एमएस ऑफिस क्या है | What is ms office in hindi?

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस क्या है? What is MS Office in hindi?What Is MS Office In Hindi- अगर आपने कभी Computer प्रयोग किया है या भविष्‍य में कभी करने वाले हैं तो  एमएस ऑफिस क्या है इसके बारे में जानना बहुत जरूरी है माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस को (MS Office) के नाम से भी जाना जाता है नया Computer लेते समय या Computer सीखने की शुरूआत करते समय सबसे पहले Microsoft Office की जानकारी लेनी होती है इस Post में हम जानने वाले हैं Microsoft Office के बारे में Complete Information माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस क्‍या है ओर इसके Component क्‍या हैं

MS Office कंप्यूटर यूजर के लिए एक सबसे पॉपुलर सॉफ्टवेयर है जो एक साधारण कंप्यूटर यूजर से लेकर एडवांस यूजर तक की बेसिक जरुरत को पूरा करता है। MS Office का यूज़ पर्सनल कंप्यूटर यूजर से लेकर बड़ी-बड़ी आर्गेनाइजेशन भी करती है। यह कई भाषाओं में विश्व स्तर पर उपलब्ध है।
MS Office का उपयोग Document बनाने, Spreadsheet बनाने, Presentation बनाने तथा Database Management इत्यादि के लिए किया जाता है।
इन सभी कार्यों को पूरा करने के लिए MS Office के अंदर जो भी Application Software आते है उसे Component of MS Office भी कह सकते है जिसका उल्लेख आगे किया गया है।
एमएस ऑफिस क्या है | What is ms office in hindi?
TEJWIKI.IN

माइक्रोसॉफ़्ट ऑफ़िस क्या है 

Microsoft Office माइक्रोसॉफ़्ट का एक लोकप्रिय ऑफिस सूट है| माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस एक ऐसा पैकेज है जिसके द्वारा ऑफिस के सभी कार्य किये जा सकते हैं। हम जानते हैं ऑफिस में कई काम होते हैं एमएस ऑफिस क्या है जैसे पत्र का प्रारूप तैयार करना, गणना, सुचित्रित कार्य, प्रस्तुतीकरण, डाटाबेस प्रबंधन एवं ई-मेल आदि। इन सभी कार्य को कंप्यूटर के माध्यम से करने के लिए सॉफ्टवेयर का पैकेज माइक्रोसॉफ्ट ने तैयार किया है। माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर नही है यह एक क्षितिज समांतर (समान्तर) मार्केट सॉफ्टवेयर है।

Microsoft office क्या होता है?

 

सबसे पहले application software के बारे में जान लेते हैं| Application software बहुत सारे program का collection होता है जिसका उपयोग user के द्वारा किया जाता है मतलब की ऐसा software जो user के काम को perform करने के लिए बना हो उसे Application software कहा जाता है| Example: Microsoft office, PDF reader, Adobe Photoshop इत्यादि|

दोस्तों Microsoft office एक application software होता है जिसका उपयोग office के बहुत सारे कार्य को करने के लिए किया जाता है जैसे की Letter लिखना, data entry करना, presentation बनाना इत्यादि|

दुसरे और आसान शब्दों में कहें तो Microsoft office एक computer प्रोग्राम या software होता है जिसका उपयोग बहुत सारे official work को पूरा करने के लिए किया जाता है जैसे Notice लिखना, Data entry करना, presentation बनाना इत्यादि| इसका short form M. S. Office होता है|

 

MS office का परिचय

 

MS ऑफिस माइक्रोसोफ्ट कंपनी द्वारा बनाई गयी एक Client सॉफ्टवेर है जिसे पहली बार 1 अगस्त 1988 को बिल गेट्स द्वारा Las Vegas में लॉन्च किया गया.

शुरू में माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस में पॉवरपॉइंट, एक्सेल, और वर्ड ये सिर्फ 3 ही फीचर थे.

लेकिन आज माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस में आपको कई बेहतरीन फीचर देखने को मिल जायँगे जो हमारे कार्य को आसान करते है.

