलेंगी।

 

साल 2021 में सबसे पॉपुलर मोबाइल फ़ोन (Most popular mobile phone in the year 2021)

 

मोबाइल फ़ोन के ऑपरेटिंग सिस्टम के आधार पर एंड्राइड फ़ोन और एप्पल फ़ोन आज के दौर में काफी पॉपुलर है। एंड्राइड फ़ोन में आपको सारे नए टेक्नोलॉजी मिलेगी जैसे स्टोरेज कैपेसिटी, बैटरी बैकअप, अच्छी क्वालिटी फोटोज और वीडियोस, वायरलेस कनेक्शंस आदि। एंड्राइड की सबसे ख़ास बात है की यह मोबाइल फ़ोन आपको 5000 रूपए के ऊपर मिल जाएंगी जो आम जनता के लिए एक वरदान से कम नहीं है। दूसरा फ़ोन है एप्पल फ़ोन जो काफी चर्चित है इसके एडवांस्ड टेक्नोलॉजी के लिए लेकिन यह फ़ोन आपको 25000 रूपए के ऊपर ही मिलेगा।

 

  

Conclusion

 

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख मोबाइल का आविष्कार किसने किया? मोबाइल का फुल फॉर्म क्या है?  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

मोबाइल का आविष्कार किसने किया? मोबाइल का फुल फॉर्म क्या है?

 

Leave a Comment