Domain Authority क्या है Domain Authority को कैसे बढ़ाये ?

क्या आप जानना चाहते है के What is Domain Authority in Hindi (Domain Authority क्या है), तो ये post आप के लिए है. Internet पर हर दिन हजारो नए नए websites बनते हैं, और ये सभी websites को बनाने वाले दिन रात कोशिश करते रहते हैं की कैसे उनका website internet के दुनिया में लोगों के सामने आये और अपनी अलग पेहचान बनाये. बहुत से तरीके अपना कर bloggers धीरे धीरे आगे बढ़ते रहते हैं, उनका बस एक ही लक्ष्य होता है की अपने website को Google के page में सबसे ऊपर अपनी जगह बनाएं. ऐसे तो internet पर बहुत से websites मौजूद हैं लेकिन उनमे से कुछ ही ज्यादा मसहुर होते हैं.

जितने भी bloggers होते हैं उन्हें SEO के बारे में और उससे जुड़े terms के बारे में भी पता होता है जैसे की backlinks, Google page rank इत्यादि जिसका इस्तेमाल कर वो अपनी website को search engines पर अच्छी rank पर ला सकते हैं जिससे उनके site पर traffic होगा और वो इसके जरिये अच्छा income कर सकेंगें. seo से जुडी सारे ही terms site को अच्छा rank दिलाने के लिए बहुत ही important है और उनमे से एक है Domain Authority जिसके बारे में बहुत कम लोगों को पता है, और ये भी blog के लिए बहुत जरुरी है अगर हम इसके ऊपर ध्यान नहीं देंगे तो Google के page पर आपके site के position पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ेगा.

 

Domain Authority क्या है Domain Authority को कैसे बढ़ाये ?
TEJWIKI.IN

 

Domain Authority क्या है – What is Domain Authority in SEO

 

Domain Authority जिसको हम short term में DA केहते हैं, ये एक metric है जिसे Moz company ने बनाया है जिसका उद्देश्य है websites को 1-100 के अन्दर rating देना। DA, SEO का एक बहुत ही महत्वपूर्ण factor है जो website को ये दर्शाता है की वो search engine पे कितने अच्छे rank पर है।

तो आपके website का Domain Authority जितना ज्यादा होगा उतना ही ज्यादा उसका ranking search engine में होगा और उतना ही ज्यादा strong traffic आपके site को मिलेगा.

अलग अलग website का DA भी अलग होता है. जिसने अपना blog नया नया शुरू किया है उस blog का DA कुछ तिन महीने बाद 10-20 के अन्दर रहता है. आपका domain जितना पुराना होता जायेगा उसका DA बढ़ते जायेगा।जितना ज्यादा DA होगा उतना ही ज्यादा organic traffic में मुनाफा मिलेगा. पर यहाँ सवाल ये उठता है की हम अपने blog के DA का पता कैसे लगा सकते हैं. तो चलिए इसके बारे में भी जान लेते हैं.

 

डोमेन अथॉरिटी क्या है

 

किसी भी ब्लॉग वेबसाइट के लिए Domain Authority SEO में एक महत्वपूर्ण कारक है जिसे संक्षेप में DA भी कहा जाता है Domain Authority एक प्रकार का Search Engine Ranking Score है जो 1 से लेकर 100 तक होता है। इसके माध्यम से ही किसी वेबसाइट के सर्च इंजन रिजल्ट पेज पर रैंकिंग की संभावना का पता लगाया जाता है। किसी वेबसाइट का डोमेन स्कोर जितना अधिक होता है, वेबसाइट सर्च इंजन में उतनी ही अधिक रैंक करती है।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

Domain Authority को Check कैसे करें?

 

बहुत सारे tools internet पर मौजूद है जिसका इस्तेमाल कर आप अपने website का domain authority कितना है ये जान सकते हैं. लेकिन हम सबसे बेहतर domain authority checker tool का इस्तेमाल करेंगे और Moz Open Site Explorer एक बहुत ही बढ़िया tool है जहाँ आप आपके site का domain address जब लिख लेंगे तो ये tool आपका latest DA score आपको दिखा देगा.

ये किसीको भी नहीं पता की एक website का domain authority का rank किस base पर दिया जाता है. ये सिर्फ Moz कंपनी को ही पता है जिसने इसका अविष्कार किया है. Moz’s system एक particular domain को ranking देने के लिए 40 अलग अलग factors को check करते हैं जैसे की आपका domain कितना पुराना है, आपके site में कितने links जुड़े हुए हैं, कितने high DA वाली websites से आपको link मिल रहे हैं इत्यादि. ऐसे ही करके 40 factors को Moz team rank देने के लिए check करता है.

