Server क्या है? यह कार्य कैसे करता है? सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

आज के इस महत्वपूर्ण लेख में आप जानेंगे Server क्या है? और यह कैसे काम करता है? Computer technology में सर्वर शब्द की शुरुवात आज से कई सालों पहले की गई थी. Internet पर सर्वर की भूमिका क्या है और आपको इसके बारे में क्यों जानना चाहिए यह एक बुनियादी सवाल है. कई बार आपने देखा होगा जब हम bank में किसी काम से जाते है, तो वह हमें बोलते है, कि server down है या server error आ रहा है.

तो इसका सीधा मतलब है कि यह एक ऐसा विषय है जो महत्वपूर्ण हो सकता है. खासकर तब जब आप computer science या technology जैसे क्षेत्रों से जुड़े हुवे हो. दूसरा अगर आप खुद की Website host करना चाहते है, तो भी आपको server के बारे में जानकारी लेनी चाहिए. वैसे यह नाम काफी technical word लगता है, परन्तु इसे समझना काफी आसान है.

इस पोस्ट में आपको सर्वर के बारे में पूरी जानकारी दी गयी है, जिसे पढ़कर आप सर्वर क्या है अच्छी तरह से जान जाएंगे. तो चलिए जानते है Server क्या है और यह कितने प्रकार के होते है?

 

Server क्या है? यह कार्य कैसे करता है? सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में
TEJWIKI.IN

 

Web Server क्या होता है? (What is Server in Hindi)

 

आखिर सर्वर किसे कहते हैं? Server एक तरह से कंप्यूटर होता है जो दूसरे कम्प्यूटर्स और उपयोगकर्ता को सेवा प्रदान करता है. यह एक Computer हो सकता है या एक hardware device या फिर computer program हो सकता है जिसे computer में load किया जाता है ताकि वो दुसरे computers को data और information भेज सके.

Server का काम है Internet के users को सेवा देना यानि की users को वो सभी जानकारी देना जो वो जानना चाहता है. जैसे हम YouTube में videos देखते हैं या फिर कोई information हम अपने device के web browser में जाकर search करते हैं तो हमे जो भी results अपने device पर देखने को मिलता है वो website या channel का data कहीं ना कहीं पर store हो कर रहता है जो server हमारे request भेजने पर हमें प्रदान करता है.

Google दुनिया का सबसे बड़ा search engine है जहाँ से हम जो चाहे जितने चाहे उतने data हासिल कर सकते हैं तो google हमें ये सभी data अलग अलग websites के servers से लाकर दे देता है. Server एक computer की तरह ही होता है और दुनिया में बहुत सारे अलग अलग क्षमताओं के servers भी मौजूद हैं. एक normal laptop या computer में अगर हम server का program install कर दें तो वो computer भी एक server की तरह काम करेगा, ऐसे server को हम non-dedicated servers भी कहते हैं क्यूंकि ये 24 घंटे चालू रहकर काम करने के लिए नहीं होते.

Non- dedicated servers का इस्तेमाल home, schools, colleges, hospitals, offices इत्यादि जगहों पर किये जाते हैं जिसे हम local network भी कहते हैं. लेकिन कुछ ऐसे computers भी होते हैं जो 24×7 चालू रहते हैं और दुसरे computers को serve करते हैं ऐसे computers को हम dedicated server कहते हैं.

ये computers बहुत ही मेहेंगे होते हैं और इनमे high quality और high speed का processor और RAM लगे हुए होते हैं. Internet की मदद से हम google में जो कुछ भी search करते हैं उसके नतीजे हमें dedicated servers से ही प्राप्त होते हैं.

 

 

Server के प्रकार (Types of Server)

 

सर्वर कई प्रकार अथवा types के होते है. विभिन्न server अलग – अलग काम करते है. website hosting से लेकर internet networks की सुरक्षा और email, video की सेवा तक सभी काम एक सर्वर द्वारा ही किये जाते है. तो चलिए आज इस्तेमाल होने कई प्रकार के सर्वरो के बारे में जानते है.