माइक्रोसॉफ्ट को मुख्य रूप से ऑफिस में होने वाले काम जैसे डॉक्यूमेंट बनाने, डेटा टेबल बनाने, फ़ाइल बनाने,आदि के लिए बनाया गया था.

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस के अब तक वर्शन आ चुके है जिन पर काम किया जा चुका है लेकिन अभी माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का जो लेटेस्ट वर्शन है वह ऑफिस 2019 है जिस पर अभी काम किया जा रहा है.

माइक्रोसोफ्ट ऑफिस एक विशेष प्रकार के सॉफ्टवेर का एक समूह होता है एमएस ऑफिस क्या है जिसमें Microsoft Word, Microsoft Excel, Microsoft PowerPoint, Microsoft OneNote, Microsoft Outlook, Microsoft Access आदि प्रकार के सॉफ्टवेर होते है. ये सभी सॉफ्टवेर अलग अलग अपने काम के लिए प्रयोग होते है जिसके बारे में हम नीचे विस्तार से जानेंगे.

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस के कॉम्पोनेन्ट? Component of MS Office in hindi?

 

MS Office Package के अंतर्गत आनेवाले Component (Application Software) है….

  • Microsoft Word:- यह एक Word Processing Program है जिसमे हमलोग किसी भी प्रकार की Document को With Formatting Create करते है।
  • Microsoft Excel:- यह एक Spreadsheet Program है जिसका उपयोग डेटा को Organize, Format तथा Calculate करने के लिए किया जा सकता है।
  • Microsoft Power Point:- यह एक Presentation Creation Programe है जिसमे हमलोग School, College, Office इत्यादि के लिए अच्छी Presentation बना सकते है।
  • Microsoft Access:- यह एक Database Management Program है जिसमे छोटी से लेकर बड़ी-बड़ी Database को एक सही वे में रख सकते है। इसमें हमें Form, Table, Report इत्यादि Create करने की पूरी सुविधा मिलती है।
  • Microsoft Publisher:- यह Desktop Publishing के काम में आनेवाले Program है जिसमे हमलोग व्यक्तिगत या व्यावसायिक जरूरतों के लिए Template, Business Card, Calendar, Brochure, Newsletter इत्यादि बना सकते है।
  • Microsoft Outlook:- यह माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा दिया जानेवाला एक Email Management Program है जिसका उपयोग स्टैंड-अलोन ऐप के रूप में किया जा सकता है। इसको हम एक प्रकार से Email Box तरह यूज़ करते है।
  • Microsoft One Note:- यह एक प्रकार का Digital Notebook है जिसका उपयोग हमलोग कोई भी Note लिखने के लिए करते है। इसमें डाटा Automatically Save तथा Synchronize होते रहते है।

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का इतिहास? History of MS Office in hindi?

 

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस के इतिहास की बात करें तो यह C++ Programming Language में लिखा गया 30 साल पुराना Software है, इनकी शुरुवात सर्वप्रथम सन् 1989 में माइक्रोसॉफ्ट कॉर्पोरेशन द्वारा पहले Mac ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए किया गया। उसके बाद सन् 1990 में Microsoft Windows के लिए प्रथम संस्करण लाया गया फिर आगे कई संस्करण आये, “Microsoft Office – 2019” इसका वर्तमान संस्करण है।

प्रथम संस्करण के दौरान यह बहुत ही साधारण था साथ ही उस वक्त इसमें केवल Word, Excel तथा Power Point ही था एमएस ऑफिस क्या है वो भी बहुत ही काम फंक्शन के साथ परंतु जैसे-जैसे इसके नए-नए संस्करण आते गए इनमे काफी बदलाव होता गया। आज के Office की बात करें तो यह Windows तथा Mac दोनों के लिए काफी Advance हो चूका है इसमें कई सारे नए-नए फंक्शन जोड़े जा चुके है। आज यह केवल Computer Platform तक ही सिमित नहीं है बल्कि Smartphone, Tablet इत्यादि के लिए भी MS Office की Android Version उपलब्ध है।

 

एमएस-ऑफिस के प्रोग्राम :

 