एक website का DA कभी भी constant नहीं रहता या तो वो बढ़ता है या फिर घटता है. अगर आपके website का DA बढ़ रहा है तो ये आपके लिए काफी फायेदेमंद साबित होगा अगर DA घट रहा है तो ये बहुत ही ख़राब संकेत है. इसके लिए आपको अपने blog की DA को बढ़ाने की ज्यादा जरुरत है. पर कैसे? चलिए जानते हैं,

 

डोमेन अथॉरिटी की गणना कैसे की जाती है?

 

डोमेन अथॉरिटी की गणना कई कारकों के evaluate करके की जाती है, जिसमें रूट डोमेन और लिंक की कुल संख्या को एक डीए स्कोर में जोड़ना शामिल होता है। वेबसाइटों को compare करते समय या समय के साथ किसी वेबसाइट की “ranking strength” को ट्रैक करते समय इस स्कोर का उपयोग किया जाता है। Domain Authority, Google रैंकिंग फैक्टर नहीं है और SERPs पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

इसके DA score की गणना मशीन लर्निंग एल्गोरिदम की भविष्यवाणियों से होती है कि Google अपने search results में उस डोमेन का कितनी बार उपयोग कर रहा है। यदि डोमेन A की , डोमेन B की तुलना में Google SERP में प्रदर्शित होने की अधिक संभावना होती है, तो डोमेन A का DA डोमेन B के DA से अधिक होगा। DA मशीन लर्निंग कैलकुलेशन पर आधारित है, इसलिए हमारी साइट का स्कोर कम या ज्यादा हो सकता है क्योंकि कभी अधिक, कम या अलग-अलग डेटा पॉइंट उपलब्ध हो जाते हैं जो उन गणनाओं में शामिल होते हैं।

 

Domain Authority क्यों जरुरी है

 

अगर आप यह जान गए कि Domain Authority kya hai तो अब आपको यह समझना होगा कि Domain Authority क्यों जरुरी है चलिए मैं आपको इसके बारे में बताता हूँ।

यदि आपकी कोई Website है जिसका Domain Score बहुत अच्छा है पर वह Domain Score तब तक सबसे अच्छा माना जायेगा जब तक कोई और Competitor Website आपकी Website से आगे नहीं निकल जाती।

अगर Competitor Website का Domain Score आपकी Website से ज्यादा हो जाता है तो Competitor Website Search Engine पर High Rank करेगी।

इसलिए आपको अपनी Website के Domain Score को ज्यादा से ज्यादा बढ़ाने की कोशिश करनी चाहिए तथा Competitor Websites की Domain Authority को नजर में रखना चाहिए। अगर आपकी Website की Domain Authority अच्छी होगी Score ज्यादा होगा तो Search Engine पर भी Website High Rank करेगी।

अब आप Domain Authority Kya hai और क्यों जरूरी है यह समझ गए होंगे अब बात आती है इसे Check कैसे किया जाये। चलिए मैं आपको बताता हूँ।

 

Blog के Domain Authority को कैसे बढ़ाये ?

 

अपने blog के domain authority को बढ़ाना का सीधा मतलब है की search engine पर high rank पाने के आसार(chances) को बढ़ाना. domain authority को बढ़ने के लिए सबसे ज्यादा फायेदेमंद साबित होता है वो links जो आपके site पर उस site से आ रही होती है जिसका DA rank अच्छा और ज्यादा होता है।

इसलिए एक ब्लॉगर को ज्यादा ध्यान link building पर देनी चाहिए. निचे दिए गए points को follow कर अपने blog के DA को improve कर सकते है.

 

1) Link building करें :-

Link building करना DA बढ़ने के पीछे का बहुत बड़ा कारण है. जितना हो सके उतना backlinks पाने की कोशिश करिए और एक चीज का ध्यान रखते हुए करें की वो सभी links आपको quality sites से प्राप्त हो. अगर आपको वो links low-quality websites से मिलेंगे तो आपके DA को बढ़ने में बहुत वक़्त लग जायेगा।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

2) Interlinking मजबूत करें :-

 

interlinking का मतलब होता है अपने ही blog के page को दुसरे page के साथ link करना. जन भी आप अपने blog पर नया article post करेंगे याद रहे की हर post आपके blog के 2-3 दुसरे पुराने posts जिसका Google search engine के page पर high rank हो गया है उसके साथ link बनाकर रहे।

ऐसा करने से link juice पुराने post से नए post में pass होते हैं और उस post पर ज्यादा visitors आने के chances बढ़ जाते हैं. जिससे DA बढ़ने के भी chances बढ़ जाते हैं।

 

3) Quality Content

Domain authority increase करने का सबसे अच्छा तरीका है High Quality content publish करना, quality content ही सर्वोपरी है।