Web Server: वेब सर्वर क्या है, यह एक server software या Hardware है जो वेबसाइटों को चलाता है. इसे computer program भी कहा जाता है इसका मुख्य कार्य उपयोगकर्ता के लिए web page store, process और deliver करना होता है. इसमे inner communication करने के लिए hypertext transfer protocol (HTTP) का उपयोग होता है. प्रोटोकॉल क्या होते है इसके बारे में हमने पहले ही जानकारी दी हुई है.

Application Server: एप्लिकेशन सर्वर क्या है, यह एक ऐसा program है जो उपयोगकर्ता और संगठन के Back-end business application या database के सभी application संचालन को संभालता है. यह एक ऐसा framework है, जहाँ सभी एप्लिकेशन को विकसित करने और चलाने के लिए एक application server का उपयोग किया जाता है. यह कई प्रकार के होते है जैसे- PHP, Java और .NET framework.

Proxy Server: जिसे आमतौर पर “proxy” भी कहा जाता है. यह user और internet के बीच gateway के रूप में कार्य करता है. जब एक client, proxy server से जुड़ता है और किसी सेवा के लिए अनुरोध करता है. जैसे किसी web-page के लिए तो यह उस अनुरोध को सरल बनाने और उसकी जटिलता को नियंत्रित करने के तरीके का मूल्यांकन करता है. यह network connection sharing, network data filtering और data caching करने के लिए client program और external server के बीच mediator की तरह कार्य करता है.

File Server: मुख्य रूप से किसी network के भीतर file store करने के लिए जगह प्रदान करता है. ये files कुछ भी हो सकती है. text document से लेकर multimedia, photos तक server model में एक file server को computer ही कहा जाता है. क्योंकि यह data files को store और manage करने के लिए जिम्मेदार होता है. इसकी एक ही network के अन्य कंप्यूटरों की फाइलों तक पहुंच होती है.

Database Server: एक computer system है जिसका कार्य database से data को access करने और पुनः प्राप्त करने से सम्बंधित सेवाएं प्रदान करना होता है. यह warehouse के समान है, जहां website का data और information को store और maintain करके रखा जाता है.

Mail Server: जैसा नाम से ही पता चलता है यह ऐसा server है, जो internet में एक network पर email को संभालता है और deliver करता है. Mail server को mail server transfer agent (MTA) या internet mailer भी कहा जाता है. हर email जो हमारे द्वारा भेजा जाता है वह मेल सर्वर की एक श्रंखला से होकर गुजरता है. जब आप कोई email send करते है, तो यह तुरंत दूसरे तक पहुंच जाता है. परन्तु वास्तविकता यह है कि mail transfer की एक जटिल परिक्रिया होती है.

FTP Server: इसका पूरा नाम File transfer protocol है, जिसका कार्य online file transfer करना होता है. जब आप web browser पर किसी web-page का अनुरोध करते है, तो ब्राउज़र इसी protocol का इस्तेमाल करता है आपके समक्ष उस फाइल को लाने में. FTP दुनिया के किसी भी computer में files transfer करने का एक तरीका है, जो इंटरनेट से जुड़ा हुवा है.

 

Server की आवश्यकता क्यों है?

 

सर्वर एक ऐसा शब्द है, जो computer क्षेत्र में हमेशा सुनाई देता है “Server” नाम को शब्द Serve से लिया गया है जिसका हिंदी अर्थ परोसनेवाला होता है. वास्तव में यह उपयोगकर्ता के अनुरोध पर उसके लिए web page को serve करता है. यह सवाल कि server की आवश्यकता क्यों है आपको सर्वर को समझने में काफी सहायता करेगा.

मान लीजिये आप कोई Online website बनाना चाहते है, तो आपको उसे store करने के लिए ऐसी जगह की आवश्यकता होगी जो internet network से जुड़ा हुवा हो. इसी जगह को नाम दिया गया है Server और सभी वेबसाइट किसी न किसी तरह के सर्वर का उपयोग करती है.