माइक्रोसॉफ्ट विंडोज के अंतर्गत आने वाले कार्य निम्नलिखित अनुसार है :

  • एमएस-वर्ड (MS-Word) या (Word)
  • एमएस-एक्सेल (MS-Excel) या Excel 
  • पावर पॉइंट (Power Point)
  • एमएस-एक्सेस (MS-Access) या एक्सेस (Access)
  • MS-OneNote 
  • MS-Outlook 
  • MS-Publisher 
  • MS-Share point 

एमएस-ऑफिस के  प्रोग्राम मूल रूप में अलग अलग तरह के कार्यों को करने के लिए निर्मित किये गए है, लेकिन इन सभी की कार्य प्रणाली लगभग एक जैसी ही है, जिससे एक प्रोग्राम पर कार्य करना सीखने के बाद दूसरों को सीखना सरल हो जाता है। एमएस ऑफिस क्या है यही नहीं एमएस- ऑफिस के एक प्रोग्राम से दूसरे प्रोग्राम में कई चित्र, सामग्री या सूचना लाना और  ले जाना बहुत ही आसान होता है।  इसलिए इनसे हर प्रकार के मिश्रित कार्य का भी कम्पूटरीकरण किया जा सकता है।

एमएस-ऑफिस के सभी प्रोग्रामों को हार्डडिस्क में स्थापित करने के लिए लगभग 70 मेगाबाइट स्पेस की आवश्यकता होती है।  यह आवश्यकता विंडोज़ तथा डॉस ऑपरेटिंग  सिस्टमो की जरुरत के अलावा है। यदि आप इन सभी प्रोग्रामों को स्थापित  चाहे तो केवल चुने हुए प्रोग्रामों  स्थापित करके कम स्थान में भी कार्य कर सकते है।
एमएस-ऑफिस के उपरोक्त प्रमुख प्रोग्रामों का संक्षिप्त परिचय निचे दिया गया है।

एमएस-ऑफिस क्या है? MS-OFFICE KYA HAI?
एमएस-ऑफिस क्या है? MS-OFFICE KYA HAI?

एमएस-वर्ड (MS-Word)

 

यह एक वर्ड प्रोसेसिंग पैकेज है , जिसमे साधारण दैनिक पत्र व्यवहार से लेकर डेस्कटॉप पब्लिशिंग स्तर तक के सभी कार्य सुविधपूर्वक किये जा सकते है।  इसमें आप text ही नहीं चित्र या ग्राफ़िक्स  सरलता से तैयार  सकते है।

एमएस-वर्ड को संक्षेप में वर्ड (Word) भी कहा जाता है। इसमें परम्परागत मेन्युओ तथा कुंजीपटल के शॉर्टकट्स (Shortcuts) के साथ ही टूल बार्स (Tool Bars) की सुविधा भी उपलब्ध है।  प्रत्येक टूल बार कई बटन लगे होते है , जिनमे में प्रत्येक किसी विशेष आदेश के बराबर होता है।  टूल बार में किसी बटन को माउस पॉइंटर से क्लिक कर देने पर संबंधित आदेश प्रारम्भ हो जाता है, जिससे कोई कार्य किया जाता है।  उदाहरण के लिए, किसी टेक्स्ट को बोल्ड करना , किसी फाइल को सुरक्षित (save) करना या छपवाना आदि कार्य आप सम्बन्धित बटन को क्लिक करके ही सम्पन्न कर सकते है।  इतना ही नहीं, आप इसमें अपने नए टूल बार तथा मेन्यू भी बना सकते है।