Quality content लिखे बिना आप कुछ भी क्यों न कर ले लेकिन वह search results में Top Rank नहीं करेगा और आपको मनचाहा traffic नहीं मिलेगा।

साथ ही जब आपके readers आपकी साईट पर आ कर आपके low quality content को पढ़ेंगे और उन्हें वो पसंद नहीं आएगा तो वह आपके blog या website पर फिर कभी नहीं आएंगे।

 

3) Comment करें :-

अपने blog के niche से related दुसरे blog पे या forum पर comment करें, ऐसा करने से हमें do-follow link मिलते हैं जिससे की दुसरे blog और forum पे आने वाले readers आपके blog में भी आना शुरू कर देते हैं. इससे धीरे धीरे आपके blog की popularity बढ़ेगी और उसके साथ ही DA भी अपने आप बढ़ने लगेगी।

 

4) Website के खुलने की प्रक्रिया को बढाइये :-

आपकी website browser में जितना जल्दी खुलेगा उतने ही जयादा visitors आपके site में आना पसंद करेंगे. Google के search engine page पर भी वोही website को high ranking मिलती है जिसके site को load होने में ज्यादा समय नहीं लगता. इसलिए एक ब्लॉगर को अपने site के load time पर ध्यान देना बहुत ही जरुरी है।

 

Internal Linking

अच्छी तरह से की गयी internal linking न सिर्फ आपकी domain authority बढाने में मदद करता है बल्कि इससे आप अपनी website की bounce rate भी कम कर सकते है।

इसके लिए आप जब भी पोस्ट लिखे तो उसके content से related अपनी पुरानी posts के link add करे, इससे पोस्ट और अधिक informative और attractive बनती है।

इसका सबसे बड़ा फायदा है आपके user को एक post से दूसरी पोस्ट पर जाने का मौका मिल जाता है जिससे bounce rate कम हो जाती है।

 

5) Social media marketing :-

Social media हमारे site के content को rank करने के लिए बहुत ही फायेदेमंद होता है. Social media से हमें referral traffic मिलता है और site की brand value को भी बढ़ाता है।

ये सबसे अच्छा तरीका है अपने website को Google के page पर rank करने का और अपने knowledge को ज्यादा से ज्यादा audience तक पहुचाने का. जितने ज्यादा लोग आपके writing को पसंद करेंगे उतने ही ज्यादा आपके fan followers बढ़ेंगे. और इसका सीधा असर आपके domain authority पर भी पड़ेगा.

 

Domain Age

Domain की age आपकी site की search ranking और domain authority बढ़ने में मदद करती है। कहने का मतलब अगर आपकी साईट 2-3 साल भी पुरानी है और regular update होती है तो इसका मतलब है आप उस पर लगातार quality content publish कर रहे है।

इसीलिए अगर आपकी साईट पर spam नहीं है तो आपकी साईट google search results में अच्छा rank करेगी। लेकिन इसका ये मतलब बिलकुल नहीं है की new domain वाली site google में rank नहीं करेगी।

अब आपको संयम से काम करना है और अपने domain की age को बढ़ने के साथ quality content publish करते रहना है। धीरे धीरे आपका DA score बढ़ जाएगी।

 

Regular Updates

नियमित रूप से ब्लॉग पर quality content publish करना domain authority increase करने के सबसे अच्छे तरीको में से एक है। अगर आप अपने blog पर continue post लिखते हो तो आपको DA की चिंता करने की जरुरत नहीं है।

मैं जानता हु ये आसान नहीं है लेकिन अच्छी DA पाने के लिए आपको ये करना होगा। Regular update न करने पर आपकी DA up down होती रहेगी।

आप बस अपने ब्लॉग पर quality content वाले articles लिखने पर focus करे आपकी domain authority समय के अनुसार अपने आप बढती जाएगी।

नियमित पोस्ट शेयर करने के और भी कई फायदे है, आपकी साईट पर traffic बढेगा, आपकी writing skills भी improve होगी और आपको बहुत कुछ नया सिखने को मिलेगा।

इन तरीको से आप अपने ब्लॉग की domain authority boost कर सकते हो, चलिए अब मैं आपको अपने ब्लॉग की domain authority check करने का तरीका बताता हु।

 

Bounce Rate को कम करें

आपको अपनी Website की Domain Authority को बढ़ाने के लिए सबसे पहले अपनी Website के Bounce Rate को कम करना होगा क्योंकि जब Bounce Rate कम होगा तो Website पर Traffic आएगा और जिससे धीरे धीरे Domain Authority भी बढ़ने लगेगी और आपकी Website Search Engine Result Pages पर Rank करने लगेगी।