 

 

तो चलिए कुछ ऐसे बिंदुओं पर नजर डालते है जो server की आवश्यकता अथवा need को दर्शाते हैं.

1) एक Server हमे Network security प्रदान करता है. किसी वेबसाइट के उप्पर जब आप individual या group account बनाते है, तो आपका data उस वेबसाइट के file server में store हो जाता है. इन सर्वर को यह अधिकार होता है कि उस डाटा को किसी दूसरे उपयोगकर्ता की पहुँच से दूर रखा जाये.

2) सर्वर हमेशा 24×7 चालू रहते है. अगर hardware fail भी हो जाए उस स्थिति में भी यह server सेवाये देते है. अगर आप एक personal computer की बात करे तो बिजली चले जाने पर उसका सर्वर automatically shut down हो जाता है. जिससे आपका data खो सकता है, परन्तु server कई power supply से लैस होते है. इसी वजह से एक power supply बंद हो जाने पर इसका असर normal system operation को प्रभावित नही करता है.

3) सर्वर data lose या काम मे रुकावट को रोकने के लिए PC में इस्तेमाल होने वाली solitary hard disk के बजाए RAID Configuration में काम करने वाली कई hard drive का उपयोग करता है इसी कारण सर्वर में higher storage capacity होती है.

4) Server हमे network पर file store और कई computer तक पहुँच प्रदान करने की सुविधा देता है. सर्वर को नेटवर्क में उपयोग किया जाने वाला computer भी कहते है. Server में आमतौर पर client computer की तुलना में अधिक memory, storage और processing power होती है.

 

Server कार्य कैसे करता है?

 

उदहारण के तौर पर मै आपको बताती हूँ जैसे की मान लीजिये आपको YouTube पे एक video देखना है तो आप ने YouTube के search box में उस video का नाम लिखा और search किया।

तो ये एक request के रूप में उत्पन्न हो जाता है और ये request internet के जरिये YouTube के server पर चला जाता है जहाँ उसका सारा data store हो कर रहता है.

वहां पर server आपके द्वारा request किये गए video को ढूँढ कर उसका data आपके device पर भेज देता है जिसके वजह से आप वो video देख पाते हैं. Internet से हम जितने भी काम करते हैं जैसे कोई file download करते हैं, browsing करते हैं, mail भेजते हैं, social networking sites का इस्तेमाल करते हैं इसके अलावा हम जितने भी काम करते हैं उन सभी चीजों में server हमारी मदद करता है और हम तक data पहुंचाता है.

 

Server Down कैसे होता है?

 

जब भी कोई वेबसाइट हमलोग विजिट करते है तो आपने देखा होगा की वो साइट जल्दी ओपन नहीं होती और कभी कभी ओपन ही नहीं होती तो हमलोग बोलते है की सर्वर डाउन हो गया है तो ये कैसे होता है चलिए हम आपको बताते है इसका मतलब ये है की जो भी वेबसाइट हम विजिट कर रहे है उस कंप्यूटर के सर्वर तक उसकी रिक्वेस्ट गयी और मान लो उस कंप्यूटर में हार्डवेयर कम है जिसमे हमे हैवी सॉफ्टवेयर चलाना है जैसे वीडियो एडिटिंग करना है जैसे कोई हैवी काम करना है

हमारे लोकल कंप्यूटर में तो हमको इसमें RAM बढ़ाना पड़ेगा प्रोसेसर बढ़ाना पड़ेगा तभी वो सॉफ्टवेयर हमलोग चला पाएंगे ऐसी ही कुछ सर्वर होते है जो सॉफ्टवेयर पर रखते है जैसे Apache Server या FTP Server है जो की वेब सर्विस प्रोवाइड करती है उसी तरह किसी वेबसाइट का सर्वर है जो हम विजिट कर रहे है कसी वेबसाइट का नाम तो सर्वर ही लाकर हमे दे रहा मान लो उस सर्वर का RAM या प्रोसेसर कम है और वो वेबसाइट एक ही टाइम पर बहुत ज्यादा लोग विजिट करते है तो Server Down हो जाता है |