डेस्क टॉप प्रकाशन सम्बन्धी कार्यों में एमएस-वर्ड बहुत उपयोगी होता है, क्युकी यह शीर्षक (Headings), अनुक्रमणिक (Table of Contents), निर्देशिका (Index) आदि  बहुत तेजी से बना सकता है।  इसकी विशेषता यह भी है की जब आप कोई शब्द टाइप करते है, तो वह उसके साथ साथ स्पेलिंग की जाँच (Check) करता रहता है तथा गलत पाए शब्दों को लाल स्याही से रेखांकित (Underline) कर देता है।  यही नहीं यदि कोई शब्द या वाक्यांश (Phrase) वर्तनी (Spelling) की दृष्टि से सही हो लेकिन पंक्चुएशन ( Punctuation) की दृष्टि से गलत हो, तो उसे हरी स्याही से रेखांकित कर दिया जाता है।  इसमें समन्तर्कोष (Thesaurus) की सुविधा भी उपलब्ध है।  एमएस-वर्ड की ऑटोफॉर्मॅट (Autoformat) विशेषता आपकी पाठ्य सामग्री की जांच करके उसे अच्छी प्रकार फॉर्मेट करके तैयार कर देती है। एमएस-वर्ड में लिफाफे छापने तथा मेल-मर्ज सुविधाए भी उपलब्ध है, जो आपके कार्य को और अधिक सरल बना देती है।

एमएस-एक्सेल (MS-Excel)

यह एक विंडोज आधारित स्प्रेडशीट पैकेज है।  एमएस-ऑफिस का भाग होने के कारण यह एमएस-वर्ड से बहुत समानता रखता है। इसके अधिकांश मेन्यू, टूल बार, फॉर्मेट करने की सुविधाएँ आदि भी एमएस-वर्ड से मिलती जुलती है। एमएस ऑफिस क्या है इसलिए एमएस-वर्ड पर कार्य करना सीखने के बाद इस पर कार्य करना बहुत ही सरल होता है। अन्य स्प्रेडशीट पैकजों  इसमें फलनों (Function)  की एक बड़ी संख्या उपलब्ध है।  इसमें विभन्न प्रकार के चार्ट तथा ग्राफ केवल कुछ बटनों  क्लिक करके बनाए जा  सकते है। इनके अलावा आप स्प्रेडशीटो में दूसरे प्रोग्रामों द्वारा बनाए गए अथवा आयात (Import) किए गए फोटोग्राफ, ड्राइंग, क्लिप आर्ट, लोगो आदि भी जोड़ सकते है।

एमएस-एक्सेल में एक ही फाइल  कई वर्कशीट हो सकती है।  ऐसा करना तब उपयोगी होता है, जब एक ही प्रकार की वर्कशीट में अनेक विभागों या शाखाओं का डाटा भरकर उसे समेकित (Consolidate) करना हो अर्थात जोड़ना हो। एमएस-एक्सेल में यह कार्य चुटकियों में किया जा सकता है। एमएस-एक्सेल में सीमित  डाटा बेस की सुविधा भी उपलब्ध है। एमएस-एक्सेल से स्प्रेडशीट का कोई  भाग एमएस-वर्ड या पावर पॉइंट के डॉक्यूमेंट में सरलता से सम्मिलित किया जा सकता है।  इसमें एमएस-एक्सेल के साथ डाटा का आदान-प्रदान भी किया जा सकता है।

पावर पॉइंट (Power Point)

इस प्रोग्राम के द्वारा सेमिनारों, सभाओं, प्रशिक्षण आदि में प्रस्तुत करने के लिए स्लाइड़ो पर आधारित सामग्री तैयार की  है। इसके द्वारा कई स्लाइडों तैयार की जाती है, जिन्हे प्रस्तुतीकरण के लिए किसी भी क्रम तथा स्टाइल में लगाया जा सकता है। स्लाइडों से आप पैम्फलेट या हैंडआउट (Handout) तथा नोट्स (Notes) भी छाप सकते है।  इस प्रोग्राम में प्रस्तुतीकरण की कई स्टाइलें पहले से उपलब्ध है, जिनमे से आप अपनी रूचि के अनुसार कोई भी स्टाइल चुनकर उसका प्रयोग कर सकते है या उसको सुधार कर उपयोग में ला सकते है। आप इसमें अपनी अलग विशेष स्टाइल भी बना सकते है।