आप Google Analytics से अपनी Website का Bounce Calculate करके Bounce Rate निकाल सकते हो इसके लिए मैं आपको एक Formula बताता हूँ ; (Bounce Rate = One Page Visits /Total Visits) इस Formula का use करके आप अपनी Website का Bounce Rate आसानी से निकाल पाओगे।

अगर आपकी Website का Bounce Rate High है तो आप Page की Loading Speed को Fast करके, अपने Visitors को High Quality Content Provide करके, Internal Linking करके, Blog को Mobile Friendly बनाकर, Website की Design और Structure में बदलाव आदि करके अपने Content में सुधार कर सकते हो।

 

अपनी साइट को Mobile Friendly बनायें

मोबाइल users की संख्या में बहुत अधिक बढ़ोतरी हुई है और आधे से अधिक सर्च मोबाइल द्वारा किये जाते है। Domain Authority क्या है यदि आपकी साइट मोबाइल फ्रेंडली नही होगी, तो आपकी साइट SERPs में अच्छा परफॉर्म नही कर पायेगी।

साथ ही आपकी साइट visitors के मोबाइल में ठीक से नही दिखती है, तो वे आपकी साइट से तुरन्त exit हो जायेंगे। यहाँ एक गाइड है – WordPress Website Mobile-Friendly Kaise Banaye

आपकी साइट मोबाइल फ्रेंडली है या नही चेक करने के लिए आप Mobile-Friendly Test tool का उपयोग कर सकते है। यह Google द्वारा डेवलप्ड किया गया है और आपको पता लगाने में मदद करता है कि आपकी साइट mobile फ्रेंडली है या नही।

 

अपनी वेबसाइट की Loading Speed को ठीक करें

यदि आपकी साइट लोड होने में अधिक समय लेती है, तो यह आपके वेबसाइट की बाउंस रेट पर बुरा प्रभाव डालती है। कोई भी विजिटर किसी साइट को खुलने के लिए 2 से 3 सेकंड का wait करता है। यदि साइट 2 से 3 सेकंड में लोड हो जाती है, तो ठीक है अन्यथा विजिटर साइट को exit करके दूसरे सर्च रिजल्ट पर चला जायेगा।

आप अपनी साइट की लोडिंग स्पीड चेक करने के लिए PageSpeed Insights, Pingdom और GTmetrix टूल का उपयोग कर सकते है।

 

Domain Authority और Page Authority में अंतर

अगर आप जानते हैं कि Domain Authority क्या है और Page Authority क्या हैऔर क्या आप इन दोनों के बीच Difference को आसानी से समझ सकते हो।नहीं, चलिए मैं आपको इन दोनों में Difference बताता हूँ। 

 

Domain Authority kya hai Page Authority kya hai
किसी Website की Search Engine Result Pages में Rank करने की क्षमता का पता लगाया जाता है| किसी एक Particular Webpage की Search Engine Result Pages में Rank करने की क्षमता का पता लगाया जाता है।
इसे DA के नाम से जाना जाता है| इसे PA के नाम से जाना जाता है|
Domain Authority में Moz Tool का Use करते है| Page Authority में भी Moz Tool का Use कर सकते है|
Domain Authority check करने के लिए Domain Name लिखना होता है| Page Authority check करने के लिए URL देना होता है|

 

क्या Domain authority Google SERP मे effect करता है?

जी नहीं! डोमेन अथॉरिटी से आप ये अनुमान नहीं लगा सकते की आपका ब्लॉग और वेबसाइट गूगल SERP मे रैंक होगा या नहीं। क्यों की गूगल SERP मे अपने ब्लॉग और वेबसाइट को रैंक कर वाले के लिए 1000 से ज्यादा रैंकिंग फैक्टर होते है। और domain authority एक ऐसा matrix है जो ज्यादा तर backlinks के माध्यम से बना होती है जितने ज्यादा आपके backlinks होंगे उतने ज़ल्दी आपका domain अथॉरिटी बढ़ जायेगा।

चाहिए वो comment backlinks हो या profile या quality. domain authority quantity count करता है जबकि google Quality। इसलिए गूगल डोमेन अथॉरिटी के bases पर आपके ब्लॉग और वेबसाइट को रैंकिंग नहीं देता। लकीन अगर आपके ब्लॉग और वेबसाइट की क्वालिटी बैकलिंक्स बने हुए है तो normally आपके ranking उप होंगे।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Domain Authority क्या है Domain Authority को कैसे बढ़ाये ?  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


hi.wikipedia.org/wiki

Domain Authority क्या है Domain Authority को कैसे बढ़ाये ?

 

Join our Facebook Group

   Join Whatsapp Group

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!