 

Home Server क्या है इसके लाभ 

 

➡️ यह एक computer है जो home network में server की तरह कार्य करता है. यह वास्तविक computer system को दिया जाने वाला विशिष्ट नाम भी है. अब क्योंकि यह हमारे घर मे स्थित होता है इसीलिए यह home network या Internet के माध्यम से घर के अंदर या बाहर अन्य devices को सेवाएं प्रदान करता है.

➡️ घर मे server set करने के कई कारण है. इसमे से एक है कि आपको अपनी खुद की website host करने के लिए कोई web hosting नही खरीदनी पड़ेगी. इसे आप खुद के system में host कर पाएंगे. ऐसे ही कुछ और कारण है जिनके बारे में बात करते है.

➡️ खुद के सर्वर का पहला benefit यह कि आप अपनी movies, photos, songs को इसमे store और organize कर पाएंगे. कुल मिलाकर home server आपकी media files को रखने के लिए एक space provide करता है.

➡️ यह हमेशा 24×7 चालू या ON रहता है. सामान्य desktop या laptop की तुलना में यह immediate action के लिए तैयार रहता है.

➡️ इसमे आप अपने document और अन्य files का backup ले सकते है और उन्हें सुरक्षित रख सकते है.

➡️ Home server की मदद से आप automation device जैसे – lighting system, watering system, heating cooling इत्यादि को नियंत्रित कर सकते है.

➡️ एक desktop की तुलना में server में अधिक powerful processor होते है. वे कई processor, cores और threads का उपयोग करते है.

 

FAQ – Frequently Asked Questions (अक्सर पूछे जाने वाले सवाल)

 

1. Server क्या होता है?

A. Server एक तरह से कंप्यूटर होता है जो दूसरे कम्प्यूटर्स और उपयोगकर्ता को सेवा प्रदान करता है. Server एक कंप्यूटर प्रोग्राम या फिर डिवाइस भी होते हैं जो सेवा देती हैं.

2. FTP क्या है?

A. FTP एक client प्रोग्राम या internet protocol होता है, जिसमे TCP/IP कनेक्शन के माध्यम से दो अलग अलग कम्प्यूटर्स के बीच फाइल्स या डाटा का आदान प्रदान होता है.

3. FTP का फुल फॉर्म क्या है?

A. FTP का फुल फॉर्म File Transfer Protocol होता है.

4.  FTP client को server से कैसे कनेक्ट करते हैं?

A. किसी वेबसाइट से डाटा को ट्रांसफर करने के लिए FTP client का प्रयोग करते हैं. इंटरनेट में फ्री में बहुत सारे FTP client सॉफ्टवेयर उपलब्ध हैं. सर्वर के IP address के जरिये server से कनेक्शन करने के बाद इसका इस्तेमाल कर के डाटा आदान प्रदान कर सकते हैं.

कुछ FTP client सॉफ्टवेयर के उदाहरण

  • Cyberduck
  • Filezilla
  • FireFTP
  • WinSCP
  • Transmit

5. SMTP  क्या है ?

A SMTP एक इंटरनेट स्टैण्डर्ड होता है जिसका इस्तेमाल ईमेल ट्रांसमिशन के लिए किया जाता है. Mail server ईमेल मैसेज को भेजने रिसीव करने के लिए SMTP का इस्तेमाल करते हैं.

6. SMTP का फुल फॉर्म क्या है?

A. SMTP का फुल फॉर्म Simple mail Transfer Protocol है.

 

 

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Server क्या है? यह कार्य कैसे करता है? सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Server क्या है? यह कार्य कैसे करता है? सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

 

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

 

Leave a Comment