पावर पॉइंट में प्रस्तुतीकरण का अभ्यास या रिहर्सल कंप्यूटर पर किया जा सकता है। इसमें आप प्रत्येक स्लाइड का समय भी सेकेण्डों में निश्चित कर सकते है, ताकि उतनी देर में आप उस स्लाइड से संबंधित विषय पर बोल सके। आप किसी किसी स्लाइड पर लगायी गयी सामग्री पर अनेक प्रकार के ऐनिमेशन प्रभाव भी डाल सकते है। पावर पॉइंट के बहुत से टूल बार,मेन्यू आदि एमएस-ऑफिस के दूसरे प्रोग्रामों से बहुत मिलते जुलते है, जिससे इस पर कार्य करना बहुत सरल होता है। पावर पॉइंट के प्रस्तुतीकरण में आप एमएस-वर्ड, एमएस-एक्सेल, एमएस-एक्सेस आदि दूसरे प्रोग्रामों से भी सामग्री ला सकते है।  इसमें ध्वनि (Sound) के प्रस्तुतीकरण की भी सुविधा उपलब्ध है। पावर पॉइंट की सामग्री को एमएस-वर्ड के दस्तावेज़ (Document) में भी भेज सकते है।

एमएस-एक्सेस (MS-Access)

यह माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का रिलेशनल डाटाबेस (Relational Database) पैकेज है, इसमें सारणियों (Tables) के रूप में डाटा एकत्र किया जाता है।  इस डाटा को आप छांट भी सकते है तथा छाप भी सकते है।  डाटा प्रविष्ट करने के लिए स्क्रीन पर तथा कागज पर छपे हुए फॉर्म तैयार किए जा सकते है। भरे हुए डाटा से आप किसी दी हुई शर्त आधार पर सूचनाएँ भी क्वैरी (Query) द्वारा प्राप्त कर सकते है।  डाटा के विभन्न उपयोगों द्वारा रिपोर्ट, चार्ट आदि भी तैयार किया जा सकता है।

एक ही डाटाबेस में आप अनेक टेबल्स बना सकते है और उन्हें एक दूसरे से इस प्रकार संबंधित कर सकते है कि आवश्यकता होने पर विभिन्न टेबल्स से सूचनाऍ चुनकर उन्हें एक साथ लाया जा सके और वांछित रिपोर्ट निकली जा सके।  इसके अलावा और भी बहुत सी सुविधाएँ एमएस-एक्सेस  में उपलब्ध है।

 

इन्हें भी पढ़ें:-

 

MS-OneNote

MS-OneNote एक नि:शुल्क रूप शैली दस्तावेज़ में पाठ, चित्र, टेबल्स, ऑडियो और अन्य मीडिया को सेव (save) करने के लिए एक उपयोगी उपकरण है। Onenote के अन्य उपयोगकर्ताओं द्वारा इंटरनेट पर सांझा किया  जा सकता है। Onenote के उपयोग से आप कभी भी कही भी अपने फाइल्स और डाक्यूमेंट्स में  कोई भी जरूरी वस्तुओ को सुरक्षित (save) कर सकते है या word processor तक सीमित नहीं है।

MS-Outlook 

आउटलुक MS ऑफिस का एक एप्लीकेशन प्रोग्राम है। इसे एक स्वसम्पुर्ण अनुप्रयोग के तौर पर इसका प्रयोग किया जाता है। यह एक संगठन में बहु उपयोगकर्ताओं के लिए माइक्रोसॉफ्ट एक्सचेंज सर्वर और माइक्रोसॉफ्ट शारेपॉइंट सर्वर के सतह कार्य करता है।  इसका उपयोग मेल-बॉक्स , शेयर पॉइंट , सूची और तय कार्यक्रमों को पूरा करने इसका प्रयोग कारन उपयोगी सिद्ध हुआ है। आजकल इसका उपयोग मोबाइल फ़ोन, लैपटॉप आदि में भी किया जाता है।

MS-Publisher

MS-Publisher माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का एक डेस्कटॉप पब्लिशिंग सॉफ्टवेयर है।  जो की माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस सुइट का एक भाग है।माइक्रोसॉफ्ट पब्लिशर एक ग्राफ़िक डिज़ाइन अनुप्रयोग है। माइक्रोसॉफ्ट पब्लिशर माइक्रोसॉफ्ट-वर्ड  के समान ही है , लेकिन भिन्नता यह है की यह पृष्ठ लेआउट और डिज़ाइन पर अधिक जोर देता है और शब्द संरचना और स्वरूपण पर कम जोर देता है। यह छोटे व्यवसाय के लिए डिज़ाइन और logo बनाने के लिए उपयोग होता है।  यह कम महंगे प्रकाशन विकल्प प्रदान करता है।

MS-Share point

संगठन वेबसाइट बनाने के लिए माइक्रोसॉफ्ट शेयर-पॉइंट का उपयोग करते है। यदि आप किसी उपकरण से जानकारी को सांझा करने या एक्सेस करने के लिए सुरक्षित स्थान के रूप में इसका प्रयोग कर सकते है। माइक्रोसॉफ्ट शेयरपॉइंट , माइक्रोसॉफ्ट विकिपीडिया का एक ब्राउज़र आधारित दस्तावेज़ प्रबंधन मंच है। माइक्रोसॉफ्ट सामग्री प्रबंधन प्रणाली है।

 

एमएस ऑफिस के कार्य

 

माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस में विभिन्न प्रकार ले काम करने वाले बहुत से सॉफ्टवेयर का एक समूह होता है. हर सॉफ्टवेयर अपने अलग अलग काम के लिए बना होता है जैसे माइक्रोसॉफ्ट वर्ड किसी डॉक्यूमेंट फाइल बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है और एम एस एक्सेल वर्ड शीट बनाने में प्रयोग होता है.

एम एस पॉवरपॉइंट ऑफ़िस या फिर किसी और जगह के लिए प्रेजेंटेशन के लिए प्रयोग किया जाता है एम एस आउट लुक ईमेल और कैलेंडर को मैनेज करने के लिए प्रयोग किया जाता है ऐसे ही एम एस ऑफ़िस के सारे सॉफ्टवेयर किसी ना किसी स्पेसिफिक काम के लिए बने होते है.

दोस्तों जैसा कि इसमे कोई शक नही है कि एमएस ऑफिस क्या है आज कंप्यूटर ने दुनिया भर में एक नई क्रांति पैदा कर दी है. आज कंप्यूटर में हमे ऐसे-ऐसे सॉफ्टवेयर मिल जाते है जिनकी मदद से हम घंटो के कार्य को कुछ ही सेकंड में निपटा लेते है.

जैसे माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस सॉफ्टवेयर एक ऐसा सॉफ्टवेयर जिसने व्यक्ति के कामों को काफी आसान कर दिया है इस बात को हम सभी जानते है कि जब कंप्यूटर माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस सॉफ्टवेयर नही थे तब हमें ऑफ़िस के किसी आवश्यक कार्य फ़ाइल बनाने में कई घंटो दिन लग जाते थे.किसी बिज़नेस संबंधित कार्य कामों को करने के लिए कई दिन लग जाते थे लेकिन आज जब से माइक्रोसॉफ्ट आया है तब से यह काम बेहद सरल हो गए है.

मतलब की माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस सॉफ्टवेयर का use करके आसानी से कुछ ही समय मे फ़ाइल को बनाया जा सकता है और बिज़नेस के कार्य काफी कम समय मे किया जा सकता है.आज माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस एक ऐसा सॉफ्टवेयर बन गया है जो दुनिया भर में सबसे ज्यादा लोकप्रिये सॉफ्टवेयर माना जाता है.

जब यह दुनिया भर में इतना ज्यादा लोकप्रिये है और हमारे इतने कामों को आसान करता है तो क्यो ना इसके बारे में डिटेल में जा ले जैसे कि माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस क्या है, इसका इतिहास क्या है और इसके क्या-क्या कंपोनेंट है. ऐसी अन्य कई तरह की जानकारी जो माइक्रोसॉफ्ट से जुड़ी हुई है. चलिये इन सब के बारे में डिटेल में जानते है:

 

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस के संस्करण? Version list of MS Office in hindi?

 

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का पहला वर्जन MS Office 1.0 था। इसके बाद इस सॉफ्टवेयर में लगातार नए अपडेट्स किया जाता रहा है और साथ ही समय-समय पर इसके नए वर्जन भी लाए गए। इसके नए वजन में फीचर्स के साथ-साथ दुसरे प्रोग्राम भी जोड़े गए है जिस कारण वर्तमान में इसके पैकेज में कई सारे नए प्रोग्राम्स जोड़े जा चुके है।
Windows OS के लिए आज तक MS Office के निम्नलिखित Version Release किए गए है:-

  • YEAR – VERSIONS
  • 1990 – MS Office 1.0
  • 1992 – MS Office 3.0
  • 1995 – MS Office 95
  • 1997 – MS Office 97
  • 2000 – MS Office 2000
  • 2002 – MS Office 2002
  • 2003 – MS Office 2003
  • 2007 – MS Office 2007
  • 2010 – MS Office 2010
  • 2013 – MS Office 2013
  • 2016 – MS Office 2016
  • 2019 – MS Office 2019

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस की विशेस्ताएं? Advantage of MS Office in hindi?

 

  • माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस की एडवांटेज की बात करें तो इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है की यह User Friendly & Easy To Use है।
  • इसके किसी एक Program पर कार्य कर लेने पर इसके सारे Program को यूज़ करना आसान हो जाता है, इसके सारे प्रोग्राम के ज्यादातर आप्शन एक दुसरे से मिलता-जुलता है।
  • MS Office के Package में एक साथ कई प्रोग्राम आते है जो अलग-अलग तरह के कार्यों को करने की सुविधा प्रदान कराता है।
  • MS Office पोपुलर होने के कारण इसे हर एक छोटे-बड़े कोर्सेज में शामिल कर लिया गया है जिससे इसे सीखना आसान है।
  • यह बहुत ही सस्ती सॉफ्टवेयर है तथा आसानी से उपलब्ध है।
  • इसका Installation भी बहुत ही आसान है।
  • इसमें माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा समय-समय Update दिया जाता है, जिसमे इसके सिक्यूरिटी को बढाया जाता है, Bug को हटाया जाता है तथा नए फीचर जोड़े जाते है।
  • आज कल के Latest PC में ज्यादातर MS Office Pre Installed रहते है।

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस कैसे सीखें

 

अगर आप Microsoft Office के इन टूल्स का इस्तेमाल करना सीखना चाहते है। तो आज के समय इंटरनेट पर कई सारे फ्री संसाधन मौजूद है, एमएस ऑफिस क्या है जिन्हें देखकर आप आसानी से इन टूल्स का प्रयोग करना सीख जाएंगे। कुछ प्रमुख तरीके जिनकी आप सहायता ले सकते है।

सबसे सर्वोत्तम तरीका ये है, कि आप support.microsoft.com पर विजिट करिए। यहां आपको प्रत्येक ऑफिस टूल से सम्बंधित आर्टिकल और वीडियो ट्यूटोरियल मिल जायेंगे। जिन्हें पढ़कर और देखकर आप आसानी से इन्हें इस्तेमाल करना सीख जायेंगे। यूट्यूब पर भी कई सारे ट्यूटोरियल मौजूद है, जिन्हें देखकर आप Microsoft Office से सम्बंधित स्किल्स सीख सकते है।

कई सारे ऑनलाइन कोर्स मौजूद है, जिनकी मदद से आप ऑफिस के सभी टूल्स का इस्तेमाल करना सीख सकते है। अच्छी बात ये है कि, ये काफी सस्ते होते है।

 

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस के उपयोग – Uses of MS Office?

 

घर हो या ऑफिस अगर आप कंप्यूटर में काम करते है, तो कई सारे टास्क के लिए आपको Microsoft Office के टूल्स की आवश्यकता होगी। आइए जाने MS Office के इन टूल्स का उपयोग किन-किन कार्यो के लिए होता है।

  • स्टूडेंट्स अपने स्कूल असाइनमेंट, क्लास नोट्स, प्रोजेक्ट, इत्यादि बनाने के लिए इनका उपयोग कर सकते है।
  • इन टूल का उपयोग करके हम रिपोर्ट तैयार कर सकते है, रिज्यूम और लेटर जैसे डॉक्यूमेंट क्रिएट और एडिट कर सकते है।
  • कॉन्फ्रेंस या किसी ऑफिस मीटिंग के लिए प्रेजेंटेशन तैयार कर सकते है।
  • फाइनेंस और एकाउंटिंग के कार्यो में इनका प्रयोग सबसे अधिक होता है। उदाहरण के लिए एक्सेल शीट की मदद से आप विभिन्न प्रकार के डेटा को व्यवस्थित कर सकते है।
  • अपनी फाइलों को इनकी मदद से ऑनलाइन स्टोर किया जा सकता है। ऐसा करने से आप उस फ़ाइल को कभी भी और कही भी एक्सेस कर पायेंगे।
  • Microsoft Office के टूल्स की मदद से एक कंपनी अपने कर्मचारियों और कस्टमर के डेटा को मैनेज करने के लिए डेटाबेस क्रिएट कर सकती है।
  • ईमेल भेजने और प्राप्त करने के लिये इनका उपयोग होता है। इसके साथ ही रोज के कार्यो को ट्रैक करने और अपने कॉन्टैक्ट को मैनेज करने के लिए भी हम इनका इस्तेमाल कर सकते है।

इतना ही नही Microsoft Office के और कई सारे टूल्स का उपयोग करके हम बहुत चीजें कर सकते है। कुल मिलाकर एक स्टूडेंट से लेकर व्यवसायी तक सभी इसका प्रयोग अपने महत्वपूर्ण कार्यो को करने के लिए कर सकते है।

 

एमएस ऑफ़िस के फायदे

 

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस एक ऐसा सॉफ्टवेयर जिसकी हेल्प से कई हम अपने कई तरह के कठिन कामो को आसानी से कर सकते है जहां हमे अपना रिज्यूम, फ़ाइल आदि बनाने के लिए काफी समय लगता है और आज उसी काम को हम माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस की मदद से काफी कम समय मे कर सकते है.

माइक्रोसॉफ्ट अनेक फायदे है जिनके बारे में आप नीचे देख सकते है:

  • माइक्रोसॉफ्ट आफिस एक ऑनलाइन काम करने वाला सॉफ्टवेयर है. जिसकी मदद से हम कही भी कभी भी अपना कार्य कर सकते है.
  • माइक्रोसॉफ्ट में कई तरह के अन्य सॉफ्टवेयर है जिनकी मदद से हम अपने कई तरह के कार्य जैसे लेटर लिखना, पीडीएफ बनाना, फ़ाइल बनाना आदि कार्य को आसानी से कम समय मे कर सकते है.
  • इसकी मदद से आप बिज़नेस से जुड़ी ज़रूरतों को पूरा कर सकते है.

यह माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के द्वारा लांच किया गया एक बहुत ही Useful सॉफ्टवेयर है जिसने व्यक्ति के कामों को काफी आसान कर दिया है. माइक्रोसॉफ्ट आज 35 से भी ज्यादा भाषाओं में उपलब्ध है.

इस के विभिन्न तरह के वर्शन को बाजार में लाया गया था लेकिन अभी इसका लेटेस्ट वर्शन 2019 है. जिसे कंप्यूटर यूज़र अपनी आवश्यकता के अनुसार कंप्यूटर में इनस्टॉल कर सकते है..

इस प्रोग्राम का आज दुनिया भर में फ़ाइल, डॉक्यूमेंट डेटा टेबल आदि बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला सबसे पॉपुलर सॉफ्टवेयर है.

समय लगभग माइक्रोसॉफ्ट आँफिस सॉफ्टवेयर के 1.2 मिलियन से भी ज्यादा यूजर मौजूद है जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि माइक्रोसॉफ्ट कितना पॉपुलर सॉफ्टवेयर है.

Conclusion

 

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख एमएस ऑफिस क्या है | What is ms office in hindi? जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए, तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं.यदि आपको यह लेख पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.


 

Leave a Comment